Live News »

प्रदेश में हर घर नल के तहत जलापूर्ति होगी सुनिश्चित, केंद्र की योजना को लागू करेगी सरकार

प्रदेश में हर घर नल के तहत जलापूर्ति होगी सुनिश्चित, केंद्र की योजना को लागू करेगी सरकार

जयपुर: केंद्र की जल जीवन मिशन योजना को गहलोत सरकार प्रदेश में भी लागू करेगी. इसके लिए मुख्य सचिव ने विस्तृत कार्य योजना तैयार करने के निर्देश दिए है. पीएचईडी की कार्य योजना के बाद ही केंद्र की ओर से मिशन के तहत मुहैया करवाई गई 428 करोड़ की राशि राज्य सरकार खर्च कर सकेगी. प्रदेश में फिलहाल 12 फीसदी घरों को ही जलदाय विभाग नल कनेक्शन के जरिये जलापूर्ति कर रहा है.

राज्य को भी अपने हिस्से की 50 प्रतिशत राशि देनी होगी: 
केंद्र की जल जीवन मिशन योजना में राज्य को भी अपने हिस्से की 50 प्रतिशत राशि देनी होगी. केंद्र की जल जीवन मिशन योजना को लेकर सचिवालय में सीएस डीबी गुप्ता ने बुधवार को बैठक ली. केंद्र की इस योजना को राज्य सिद्धान्ततः लागू करने पर सहमत है. ऐसे में बैठक में आज मुख्य सचिव ने योजना के अहम पहलुओं के बारे में चर्चा करके पीएचईडी विभाग को इसकी विस्तृत कार्ययोजना बनाने के निर्देश दिए. माना जा रहा है कि योजना के तहत हर घर नल कनेक्शन दिया जाएगा. अपने एक्शन प्लान में पीएचईडी कितने घरों में पेयजलापूर्ति करनी है, कितनी पाइपलाइन डालनी है और क्या संसाधन जरूरी हैं, यह बताएगा. साथ ही इसके लिए क्या क्या किया जाएगा इस पर अलग से मंथन करने के लिए बैठक होगी.  

प्रदेश में फिलहाल 12 प्रतिशत घरों को मिल रहा नल से पानी: 
प्रदेश में फिलहाल 12 प्रतिशत घरों को ही जलदाय विभाग नल से पानी दे रहा है. ऐसे में हर घर को नल से पानी पहचाना विभाग के लिए भी चुनौती से कम नही है. बैठक में एसीएस वित्त निरंजन आर्य,प्रमुख सचिव संदीप वर्मा,वित्त सचिव बजट हेमन्त गेरा सहित वित्त,वन,जल संसाधन और पीएचईडी से जुड़े अधिकारी मौजूद रहे. 
 

और पढ़ें

Most Related Stories

VIDEO: जून में होगी 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं, 31 मई के बाद भी जारी रहेगा रात्रिकालीन कर्फ्यू

जयपुर: राज्य सरकार ने कोविड-19 महामारी के कारण स्थगित की गई 10वीं और 12वीं कक्षाओं के विभिन्न विषयों की बोर्ड परीक्षाएं कराने का निर्णय लिया है. मुख्यमंत्री आवास पर देर शाम CM गहलोत व शिक्षा मंत्री गोविंद डोटासरा के बीच हुई वार्ता के बाद फैसला लिया गया. 

दिल्ली-एनसीआर में भूकंप के झटके, 9 बजकर 8 मिनट पर महसूस हुए तेज झटके

प्रदेश के स्टूडेंट्स के हित मे बड़ा फैसला लिया:  
मुख्यमंत्री गहलोत ने प्रदेश के स्टूडेंट्स के हित मे बड़ा फैसला लिया है. CM ने 10वीं व 12वीं की शेष परीक्षा कराने पर मुहर लगा दी है. गहलोत ने शुक्रवार देर शाम को मुख्यमंत्री निवास पर शिक्षा विभाग के अधिकारियों के साथ उच्च स्तरीय बैठक में यह निर्णय लिया. इस निर्णय के बाद अब 10वीं और 12वी कक्षाओं के विभिन्न विषयों की शेष रही परीक्षाओं की तिथियों को कार्यक्रम राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड, अजमेर द्वारा जारी किया जाएगा. बैठक में शिक्षा राज्य मंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा, मुख्य सचिव डी.बी. गुप्ता, अतिरिक्त मुख्य सचिव वित्त निरंजन आर्य, शासन सचिव स्कूल शिक्षा मंजू राजपाल सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे. 

