University Exam 2021: विश्वविद्यालयों में अगस्त से लंबित परीक्षाओं के लेने का दौर हो जाएगा शुरू 

University Exam 2021: विश्वविद्यालयों में अगस्त से लंबित परीक्षाओं के लेने का दौर हो जाएगा शुरू 

University Exam 2021: विश्वविद्यालयों में अगस्त से लंबित परीक्षाओं के लेने का दौर हो जाएगा शुरू 

पटना: बिहार के विश्वविद्यालयों में अगस्त से लंबित परीक्षाओं के लेने का दौर शुरू हो जाएगा. विश्वविद्यालयों में कोरोना की वजह से परीक्षाओं पर पूरी तरह से रोक लगा दी गई थी. अब स्थिति नियंत्रित होने और राज्य सरकार से प्रतियोगी परीक्षा कराने की छूट के बाद विश्वविद्यालय और कॉलेज भी परीक्षाओं की तैयारी में जुट गए हैं. 

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने भी देश के सभी विश्वविद्यालयों को परीक्षाएं और नामांकन कराने का निर्देश जारी कर दिया है. जिसके बाद परीक्षा कैलेंडर को दुरुस्त किया जा रहा है. हालांकि, अभी विश्वविद्यालयों में सिर्फ परीक्षा फॉर्म ऑनलाइन तरीके से भरा जा रहा है. परीक्षा का शिड्यूल किसी विश्वविद्यालय ने जारी नहीं किया है.

पीयू यूजी और पीजी का परीक्षा फॉर्म भरा गया:
पटना विश्वविद्यालय में स्नातक पार्ट थ्री, एमए थर्ड सेमेस्टर और लॉ का परीक्षा फॉर्म भरवा लिया गया है. अब सरकार के आदेश का इंतजार हो रहा है. यहां पर कोरोना की वजह से तीन से चार माह सत्र विलंब है. सिर्फ परीक्षा कराना शेष है. सभी नियमित सत्र की परीक्षाएं रुकी हैं. विवि के डीन प्रो. अनिल कुमार ने बताया कि परीक्षा कैलेंडर पूरी तरह से तैयार है. फॉर्म छात्रों का भरवा लिया गया है. परीक्षा का आदेश प्राप्त होते ही अगस्त से परीक्षाओं का दौर शुरू कर हो जाएगा और सितंबर तक तमाम परीक्षाएं पूरी कर ली जाएंगी. एक से डेढ़ माह के अंदर रिजल्ट जारी कर दिया जाएगा.

यूजीसी : 30 सितम्बर तक दाखिला पूरा करने का निर्देश
यूजीसी ने सभी विश्वविद्यालयों में अंडर ग्रेजुएट (यूजी) व पोस्ट ग्रेजुएट (पीजी) कोर्सेज में दाखिले की प्रक्रिया 30 सितंबर तक पूरा करने का निर्देश दिया है. कैलेंडर के मुताबिक यूजी व पीजी कोर्सेज के फर्स्ट ईयर (फ्रेश बैच) की कक्षाएं एक अक्टूबर 2021 से शुरू होंगी. मौजूदा बैच यानी वो छात्र जो यूजी सेकेंड ईयर व यूजी थर्ड ईयर एंव पीजी सेकेंड ईयर में गए हैं, उनकी कक्षाएं जल्द से जल्द ऑनलाइन या ऑफलाइन मोड से शुरू होनी चाहिए. खाली सीटों पर दाखिला 31 अक्टूबर तक पूरा होगा. 

छात्र परीक्षा का कर रहे हैं इंतजार:
लाखों छात्र परीक्षा का इंतजार कर रहे हैं. अगर अभी परीक्षा नहीं हुई और तीसरी लहर अगर आती है तो विश्वविद्यालयों का परीक्षा कैलेंडर पूरी तरह से ध्वस्त हो जाएगा. अभी पहले ही डेढ़ साल में परीक्षा कैलेंडर पटरी से उतर चुका है. परीक्षा करा देना भी एक बड़ी चुनौती है. छात्रों का कहना है सत्र पहले ही लेट हो चुका है अगर ऐसे में परीक्षा तिथि बढ़ेगी तो परेशानी होगी.

और पढ़ें