Live News »

VIDEO: लोकसभा चुनाव परिणाम कुछ भी रहा हो क्षेत्र का विकास कराना मेरी जिम्मेदारी- वैभव गहलोत

VIDEO: लोकसभा चुनाव परिणाम कुछ भी रहा हो क्षेत्र का विकास कराना मेरी जिम्मेदारी- वैभव गहलोत

जोधपुर: प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महासचिव वैभव गहलोत का कहना है कि लोकसभा चुनाव के परिणाम जो कुछ भी रहे हो लेकिन जब जनता ने मुझे वोट दिए हैं और कांग्रेस जनों ने पूरा साथ दिया है. ऐसे में क्षेत्र का विकास कराने की मेरी जिम्मेदारी है, इसीलिए प्रदेश के बजट से पूर्व भी जोधपुर को क्या-क्या दिया जा सकता है या दिलाया जा सकता है पर भी मंथन हुआ है और आगे भी विकास में कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी.

जोधपुर में विकास की कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी: 
राजस्थान सरकार के बजट में जिस तरह से जोधपुर को यातायात की समस्या से निजात दिलाने के लिए एलिवेटेड रोड मिली है, भूजल स्तर की समस्या से निपटने के लिए 34 करोड़ रुपयों का प्रावधान किया गया है और अन्य घोषणाएं हुई है उसी से अंदाज लगाया जा सकता है कि जोधपुर में विकास को लेकर कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी.

कांग्रेस पार्टी मजबूती से लड़ेगी नगर निगम चुनाव: 
उन्होंने स्पष्ट कहा कि आगे नगर निगम चुनाव है लिहाजा कांग्रेस पार्टी पूरी मजबूती के साथ चुनाव लड़ेगी. यही नहीं लोकसभा चुनाव में साथ देने वालों का देरी से धन्यवाद के सवाल के जवाब पर उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव के तुरंत बाद विधानसभा शुरू हो गई थी और सभी विधायक विधानसभा में व्यस्त थे, अब विधान सभा समाप्त हो गई है तो ऐसी परिस्थिति में सभी विधायकों के साथ उनके क्षेत्र में जाएंगे विधायकों का भी मान बढ़ेगा और कांग्रेसी कार्यकर्ताओं की पूरी टीम में भी उत्साह का संचार होगा. फर्स्ट इंडिया न्यूज़ सवांददाता राजीव गौड़ ने प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महासचिव वैभव गहलोत से की खास बातचीत...

और पढ़ें

Most Related Stories

यूथ कांग्रेस चुनाव सियासत, अशोक चांदना ने कहा परिणाम रोके जाये

यूथ कांग्रेस चुनाव सियासत, अशोक चांदना ने कहा परिणाम रोके जाये

जयपुर: प्रदेश यूथ कांग्रेस के चुनाव परिणाम आने के बाद से ही सियासत उफान पर है. खेल मंत्री और पूर्व यूथ कांग्रेस अध्यक्ष अशोक चांदना ने भी परिणामों पर आपत्ति जताई है. चांदना ने कहा कि यूथ कांग्रेस के निरंतर बदल रहे चुनाव परिणाम से कांग्रेस की तरफ उम्मीद भरी निगाहों से देख रहा प्रदेश का युवा ठगा हुआ महसूस कर रहा है.

Coronavirus Updates:  राजस्थान में पॉजिटिव मरीजों का ग्राफ पहुंचा 489, देश में चौथे पायदान पर 

निष्पक्ष जांच न हो तब तक इस चुनाव परिणाम पर रोक लगा देनी चाहिए:
उन्होंने कहा कि भारतीय राष्ट्रीय युवा कांग्रेस ने रिपोर्ट दर्ज कराकर चुनाव हैक होने की बात स्वीकार की है ऐसे में मेरा मानना है कि जब तक किसी भी स्वतंत्र एजेंसी से इसकी निष्पक्ष जांच न हो तब तक इस चुनाव परिणाम पर रोक लगा देनी चाहिए. कांग्रेस पार्टी में आम युवा की भागीदारी को लेकर आदरणीय राहुल गांधी का जो सपना था, वो आज हैकर्स के हाथों दम तोड़ता नजर आ रहा है, जो कि दुःखद है.