हैल्थ प्रोटोकॉल की पालना सुनिश्चित करने के निर्देश दिए:
मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को इन परीक्षाओं के दौरान कोरोना महामारी के संदर्भ में जारी हैल्थ प्रोटोकॉल की पालना सुनिश्चित करने के निर्देश दिए. सभी परीक्षा केन्द्रों पर परीक्षार्थियों और अध्यापकों द्वारा मास्क तथा सैनिटाइजर का उपयोग किया जाएगा.  साथ ही, विद्यार्थियों को परीक्षा केन्द्र पर आवागमन और परीक्षा के दौरान सोशल डिस्टेसिंग के नियम की सख्ती से पालना करनी होगी. 

परीक्षा केन्द्रों की संख्या बढ़ाने का सुझाव दिया:
गहलोत ने आवश्यकता के अनुसार परीक्षा केन्द्रों की संख्या बढ़ाने का सुझाव दिया और कहा कि जिन स्कूल भवनों में क्वारंटाइन सुविधाएं संचालित की जा रही है, उन भवनों को परीक्षा से पहले तय प्रोटोकॉल के अनुसार सैनिटाइज किया जाए तथा वहां स्वास्थ्य सुरक्षा मानकों की सम्पूर्ण व्यवस्था की जाए. सीबीएसई बोर्ड के बाद अब राज्य सरकार ने भी माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की शेष परीक्षा कराने का फैसला किया है इस फैसले से प्रदेश के स्टूडेंट्स ने राहत की सांस ली है. 

राजस्थान के सबसे बड़े मेडिकल कॉलेज में 1 लाख कोरोना टेस्ट, RT-PCR मशीन के जरिए हुए टेस्ट

31 मई के बाद भी प्रदेशभर में रात्रिकालीन कर्फ्यू जारी रहेगा:
वहीं 31 मई के बाद भी प्रदेशभर में रात्रिकालीन कर्फ्यू जारी रहेगा. यानी शाम 7 से सुबह 7 बजे तक इमरजेंसी सेवाओं के अलावा सबकुछ बंद रहेगा. इसके साथ ही सीएम गहलोत ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि सुप्रीम कोर्ट की भावना के अनुरूप निजी अस्पतालों में कोरोना के निशुल्क इलाज के लिए एक एडवाइजरी जारी की जाए. जो भी अस्पताल इसका उल्लंघन करे, उसके विरुद्ध कार्रवाई का प्रावधान हो. गहलोत ने सीएम निवास पर कोरोना संक्रमण को लेकर हुई उच्च स्तरीय बैठक के दौरान ये अहम फैसले किए. 

Rajasthan Corona Updates: पिछले 24 घंटे में 4 मरीजों की मौत, 298 नए केस आये सामने, कुल मरीजों की संख्या पहुंची 8 हजार 365

Rajasthan Corona Updates: पिछले 24 घंटे में 4 मरीजों की मौत, 298 नए केस आये सामने, कुल मरीजों की संख्या पहुंची 8 हजार 365

जयपुर: राजस्थान में कोरोना वायरस के लगातार मामले बढ़ते जा रहे है. पिछले 24 घंटे में 4 मरीजों की मौत हो गई. जबकि 298 नए पॉजिटिव केस सामने आये है. जयपुर में 3, झुंझुनूं में एक मरीज की मौत हो गई. जोधपुर में फिर सामने आए सर्वाधिक 67 पॉजिटिव केस, अजमेर में 13, अलवर में 2, भरतपुर में 45, भीलवाड़ा में एक, बीकानेर में दो, चित्तौड़गढ़ में एक, चूरू में 6, धौलपुर में 5, डूंगरपुर में 6, हनुमानगढ़ में 5,जयपुर में 23,जैसलमेर में चार, झुंझुनूं में 12, झालावाड़ में 42,कोटा में 17,नागौर में 19, पाली में 1,सीकर में 13,सिरोही में 5,उदयपुर में 9 पॉजिटिव केस सामने आये है. कुल मौतों का आंकड़ा 184 पहुंच गया है. वहीं राजस्थान में कुल 8 हजार 365 पॉजिटिव मरीज है.

