चिकित्सा मंत्री डॉ.रघु शर्मा का वैक्सीनेशन कार्यक्रम को लेकर दावा, कहा-राजस्थान में वैक्सीन का वेस्टेज मात्र 2 प्रतिशत

चिकित्सा मंत्री डॉ.रघु शर्मा का वैक्सीनेशन कार्यक्रम को लेकर दावा, कहा-राजस्थान में वैक्सीन का वेस्टेज मात्र 2 प्रतिशत

चिकित्सा मंत्री डॉ.रघु शर्मा का वैक्सीनेशन कार्यक्रम को लेकर दावा, कहा-राजस्थान में वैक्सीन का वेस्टेज मात्र 2 प्रतिशत

जयपुर: राजस्थान में 11 फीसदी कोरोना वैक्सीन डोज खराब होने के आंकड़े पर चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने केन्द्र पर निशाना साधा है.चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने दावा किया है कि राजस्थान में वैक्सीन की वेस्टेज देश में न्यूनतम है.उन्होंने बताया कि केन्द्र द्वारा कोविड वैक्सीन का 10 प्रतिशत वेस्टेज अनुमत है.इसकी तुलना में राजस्थान में वैक्सीन का वेस्टेज मात्र 2 प्रतिशत है.डा शर्मा ने कहा कि 26 मई 2021 तक राजस्थान में 1 करोड़ 63 लाख 67 हजार 230 लाभार्थियों को कोविड का टीका लगाया जा चुका है. जबकि 1 करोड़ 70 लाख 1 हजार 220 डोजेज की खपत दर्ज की गई है. लेकिन एप में 6 लाख 33 हजार 990 डोजेज का वास्तव में वेस्टेज नही है, क्योंकि 2.95 लाख डोजेज का दो बार गलती से इंद्राज हुई है.

वैक्सीन का वेस्टेज मात्र 2 प्रतिशत:

वास्तव में मात्र 3.38 लाख डोजेज की वेस्टेज हुई है जो कि उपयोग में ली गई कुल डोजेज का मात्र 2 प्रतिशत है.चिकित्सा मंत्री ने बताया कि 18 से 44 आयवुर्ग के लिए सीरम इंस्टीट्यूट से प्राप्त कोविशिल्ड की 14 लाख 94 हजार डोजेज प्राप्त हुई है, जबकि 27 मई की शाम तक इनका अनुमत से भी अधिक उपयोग किया जा चुका है.उन्होंने एक केन्द्रीय मंत्री द्वारा राजस्थान में वैक्सीन की 11.50 लाख डोज की बर्बादी के बारे में किए गए ट्वीट पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए उन्हें तथ्यों की सही जानकारी लेकर ट्वीट करने की सलाह दी.साथ ही कहा किट्वीट में व्यक्त किए गए तथ्य पूर्णतया निराधार है.

देशभर में सबसे कम वैक्सीन राजस्थान में हुई वेस्टेज:
-चिकित्सा मंत्री डॉ.रघु शर्मा का वैक्सीनेशन कार्यक्रम को लेकर दावा
-डॉ.शर्मा ने कहा-'राजस्थान में वैक्सीन का वेस्टेज मात्र 2 प्रतिशत
-जबकि केन्द्र द्वारा कोविड वैक्सीन का 10 प्रतिशत वेस्टेज अनुमत 
-26 मई 2021 तक का डेटा किया सार्वजनिक
-कोविन एप के अनुसार 1,63,67,230 लाभार्थियों को लगा टीका
-जबकि 1,70,01,220 डोजेज की खपत दर्ज की गई 
-कोविन एप में 6,33,990 डोजेज का वास्तव में वेस्टेज नहीं
-बल्कि 2.95 लाख डोजेज दो बार गलती से इंद्राज हुई 
-वास्तव में मात्र 3.38 लाख डोजेज की वेस्टेज हुई 
-जो कि उपयोग में ली गई कुल डोजेज का मात्र 2 प्रतिशत 
-दोनों एप केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा ही संचालित है

और पढ़ें