पूरे देशभर में मनाया जा रहा है विजयादशमी पर्व, वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ हुआ शस्त्र पूजन

पूरे देशभर में मनाया जा रहा है विजयादशमी पर्व, वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ हुआ शस्त्र पूजन

पूरे देशभर में मनाया जा रहा है विजयादशमी पर्व, वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ हुआ शस्त्र पूजन

जयपुर: असत्य पर सत्य की जीत का पर्व विजयादशमी आज पूरे देश में धूमधाम से मनाया जा रहा है. विजयादशमी के पर्व पर प्राचीन काल से लेकर अब तक शस्त्रों के पूजन करने का अपना एक महत्वपूर्ण महत्व है.इस मौके पर आज गौड़ सनाढ्य फाऊंडेशन और राजपूत करणी सेना के साथ मानसरोवर स्थित दुर्गामाता मंदिर में वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ शस्त्र पुजन किया गया. पंण्डित पुरूषोत्म गौड़ के नेतृत्व में वैदिक मंत्रौचार के साथ शस्त्रों का पूजन करवाया गया. 

इस मौके पर गौड़ सनाढय फाऊंडेशन के प्रदेशाध्यक्ष पण्डित देविशंकर शर्मा, गौड़ सनाढ्य फाऊंडेशन राष्ट्रीय संयोजक  अनुराग शर्मा, करणी सेना प्रदेशाध्यक्ष सुखदेव सिंह गोगामेड़ी, गौड़ सनाढय फाऊंडेशन राष्ट्रीय महामंत्री हरि शर्मा, कार्यक्रम संयोजक सुनील मुद्गल सहित विभिन्न संगठनो के समाज बंधुओ ने कार्यक्रम में हिस्सा लिया, विजयादशमी के पर्व पर शस्त्र पूजन को लेकर पण्डित देविशंकर शर्मा ने बताया की हिन्दू धर्म में शस्त्र पूजन का अपना महत्व हैं, विजयादशमी के दिन महिषासुर मर्दिनी मां दुर्गा और मर्यादा पुरुषोत्तम राम की पूजा-अर्चना की जाती है.

मां दुर्गा की पूजन करने से आदिशक्ति मां दुर्गा की कृपा प्राप्त होती है। इससे जीवन में आने वाली विषमताएं, परेशानियां, कष्ट और दरिद्रता का नाश होता है. भगवान श्रीराम की पूजा करने से धर्म के मार्ग पर चलने वालों को विजय प्राप्त होती है. प्रभु श्रीराम का राज्याभिषेक विजय मुहूर्त में विजयदशमी पर हुआ था. जब से ही ये इन दिन शस्त्र पूजन करने की भी सनातन परंपरा  चली आ रही हैं.

और पढ़ें