नई दिल्ली डिजिटल प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल ऑडिट को और कारगर बनाने में हो- कैग

डिजिटल प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल ऑडिट को और कारगर बनाने में हो- कैग

डिजिटल प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल ऑडिट को और कारगर बनाने में हो- कैग

नई दिल्ली: नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (CAG) गिरीश चंद्र मुर्मू ने शुक्रवार को कहा कि आईसीएआई (ICAI) को डिजिटल प्रौद्योगिकी (digital technology) का उपयोग ऑडिट (audit) को और कारगर बनाने में करना चाहिए.

मुर्मू ने यहां 74वें चार्टर्ड अकाउंटेंट दिवस पर आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि बीता दशक सभी क्षेत्रों में व्यापक बदलावों का समय रहा है. इस दौरान डिजिटल प्रौद्योगिकी का जबरदस्त विकास हुआ है लेकिन बड़े स्तर पर धोखाधड़ी करने में इसका दुरुपयोग भी किया गया है.

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि प्रौद्योगिकी का ही इस्तेमाल कर भारतीय सनदी लेखाकार संस्थान (आईसीएआई) ऑडिट को बड़े स्तर पर सक्षम बनाने वाला संस्थान भी बन सकता है.

डिजिटल ऑडिट प्रौद्योगिकी सभी सदस्यों को उपलब्ध हों:
कैग ने कहा कि आईसीएआई को यह सुनिश्चित करने के अधिक प्रयास करने चाहिए कि डिजिटल ऑडिट प्रौद्योगिकी सभी सदस्यों को उपलब्ध हों और हम सभी को इन घटनाक्रमों से अवगत होने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि समय के साथ हुए बदलावों ने ऑडिट की प्रक्रिया एवं पद्धति पर नए सिरे से गौर करने एवं समीक्षा की जरूरत पैदा कर दी है. सोर्स- भाषा 

और पढ़ें