VIDEO: टीम गहलोत के जज्बे की दास्तां, Corona को हराने में जुटे सूबे के 'कर्णधार' 

VIDEO: टीम गहलोत के जज्बे की दास्तां, Corona को हराने में जुटे सूबे के 'कर्णधार'

जयपुर: पूरा प्रदेश जब कोरोना संकट से जूझ रहा है, तो कुछ ऐसे योद्धा भी है, जो अग्रिम पंक्ति में खड़े होकर प्रदेश की जनता की रक्षा के लिए इस वायरस से जंग लड़ रहे हैं. इन योद्धा में सबसे आगे सेनापति की तरह डटे हैं मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, जिनका न अब सोने का ठिकाना है और न खाने का. बस मन में एक ही संकल्प, प्रदेश को कोराना महामारी से जंग जिताकर ही दम लें. 

 Coronavirus Updates:  राजस्थान में पॉजिटिव मरीजों का ग्राफ पहुंचा 489, देश में चौथे पायदान पर 

गहलोत घबराए नहीं, बल्कि इस वायरस से जंग में सबसे आगे आकर खड़े हो गए:
प्रदेश में जब विकास का खाका खिंचा जा रहा था और विधानसभा में बजट पास हुआ था, तब ही एक चिंता भरी खबर आई कि इटली का एक नागरिक कोराना पॉजिटिव पाया गया है. चिंता इसलिए गहरी थी क्योंकि यह नागरिक राजधानी जयपुर सहित प्रदेश के कई इलाकों में रुका था. अब इस घटना के बाद प्रदेश में सबकुछ बदल गया. सीएम गहलोत जहां बजट के अनुसार प्रदेश के विकास का सपना देख रहे थे, अचानक सेनापति की भूमिका में आकर खड़े हो गए, क्योंकि अब जंग ऐसे अद्श्य दुश्मन से होनी थी, जिसने पूरी द़ुनिया में हाहाकर मचा रखा था. गहलोत घबराए नहीं, बल्कि इस वायरस से जंग में सबसे आगे आकर खड़े हो गए. तुरंत फैसले लिए और साथ ही एक ऐसी टीम बनाई, जो दिन रात कोराना से जंग में लड़ाइ लड़ सके. सेनापति की भांति खुद गहलोत मोर्चे पर डटे है. एक तरफ लोगों से बीमारी से बचाने का जिम्मा है, तो दूसरी तरह गरीब, बेसहारा व जरूरतमंदो को भूखा न सोने देने का दृढसंकल्प. कोराना से जंग में प्रदेश के इस योद्धा न अब तक क्या क्या किया इस पर एक नजर डाल लेते हैं. 

- 18 मार्च को पूरे प्रदेश में धारा 144 लगाने की घोषणा की
- 21 मार्च को पूरे प्रदेश में लॉकडाउन करने का फैसला
- लॉकडाउन करने वाला देश का पहला राज्य बना राजस्थान
- राजस्थान का अनुसरण फिर अन्य राज्यों व केंद्र ने किया
- जनता के जीवन का सर्वापरि मानकर कुछ जगह कर्फ्यू लगाया
- लॉकडाउन के कारण प्रदेश की जनता की चिंता भी सताने लगे
- मजदूरों, गरीबों व असहायों के लिए विशेष प्रबंध किए गहलोत ने
- पहले 1000 फिर 1500  रुपए की नकद सहायता राशि देने का फैसला
- 'प्रदेश में कोई भूखा न सोए' अभियान का आगाज किया गहलोत ने
- सभी राजनीतिक दलों से बैठक करके कोरोना से लड़ाई में मदद मांगी
- धार्मिक व सामाजिक संस्थाओं के प्रमुख से मीटिंग की मुख्यमंत्री ने
- विधायक व मंत्रियों के साथ अपना वेतन स्थगित किया गहलोत ने
- बिजली व पानी के बिल स्थगित करके जनता को बड़ी राहत दी
- चिकित्सा कर्मियों के लिए विशेष प्रोत्साहन पैकेज की घोषणा की