पर्यटन क्षेत्र को मिलेगी संजीवनी,1 जून से खुलेंगे पर्यटन स्थल, शुरू में स्मारकों में प्रवेश रहेगा फ्री

जयपुर में कोरोना का बढ़ता दायरा:
राजधानी जयपुर में लगातार कोरोना का दायरा बढ़ता जा रहा है. पिछले 24 घंटे में 3 मरीजों की मौत  हो गई. कुल 23 नए पॉजिटिव केस सामने आये है. रामगंज, संजय नगर, ईदगाह, जनता कॉलोनी व लोहरवाड़ा में 2-2 केस, घनश्याम कॉलोनी, धानोता, सुमेर नगर, दिल्ली बाईपास, घाटगेट, दूदू, गोविंदपुरा, मानसरोवर, बास बदनपुरा, विद्याधर नगर, शास्त्री नगर, हरसोली, खेड़ा में 1-1 कोरोना पॉजिटिव केस चिन्हित किया गया है. जयपुर में अब तक कुल 88 मरीजों की मौत हो गई. जबकि कुल 1932 पॉजिटिव केस है.

पॉजिटिव से नेगेटिव हुए कुल मरीज 5244:
राजस्थान में कुल 5 हजार 244 मरीज पॉजिटिव से नेगेटिव हुए है. अस्पताल से कुल 4 हजार 553 मरीज डिस्चार्ज किए गए है. अस्पताल में कुल 2937 उपचाररत एक्टिव मरीज है. कुल कोरोना पॉजिटिव प्रवासियों की संख्या 2 हजार 328 पहुंच गई है.

राजस्थान के सबसे बड़े मेडिकल कॉलेज में 1 लाख कोरोना टेस्ट, RT-PCR मशीन के जरिए हुए टेस्ट

राजस्थान के सबसे बड़े मेडिकल कॉलेज में 1 लाख कोरोना टेस्ट, RT-PCR मशीन के जरिए हुए टेस्ट

जयपुर: राजधानी जयपुर के SMS मेडिकल कॉलेज से शुक्रवार को बड़ी खबर मिली है. राजस्थान के सबसे बड़े मेडिकल कॉलेज में 1 लाख कोरोना टेस्ट किए गए है. RT-PCR मशीन के जरिए एक लाख टेस्ट किए गए है. राजस्थान में 2 मार्च को कोरोना का पहला मामला सामने आया था. तब राजस्थान में किसी भी जगह पर कोरोना जांच की सुविधा नहीं थी.

प्रवासियों के मूमेंट से बढ़ रहे कोरोना केस जल्द होंगे कम, राजस्थान में कोरोना के हालात को लेकर स्वास्थ्य भवन में समीक्षा

माइक्रोबायोलॉजी विभाग की कड़ी मेहनत:
करीब 3 महीने के दरमियान कॉलेज की माइक्रोबायोलॉजी विभाग की कड़ी मेहनत से यह सब हो पाया है. मेडिकल कॉलेज प्राचार्य डॉ.सुधीर भंडारी के निर्देशन में टीम ने बड़ी मेहनत की और 90 दिन में 1 लाख कोरोना टेस्ट का कीर्तिमान रच दिया है.

चिकित्सा मंत्री ने दी बधाई:
चिकित्सा मंत्री डॉ.रघु शर्मा ने इस मौके पर टीम SMS को बधाई देते हुए कहा कि लैब के सभी सीनियर रेजीडेंट्स, रेजीडेंट्स, पैरामेडिकल स्टाफ ने बेमिसाल काम किया है. कोरोना महामारी के दौर में बिना रूके राउंड द क्लॉक काम किया है. पूरे देश में अब तक 35 लाख से ज्यादा कोरोना टेस्ट हुए. जिसमें से 1 लाख टेस्ट जयपुर स्थित SMS की लैब में हुए है.

पर्यटन क्षेत्र को मिलेगी संजीवनी,1 जून से खुलेंगे पर्यटन स्थल, शुरू में स्मारकों में प्रवेश रहेगा फ्री

पर्यटन क्षेत्र को मिलेगी संजीवनी,1 जून से खुलेंगे पर्यटन स्थल, शुरू में स्मारकों में प्रवेश रहेगा फ्री

