राज्यसभा की 2 सीटों के लिए 26 अगस्त को होगी वोटिंग

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/08/02 11:22

जयपुर: देश की सबसे बड़ी पंचायत संसद के लिए इसी महीने राजस्थान में कांग्रेस का खाता खुल जाएगा. भाजपा के पूर्व अध्यक्ष मदनलाल सैनी के निधन से खाली हुए राज्यसभा सीट के लिए उपचुनाव की घोषणा कर दी गई है. सात अगस्त को नोटिफिकेशन जारी होगा और 26 अगस्त को विधानसभा में वोटिंग होगी. वोट के आंकड़ों में भाजपा से मजबूत कांग्रेस के खाते में यह सीट जाएगी. 

राज्यसभा की दो सीटों के लिए उपचुनाव की घोषणा कर दी गई है. उत्तरप्रदेश की एक सीट नीरज शेखर के इस्तीफा देने के कारण खाली हुई है, जबकि राजस्थान की एक सीट भाजपा के पूर्व अध्यक्ष मदनलाल सैनी के आकस्मिक निधन के कारण रिक्त हुई. मदनलाल सैनी का निधन 24 जून को हुआ था, जबकि राज्यसभा में उनका कार्यकाल तीन अप्रैल 2024 तक का था. भारतीय चुनाव आयोग ने दोनों सीटों के लिए उप चुनाव की घोषणा कर दी है.

राजस्थान का राज्यसभा उपचुनाव:
- 7 अगस्त को जारी होगा नोटिफिकेशन
- 14 अगस्त तक नामांकन दाखिल होंगे
- 16 अगस्त को नामांकन पत्रों की जांच होगी
- 19 अगस्त तक नाम वापिस लिए जा सकेंगे
- 26 अगस्त को जरूरत पड़ने पर होगा मतदान
- सुबह 9 से शाम 4 बजे विधानसभा में होगा मतदान
- 26 अगस्त की शाम 5 बजे होगी मतगणना

राजस्थान में राज्यसभा की एक सीट के इस उपचुनाव को महज औपचारिकता माना जा रहा है, लेकिन कांग्रेस के लिए यह चुनाव काफी अच्छी खबर लेकर आ रहा है, दरअसल लोकसभा व राज्यसभा में राजस्थान से कांग्रेस का एक भी सांसद नहीं है. लोकसभा चुनाव में कांग्रेस का प्रदेश में लगातार दो बार से सफाया हो रहा है और राज्यसभा के उच्च सदन में भी यहां से कांग्रेस का सदस्य नहीं है. दरअसल वोट की गणित में कांग्रेस पार्टी अब भाजपा से बहुत आगे हैं. कांग्रेस के 100 विधायक हैं, जबकि उसे बसपा के 6 विधायकों के अलावा 13 निर्दलीय व एक आरएलडी विधायक का समर्थन है. वहीं भाजपा के 72 विधायक हैं और आरएलपी के 2 विधायकों का समर्थन हासिल है. बीटीपी व सीपीएम के 2-2 विधायक है। वहीं हनुमान बेनीवाल व नरेंद्र सिंह के लोकसभा चुनाव जीतने के कारण दो विधानसभा सीट खाली हो गई है. 

डॉ मनमोहन सिंह का नाम माना जा रहा फाइनल: 
26 अगस्त को होने वाले उपचुनाव के लिए कांग्रेस से पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह का नाम राजस्थान से फाइनल माना जा रहा है, पिछले दिनों विधानसभा में हुए एक सेमिनार के दौरान मनमोहन सिंह जयपुर भी आए थे और उन्होंने कांग्रेसी विधायकों से मुलाकात भी की थी. फिलहाल, पूर्व पीएम मनमोहन सिंह किसी सदन के सदस्य नहीं हैं. कांग्रेस पहले उन्हें तमिलनाडु से राज्यसभा सदस्य बनाना चाहती थी, लेकिन डीएमके से पार्टी की बात नहीं बन पाई. ऐसे में मनमोहन सिंह के लिए राजस्थान से राज्यसभा सीट सबसे सुरक्षित मानी जा रही है. राजस्थान के अलावा किसी दूसरे राज्य में राज्यसभा की सीट खाली नहीं हो रही है. मनमोहन सिंह का राज्यसभा में कार्यकाल 14 जून को खत्म हो गया है. वह असम से लगातार पांच बार राज्यसभा सांसद रह चुके हैं. खैर सांसद कोई भी बने, लेकिन आखिरकार लंबे इंतजार के बाद कांग्रेस का प्रदेश में खाता खुल जाएगा. 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in