प्रदेश में धारा 144 लगाने के बाद से लेकर अब तक कोई ऐसा दिन नहीं गया हो, जब मुख्यमंत्री ने दिन में दो से तीन मीटिंग न ली हो. वरिष्ठ अधिकारियों का कोर ग्रुप बनाया, जो तुरंत फैसले ले. अब तो सीएम ने दो टास्क फोर्स का भी गठन कर दिया है. भीलवाड़ा में तो कोराना को नाकों चने चबाकर ऐसा मॉडल स्थापित किया कि आज पूरे देश में सीएम के इस भीलवाड़ा मॉडल की तारीफ हो रही है. प्रदेश की जनता भूखी न सोए इसके लिए ऐसा अभियान छेड़ा कि आज हर कोई मदद के लिए आगे बढ़कर आ रहा है. मुख्यमंत्री ने कोविड 19 विशेष कोष भी स्थापित किया है, जिसमें लोगों ने खुले हाथों से मदद की. अब तक इस कोष में 170 करोड़ रुपए से अधिक आ गए हैं.

फोर्ब्स सूची: दुनिया के अरबपतियों की संपत्ति पर कोरोना का कहर, आधे से ज्यादा की संपत्ति में गिरावट!

रांका मुख्यमंत्री की कोर टीम के प्रमुख सदस्य:
कोराना से इस जंग में मुख्यमंत्री का कंधे से कंधे मिलाकर साथ दिया एक और योद्धा ने. यह योद्धा है मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव कुलदीप रांका. प्रशासन में 100 फीसदी डिलीवरी के लिए पहचान रखने वाले रांका मुख्यमंत्री की कोर टीम के प्रमुख सदस्य है. मुख्यमंत्री द्वारा लिए गए फैसलों को तुरंत पूरे प्रदेश में लागू कराना और उनकी मॉनिटरिंग करके मुखिया को रिपोर्ट देने का काम रांका ने बखूबी किया है. न दिन का चैन न रात का सुकुन. ब्यूरोक्रेसी के माध्यम से इस जंग को जीतने में अहम भूमिका निभाई है कुलदीप रांका ने. मुख्यमंत्री व रांका की प्रेरणा से ही अधिकारियों व कर्मचारियों ने आगे बढ़कर अपने वेतन में से सहयोग दिया. जब सरकार ने वेतन स्थगित करने का फैसला किया, तो कर्मचारियों ने इसका भी समर्थन किया. यह संभव हो पाया कुलदीप रांका के कारण. 

यूथ कांग्रेस चुनाव परिणाम: अध्यक्ष के निर्वाचन पर खड़े हुये सवाल, अमरदीन फकीर ने लिखा सोनिया गांधी को पत्र

यूथ कांग्रेस चुनाव परिणाम: अध्यक्ष के निर्वाचन पर खड़े हुये सवाल, अमरदीन फकीर ने लिखा सोनिया गांधी को पत्र

जयपुर: यूथ कांग्रेस चुनाव में विवाद लगातार जारी है. खुलेआम यूथ कांग्रेस के राष्ट्रीय नेतृत्व के खिलाफ हुंकार भरी जा रही. मुकेश भाकर की टीम में उपाध्यक्ष बने अमरदीन फकीर ने विद्रोह कर दिया है. फकीर ने पूरे घटनाक्रम को लेकर कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखा है. हैकिंग घटनाक्रम के मद्देनजर नव निर्वाचित उपाध्यक्ष संजीता सिहाग ने भी हैकिंग को लेकर यूथ कांग्रेस के राष्ट्रीय नेतृत्व पर गंभीर आरोप लगाये है. उधर नव निर्वाचित प्रदेश अध्यक्ष मुकेश भाकर ने कोरोना के मद्देनजर प्रदेश टीम को निर्देश दिये है कि लोगों की मदद करे, भाकर इसे लेकर वीडियो कांफ्रेसिंग करेंगे. बहरहाल समस्त घटनाक्रम ने यूथ कांग्रेस के चुनाव को मजाक बना दिया. 