जयपुर: राजस्थान की अर्थव्यवस्था की रीढ़ माने जाने वाले पर्यटन उद्योग के लिए लंबे इंतजार के बाद आज अच्छी खबर आई है. 1 जून से पर्यटन शुरू किया जा रहा है. जिसके तहत प्रदेश के सभी स्मारक, संग्रहालय, नेशनल पार्क, टाइगर प्रोजेक्ट और सफारी तथा बायो लॉजिकल पार्क पर्यटकों के लिए खोल दिए जाएंगे. हालांकि इस समय पर्यटन के लिहाज से ऑफ सीजन चल रहा है लेकिन सरकार के प्रयास है कि हैं कि ऑफ सीजन के दौरान इस तरह की गतिविधियां शुरू की जाएं कि पर्यटन आने वाले दिनों में दोबारा मुख्यधारा में लौट सके. ध्यान रहे पर्यटन उद्योग को हो रहे नुकसान को लेकर फर्स्ट इंडिया न्यूज़ लगातार खबर प्रसारित करता रहा है. फर्स्ट इंडिया न्यूज़ में ही सबसे पहले जून में पर्यटन शुरू होने के संकेत भी दे दिए थे.

पर्यटन उद्योग को प्रतिदिन 10 करोड़ से ज्यादा का हुआ नुकसान:
दरअसल कोरोना संक्रमण के चलते प्रदेश में पर्यटन उद्योग को 18 मार्च को लॉक डाउन कर दिया गया था. 31 मई को प्रदेश में पर्यटन को बंद हुए ढाई महीने हो जाएंगे. इस दौरान पर्यटन उद्योग को प्रतिदिन 10 करोड़ से ज्यादा का नुकसान हुआ है. 75 दिन के नुकसान का आकलन करें तो यह राशि 3500 करोड रुपए से ज्यादा की होती है. पर्यटन व्यवसाय से जुड़े तमाम स्टेक होल्डर जिनमें होटल, क्लब, बार, गाइड, ट्रांसपोर्ट, हस्तशिल्प, ज्वेलरी, इवेंट मैनेजमेंट के अलावा छोटे-छोटे वेंडर हॉकर सभी हाशिए पर आ गए हैं. विदेशी पर्यटकों की बात करें तो वर्ष 2021 तक की तमाम बुकिंग रद्द हो चुकी हैं. ट्रैवल ट्रेड से जुड़ी 10 हजार से ज्यादा छोटी बड़ी एजेंसी बंद हो चुकी हैं.

70 फ़ीसदी लोग प्रत्यक्ष और परोक्ष रूप से हुए बेरोजगार:
टूरिज्म ट्रेड से जुड़े 70 फ़ीसदी लोग प्रत्यक्ष और परोक्ष रूप से बेरोजगार हुए हैं. प्रदेश के पांच सितारा होटल से लेकर तमाम बजट होटल तक भारी घाटे में चले गए हैं. स्टाफ को या तो लंबी छुट्टी पर भेज दिया गया है या उनके वेतन में भारी कटौती की गई है. अब उम्मीद है तो सरकार से कि वह इस इंडस्ट्री को दोबारा से खड़ा करने के लिए न केवल रियायतें दे वरन आर्थिक पैकेज भी प्रदान करें. इस स्थिति को ध्यान में रखते हुए राज्य के पर्यटन मंत्री विश्वेंद्र सिंह, पर्यटन विभाग की प्रमुख सचिव श्रेया गुहा, निदेशक डॉ भंवरलाल सहित तमाम अफसरों के साथ बैठकर एक रिवाइवल प्लान तैयार किया है. रिवाइवल प्लान केेे तहत ही शुरुआत में स्मारकों में पर्यटकों का प्रवेश निशुल्क रहेगा. इस मामले में स्टेट वाइल्डलाइफ बोर्ड के सदस्य और ट्री हाउस रिसॉर्ट के मालिक सुनील मेहता साफ कहते हैं कि लॉक डाउन के इंडस्ट्री पर दो तरह के प्रभाव पड़ेंगे. इंडस्ट्री को अरबों खरबों का नुकसान हुआ है लेकिन लॉक डाउन हटने के बाद भारत से बाहर जाने वाले पर्यटक नए पर्यटन स्थलों की ओर मुड़ेंगे, इससे राजस्थान सहित पूरे देश को फायदा भी होगा.

