जयपुर VIDEO: प्रदेश में 15 से 18 साल आयु वर्ग के बच्चों के वैक्सीनेशन का हुआ आगाज, CM अशोक गहलोत ने की वैक्सीनेशन कैम्पेन की शुरूआत

VIDEO: प्रदेश में 15 से 18 साल आयु वर्ग के बच्चों के वैक्सीनेशन का हुआ आगाज, CM अशोक गहलोत ने की वैक्सीनेशन कैम्पेन की शुरूआत

जयपुर : प्रदेश में एक साल के लम्बे इंतजार के बाद आखिरकार नौनिहालों को "सुरक्षा चक्र" के दायरे में लाने का सिलसिला शुरू हुआ. प्रदेश में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने 15 से 18 साल आयु वर्ग के बच्चों के वैक्सीनेशन अभियान का आगाज किया. इस मौके पर गहलोत ने कहा कि मुझे खुशी है कि हमने जो मांग की,वो पूरी हुई. कोरोना की बूस्टर डोज की भी और बच्चों के वैक्सीनेशन की भी. सीएम ने दूसरे देशों का उदाहरण देते हुए एकबार फिर से मांग उठाई कि सभी बच्चों को वैक्सीन का सुरक्षा कवच उपलब्ध कराया जाना चाहिए. इसके साथ ही ये भी कहा कि कोरोना की बूस्टर डोज से राइडर हटना चाहिए. देश के अंदर बूस्टर डोज सभी जरूरतमंदों को लगनी चाहिए

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राजधानी के गणगौरी बाजार बालिका विधालय से 15+ आयुवर्ग के बहुप्रतिक्षित वैक्सीनेशन अभियान की शुरूआत की. समारोह में मंत्री बीडी कल्ला, परसादी लाल मीणा, महेश जोशी, विधायक अमीन कागजी, महापौर मुनेश गुर्जर सहित अन्य लोग मौजूद रहे. टीकाकरण की शुरुआत में 4 बालिकाओं को वैक्सीन लगायी गयी, जिन्हे चॉकलेट देकर सीएम गहलोत ने उन्हे प्रोत्साहित किया. कार्यक्रम में गहलोत ने कहा कि मेरा मानना है कि सभी आयुवर्ग को वैक्सीन की डोज लगनी चाहिए इसके लिए हम फिर से केन्द्र पर दबाव बनाएंगे, ताकि भले ही धीरे धीरे ही सही, लेकिन सबको सुरक्षा कवच के दायरे में लाना होगा. नई गाइडलाइन को लेकर गहलोत ने कहा कि अभी ओमिक्रॉन से मृत्यु बहुत कम हो रही है. न के बराबर हो रही है, इसलिए लोग परवाह नहीं कर रहे हैं, मास्क लगाना छोड़ दिया है लोगों ने. मैं चाहूंगा कि लोग मास्क लगाएं, वैक्सीन की दोनों डोज लें और सोशल डिस्टेंसिंग रखे. कोरोना प्रोटोकॉल की पालना करना आवश्यक है. पता नहीं ये ओमिक्रॉन आने के बाद में कब अपना रूप बदल ले.

सीएम गहलोत ने जीता बच्चियों का दिल !

15+ आयुवर्ग के वैक्सीनेशन अभियान की झलकियां

कार्यक्रम में सीएम ने कोरोना काल का दिया उदाहरण

गहलोत बोले, कोरोना में करोड़ों का राजस्व हुआ प्रभावित

लेकिन सरकार ने बजट में इसका कोई असर नहीं आने दिया

पिछली बार भी दिल खोलकर बजट पेश किया, आगे भी करेंगे

जहां भी स्कूलों में 500 से अधिक बच्चियां होंगी, वहां कॉलेज खोलेंगे

इस पर जलदाय मंत्री महेश जोशी ने कार्यक्रम स्थल हो लेकर कहा कि

गणगौरी बाजार बालिका विधालय में तो 1100 से अधिक बच्चियां है

तो सीएम बोले, फिर तो यहां बालिका महाविद्यालय खुलना तय है

यह सुनकर पाण्डल में बैठी बच्चियों ने जोरशोर से बजाई तालियां

"सुपर से ऊपर" गहलोत अंकल !