लॉक डाउन के दौरान प्राइवेट स्कूलों की नहीं हो सकेगी फीस वसूली, स्टाफ को देनी होगी पूरी सैलेरी 

हैकिंग खरीद-फरोख्त ने राजस्थान के यूथ कांग्रेस चुनाव को मजाक बना दिया:
यूथ कांग्रेस चुनाव में हैकिंग. ये भले ही अचरज भरा लगे लेकिन सच यहीं है. राजस्थान को ऑनलाइन सिस्टम वोटिंग प्रणाली का मॉडल बनाना था लेकिन हैकिंग खरीद-फरोख्त ने राजस्थान के यूथ कांग्रेस चुनाव को मजाक बना दिया. उलट-फेर ने यूथ कांग्रेस चुनाव के पूरे सिस्टम पर ही सवाल खड़े कर दिये. लाडनूं से कांग्रेस विधायक मुकेश भाकर अध्यक्ष बन गये लेकिन उनके निर्वाचन ने उनके साथियों को बगावत के रास्ते पर चलने को मजबूर कर दिया. यूथ कांग्रेस के दो नव निर्वाचित अध्यक्ष अमरदीन फकीर और संजीता सिहाग खुलकर विरोध मे आ गये. अमरदीन ने प्रथम चुनाव परिणाम घोषणा पर नहीं किया था विरोध लेकिन अब सवाल खड़ा कर दिया कि जब पूरा देश कोरोना महामारी से जूझ रहा तो ऐसी क्या जरूरत आ गयी थी रिजल्ट घोषित करने की, अमरदीन ने लिखा सोनिया गांधी को शिकायत पत्र लिखा है. 

अगर गलत हो रहा है तो उसका विरोध करना ही पड़ेगा:
संजीता सिहाग ने खड़े किये है. सिहाग ने कहा मैं भी नव निर्वाचित उपाध्यक्ष हूं लेकिन अगर गलत हो रहा है तो उसका विरोध करना ही पड़ेगा, हैकिंग के आरोप लगाने वाली बात पहले ही हो रही थी तब क्यों सुमित को अध्यक्ष घोषित किया, किया तो अब बदला क्यों? 

Rajasthan Corona Update:  पिछले 12 घंटे में सामने आए 30 नये पॉजिटिव केस, मरीजों का ग्राफ पहुंचा 413 

मुकेश भाकर ने अपना भावी कार्यक्रम त़य कर दिया:
विवादों के बीच ही मुकेश भाकर ने अपना भावी कार्यक्रम त़य कर दिया है, लॉक डाउन के कारण प्रदेश टीम की बैठक तो नहीं बुलाई है लेकिन वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिये प्रदेश पदाधिकारियों ओर जिला अध्यक्षों को कोरोना के खिलाफ जंग में योगदान देने के प्रेरित करेंगे. यह जरुर है कि विवाद दिल्ली पहुंच गया है और आगामी दिनों में असंतुष्ट खेमा दिल्ली जाकर विरोध को मुखर करेगा. दिलचस्प बात यह है कि राज्य का कोई बड़ा नेता इस विवाद में नहीं पड़ना चाह रहा.

...फर्स्ट इंडिया के लिये योगेश शर्मा की रिपोर्ट

राजस्थान युवा कांग्रेस चुनाव में गहराया विवाद, अब अमरदीन फकीर ने खड़े किये सवाल

जयपुर: राजस्थान युवा कांग्रेस चुनाव में विवाद गहरा गया है. मुकेश भाकर के निर्वाचन के विरोध में उपाध्यक्ष बने अमरदीन फकीर भी उतर गये है, परिणामों पर सवाल उठाते हुये फकीर ने तो यहां तक कह दिया कि इस पूरे मामले में कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी को दखल देना चाहिए. 