जयपुर एयरपोर्ट से हवाई यात्रा का पांचवां दिन, 20 में से मात्र 9 फ्लाइट का हुआ संचालन

विदेशी पर्यटकों का अगले डेढ़ दो साल तक भारत आना संभव नहीं:
दरअसल भारत से करीब सवा करोड़ लोग हर साल विदेश भ्रमण के लिए जाते हैं. इसी तरह करीब 65 लाख विदेशी हर साल भारत घूमने आते हैं. कोविड-19 के चलते विदेशी पर्यटकों का अगले डेढ़ दो साल भारत आना संभव नहीं लगता. ऐसे में हालात सामान्य होने पर अगले एक-दो महीने में भारत से बाहर जाने वाले पर्यटकों को देश में ही सुरक्षित और प्राकृतिक नजारों से लबरेज नए पर्यटन स्थलों की तलाश रहेगी. पर्यटन उद्योग को इस स्थिति का ही लाभ उठाना है. घरेलू पर्यटकों को बेहतर और सुरक्षित सुविधाओं के साथ ऐसे पर्यटन स्थलों पर स्टे कराना चाहिए जो अभी मुख्यधारा में नहीं रहे. इसके लिए प्रदेश का पर्यटन महकमा पिछले 2 वर्ष से काफी मेहनत भी कर रहा है विभाग की प्रमुख सचिव श्रेया गुहा और उनकी टीम ने प्रदेश में नए पर्यटन स्थलों की तलाश की है और वहां आधारभूत सुविधाओं के विकास के भी प्रयास किए जा रहे हैं.

लॉकडाउन के बाद दोबारा से मुख्यधारा में लाना बड़ी चुनौती:
पर्यटन मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने भी साफ तौर पर कहा है कि पर्यटन को लॉक डाउन के बाद दोबारा से मुख्यधारा में लाना बड़ी चुनौती तो है लेकिन इसे एक अवसर के तौर पर देखना चाहिए। विश्वेंद्र सिंह ने सरकार से भी मांग की है कि इंडस्ट्री को दोबारा मजबूती से खड़ा करने के लिए सरकार जितने पैकेज, रियायत व अन्य तरह से मदद कर सकती है वह जल्दी से जल्दी करनी चाहिए. सूत्रों की मानें तो राज्य सरकार ने जो टूरिज्म इंडस्ट्री के लिए रिवाइवल प्लान तैयार किया है उसके तहत होटल इंडस्ट्री को टैक्स में छूट दी जा सकती है. पर्यटन स्थलों पर सोशल डिस्टेंसिंग ध्यान रखते हुए उन्हें शुरू किया जा रहा है. पर्यटन स्थलों पर प्रवेश शुल्क में कमी की गई है. विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स के जरिए प्रदेश के पर्यटन उत्पादों का प्रचार-प्रसार भी तेजी से शुरू किया जाएगा. बहरहाल लॉक डाउन से नुकसान को लेकर टूर ऑपरेटर हो या फिर फॉरेन एक्सचेंजर सभी में भारी निराशा के भाव हैं.

प्रदेश की अर्थव्यवस्था के सबसे मजबूत स्तंभ:
कुल मिलाकर कहा जा सकता है कि प्रदेश की अर्थव्यवस्था के सबसे मजबूत स्तंभ समझे जाने वाले पर्यटन उद्योग को जिस सरकारी संजीवनी की जरूरत कि वह मिल गई है. हालांकि अभी पैकेज की घोषणा नहीं हुई है लेकिन जिस तरह से 1 जून से प्रदेश में पर्यटन शुरू होने जा रहा है उससे उम्मीद की जा सकती है कि कोरोना से संघर्ष में टूरिज्म इंडस्ट्री ने जो दमखम दिखाया है निश्चित तौर पर राजस्थान उसमें सबसे आगे खड़ा दिखाई देगा.  

प्रवासियों के मूमेंट से बढ़ रहे कोरोना केस जल्द होंगे कम, राजस्थान में कोरोना के हालात को लेकर स्वास्थ्य भवन में समीक्षा

प्रवासियों के मूमेंट से बढ़ रहे कोरोना केस जल्द होंगे कम, राजस्थान में कोरोना के हालात को लेकर स्वास्थ्य भवन में समीक्षा

जयपुर: प्रवासियों के मूमेंट के चलते राजस्थान में बढ़े कोरोना के केसों में जल्द ही कमी आएगी. दरअसल, विभिन्न जिलों में पहुंचे प्रवासियों में से अधिकांश का क्वारेंटाइन पीरियड पूरा होने को है.इसके साथ ही चिकित्सा विभाग इन सभी पर पैनी निगाह बनाए हुए है.खुद एसीएस मेडिकल रोहित कुमार सिंह का मानना है कि पिछले कुछ दिनों में केस भले ही बढ़े हो, लेकिन एक्टिव केस का आंकड़ा 3000 के आसपास बना हुआ है.यानी जिस गति से केस बढ़ रहे है, उससे तेज गति से मरीज ठीक भी हो रहे है.ऐसे में सिंह ने दावा किया है कि प्रवासियों के क्वारेंटाइन पीरियड पूरा होने के बाद पॉजिटिस केस के ग्राफ में कमी आएगी. प्रदेशभर की कोरोना मामलों की समीक्षा के बाद एसीएस मेडिकल रोहित कुमार सिंह से खास बातचीत की हमारे संवाददाता विकास शर्मा ने.

