VIDEO: बीसलपुर बांध में लगातार कम हो रहा जल स्तर, अब महज 19.21 प्रतिशत पानी उपलब्ध

Naresh Sharma Published Date 2019/03/16 11:23

जयपुर। बीसलपुर में लगातार कम हो रहे जल स्तर को देखते हुए अब राजधानी जयपुर पूरी तरह ट्यूबवेल के पानी पर ही निर्भर होने वाला है। बीसलपुर में अब महज 19.21 प्रतिशत पानी उपलब्ध है। अभी जयपुर में 30 प्रतिशत घोषित व करीब कई जगह 50-60 फीसदी अघोषित कटौती चल रही है। अनुमान के अनुसार बीसलपुर बांध में 15 अगस्त तक का ही पानी उपलब्ध है। यदि मानसून ने पिछले वर्ष की तरह निराश किया, तो यह बांध भी सूख जाएगा। 

ज्यो ज्यो सूरज का तापमान बढ़ता जा रहा है, जयपुर की प्यास भी बढ़ती जा रही है, लेकिन हालात बहुत खराब है। जयपुर को पानी उपलब्ध कराने वाले बीसलपुर बांध का ही गला सूखने वाला है। कभी लबालब रहने वाले इस बांध में अब 20 फीसदी पानी भी नहीं है। स्थितियां और बिगड़ने वाली है। जयपुर शहर में 30 फीसदी पानी कटौती हो चुकी है, लेकिन कुछ जगह यह कटौती 50 से 60 फीसदी है। कहने को तो जयपुर में प्रति व्यक्ति 122 लीटर प्रति व्यक्ति प्रतिदिन पानी सप्लाई किया जा रहा है, लेकिन हकीकत यह है कि कुछ इलाकों में तो एक भी बूंद पानी नहीं आ रहा। जयपुर शहर की आबादी लगभग 38 लाख है और लगभग 33 लाख आबादी पाईप लाइन से जुड़ी हुई है। जयपुर शहर की आबादी के लिये कुल जल की आवश्यकता 4970 लाख लीटर है। वर्तमान में शहर को 4065 लाख लीटर जल उत्पादन कर वितरण किया जा रहा है, मतलब साफ है कि जितना पानी चाहिए उतना नहीं है। अभी जयपुर में नलकूपों से 103.50 एमएलडी तथा बीसलपुर से 303 एमएलडी पानी मिल रहा है। 1408 हैण्डपम्प व 125 एम.एम. व्यास के 203 नलकूप जो शहर की विभिन्न कॉलोनियों में स्थित है, उनसे भी पेयजल सप्लाई किया जा रहा है।

पिछले साल वर्षा कम होने के कारण जयपुर शहर के मुख्य स्त्रोत बीसलपुर बांध में केवल मात्र एक मीटर पानी की आवक हुई हैं। वर्तमान में बांध में कुल भराव क्षमता का लगभग 19.21 प्रतिशत पानी उपलब्ध है। वर्तमान में जयपुर शहर में वर्ष 2017 की तुलना में इस वर्ष लगभग 30 प्रतिशत कटौती कर पेयजल उपलब्ध करवाया जा रहा है। आंकलन के अनुसार बांध मे 15 अगस्त 2019 तक पेयजल हेतु पानी उपलब्ध है। पानी की कमी को देखते हुए जलदाय विभाग ने वैकल्पिक व्यवस्था भी की है। जयपुर शहर में पूर्व में लगे हुए बंद नलकूपों को चालू करने का कार्य- जयपुर शहर में पूर्व में लगे हुए 200 एमएम व्यास के बंद पडे हुए 273 नलकूपों को चालू करने का कार्य की स्वीकृति राशि रूपयें 498.59 लाख की प्राप्त कर इन नलकूपों में से 261 नलकूप चालू कर 42.52 एमएलडी पानी स्वच्छ जलाशय में प्राप्त कर पेयजल वितरण सुधार कर दी गयी है।

जयपुर शहर में बीसलपुर बांध में पेयजल मात्रा कम होने के कारण विभिन्न क्षेत्रों में 200 एमएम व्यास के कुल 279 नग नलकूप लगाकर पेयजल वितरण किया जायेगा जिसकी अनुमानित लागत लगभग रूपयें 34.92 करोड है। एक्शन प्लान के अनुसार 10 मार्च तक 77 नलकूपों की खुदाई का कार्य किया जा चुका है। अब 31 मार्च तक तक 60 नलकूपों की खुदाई का लक्ष्य रखा गया है। शेष 142 नलकूपों का कार्य 30 अप्रैल 2019 तक पूर्ण करना है। नलकूपों को चालू करने हेतु विद्युत सम्बन्ध की डिमाड नोटिस के लिये एलओसी उपलब्ध नही होने के कारण विद्युत कनेक्शन जारी नहीं किये गये है, जिससे खोदे हुए नलकूप चालू नहीं हो पाये है। इन नलकूपों से 40 एमएलडी पानी अतिरिक्त उपलब्ध हो सकेगा।

इसके अतिरिक्त अंतिम छोर पर स्थित कॉलोनियों मे पेयजल उपलब्ध कराने हेतु 200 एमएम एवं 150 एमएम व्यास के  453 नग नलकूपों के प्रस्तावों की राशि रूपयें 34.86 करोड की बनाकर स्वीकृति प्राप्त हो चुकी हैं।  इनसे 42 एमएलडी पानी अतिरिक्त प्राप्त होगा। इन नलकूपों मे से 31 नलकूपों को खोदने का कार्य पूर्ण हो चुका है कार्य योजना के अनुसार सभी नलकूपो का कार्य मई 2019 तक पूर्ण करना लक्षित है।  शहर की ऐसी कच्ची बस्तियों एवं कृषि भूमि पर विकसित आवासीय कॉलोनियों में जहां पर विभागीय वितरण व्यवस्था नही है एवं अन्तिम छोर की आबादी जहां पर्याप्त मात्रा एवं दबाव से पेयजल उपलब्ध नहीं होता है, टैकर परिवहन द्वारा पेयजल वितरित काराया जा रहा है। टैकर परिवहन हेतु मार्च 2019 तक राशि 5.50 करोड़ की स्वीकृती उपलब्ध है। फरवरी 52019 मे  राशि रू 42 लाख का टैकर परिवहन हुआ है एवं मार्च 2019 में 52 लाख रू के व्यय का अनुमान है। अप्रैल 2019 से जुलाई 2019 तक शहर में टैकर परिवहन की राशि रू 8.36 करोड़ की स्वीकृति उपलब्ध है।

गर्मी बढ़ने के साथ ही शहर में पानी की समस्या बढ़ने वाली है। लोकसभा चुनाव भी सिर पर हैं, ऐसे में पानी चुनावी मुद्दा भी बन सकता है। लेकिन बड़ी बात यह है कि जनता को पर्याप्त पेयजल मिले। ऐसे में जलदाय विभाग को उन प्रोजेक्ट पर तीव्रता से काम करने की जरूरत, जिससे की बीसलपुर बांध में साल भर पानी भरा रहा।  

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in