नई दिल्ली: युवाओं का वैक्सीनेशन:  शाम 4 बजे से शुरू होगा 18 से ज्यादा उम्र के लोगों का रजिस्ट्रेशन, जानिए क्या है पूरी प्रोसेस

युवाओं का वैक्सीनेशन:  शाम 4 बजे से शुरू होगा 18 से ज्यादा उम्र के लोगों का रजिस्ट्रेशन, जानिए क्या है पूरी प्रोसेस

युवाओं का वैक्सीनेशन:  शाम 4 बजे से शुरू होगा 18 से ज्यादा उम्र के लोगों का रजिस्ट्रेशन, जानिए क्या है पूरी प्रोसेस

नई दिल्ली: हाल ही में प्रधानमंत्री द्वारा युवाओं को वैक्सीनेशन (Vaccination to Youth) करने की मंजूरी मिलने के बाद 1 मई से टीकाकरण शुरू होगा लेकिन 28 अप्रैल से टिका लगवाने वाले को ऑनलाइन पोर्टल (Online Portel) पर पहले अपना रजिस्ट्रेशन करवाना होगा. देश में 18 और इससे ज्यादा उम्र के लोगों का वैक्सीनेशन एक मई से शुरू होगा. इसके लिए रजिस्ट्रेशन आज से यानी 28 अप्रैल से शुरू होना है. सरकार ने रजिस्ट्रेशन के लिए तारीख का ऐलान तो किया, लेकिन किस समय रजिस्ट्रेशन शुरू होगा? इस बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई.

प्राइवेट और राज्य सरकार के सेंटर्स की उपलब्धता के आधार पर ही मिलेगा अपॉइंटमेंट:
ऐसे में लोगों ने 27 अप्रैल की रात 12 बजे के बाद से ही कोविन पोर्टल, आरोग्य सेतु (Aarogya Setu) या उमंग ऐप (Umang App) पर रजिस्ट्रेशन की कोशिशें शुरू कर दीं है.  प्रोसेस शुरू न होने की स्थिति में लोग सोशल मीडिया पर शिकायत करते भी नजर आए. इसके बाद आरोग्य सेतु ऐप के जरिए सरकार ने स्थिति स्पष्ट की है. इसके अनुसार 18 से ज्यादा उम्र के वे लोग जो वैक्सीन लगवाना चाहते हैं, उनके लिए बुधवार को शाम 4 बजे से रजिस्ट्रेशन शुरू होगा. ऐसे लोगों को अपॉइंटमेंट भी प्राइवेट और राज्य सरकार के सेंटर्स की उपलब्धता के आधार पर ही मिलेगा. यानी राज्यों में एक मई को वैक्सीनेशन के लिए तैयार सेंटर्स के आधार पर ही लोगों को अपॉइंटमेंट दिया जाएगा.

 

समय का देरी से ऐलान करने से लोगों में नाराजगी: 
आरोग्य सेतु के ट्विटर हैंडल (Twitter Handle Of Arogya Setu) के जरिए सुबह 7.50 बजे शाम 4 बजे से रजिस्ट्रेशन शुरू होने का ऐलान किया गया. इसलिए काफी पहले से ही रजिस्ट्रेशन करने की कोशिश कर रहे लोगों ने सोशल मीडिया पर काफी नाराजगी जताई. उनका कहना था कि सरकार को समय का ऐलान पहले ही करना चाहिए था. लोग 27 अप्रैल रात 12 बजे ही से रजिस्ट्रेशन ट्राई कर रहे थे.

सेंट्रल ड्रग लैबोरेटरी से मंजूरी मिलने के बाद 50% डोज केंद्र के पास जाएंगे:
हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) की अध्यक्षता में हाईलेवल की बैठक (High Leval Meeting) में देश की युवा आबादी को वैक्सीनेट करने का फैसला लिया गया है.  पर यह बहुत पेचीदा है. पॉलिसी के तहत कसौली की सेंट्रल ड्रग लैबोरेटरी (Central Drugs Laboratory) से मंजूरी मिलने के बाद 50% डोज केंद्र के पास जाएंगे और बचे हुए डोज राज्यों और प्राइवेट अस्पतालों में बंट जाएंगे.  केंद्र सरकार ने कोवीशील्ड के लिए सीरम इंस्टीट्यूट और कोवैक्सिन के लिए भारत बायोटेक से 150 रुपए प्रति डोज की कीमत चुकाने की डील की है. वहीं राज्यों के लिए कोवीशील्ड का एक डोज 400 रुपए का और कोवैक्सिन का एक डोज 600 रुपए का पड़ेगा. कंपनियों ने यह कीमत तय की है.

केंद्र और राज्यों की सरकारों के लिए अलग-अलग कीमत:
अब इसे लेकर कई सवाल है, जिनके जवाब फिलहाल किसी के पास नहीं है. मसलन… केंद्र और राज्यों की सरकारों के लिए अलग-अलग कीमत क्यों? केंद्र खुद खरीदकर राज्यों को वैक्सीन डोज उपलब्ध क्यों नहीं करा रहा? राज्यों और प्राइवेट अस्पतालों को मिलने वाले वैक्सीन डोज का बंटवारा कैसे होगा? इस पर सियासत भी गरमा गई है. राजस्थान, झारखंड, पंजाब और छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्रियों ने संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस (Joint Press Conference) कर कहा है कि केंद्र उनके साथ सौतेला व्यवहार कर रहा है. सीरम इंस्टीट्यूट (Syram Institute) से जब उन्होंने डोज मांगे तो जवाब मिला कि 15 मई से पहले यह संभव नहीं होगा. अब यह राज्य कह रहे हैं कि बजट में था नहीं फिर भी पैसे तो जैसे-तैसे जुटा लेंगे पर वैक्सीन डोज मिले ही नहीं तो 18+ को वैक्सीनेट करेंगे कैसे?

वैक्सीन के लिए ऐसे कराएं रजिस्ट्रेशन:
CoWIN के जरिए रजिस्ट्रेशन के लिए आपको उसकी वेबसाइट Https://Selfregistration.Cowin.Gov.In/ पर जाना होगा और रजिस्ट्रेशन करना होगा. इसके अलावा आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड करके वैक्सीनेशन के लिए खुद को रजिस्टर करवा सकते हैं. रजिस्ट्रेशन के लिए आपको अपना मोबाइल नंबर देना होगा. उसी नंबर रजिस्ट्रेशन के लिए ओटीपी (One Time Password) आएगा.

इन डॉक्यूमेंट्स की होगी जरूरत : 
कोविन पर वैक्सीनेशन रजिस्ट्रेशन के लिए आधार कार्ड (UID), ड्राइविंग लाइसेंस (DL), पैन कार्ड (PAN), पासपोर्ट (Passport), पेंशन पासबुक (Penson Passbook), वोटर आईडी कार्ड में से किसी एक का इस्तेमाल करके ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराया जा सकता है.

वैक्सीन चुनने का होगा विकल्प:
सरकारी अस्पतालों में लोगों को वैक्सीन चुनने का विकल्प नहीं मिलेगा लेकिन निजी अस्पतालों और वैक्सीनेशन सेंटर्स को इस बात की जानकारी देनी होगी कि उनके कोविशील्ड या कोवैक्सीन कौन सी लग रही है. निजी अस्पतालों और सेंटर्स को पोर्टल पर वैक्सीनेशन की कीमतों की भी जानकारी देनी होगी. 

और पढ़ें