-राजस्थान में कोरोना मरीजों की रिकवरी रेंट काफी बेहतर
-फर्स्ट इंडिया से एक्सलुसिव बातचीत में बोले ACSरोहित कुमार सिंह
-पिछले कुछ समय से एक्टिव केस का आंकड़ा 3000 पर स्थिर
-ये इस बात का प्रमाण कि जिस गति से बढ़ रहे है कोरोना केस
-उसी गति में पॉजिटिव मरीजों की सेहत में हो रहा सुधार
-प्रदेश में अब तक 57 फीसदी मरीज हो चुके कोरोना से ठीक

-एक हकीम की लापरवाही से झालावाड़ में बढ़े कोरोना केस
-फर्स्ट इंडिया से एक्सलुसिव बातचीत में बोले ACSरोहित कुमार सिंह
-झालरापाटन कस्बे की एक छोटी सी गली में रहता है यह हकीम
-जो खुद पॉजिटिव होने के बावजूद देता रहा दूसरों को दवाएं
-इसके साथ ही झालावाड़ की भौगोलिक स्थितियां काफी अलग है
-प्रभावित इलाके में लोग कॉमन बाथरूम यूज करते है
-हालांकि, चिकित्सा विभाग की टीम प्रभावित इलाकों में है एक्टिव
-एसीएस का दावा, जल्द ही झालावाड़ में हालात सामान्य होंगे

भाजपा के पूर्व मंत्री भंवर लाल शर्मा का निधन, राजनीतिक हलकों में छाई शोक की लहर

केन्द्र ने जयपुर को माना रोल मॉडल
-कोरोना रोकथाम के राजस्थान सरकार के सफल प्रयास
-फर्स्ट इंडिया से एक्सलुसिव बातचीत में बोले ACSरोहित कुमार सिंह
-कहा, कोरोना को लेकर विभाग कर रह माइक्रो लेवल पर काम
-एसीएस रोहित कुमार सिंह ने रामगंज का उदाहरण देते हुए कहा
-रामंगज में एक साथ कोरोना संक्रमितों के आने से स्थिति भयावह हो गई थी
-लेकिन सरकार ने क्षेत्र को जनसंख्या के आधार पर क्लक्टर्स में बांटा
-फिर रैंडम सैंपलिंग कर लोगों की श्रेणीवार पहचान की
-सरकार पूरी तरह सतर्क रही, नतीजन हालात नियंत्रण में आए
-यही वजह रही कि केंद्र ने भी सरकार के कामकाज की तारीफ की
-केंद्र सरकार ने जयपुर को उन 4 महानगरों में शामिल किया है,
-जहां कोरोना की रोकथाम के लिए बेहतर काम हुआ है।
-केंद्र सरकार ने जयपुर को कोरोना की रोकथाम में रोल मॉडल माना है

-राजस्थान में अब तक 2200 से अधिक प्रवासी आए पॉजिटिव
-उदयपुर, सिरोही,पाली समेत जिन अन्य जिलों में प्रवासी मूमेंट
-उनके लिए अलग से प्लानिंग बनाकर काम किया जा रहा है
-कोरोना रोकथाम पर बोले ACS मेडिकल रोहित कुमार सिंह
-वैसे हम राजस्थान में हर जिले के हिसाब से बना रहे है स्टे्टजी
-सिंह ने कहा, राजस्थान में हर जिले की स्थितियां है अलग
-ऐसे में कोरोना केस के हिसाब से जिलेवार बना रहे है प्लानिंग
-ताकि, क्षेत्र की स्थितियों को ध्यान में रखते हुए संक्रमण को रोका जा सके

जयपुर एयरपोर्ट से हवाई यात्रा का पांचवां दिन, 20 में से मात्र 9 फ्लाइट का हुआ संचालन

जयपुर एयरपोर्ट से हवाई यात्रा का पांचवां दिन, 20 में से मात्र 9 फ्लाइट का हुआ संचालन

जयपुर एयरपोर्ट से हवाई यात्रा का पांचवां दिन, 20 में से मात्र 9 फ्लाइट का हुआ संचालन

जयपुर: हवाई सेवाओं के संचालन को शुरू हुए शुक्रवार को पांचवा दिन है, लेकिन फ्लाइट्स का संचालन गति नहीं पकड़ पा रहा है. शुक्रवार को भी जयपुर एयरपोर्ट से आधी से ज्यादा फ्लाइट रद्द रहीं. कुल 20 फ्लाइट में से मात्र 9 फ्लाइट का ही संचालन आज हो सका है. सर्वाधिक 6 फ्लाइट स्पाइसजेट एयरलाइन की रद्द हुई. एयर एशिया और एयर इंडिया की 2-2 फ्लाइट रद्द रही. 

