उदयपुर Udaipur: पढ़ाई के लिए 14 साल की बच्ची ने रुकवाई अपनी शादी, परिजनों ने घर में रखने से किया इनकार

Udaipur: पढ़ाई के लिए 14 साल की बच्ची ने रुकवाई अपनी शादी, परिजनों ने घर में रखने से किया इनकार

Udaipur: पढ़ाई के लिए 14 साल की बच्ची ने रुकवाई अपनी शादी, परिजनों ने घर में रखने से किया इनकार

उदयपुर: जिले के कुराबड़ थाना क्षेत्र के भूतिया गांव में समाज का घिनौना चेहरा सामने आया है. दरअसल, भूतिया गांव में रविवार को नाबालिग की शादी के लिए तैयारी चल रही थीं लेकिन उसने इनकार कर दिया. बालिका ने हिम्मत दिखाते हुए बाल आयोग की अध्यक्ष संगीता बेनीवाल को फोन कर दिया. बालिका ने संगीता को अपने शादी के कार्ड की फोटो भी भेजी. बालिका ने कहा कि फिलहाल वह पढ़ना चाहती है, शादी नहीं करना चाहती. 

इसके बाद गांव और समाज के दबाव में नाबालिग के परिजनों ने उसे घर में रखने से मना कर दिया. इस पर संगीता बेनीवाल ने मामले में संज्ञान लेते हुए उदयपुर कलेक्टर सहित तमाम अधिकारियों को पाबंद किया. पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे और लड़की का विवाह रुकवाया. 

वहीं समझाइश के दौरान अफसरों से नाबालिग की मां नाराजगी भरे स्वर में बोली कि हम इसको नहीं जानते. मेरे देवर की शादी नहीं हो रही थी, इसलिए इसकी शादी करवाई. इसे पढ़ना था तो हमसे बात क्यों नहीं की. इसकी पढ़ाई भी यही करवा लेते. इस पर बेनीवाल ने समझाया कि बाल विवाह कानूनी गलत है, तो बोली- हमारे गांव में तो यही रीत है, इस उम्र में शादी हो जाती है. 

समाज हमें बिरादरी से बाहर कर देगा, अभी तो घर में नहीं रख सकते:
काफी समझाइश के बाद परिजनों ने कहा कि बच्ची माफी मांगे तो कुछ सोचेंगे. बच्ची ने डरते-डरते माफी मांगी तो बोले- समाज हमें बिरादरी से बाहर कर देगा. अभी तो घर में नहीं रख सकते. इस पर अफसरों ने बच्ची को समझाया कि आपने कोई गलती नहीं की. यह सराहनीय और साहसिक काम है. आप चलो, हम आपको पढ़ाएंगे. जब मम्मी-पापा को याद आएगी या कमी महसूस होगी, तो वह खुद आपको लेने आएंगे. इसके बाद बच्ची को बाल कल्याण समिति को सौंप दिया. 

और पढ़ें