Rajasthan Corona Update:  प्रदेश में पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा पहुंचा 348, देश में मरने वालों का आंकड़ा पहुंचा 149 

यूथ कांग्रेस चुनाव पर प्रदेश यूथ कांग्रेस के युवाओं का भरोसा उठ गया: 
अमरदीन फ़कीर ने यूथ कांग्रेस राष्ट्रीय नेतृत्व पर सवाल खड़े करते हुए अध्यक्ष की घोषणा वापिस लेने की मांग की है. अमरदीन फ़कीर ने कहा है कि यूथ कांग्रेस चुनाव पर प्रदेश यूथ कांग्रेस के युवाओं का भरोसा उठ गया है. किसी भी प्रकार की पारदर्शिता नहीं है. पहले कुछ और परिणाम आए बाद में कुछ और घोषणा हुई इससे सीधा सवाल यूथ कांग्रेस के राष्ट्रीय पदाधिकारीयों पर उठ रहा है. राष्ट्रीय पदाधिकारी पार्टी के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं. फ़कीर ने मुकेश भाकर के अध्यक्ष बनने पर असहमति ज़ाहिर की है.

हनुमान जयंती आज : कोरोना संकट हरेंगे संकटमोचन हनुमान, ऐसे करें घरों में पूजा -आराधना

चुनावों में कोई पारदर्शिता नहीं रही:
उन्होंने कहा कि पहले जब नतीजे आए तब लगा था कि सही चुनाव हुआ होगा, लेकिन अब नतीज़ों से लग रहा है कि यूथ कांग्रेस के राष्ट्रीय पदाधिकारीयों ने सही काम नहीं किया, चुनावों में कोई पारदर्शिता नहीं रही है. अमरदीन फ़कीर ने कोरोना के बीच हुई अध्यक्ष पद की घोषणाओं को वापिस लेने के मांग की कैबिनेट मंत्री शाले मोहम्मद के छोटे भाई है अमरदीन. सुमित भगासरा पहले ही विरोध जता चुके है. 

...फर्स्ट इंडिया के लिए योगेश शर्मा की रिपोर्ट

राजस्थान युवा कांग्रेस चुनाव में गहराया विवाद, अब अमरदीन फकीर ने खड़े किये सवाल

राजस्थान युवा कांग्रेस चुनाव में गहराया विवाद, अब अमरदीन फकीर ने खड़े किये सवाल

जयपुर: राजस्थान युवा कांग्रेस चुनाव में विवाद गहरा गया है. मुकेश भाकर के निर्वाचन के विरोध में उपाध्यक्ष बने अमरदीन फकीर भी उतर गये है, परिणामों पर सवाल उठाते हुये फकीर ने तो यहां तक कह दिया कि इस पूरे मामले में कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी को दखल देना चाहिए. 

Rajasthan Corona Update:  प्रदेश में पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा पहुंचा 348, देश में मरने वालों का आंकड़ा पहुंचा 149 

यूथ कांग्रेस चुनाव पर प्रदेश यूथ कांग्रेस के युवाओं का भरोसा उठ गया: 
अमरदीन फ़कीर ने यूथ कांग्रेस राष्ट्रीय नेतृत्व पर सवाल खड़े करते हुए अध्यक्ष की घोषणा वापिस लेने की मांग की है. अमरदीन फ़कीर ने कहा है कि यूथ कांग्रेस चुनाव पर प्रदेश यूथ कांग्रेस के युवाओं का भरोसा उठ गया है. किसी भी प्रकार की पारदर्शिता नहीं है. पहले कुछ और परिणाम आए बाद में कुछ और घोषणा हुई इससे सीधा सवाल यूथ कांग्रेस के राष्ट्रीय पदाधिकारीयों पर उठ रहा है. राष्ट्रीय पदाधिकारी पार्टी के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं. फ़कीर ने मुकेश भाकर के अध्यक्ष बनने पर असहमति ज़ाहिर की है.

