जयपुर Udaipur Murder Case: राजस्थान सरकार का बड़ा फैसला, अब आगे की जांच NIA द्वारा की जाएगी; त्वरित गिरफ्तारी करने वाले पांच पुलिसकर्मियों को मिलेगा आउट ऑफ टर्म प्रमोशन

Udaipur Murder Case: राजस्थान सरकार का बड़ा फैसला, अब आगे की जांच NIA द्वारा की जाएगी; त्वरित गिरफ्तारी करने वाले पांच पुलिसकर्मियों को मिलेगा आउट ऑफ टर्म प्रमोशन

Udaipur Murder Case: राजस्थान सरकार का बड़ा फैसला, अब आगे की जांच NIA द्वारा की जाएगी; त्वरित गिरफ्तारी करने वाले पांच पुलिसकर्मियों को मिलेगा आउट ऑफ टर्म प्रमोशन

जयपुर: उदयपुर में हत्या के मामले (Udaipur Murder Case) की जांच अब राजस्थान पुलिस (Rajasthan Police) की बजाय NIA द्वारा की जाएगी. राजस्थान एटीएस इस मामले में NIA का सहयोग करेगी. इस घटना में मुकदमा UAPA के तहत दर्ज किया गया है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (cm ashok gehlot) ने आज लॉ एंड ऑर्डर मामले में अपने आवास पर उच्च स्तरीय मीटिंग लेकर कई फैसले किए. 

बैठक के बाद गृह राज्य मंत्री राजेंद्र यादव ने बताया कि घटना प्रथम दृष्टया आतंक फैलाने के उद्देश्य से की गई है. दोनों आरोपियों के दूसरे देशों में भी संपर्क होने की जानकारी मिली है. वहीं पांच पुलिसकर्मियों को आउट ऑफ टर्म प्रमोशन मिलेगा. आरोपियों की त्वरित गिरफ्तारी करने वाले पांच पुलिसकर्मियों को तोहफा दिया गया है. तेजपाल, नरेन्द्र, शौकत, विकास व गौतम को प्रमोशन देने का फैसला किया गया है. गृह राज्य मंत्री राजेंद्र यादव ने मुख्यमंत्री आवास पर हुई मीटिंग के फैसलों की फर्स्ट इंडिया से बात करते हुए जानकारी दी है. 

किसी भी संगठन और अंतरराष्ट्रीय संलिप्तता की गहन जांच की जाएगी:
आपको बता दें कि गृह मंत्रालय ने बुधवार को राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (NIA) को उदयपुर में एक दर्जी की हत्या की घटना की जांच अपने हाथ में लेने और मामले में किसी भी संगठन तथा अंतरराष्ट्रीय संलिप्तता का पता लगाने का निर्देश दिया है. मंत्रालय के प्रवक्ता ने अपने ट्विटर अकाउंट पर लिखा कि गृह मंत्रालय ने एनआईए को राजस्थान के उदयपुर में हुई कन्हैया लाल तेली की नृशंस हत्या की जांच करने का निर्देश दिया है. उन्होंने कहा कि किसी भी संगठन और अंतरराष्ट्रीय संलिप्तता की गहन जांच की जाएगी. 

और पढ़ें