मुंबई उद्धव ठाकरे ने गुवाहाटी में डेरा डाले बागी विधायकों से कहा, वापस आएं और मुझसे बात करें

उद्धव ठाकरे ने गुवाहाटी में डेरा डाले बागी विधायकों से कहा, वापस आएं और मुझसे बात करें

उद्धव ठाकरे ने गुवाहाटी में डेरा डाले बागी विधायकों से कहा, वापस आएं और मुझसे बात करें

मुंबई: शिवसेना के सभी नौ बागी मंत्रियों के विभागों को वापस लेने के एक दिन बाद तथा अलग हुए विधायकों को उच्चतम न्यायालय से राहत मिलने की पृष्ठभूमि में पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे ने मंगलवार को गुवाहाटी में डेरा डाले असंतुष्ट विधायकों से मुंबई लौटने तथा उनसे बातचीत करने की अपील की. ठाकरे ने ऐसे वक्त टिप्पणी की है जब शिवसेना के कुछ नेताओं, खासकर संजय राउत द्वारा दिए गए विवादास्पद बयानों से हंगामा मच गया . राउत ने कहा था कि ‘‘40 शव मुंबई आएंगे.’’

ठाकरे के एक सहयोगी ने मुख्यमंत्री के बयान का हवाला देते हुए कहा ‘‘अभी बहुत देर नहीं हुई है. मैं आपसे अपील करता हूं कि आप वापस आएं और मेरे साथ बैठें तथा शिवसैनिकों और जनता के बीच बने भ्रम (जो आपके कार्यों से पैदा हुआ) को दूर करें.’’ उन्होंने कहा कि अगर आप वापस आते हैं और मुझसे बात करते हैं तो कोई रास्ता निकलेगा. पार्टी अध्यक्ष और परिवार के प्रमुख के रूप में मुझे अब भी आपकी परवाह है. बागी गुट के नेता एकनाथ शिंदे ने गुवाहाटी में डेरा डाले कुछ विधायकों के नामों का खुलासा करने के लिये पार्टी को चुनौती दी है, जो कथित तौर पर पार्टी नेतृत्व के संपर्क में हैं. उच्चतम न्यायालय ने महाराष्ट्र विधानसभा के उपाध्यक्ष द्वारा जारी अयोग्यता नोटिस के खिलाफ शिवसेना के बागी विधायकों को राहत प्रदान करते हुए सोमवार को कहा कि संबंधित विधायकों की अयोग्यता पर 11 जुलाई तक फैसला नहीं लिया जाना चाहिए. अदालत ने महाराष्ट्र सरकार की उस याचिका पर अंतरिम आदेश पारित करने से भी इनकार कर दिया, जिसमें विधानसभा में बहुमत परीक्षण नहीं कराए जाने का अनुरोध किया गया था.

पिछले आठ दिनों में जब से शिंदे ने बगावत की, असंतुष्टों की कतार धीरे-धीरे बढ़ती गई और शिवसेना के अधिकतर विधायक और यहां तक कि मंत्री भी विद्रोही खेमे में चले गए. ठाकरे ने कहा कि गुवाहाटी में कुछ बागी विधायकों के परिवार के सदस्य उनके और पार्टी के संपर्क में हैं और उन्होंने विधायकों की भावनाओं से उन्हें अवगत करा दिया है. ठाकरे ने कहा, ‘‘आपके बारे में हर दिन नयी जानकारी सामने आ रही है और आप में से कई लोग संपर्क में भी हैं. आप दिल से अब भी शिवसेना के साथ हैं. उद्धव ठाकरे समूह और शिंदे खेमे में बढ़ती दूरी के बीच, ठाकरे के प्रति वफादार शिवसैनिकों ने विरोध प्रदर्शन किया और एक असंतुष्ट विधायक के कार्यालय को क्षतिग्रस्त कर दिया. सोर्स- भाषा

और पढ़ें