टूरिज्म ट्रेड के लिए इस वक्त की सबसे बड़ी खबर, 1 जून से प्रदेश में खोल दिए जाएंगे स्मारक और नेशनल पार्क

इंडिगो की भी एक फ्लाइट रही रद्द: 
वहीं इंडिगो की भी एक फ्लाइट रद्द रही. आपको बता दें कि जयपुर एयरपोर्ट से अलग-अलग एयरलाइंस ने कुल 20 फ्लाइट के संचालन का शेड्यूल दिया हुआ है. लेकिन इनमें से रोजाना करीब आधी फ्लाइट ही संचालित हो रही हैं. शुक्रवार को हालांकि मुंबई के लिए फ्लाइट संचालित हुई है, लेकिन पश्चिम बंगाल के कोलकाता के लिए अभी तक फ्लाइट शुरू करने की अनुमति नहीं मिल सकी है. यात्री भार कम रहने की वजह से एयरलाइंस को फ्लाइट रद्द करनी पड़ रही हैं. 

ये 11 फ्लाइट हुई रद्द:
- स्पाइसजेट की सुबह 5:45 बजे सूरत जाने वाली फ्लाइट SG-2763 हुई रद्द
- स्पाइसजेट की सुबह 7:20 बजे जालंधर जाने वाली फ्लाइट SG-2750 हुई रद्द
- एयर इंडिया की सुबह 7:35 बजे आगरा जाने वाली फ्लाइट 9I-687 हुई रद्द
- एयर इंडिया की सुबह 10:45 बजे दिल्ली जाने वाली फ्लाइट 9I-844 हुई रद्द
- इंडिगो की शाम 4:45 बजे कोलकाता जाने वाली फ्लाइट 6E-6156 हुई रद्द
- स्पाइसजेट की सुबह 8 बजे मुंबई जाने वाली फ्लाइट SG-279 हुई रद्द
- स्पाइसजेट की सुबह 9:45 बजे उदयपुर जाने वाली फ्लाइट SG-6632 हुई रद्द
- स्पाइसजेट की दोपहर 2:55 बजे वाराणसी जाने वाली फ्लाइट SG-2752 हुई रद्द
- स्पाइसजेट की दोपहर 2:15 बजे गुवाहाटी जाने वाली फ्लाइट SG-448 हुई रद्द
- एयर एशिया की सुबह 9:15 बजे बेंगलूरु जाने वाली फ्लाइट I5-1721 हुई रद्द
- एयर एशिया की सुबह 11:45 बजे हैदराबाद जाने वाली फ्लाइट I5-1543 हुई रद्द

भाजपा के पूर्व मंत्री भंवर लाल शर्मा का निधन, राजनीतिक हलकों में छाई शोक की लहर

भाजपा के पूर्व मंत्री भंवर लाल शर्मा का निधन, राजनीतिक हलकों में छाई शोक की लहर

जयपुर: दिग्गज भाजपा नेता भंवर लाल शर्मा का शुक्रवार को निधन हो गया. भंवर लाल शर्मा BJP के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष और राज्य सरकार में मंत्री रहे चुके थे. भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ओम प्रकाश माथुर ने भंवर लाल शर्मा के निधन पर गहरी संवेदना जताई. पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने भी भंवर लाल शर्मा के निधन पर गहरी संवेदना जताते हुए शोक व्यक्त किया.

पार्थिव देह को किया नमन:
भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डॉ.सतीश पूनिया ने भंवरलाल शर्मा के निवास पर पहुंचकर पार्थिव देह को नमन किया. पूनिया ने कहा कि भंवरलाल शर्मा पार्टी के वरिष्ठ नेता व सबके मार्गदर्शक रहे है. उनका निधन हम सबके लिए और मेरे लिए व्यक्तिगत तौर पर बड़ी क्षति है. शर्मा प्रदेश के आमजन के साथ हमेशा खड़े रहते थे. शर्मा की कमी हमेशा खलेगी. प्रदेश के विकास और पार्टी की मजबूती में भंवर लाल शर्मा का बड़ा योगदान है.उन्होंने विधायक और मंत्री रहते हुए कभी सरकारी बंगला और सरकारी गाड़ी का उपयोग नहीं किया.

