डीडवाना, नागौर Rajasthan: अनूठा शिवलिंग जो आपको करेगा हर बीमारियों से मुक्त, निर्माण में 9 के अंक का रखा गया विशेष ध्यान

Rajasthan: अनूठा शिवलिंग जो आपको करेगा हर बीमारियों से मुक्त, निर्माण में 9 के अंक का रखा गया विशेष ध्यान

Rajasthan: अनूठा शिवलिंग जो आपको करेगा हर बीमारियों से मुक्त, निर्माण में 9 के अंक का रखा गया विशेष ध्यान

डीडवाना(नागौर): महाशिवरात्रि पर्व भगवान शिव को मनाने का सबसे अनूठा और अद्वितीय पर्व है. आज देशभर में महाशिवरात्रि पर्व धूमधाम से मनाया जा रहा है. ऐसे में हम आपको महाशिवरात्रि पर्व पर एक ऐसे अनूठे शिवलिंग से परिचय करवाते है जो आपको हर बीमारियों से मुक्त करेगा. नागौर जिले के डीडवाना में एक अनूठा शिवलिंग बनाया गया है. इसे बनाने में वास्तु, ज्योतिष और तांत्रिक शास्त्रों का तो प्रयोग किया ही गया है साथ ही साथ वैज्ञानिक तथ्यों का भी समावेश निर्माणकर्ता द्वारा किया गया है. बीमारियों से निजात दिलाने के मकसद से बनाये गए इस शिवलिंग के निर्माण कर्ता का दावा है कि इस शिवलिंग की छाया में आने से हर तरह की बीमारी से मुक्ति मिलेगी. 

आज के दौर में जहां कोई विज्ञान को सही मानता है तो कोई धर्म को, लेकिन पहली बार नागौर जिले के डीडवाना के निवासी सोहन लाल योगी ने विज्ञान, आध्यात्म और वास्तु, ज्योतिष और तांत्रिक शास्त्र के पारस्परिक गठजोड़ से एक अनूठे शिवलिंग का निर्माण भाटी बास के काली माता मंदिर अखाड़े में किया है. योगी का कहना है कि आज के दौर में मनुष्य कई तरह की बीमारियों से पीड़ित है और उन्होंने आम जन को हर तरह की बीमारियों से निजात दिलाने के लिए ही इस शिवलिंग के निर्माण की परिकल्पना की  है. 108 छोटे शिवलिंग को मिलकर इस अनोखे शिवलिंग को बनाया गया है.  

शिवलिंग को बनाने में 9 के अंक का विशेष ध्यान रखा गया: 
शिवलिंग को बनाने में 9 के अंक का विशेष ध्यान रखा गया है. शिवलिंग को प्रतीकात्मक रूप से शेषनाग के ऊपर निर्मित किया गया है. इस शिवलिंग से न केवल शारीरिक बीमारियां बल्कि मानसिक और स्पिरिचुअल व्याधिया भी ठीक करने का दावा निर्माणकर्ता सोहन लाल योगी कर रहे हैं. मंदिर निर्माण में स्फटिक और चुम्बक जैसी नौ धातुओ को शिवलिंग के निचे लगाया गया है जो मंदिर में एक रोग प्रतिरोधात्मक ऊर्जा का संचार करती है जिससे बीमारियां दूर होती है. योगी ने बताया कि भारत और पाकिस्तान के बीच चल रहे तनाव को दूर करने के साथ साथ दुश्मन की शांति के लिए आज विशेष यज्ञ और अनुष्ठान भी किया जाएगा. 

बिना किसी चिकित्सा के बीमारियों को दूर होना किसी अचरज से कम नहीं: 
आज का युग विज्ञान का है और आज की चिकित्सा पद्दति जो एलोपेथिक है वो विज्ञान की देन है मगर बिना किसी चिकित्सा के बीमारियों को दूर होना किसी अचरज से कम नहीं है मगर विज्ञान आध्यात्म, ज्योतिष, तांत्रिक विधा सहित वास्तु के जरिये इलाज के लिए बनाया गया यह अनूठा शिवलिंग जन जन की आस्था का केंद्र बनता जा रहा है. 

...फर्स्ट इंडिया के लिए डीडवाना(नागौर)संवाददाता नरपत ज़ोया की रिपोर्ट
 

और पढ़ें