चंडीगढ़ अच्छी गुणवत्ता वाली शिक्षा सस्ती, सुलभ होनी चाहिए: वेंकैया नायडू

अच्छी गुणवत्ता वाली शिक्षा सस्ती, सुलभ होनी चाहिए: वेंकैया नायडू

अच्छी गुणवत्ता वाली शिक्षा सस्ती, सुलभ होनी चाहिए:  वेंकैया नायडू

चंडीगढ़: उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने शुक्रवार को कहा कि अच्छी गुणवत्ता वाली शिक्षा सभी के लिए सस्ती और सुलभ होनी चाहिए और रेखांकित किया कि देश के विकास को गति देने के लिए शिक्षा सबसे शक्तिशाली उत्प्रेरक है. नायडू यहां पंजाब विश्वविद्यालय के 69वें दीक्षांत समारोह को संबोधित कर रहे थे. उपराष्ट्रपति ने कहा कि अच्छी गुणवत्ता की शिक्षा सभी के लिए सुलभ, सस्ती होनी चाहिए और किसी व्यक्ति के दृष्टिकोण, सामाजिक सामंजस्य और समावेशी राष्ट्रीय विकास में सकारात्मक परिवर्तन की ओर ले जाने वाली चाहिए.

नायडू ने कहा कि समाज में एकजुटता होनी चाहिए. यह छात्रों को शुरू से ही सिखाना चाहिए. उन्होंने कहा कि हमें हमेशा शिक्षा की शक्ति का उपयोग करना चाहिए और युवाओं की रचनात्मक ऊर्जा को उजागर करना चाहिए.इस मौके पर पंजाब के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित, हरियाणा के राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय, पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान और हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर मौजूद थे.

नायडू ने कहा कि शिक्षा वास्तव में सबसे शक्तिशाली उत्प्रेरक है जो किसी देश के विकास की गति को बदल सकती है. उन्होंने कहा कि यदि आप वास्तव में तेज गति से विकास चाहते हैं तो आपको देश को शिक्षित करने की जरूरत है. नायडू ने कहा कि देश की 65 फीसदी आबादी 35 साल से कम और 50 फीसदी की उम्र 25 साल से कम है. उन्होंने कहा कि अगर हम उन्हें सशक्त, शिक्षित, प्रबुद्ध और प्रोत्साहित करते हैं तो वे अपने जीवन में उत्कृष्टता प्राप्त करेंगे और देश को दुनिया में उत्कृष्ट बनाएंगे.

नायडू ने कहा कि नवाचार और अत्याधुनिक शोध के माध्यम से विश्वविद्यालयों को ज्ञान क्रांति में सबसे आगे होना चाहिए. उन्होंने कहा कि भारत को कभी ‘विश्वगुरु’ के रूप में जाना जाता था. उपराष्ट्रपति ने कहा कि दुनिया भर से छात्र यहां आते थे और पढ़ते थे. औपनिवेशिक शासन के कारण हमने अपनी गति खो दी और हमें एक ऐसी शिक्षा प्रणाली में पढ़ाया जाता है जो औपनिवेशिक शासन द्वारा अधिक प्रभावित होती है. उन्होंने कहा कि नयी शिक्षा नीति शिक्षा प्रणाली को वास्तव में भारतीय बनाने की आवश्यकता को ध्यान में रखेगी. (भाषा) 

और पढ़ें