कोलकाता पश्चिम बंगाल सरकार ने निजी स्कूलों से सात मई से ऑफलाइन कक्षाएं बंद करने को कहा

पश्चिम बंगाल सरकार ने निजी स्कूलों से सात मई से ऑफलाइन कक्षाएं बंद करने को कहा

पश्चिम बंगाल सरकार ने निजी स्कूलों से सात मई से ऑफलाइन कक्षाएं बंद करने को कहा

कोलकाता: पश्चिम बंगाल सरकार ने भीषण गर्मी के कारण राज्य के सभी निजी स्कूलों को सात मई से ऑफलाइन कक्षाएं बंद करने और ऑनलाइन माध्यम से कक्षाएं शुरू करने को कहा है. स्कूल शिक्षा विभाग के एक अधिकारी ने शुक्रवार को यह जानकारी दी. 

स्कूल शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव मनीष जैन ने निजी स्कूलों को कहा कि अप्रैल में विभाग की ओर से जारी किये गए नोटिस के अनुसार अगर दो मई से स्कूलों में छुट्टी नहीं बढ़ाना चाहते हैं तो वे ऑनलाइन कक्षाएं शुरू करें. अधिकारी ने जैन के हवाले से कहा कि निजी स्कूलों को अब छात्रों के हित में स्कूल भवनों में प्रत्यक्ष कक्षाएं नहीं लेनी चाहिए क्योंकि छात्र भीषण गर्मी की स्थिति में बीमार पड़ रहे हैं. साथ ही, उन्हें इस मुद्दे पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के बयान के विरुद्ध कोई एकतरफा निर्णय नहीं लेना चाहिए. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अप्रैल के अंतिम सप्ताह में भीषण गर्मी की स्थिति के मद्देनजर स्कूलों से अपनी छुट्टी दो मई से 15 जून तक करने के लिए कहा था. उन्होंने निजी स्कूलों से भी ऐसा करने का अनुरोध किया था. लेकिन निजी स्कूलों ने अभिभावकों के एक वर्ग की इच्छा को देखते हुए कक्षाओं को ऑफलाइन माध्यम से चलाने का फैसला किया था.

 

अधिकारी ने कहा कि कक्षा 10 और 12 की बोर्ड परीक्षाएं निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार जारी रहेंगी. जैन ने साउथ प्वाइंट स्कूल सहित निजी तौर पर संचालित करीब 30 स्कूलों के अधिकारियों के साथ बैठक की थी. 1984 और 1992 के बीच छात्र संख्या के मामले में स्कूल गिनीज बॉक ऑफ रिकॉर्ड्स में दुनिया के सबसे बड़े स्कूल के रूप में दर्ज हो चुका है. एक निजी स्कूल के प्रधानाचार्य ने पीटीआई-भाषा को बताया कि छात्र महामारी की वजह से दो साल तक स्कूलों से दूर रहने के बाद अब प्रत्यक्ष कक्षाओं में भाग लेना चाहते हैं. उन्होंने कहा कि हमने सोचा कि तापमान में थोड़ी कमी आने से हम पढ़ाई को जारी रख सकते हैं. लेकिन राज्य सरकार के निर्देश के अनुसार आज से ऑफलाइन कक्षाएं नहीं होंगी. सोर्स- भाषा

और पढ़ें