टूरिज्म ट्रेड के लिए इस वक्त की सबसे बड़ी खबर, 1 जून से प्रदेश में खोल दिए जाएंगे स्मारक और नेशनल पार्क

ओमप्रकाश माथुर ने जताया शोक:
भंवरलाल शर्मा के निधन पर भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ओमप्रकाश माथुर ने शोक जताते हुए कहा कि आत्मा को भीतर तक पीड़ा देने वाला समाचार जयपुर से प्राप्त हुआ. महामारी का ऐसा संकट की उनके अंतिम दर्शन भी ना कर पा रहा हूं. जनसंघ से जनता पार्टी फिर भाजपा पार्षद से 6 बार विधायक रहे चुके है. भंवर लाल शर्मा ने भैरों सिंह जी की हर सरकार में अहम भूमिका निभाई है. कई बार प्रदेश अध्यक्ष अनगिनत भूमिकाओं में उन्हें देखा और उनसे सिखा भी है. उनकी जीवटता , साहस, कार्यकर्ताओं से और आम जनता से उनका आज तक सतत सम्पर्क था. उनके व्यक्तित्व के बारे में हर शब्द छोटा है. मुझे उनका आशीष राजनीति में रहते और अब गांव में जीवन व्यतीत करते समय भी हमेशा प्राप्त हुआ. मेरे लिये व्यक्तिगत क्षति, एक युग का अंत एक पीढ़ी का अवसान. प्रभु अपने श्रीचरणों उन्हें स्थान दे , परिवार को सम्बल प्रदान करें.

राजनीतिक हलकों में छाई शोक की लहर:
भाजपा के पूर्व मंत्री भंवर लाल शर्मा के निधन की खबर से राजनीतिक हलकों में शोक की लहर छा गई. मुख्य सचेतक डॉ.महेश जोशी ने दुख जताया है. कहा-उनका जाना मेरे लिए व्यक्तिगत क्षति है. ईश्वर दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करें. परिजनों को इस दुख की घड़ी को सहने की क्षमता प्रदान करें.

वंदे भारत मिशन के तहत 2 फ्लाइट पहुंची जयपुर, कजाकिस्तान और दुबई से एयर इंडिया की फ्लाइट पहुंची जयपुर

वंदे भारत मिशन के तहत 2 फ्लाइट पहुंची जयपुर, कजाकिस्तान और दुबई से एयर इंडिया की फ्लाइट पहुंची जयपुर

जयपुर: विदेशों में फंसे प्रवासी भारतीयों को भारत में लाने का सिलसिला लगातार जारी है. मिशन वंदे भारत के तहत शुक्रवार को दो फ्लाइट जयपुर पहुंची. इनमें 281 प्रवासी राजस्थानी जयपुर पहुंचे. भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने एयरपोर्ट पर प्रवासी राजस्थानियों का स्वागत किया.

राजगढ़ SHO आत्महत्या प्रकरण: राजेंद्र राठौड़ समेत 150 लोगों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज !

जयपुर सांसद रामचरण बोहरा भी एयरपोर्ट पर रहे मौजूद:
इस दौरान जयपुर सांसद रामचरण बोहरा भी मौजूद रहे. एक फ्लाइट कजाकिस्तान के अलमाटी से जयपुर पहुंची, जिसमें 98 प्रवासी राजस्थानी पहुंचे. इनमें ज्यादातर मेडिकल के विद्यार्थी जयपुर पहुंचे हैं. इसके अलावा दूसरी फ्लाइट दुबई से जयपुर पहुंची. जिसमें 183 प्रवासी राजस्थानी आए हैं. एयरपोर्ट पर मेडिकल स्क्रीनिंग और इमीग्रेशन, कस्टम की कार्यवाही पूरी करने के बाद सभी यात्रियों को 7 दिन संस्थागत क्वॉरेंटाइन के लिए भेज दिया गया. 

टूरिज्म ट्रेड के लिए इस वक्त की सबसे बड़ी खबर, 1 जून से प्रदेश में खोल दिए जाएंगे स्मारक और नेशनल पार्क

Open Covid-19