फरीदाबाद Agnipath scheme: पलवल में ‘अग्निपथ‘ योजना को लेकर हिंसा, इंटरनेट बंद

Agnipath scheme: पलवल में ‘अग्निपथ‘ योजना को लेकर हिंसा, इंटरनेट बंद

Agnipath scheme: पलवल में ‘अग्निपथ‘ योजना को लेकर हिंसा, इंटरनेट बंद

फरीदाबाद: केंद्र की सैन्य बलों में अल्प अवधि के लिए भर्ती योजना ‘अग्निपथ’ के खिलाफ युवाओं का प्रदर्शन हरियाणा के पलवल में गुरुवार को हिंसक हो गया. इस दौरान पथराव और गाड़ियों में आगज़नी की गई. पुलिस ने हालात पर काबू पाने के लिए बल प्रयोग किया और प्रशासन ने इंटरनेट सेवा को बंद कर दिया है. अधिकारियों ने यह जानकारी दी. अधिकारियों ने बताया कि ‘अग्निपथ’ योजना के खिलाफ पलवल में प्रदर्शनकारियों ने उपायुक्त कार्यालय के सामने विरोध प्रदर्शन किया और राष्ट्रीय राजमार्ग 19 को जाम कर दिया. 

अधिकारियों ने बताया कि घटना की सूचना मिलने पर पुलिस ने मौके पर पहुंच कर प्रदर्शनकारियों पर हल्का बल प्रयोग किया जिसके चलते प्रदर्शनकारी आक्रोशित हो गए और पुलिस पर पथराव कर दिया और पुलिस की पांच गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया और सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाया. ड्यूटी मजिस्ट्रेट नरेंद्र सिंह ने बताया कि प्रदर्शनकारियों द्वारा तोड़फोड़ व आगजनी कर सार्वजनिक सम्पत्ति को नुकसान पहुंचाया है. जिला प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन ने प्रदर्शनकारियों के खिलाफ कार्यवाही शुरू कर दी गई है. उन्होंने बताया कि जिले में धारा 144 लागू कर दी गई है तथा इंटरनेट सेवा भी फिलहाल बंद कर दी गई है. अधिकारियों ने बताया कि पथराव के दौरान पुलिस कर्मी घायल हो गए जिन्हें अस्पताल भेजा गया है. अधिकारियों ने बताया कि प्रदर्शनकारियों ने जिला उपायुक्त कैंप कार्यालय में भी पथराव कर दिया और कैंप कार्यालय के भीतर दाखिल हो गए और गार्ड कक्ष में आग लगा दी. इसके बाद पुलिस अधीक्षक मुकेश मल्होत्रा भारी पुलिस बल के साथ घटना स्थल पर पहुंचे और प्रदर्शनकारियों को काबू करने का प्रयास किया लेकिन प्रदर्शनकारी पुलिस को देखकर कैंप मार्किट और आगरा चौक की तरफ भागने में कामयाब हो गए. 

पलवल के पुलिस अधीक्षक मुकेश मल्होत्रा ने बताया कि इस बाबत दो प्राथमिकियां दर्ज की गई हैं और दो विशेष जांच दल (एसआईटी) गठित किए गए हैं. उन्होंने कहा कि हिंसा में शामिल किसी को भी बख्शा नहीं जाएगा. पुलिस ने राष्ट्रीय राजमार्ग 19 को खाली कराकर यातायात को सुचारू रूप से चलाया. वहीं इस घटना के बाद फरीदाबाद पुलिस भी सतर्क हो गई है. फरीदाबाद के पुलिस आयुक्त कमिश्रर विकास कुमार अरोड़ा ने सभी उपायुक्तों (डीसीपी), सहायक पुलिस आयुक्तों (एसीपी) थाना व चौकी प्रभारियों को अलर्ट रहने के निर्देश जारी किए है. पलवल के अलावा गुरूग्राम और रेवाड़ी में भी प्रदर्शन हुए हैं. पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह के मुताबिक, पुलिस आयुक्त ने कहा है कि फरीदाबाद में किसी को भी कानून हाथ में लेने की इजाजत नहीं दी जाएगी. गौरतलब है कि केंद्र सरकार ने दशकों पुरानी रक्षा भर्ती प्रक्रिया में आमूल-चूल परिवर्तन करते हुए थलसेना, नौसेना और वायुसेना में सैनिकों की भर्ती संबंधी ‘‘अग्निपथ’’ योजना की मंगलवार को घोषणा की थी जिसके तहत सैनिकों की भर्ती चार साल की लघु अवधि के लिए संविदा आधार पर की जाएगी. सोर्स- भाषा

और पढ़ें