जलदाय विभाग के अफसर डाल रहे पानी पर डाका

Naresh Sharma Published Date 2019/02/24 11:11

जयपुर। अब फर्स्ट इंडिया कर रहा है एक बड़ा खुलासा...मामला है पानी पर डाका डालने का है और यह काम कोई और नहीं बल्कि खुद जलदाय विभाग के अफसर कर रहे हैं। जलदाय विभाग के अफसर अवैध कनेक्शन के माध्यम से पानी की सरेआम चोरी कर रहे हैं और यह काम कहीं और नही बल्कि खुद जलदाय विभाग के दफ्तरों में हो रहा है। 

जलदाय विभाग प्रदेश में राजस्व वसूली करने और अवैध कनेक्शन के खिलाफ कार्रवाई करने का ढिंढोरा पीट रहा है। विभाग के अफसर वाही वाही लूटने के लिए कई जगह कार्रवाई की औपचारिकता भी कर रहे हैं। जयपुर के अतिरिक्त मुख्य अभियंता देवराज सोलंकी ने तो ढोल बजवाने तक की धमकी दे दी, लेकिन आज आपको जलदाय विभाग की ऐसी हकीकत दिखाते हैं कि खुद ये अधिकारी ही पानी पानी हो जाएंगे। इन अधिकारियों की सरपरस्ती में पानी पर डाका डाला जा रहा है। खुले आम पानी की चोरी हो रही है। जलदाय विभाग के अधिकांश दफ्तरों में पानी का कनेक्शन ही नही हैं। चूंकि दफ्तर में खुद अफसर व कर्मचारी बैठते हैं इसलिए इनकी निगरानी कौन करेगा। ऐसे में टंकिया से जुड़ी राइजिंग व डिस्ट्रीब्यूशन लाइन को तोड़कर ही पानी के अवैध कनेक्शन कर लिए। न यहां पर मीटर लगा है और न ही बिल चुकाए जाते हैं। एक-दो जगह दिखावटी मीटर भी लगे हैं, लेकिन ये बंद है और 24 घंटे फ्री का पानी लिया जा रहा है। फर्स्ट इंडिया की टीम ने जयपुर के चार प्रमुख दफ्तरों का दौरा किया। 

सबसे पहले बताते है जलदाय विभाग के हैडक्वार्टर यानी जलभवन का हाल। यहां पर विभाग के सभी आला अफसर बैठते हैं। यहां से ही पूरे प्रदेश की पानी सप्लाई की नीति बनती है। यहां पर ही नियम कायदे तय होते हैं। इसी दफ्तर से अवैध कनेक्शन के खिलाफ कार्रवाई के आदेश होते हैं, लेकिन यहां पर नियम कायदे सब तार तार है, पानी की टंकी में जा रही पाइप को ही बीच रास्ते में तोड़कर अवैध कनेक्शन कर दिया। 
जलभवन से थोड़ी ही मुख्यमंत्री व राज्यपाल के निवास के करीब सिविल लाइंस क्षेत्र में दफ्तर हैं, यहां पर न कनेक्शन है, न मीटर है और न ही कोई पैसा चुकाया जाता है। जलदाय विभाग के इस दफ्तर में और पास ही पुलिस की चौकी में 24 घंटे मुफ्त का पानी पीया जा रहा है। दफ्तर में सरकारी क्वार्टर भी है, यहां भी फ्री पानी लिया जा रहा है। यहां के अफसर आसपा की कॉलोनियों में अवैध कनेक्शन काटने का दावा करते हैं, लेकिन खुद उन्होंने ही अवैध कनेक्शन कर रखा है, इस पर कोई कार्रवाई नहीं कर रहा।

जयपुर शहर में जलदाय विभाग का एक और दफ्तर गांधी नगर में हैं। लेकिन यहां भी अफसरों के नाक के नीचे पानी की चोरी हो रही है। पानी की टंकी में जा रही बीसलपुर की बड़ी लाइन को ही टंकी में जाने से पहले तोड़ दिया और दफ्तर के लिए पानी की पाइप जोड़ दी।

अब आपको बताते हैं,,,,,,पानीपेच पीएचईडी दफ्तर का। हर जगह 24 घंटे पानी सप्लाई हो रहा है। कर्मचारियों व अधिकारियों द्वारा लाखों लीटर पानी उपयोग किया जा रहा है, लेकिन कनेक्शन यहां पर एक भी नहीं है। अधिकारियों ने मुंह बंद कर रख है, तो कर्मचारी कहते हैं कि यह तो पानी का दफ्तर है यहां पर कैसा कनेक्शन। जलदाय विभाग के प्रमुख सचिव संदीप वर्मा ने राजस्व वसूली के आदेश दे रखे हैं, अवैध कनेक्शन पर कार्रवाई के भी आदेश है। नीचे के अधिकारी तो अवैध कनेक्शन पर पुलिस केस की भी धमकी दे रहे हैं, लेकिन देखना यह है कि अब क्या प्रमुख सचिव अपने ही मातहत उन अधिकारियेां के खिलाफ कारर्वाई करेंगे, जो खुद विभाग का पानी ही चोरी कर रहे हैं, क्या जलदाय विभाग के दफ्तरों में पानी के वैध कनेक्शन हो पाएंगे या फिर नियम कायदे सिर्फ जनता के लिए ही है। 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in