15+ आयुवर्ग के वैक्सीनेशन अभियान में दिखा गहलोत का जलवा

कार्यक्रम के बाद उत्साहित दिख रही बच्चियों के ग्रुप में जा पहुंचे गहलोत

करीब 15 मिनट तक गहलोत ने उनसे पढ़ाई समेत की अन्य बातचीत

गहलोत ने पूछा कि यहां कॉलेज खुलेगा, तो आप लोग खुश हो

तो बच्चियों ने कहा कि बिल्कुल खुश है, लेकिन एक मांग और है

स्कूल में विज्ञान और कला संकाय है, अभी वाणिज्य संकाय नहीं है

तो सीएम ने हाथों हाथ कह दिया कि वाणिज्य संकाय ही शुरू होगा

यह सुनकर बच्चियों ने कहा कि हमारे सीएम साहब से "सुपर से ऊपर"

कार्यक्रम में CM गहलोत ने कोरोना काल के अनुभव भी साझा किए. गहलोत ने कहा कि 'ओमिक्रॉन ने पूरी दुनिया को हिलाकर रख दिया है'. 'हमने कोरोना की पहली और दूसरी लहर को देखा '. 'पहली लहर में लोगों में डर था, दूसरी लहर में हाहाकार के हालात पैदा किए '. 'पूरे देश में हालात भयावह हो गए थे, लेकिन राजस्थान ने अनूठा उदाहरण पेश किया'. 'कोरोना मैनेजमेंट में सरकार ने कोई कमी नहीं छोड़ी'. 'ऑक्सीजन की व्यवस्था की, चार्टर प्लेन से दवाएं मंगवाई'. 'ताकि लोगों की जिंदगी बचाई जा सके'. मंच से गहलोत ने आश्वस्त किया कि 'राजस्थान में सब तैयारियां की जा चुकी है'. 'अब कोई भी लहर आये, संसाधनों की कमी नहीं होगी''

चिकित्सा मंत्री परसादी लाल मीणा ने बताया कि हमारा टारगेट जल्द से जल्द इस एज ग्रुप को वैक्सीनेट करने का है. उन्होंने कहा कि वैक्सीन का हमारे पास अभी पर्याप्त स्टॉक है और केन्द्र सरकार से मांग के अनुरूप हमे वैक्सीन मिलती रही तो हम इसी महीने के अंत तक इस एज ग्रुप को वैक्सीन की कम से कम एक डोज लगा देंगे. जलदाय मंत्री महेश जोशी ने कोरोना मैनेजमेंट में सरकार के प्रयासों पर प्रकाश डाला. चिकित्सा विभाग के प्रमुख सचिव वैभव गालरिया ने बताया कि राजस्थान में 10 जनवरी से स्वास्थ्य कर्मियों, फ्रंटलाइन वर्कर्स और 60 साल से ऊपर के एज ग्रुप के गंभीर रोगग्रस्त व्यक्तियों का भी प्रिकॉशन डोज का वैक्सीनेशन शुरू किया जाएगा.

करीब एक साल के लम्बे इंतजार के बाद शुरू हुआ बच्चों का वैक्सीनेशन सभी के लिए उत्साह का विषय रहा. खुद सीएम गहलोत इस घडी को देखकर काफी खुश हुए और उन्होंने मंच से इसका इजहार भी किया. इसके अलावा डोज लगाने के बाद सभी बच्चों में उत्साह का माहौल नजर आया. बच्चों ने कहा कि वे खुद को वैक्सीन लगा ही रहे है, साथ ही उन लोगों को भी प्रेरित कर रहे है, , जिन्होंने अभी तक सुरक्षा कवच नहीं लिया है. ऐसे में उम्मीद है कि अब तक वैक्सीन से दूरी बना रहे लोग भी बच्चों से सीख लेंगे और राजस्थान में शतप्रतिशत वैक्सीनेशन की राह आसान करेंगे.
 

और पढ़ें