नई दिल्ली  निजीकरण पर केंद्रीय मंत्री का बयान, कहा- LIC का निजीकरण नहीं हो रहा, बैंकों को लेकर अफवाहों पर विश्वास नहीं करें

 निजीकरण पर केंद्रीय मंत्री का बयान, कहा- LIC का निजीकरण नहीं हो रहा, बैंकों को लेकर अफवाहों पर विश्वास नहीं करें

 निजीकरण पर केंद्रीय मंत्री का बयान, कहा- LIC का निजीकरण नहीं हो रहा, बैंकों को लेकर अफवाहों पर विश्वास नहीं करें

नई दिल्ली: केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने मंगलवार को लोकसभा में कहा कि भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) का निजीकरण नहीं किया जा रहा है तथा बैंकों के संदर्भ में अफवाहों पर विश्वास नहीं करना चाहिए. जावड़ेकर ने शिवसेना सांसद अरविंद सावंत के प्रश्न के उत्तर में यह बात कही. मंत्री ने यह भी कहा कि सरकार का हमेशा यह प्रयास होता है कि जिन सार्वजनिक उपक्रमों को फिर से खड़ा किया जा सकता है, उसे किया जाए.

LIC का निजीकरण को लेकर गलतफहमी है: 
सावंत के एक पूरक प्रश्न के उत्तर में सूचना एवं प्रसारण तथा भारी उद्योग मंत्री जावड़ेकर ने कहा कि LIC का निजीकरण नहीं हो रहा है. यह गलतफहमी है. जहां तक बैंकों का सवाल है जो उस बारे में अफवाहों पर विश्वास नहीं करें. इससे पहले केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने सोमवार को लोकसभा में कहा था कि LIC का निजीकरण नहीं हो रहा है. यह गलतफहमी है का आईपीओ लाने का प्रस्ताव है तथा इस कदम से किसी भी कर्मचारी की नौकरी नहीं जाएगी तथा एलआईसी एवं निवेशकों दोनों को फायदा होगा.

यूएफबीयू ने 15 और 16 मार्च को किया है हड़ताल का आह्वान:
गौरतलब है कि सार्वजनिक क्षेत्र के दो बैंकों से जुड़े मुद्दे को लेकर नौ यूनियनों के संगठन यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन्स (यूएफबीयू) ने 15 और 16 मार्च को हड़ताल का आह्वान किया है. यूनियन का दावा है कि करीब 10 लाख बैंक कर्मचारी और अधिकारी हड़ताल में शामिल हैं. (सोर्स-भाषा)

और पढ़ें