नई दिल्ली अपनी किताब पर बोलीं प्रियंका चोपड़ा, कहा- Unfinished ने मुझे खुद को माफ करने का मौका दिया

अपनी किताब पर बोलीं प्रियंका चोपड़ा, कहा- Unfinished ने मुझे खुद को माफ करने का मौका दिया

अपनी किताब पर बोलीं प्रियंका चोपड़ा, कहा- Unfinished ने मुझे खुद को माफ करने का मौका दिया

नई दिल्लीः अदाकारा एवं निर्माता प्रियंका चोपड़ा जोनस ने कहा है कि उनका संस्मरण अनफिनिश्ड उनकी वाहवाही के बारे में नहीं है बल्कि इसको लिखते समय उन्हें अपनी असफलताओं, दुखों और संघर्षों का आत्मावलोकन करने का मौका मिला है और इससे उन्हें असुरक्षा की भावनाओं को दूर करने और खुद को हमेशा नए लक्ष्य के पीछे भागते रहने के लिए माफ करने की भी समझ पैदा की है. 

खुदको माफ किया

मिस वर्ल्ड ने पीटीआई-भाषा से कहा है कि मैं जिंदगी के ऐसे पड़ाव पर हूं, जहां मैं पीछे मुड़कर आत्मावलोकन कर सकती हूं, इसने मुझे हमेशा किसी लक्ष्य के पीछे भागने के लिए खुद को माफ करने का मौका दिया है और मेरी असुरक्षा की भावना को दूर करने की क्षमता दी है, जो युवावस्था के समय मुझमें थी. किताब लिखने की प्रक्रिया मेरे लिए खुद को बेहतर महसूस कराने वाली रही है. 

लिखने से डरती थी 

उन्होंने कहा है कि उनके अंदर एक लेखक हमेशा से था लेकिन वह सिलसिलेवार तरीके के लेखन से डरती थी, जो एक पुस्तक को लिखने के लिए जरूरी है. उन्होंने कहा है कि मैं सच में चाहती थी कि यह किताब मेरी उपलब्धियों और ख्याति के बारे में ना हो. प्रियंका ने कहा है कि इसके लिए उन्हें काफी आत्मावलोकन करना पड़ा. अपनी असफलताओं, दुख का और उस समय का जब उन्होंने काफी संघर्ष किया था. 

पता नहीं कैसे ये संभव हो पाया

उन्होंने कहा है कि मुझे नहीं पता कि इसने एक किताब का रूप कैसे ले लिया लेकिन मुझे लगता है कि वास्तव में मैं, यही किताब लिखना चाहती थी. प्रियंका ने कहा है कि इसके लिए उन्हें काफी आत्मावलोकन करना पड़ा. अपनी असफलताओं, दुख का और उस समय का जब उन्होंने काफी संघर्ष किया था. इसने मुझे हमेशा किसी लक्ष्य के पीछे भागने के लिए खुद को माफ करने का मौका दिया है. (सोर्स-भाषा) 

और पढ़ें