हनुमान जयंती आज : कोरोना संकट हरेंगे संकटमोचन हनुमान, ऐसे करें घरों में पूजा -आराधना

चुनावों में कोई पारदर्शिता नहीं रही:
उन्होंने कहा कि पहले जब नतीजे आए तब लगा था कि सही चुनाव हुआ होगा, लेकिन अब नतीज़ों से लग रहा है कि यूथ कांग्रेस के राष्ट्रीय पदाधिकारीयों ने सही काम नहीं किया, चुनावों में कोई पारदर्शिता नहीं रही है. अमरदीन फ़कीर ने कोरोना के बीच हुई अध्यक्ष पद की घोषणाओं को वापिस लेने के मांग की कैबिनेट मंत्री शाले मोहम्मद के छोटे भाई है अमरदीन. सुमित भगासरा पहले ही विरोध जता चुके है. 

...फर्स्ट इंडिया के लिए योगेश शर्मा की रिपोर्ट

सीएम गहलोत ने दिए संकेत, राजस्थान में अभी नहीं खुलेगा लॉकडाउन, कहा-जिंदगी बचाना जरूरी

जयपुर: प्रदेश में कोरोना से बचाव के लिए लॉकडाउन है, वहीं प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मंगलवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए प्रेस कॉन्फ्रेंस की. प्रेस कॉन्फ्रेंस में सीएम गहलोत ने लॉकडाउन को लेकर बड़ा बयान दिया. राजस्थान में लॉकडाउन नहीं खोलने के संकेत दिए. कहा जिंदगी बचाना जरूरी है, हम खतरा नहीं मोल लेना चाहते है. 

गहलोत की प्रेस कॉन्फ्रेंस 
प्रदेश के सीएम गहलोत ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए कहा कि डॉक्टरों,नर्सिंग स्टाफ को पता है उन्हें सोसायटी का सहयोग मिल रहा है. राजस्थान में सभी वर्ग के लोग मिलकर काम कर रहे है. जनता को मुकाबले के लिए आगे आकर सहयोग देना चाहिए. केन्द्र ने जीएसटी सहित अन्य ग्रांट रोक रखी है. केन्द्र के पास RBI है, राज्य के पास क्या है, कुछ भी नहीं है, ऐसे में केन्द्र को मदद करनी चाहिए. सीएम गहलोत ने कहा कि RBI से बिना ब्याज के ऋण राज्यों को मिलना चाहिए. 

यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ बोले, कोरोना से निपटने के लिए सरकार कर रही है काम, सभी मेडिकल कॉलेज में होगी टेस्टिंग सुविधा मुहैया

तब्लीगी जमात का मामला गंभीर बात:
सीएम गहलोत ने एक सवाल के जवाब में कहा तब्लीगी जमात का मामला गंभीर बात है,  किसी ने गलती की है तो उसे सजा मिलनी चाहिए. इस मामले में सुप्रीम कोर्ट के जज या रिटायर जज को जांच करनी चाहिए. आज जबकि सभी धर्म के लोग मिलकर कोरोना की लड़ाई लड़ रहे है. ऐसे में खराब माहौल बनाना ठीक नहीं है.

चिह्नित लोगों की संख्या के आधार पर हम आगे बढ़े:
VC के माध्यम से सीएम गहलोत मीडिया के सवालों के जवाब में बोले, चिह्नित लोगों की संख्या के आधार पर हम आगे बढ़े है. 950 लोग अस्पताल में क्वारंटाइन है, जबकि 7620 लोग होम क्वारंटाइन में है. राजस्थान में लोग साथ दे रहे है,घरों में बंद है. 2500 करोड़ का पैकेज दे रहे है. 33 लाख लोगों को चिह्नित कर हमने 2500 रुपए दिए है. 1 करोड़ 11 लाख परिवारों को 10 किलो गेहूं, 1 किलो दाल फ्री दे रहे हैं. गर्भवती महिलाओं को कोई तकलीफ नहीं हो यह सुनश्चित किया है. राजस्थान में कोई व्यक्ति भूखा नहीं सोएगा. सरकार, प्रशासनिक अधिकारी, तमाम पार्टी के लोग मिलकर मुकाबला कर रहे है.

