T20 World Cup में स्कॉटलैंड पर शानदार जीत के बाद बोले विराट कोहली, कहा- हमें खेद है कि पाकिस्तान और न्यूजीलैंड के खिलाफ नहीं मिल पाए कुछ ‘अच्छे ओवर'

T20 World Cup में स्कॉटलैंड पर शानदार जीत के बाद बोले विराट कोहली, कहा- हमें खेद है कि पाकिस्तान और न्यूजीलैंड के खिलाफ नहीं मिल पाए कुछ ‘अच्छे ओवर'

T20 World Cup में स्कॉटलैंड पर शानदार जीत के बाद बोले विराट कोहली, कहा- हमें खेद है कि पाकिस्तान और न्यूजीलैंड के खिलाफ नहीं मिल पाए  कुछ ‘अच्छे ओवर'

दुबई: स्कॉटलैंड के खिलाफ टी20 विश्व कप में मिली शानदार जीत के बाद भारतीय कप्तान विराट कोहली ने खेद जताया कि पाकिस्तान और न्यूजीलैंड के खिलाफ इस तरह के कुछ ‘अच्छे ओवर’ नहीं मिल सके. भारत ने जीत के लिये 86 रन का लक्ष्य 6 . 3 ओवर में हासिल कर लिया, पिछले मैच में भारत ने अफगानिस्तान को 66 रन से हराया था.  पाकिस्तान और न्यूजीलैंड से पहले दो मैचों में मिली हार के बाद अब सेमीफाइनल में प्रवेश की भारत की उम्मीदें अफगानिस्तान और न्यूजीलैंड के मैच पर टिकी है. 

कोहली ने मैच के बाद कहा कि यह शानदार प्रदर्शन था. हम ऐसा करने की ही कोशिश कर रहे थे. आज के बारे में ज्यादा कुछ नहीं कहूंगा क्योंकि हमें पता है कि हम कैसा खेल सकते हैं. उन्होंने कहा कि टी20 क्रिकेट में टॉस और हालात काफी मायने रखते हैं, हमें लय फिर हासिल करने की खुशी है. कोहली ने हालांकि खेद जताया कि भारतीय टीम पाकिस्तान और न्यूजीलैंड के खिलाफ ऐसा प्रदर्शन नहीं कर सकी. उन्होंने कहा कि उन दो मैचों में दो ओवर भी फर्क पैदा कर सकते थे.  मुझे खुशी है कि अब हर कोई लय में दिख रहा है. कोहली ने कहा कि वे स्कॉटलैंड को 100 . 120 रन पर रोकना चाहते थे. 

उन्होंने कहा कि हमने उन्हें ऐसे स्कोर पर रोक दिया कि बाकी सभी टीमों को पीछे छोड़ने में कामयाब रहे, हमने लक्ष्य जल्दी हासिल करने की भी योजना बनाई थी. हमने आठ से दस ओवर का लक्ष्य रखा था क्योंकि अतिरिक्त प्रयास से बचना चाहते थे. केएल राहुल (50) और रोहित शर्मा (30) ने पहले पांच ओवर में ही 70 रन बना दिये. कोहली ने कहा कि अभ्यास मैचों में भी ये ऐसे ही बल्लेबाजी कर रहे थे, स तरह के दो अच्छे ओवर से टूर्नामेंट की तस्वीर कुछ और होती. स्कॉटलैंड के कप्तान काइल कोएत्जर ने स्वीकार किया ने भारत ने उन्हें हर विभाग में उन्नीस साबित किया. उन्होंने कहा कि इस तरह के मैच खेलकर ही हम अपने प्रदर्शन में सुधार करेंगे.  खिलाड़ियों के लिये ऐसे टूर्नामेंट काफी अहम हैं. सोर्स-भाषा
 

और पढ़ें