पंजाब के बाद राजस्थान में हेपेटाइटिस कंट्रोल कार्यक्रम, मंत्री रघु शर्मा ने की शुरूआत

Vikas Sharma Published Date 2019/06/08 02:16

जयपुर: प्रदेशभर में हेपेटाइटिस वायरस की रोकथाम के लिए अब बड़े स्तर पर कार्यक्रम चलेगा. पंजाब के बाद राजस्थान ऐसा दूसरा राज्य होगा जहां वायरल हेपेटाइटिस की स्क्रीनिंग कर उपचार किया जाएगा. कार्यक्रम के तहत प्रदेश में इस वर्ष 3 आदर्श उपचार केंद्रों के साथ ही जिला स्तर पर उपचार सुविधाएं सुलभ कराई जाएंगी. शुक्रवार को राजधानी जयपुर में नेशनल वायरल हेपेटाइटिस कंट्रोल कार्यक्रम की शुरूआत करते हुए चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने यह जानकारी दी.

नेशनल वायरल हेपेटाइटिस नियंत्रण कार्यक्रम
उन्होंने कहा कि राजस्थान सरकार ने जयपुर, अजमेर और जोधपुर में तीन आदर्श केन्द्र बनाए है, जहां हेपेटाइटिस की स्क्रीनिंग का बड़े स्तर पर काम शुरू होगा. इसके बाद यह सुविधा ब्लॉक स्तर पर उपलब्ध कराई जाएगी. उन्होंने बताया कि नेशनल वायरल हेपेटाइटिस नियंत्रण कार्यक्रम के तहत देशभर में करीब 5 करोड़ लोगों को आवश्यक स्क्रीनिंग व उपचार सुविधाएं सुलभ कराई जाएगी. केंद्रीय स्वास्थ्य संयुक्त सचिव विकास शील ने कहा कि इस कार्यक्रम के चलते देश मे वर्ष 2080 तक इस समस्या पर नियंत्रण किया जा सकेगा.

हेपेटाइटिस एक गंभीर समस्या 
उन्होंने इस कार्यक्रम से जुड़े स्वास्थ्य कर्मियों के हेपेटाइटिस टीकाकरण की आवश्यकता पर भी बल दिया. विश्व स्वास्थ्य संगठन के कंट्री हेड डॉ हेक बेकेडम ने कहा कि हेपेटाइटिस एक गंभीर समस्या है और इसके बारे में चिकित्सकों के साथ ही आमजन को जागरूक करने की आवश्यकता है. एमडी एनएचएम डॉ समित शर्मा ने बताया कि नेशनल वायरल हेपेटाइटिस नियंत्रण कार्यक्रम के लिए चिकित्सकों को प्रशिक्षण प्रदान किया जा रहा है. 

सुधार की ओर अग्रसर स्वास्थ्य विभाग
उन्होंने बताया कि प्रदेश के स्वास्थ्य आंकड़े निरंतर सुधार की ओर अग्रसर हैं. संस्थागत प्रसव बढ़कर अब 88 प्रतिशत हो चुका है. जो कि हेपेटाइटिस की रोकथाम के लिहाज से काफी महत्वपूर्ण है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की अतिरिक्त निदेशक डॉ संध्या काबरा, प्रिंसीपल एसएमएस डॉ सुधीर भंडारी ने भी अपने विचार व्यक्त किए.

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in