जयपुर ब्रिटेन के यात्रियों की सूची से राजस्थान में 'खलबली'! चिकित्सा विभाग ने सभी जिला कलेक्टर को जारी किया अलर्ट

ब्रिटेन के यात्रियों की सूची से राजस्थान में 'खलबली'! चिकित्सा विभाग ने सभी जिला कलेक्टर को जारी किया अलर्ट

जयपुर: ब्रिटेन में सामने आए कोरोना के नए स्ट्रेन ने भारत समेत दुनियाभर में खलबली मचा दी है. नए स्ट्रेन की सूचना मिलते ही केन्द्र सरकार ने ब्रिट्रेन से आए लोगों को सूचीबद्ध किया है, जिसमें सामने आया है कि राजस्थान में 811 लोग पिछले दिनों में यूके से लौटे हैं. केन्द्र की तरफ से जिलेवार आई सूची के बाद राजस्थान सरकार भी नए स्ट्रेन को लेकर हरकत में आ गई है. चिकित्सा विभाग ने सभी जिला कलक्टरों को सूची साझा करके यात्रियों की मॉनिटरिंग के लिए अलर्ट जारी किया है. 

ब्रिटेन में कोरोना के नए स्ट्रेन ने दुनियाभर में हड़कंप मचा दिया: 
राजस्थान समेत पूरे देशभर में कोरोना पर अभी काबू भी नहीं पाया जा सका है और ब्रिटेन में कोरोना के नए स्ट्रेन ने दुनियाभर में हड़कंप मचा दिया है. इस नए वेरियेंट के तेजी से फैलने की खबरों से चिंताए और बढ़ गई है. हालांकि भारत सरकार ने ऐतियातन 22 दिसम्बर को ही यूके की सभी फ्लाइट्स को आने से रोक दिया गया है. लेकिन इससे पहले ही बड़ी संख्या में यात्री भारत पहुंचे हैं. जिन्हें अब ट्रेस करने की प्रक्रिया शुरू हो गई है. अकेले राजस्थान की बात की जाए तो 24 दिसंबर तक यूके से कुल 811 यात्री राजस्थान पहुंचे हैं. इस बात की सूचना मिलते ही राजस्थान के चिकित्सा विभाग ने सभी जिलों के कलेक्टर्स को नए स्ट्रेन को लेकर अलर्ट जारी किया गया है. हालांकि शुरुआती जानकारी के अनुसार यूके से राजस्थान आने वाले किसी भी यात्री के अभी पॉजिटीव आने की खबर सामने नहीं आई हैं. लेकिन बावजूद इसके विशेष एहतियात बरते जा रहे हैं. 

राजस्थान में आने वाले 811 में से सबसे ज्यादा 333 यात्री जयपुर लौटे: 
यूके से राजस्थान में आने वाले 811 में से सबसे ज्यादा 333 यात्री जयपुर लौटे हैं. इस लिहाज से जयपुर में भी विशेष एहतियात बरते जा रहे हैं. सीएमएचओ डॉ.नरोत्तम शर्मा ने बताया कि जयपुर लौटने वाले सभी यात्रियों से सम्पर्क किया जा रहा है. हमारी टीम सभी यात्रियों से सम्पर्क कर उन्हें होम आइसोलेट रहने की सलाह दे रही है. इसके साथ ही उन्होंने यह भी जानकारी दी कि अधिकांश यात्री कोरोना ट्रेस्ट एयरपोर्ट पर करवाकर आए है. जो लोग टेस्ट रिपोर्ट नहीं दे रहे है, उन सभी के फिर से टेस्ट करवाए जा रहे हैं. 

किसी वायरस जनित बीमारी का नया स्ट्रेन आना नई बात नहीं:
हालांकि किसी वायरस जनित बीमारी का नया स्ट्रेन आना नई बात नहीं है. इससे पहले स्वाइन फ्लू का कैलिफोर्नियाई स्ट्रेन बदलकर मिशिगन हो गया था. लेकिन कोरोना के नए स्ट्रेन के तेजी से फैलने की खबरों से चिंता बढ़ना लाजम है. बहरहाल, हमारे देश में अभी तक कोरोना के नए स्ट्रेन का एक भी मामला सामने नहीं आया है. लेकिन चिकित्सकों की माने तो एहतियात बरत कर ही कोरोना और उसके नए वेरियेंट से बचा जा सकता है. उम्मीद है कि लोग पिछले दस माह में जिस तरह से जागरूकता दिखा रहे हैं, सावधानी बरत रहे है, वो आगे भी जारी रहेगी ताकि कोरोना के नए वेरियेंट का मजबूती से मुकाबला किया जा सके. 

और पढ़ें