सीएम गहलोत के निर्देश, कोरोना संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए युद्ध स्तर पर करें काम, जयपुर के रामगंज में स्थिति नाजुक

पहला केस आते ही इसको गंभीरता से लिया:
सीएम गहलोत ने एक सवाल के जबाव में कहा कि राजस्थान में कोरोना का पहला मामला आते ही राज्य ने इसको गंभीरता से लिया. साथ ही इसपर लगातार मॉनिटरिंग की जा रही है. कोरोना वायरस से निपटने के लिए जिला प्रशासन के साथ कोर ग्रुप बनाकर मॉनिटरिंग कर रहे हैं. 15 हजार टेस्ट किए है जो केरल के बाद सबसे ज्यादा है. सोशल डिस्टेसिंग जरूरी है, उसको मानना पड़ेगा. लगातार काम कर रहे है, जिससे लोगों के अंदर विश्वास बढ़ा है. हम सब के साथ मिलकर बात कर रहे हैं. भीलवाड़ा और रामगंज में घर-घर टीम बनाकर की स्क्रीनिंग की गई. 

कोरोना के कारण सादगी से मना भाजपा का स्थापना दिवस, राजस्थान में सशक्त रहा इतिहास

कोरोना के कारण सादगी से मना भाजपा का स्थापना दिवस, राजस्थान में सशक्त रहा इतिहास

जयपुर: देश भर की बीजेपी ने आज अपना स्थापना दिवस मनाया. राजस्थान में बीजेपी के बीते 40 सालों में कई कीर्तिमान रहे. राजस्थान की माटी से निकले बीजेपी नेता देश की सियासत में सितारों की तरह चमके. भैंरो सिंह शेखावत उपराष्ट्रपति के ओहदे तक पहुंचे. इस दौरान उतार-चढ़ाव देखे लेकिन सबसे ज्यादा सदस्य बनाने के सफर को पूरा किया. वसुंधरा राजे पहली बीजेपी नेता रही जिन्होंने पहली बार मरुभूमि में पूर्ण बहुमत से कमल खिलाया.

अगले कुछ सप्ताह के लिए हमार व्यवहार ही तय करेगा कोरोना वायरस की अगली दशा—मुख्य न्यायाधीश 

बीजेपी ने धीरे धीरे विकास की नवीन इबारत लिखी:
अपने जन्म के साथ ही राजस्थान में बीजेपी ने धीरे धीरे विकास की नवीन इबारत लिखी है. स्वर्गीय भैंरो सिंह शेखावत,सुंदर सिंह भंडारी समेत दिग्गजों ने राजस्थान की बीजेपी को स्थापित किया. राज्य में पहली बीजेपी सरकार के निर्माण का श्रेय भैंरो सिंह शेखावत को ही जाता है. शेखावत के बाद केवल वसुंधरा राजे ही रही जिनके नेतृत्व में बीजेपी की दो सरकारों का निर्माण हुआ. भैरोंसिंह शेखावत ने उप राष्ट्रपति के पद पर पहुंचकर राजस्थान का गौरव बढ़ाया. वसुंधरा राजे 2 बार मुख्यमंत्री बनी वह भी पूर्ण बहुमत के साथ. देश को अंत्योदय से परिचित कराने वाली पहली सरकार राजस्थान की ही थी,जो कि भैंरो सिंह शेखावत का विजन था. वहीं वसुंधरा राजे की देन रही भामाशाह योजना. यह बात सही है कि आज बीजेपी राजस्थान में जिस जगह खड़ी है वहां तक कमल का पहुंचना आसान नहीं था.

Coronavirus Updates: जयपुर में कोरोना पॉजिटिव मरीजों का शतक, राजस्थान में 288 पहुंची मरीजों की संख्या

बीज से वटवृक्ष बनने का सफर मुश्किलों भरा रहा:
राजस्थान में संघ के सफर से कमल खिला चाहे राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ हो या फिर जनसंघ. पं दीनदयाल उपाध्याय और लालकृष्ण आडवाणी सरीखे दिग्गजों ने राजस्थान में ना केवल समय बिताया बल्कि यहां पर कमल खिलाने का मार्ग प्रशस्त किया. बीज से वटवृक्ष बनने का सफर मुश्किलों का भरा रहा. सुंदर सिंह भंडारी, भैरों सिंह शेखावत , भंवर लाल शर्मा,जेपी माथुर,हरिशंकर भाभडा,ललित किशोर चतुर्वेदी ,गुलाब चंद कटारिया,रघुवीर सिंह कौशल,रामदास अग्रवाल,ओम प्रकाश माथुर,महेश चंद्र शर्मा,प्रकाश चंद ,कैलाश मेघवाल, राजेन्द्र राठौड़ सरीखे कई दिग्गज चेहरे रहे जिन्होंने राजस्थान में बीजेपी को खड़ा करने में अहम भूमिका निभाई लेकिन बीजेपी को पार्टी विद द डिफरेंस बनाने में योगदान दिया समर्पित कार्यकर्ताओं ने. आज कमान कार्यकर्ता से प्रदेश अध्यक्ष बने सतीश पूनिया के हाथों में है और संगठन चलाने में उन्हें मार्गदर्शन मिल रहा है चंद्रशेखर का. यूं कह सकते है राजस्थान की बीजेपी में नव कमल उग रहा है.

....फर्स्ट इंडिया के लिए ऐश्वर्य प्रधान के साथ योगेश शर्मा की रिपोर्ट

मोदी कैबिनेट का अहम फैसला, सभी सांसदों के वेतन में एक वर्ष तक होगी 30 प्रतिशत कटौती

मोदी कैबिनेट का अहम फैसला, सभी सांसदों के वेतन में एक वर्ष तक होगी 30 प्रतिशत कटौती

नई दिल्ली: कोरोना महामारी के बीच मोदी कैबिनेट ने सोमवार को अहम फैसले लिए है.  केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में देश के सभी सांसदों के वेतन में एक साल तक 30 प्रतिशत की कटौती का फैसला किया गया. इसके साथ ही सांसद निधि के लिए दी जाने वाली राशि भी 2 वर्ष तक के लिए टाल दी गई है. इसकी जानकारी देते हुए केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बताया कि इस कटौती से सरकार को एक वर्ष में करीब 8 हजार करोड़ रुपए की बचत होगी. 

Coronavirus Updates: जयपुर में कोरोना पॉजिटिव मरीजों का शतक, राजस्थान में 288 पहुंची मरीजों की संख्या

30 प्रतिशत योगदान देने का फैसला:
राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, राज्यों के राज्यपालों ने स्वेच्छा से सामाजिक जिम्मेदारी के रूप में वेतन कटौती का फैसला किया है. यह राशि भारत के समेकित कोष में दर्ज की जाएगी. इसके तहत सांसद निधि को दो साल के लिए टाल दिया गया. वहीं राष्‍ट्रपति, उपराष्‍ट्रपति, राज्‍यपाल सहित तमाम सांसदों ने भी अपने वेतन का 30 प्रतिशत योगदान देने का फैसला किया है. केंद्रीय मंत्रिमंडल ने संसद अधिनियम, 1954 के सदस्यों के वेतन, भत्ते और पेंशन में संशोधन के अध्यादेश को मंजूरी दे दी. 1 अप्रैल, 2020 से एक साल के लिए भत्ते और पेंशन को 30 फीसद तक कम किया जाएगा.

केंद्रीय मंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग:
आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को केंद्रीय मंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बैठक की. पीएमओ ने बताया कि इस दौरान पीएम मोदी ने मंत्रियों के नेतृत्व की सराहना की और कहा कि उनकी तरफ से लगातार दी गई फीडबैक कोविड-19 से निपटने के लिए रणनीति बनाने में प्रभावी रही है.

राहत भरी भविष्यवाणी..! तो अप्रैल मध्य तक हो जाएगा कोरोना वायरस का खात्मा, ज्योतिषीय गणनाओं में हुआ खुलासा

Open Covid-19