आईटी एक्ट में संशोधन से प्रभावित होंगे वॉट्सऐप, गूगल और फेसबुक

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/01/02 07:03

नई दिल्ली। सरकार ने फेक न्यूज और चाइल्ड पॉर्नोग्राफी पर लगाम लगाने के लिए कमर कस ली है। जिसके तहत आईटी एक्ट में संशोधन होने जा रहा है। इन संशोधनों में भारी जुर्माने का प्रावधान है। सूचना एवं तकनीकी मंत्रालय ने इन बदलाव के बारे में बातचीत की गई है और इस मामले पर 15 जनवरी तक फीडबैक मांगा गया है। 

दरअसल सूचना एवं तकनीकी मंत्रालय की तरफ से एक ड्राफ्ट जारी किया गया है। जिसमें कहा गया है कि फेक न्यूज और चाइल्ड पॉर्नोग्राफी एक बड़ी समस्या बन कर उभर रहे हैं और इसे रोकने के लिए यह संशोधन प्रस्तावित है। रिपोर्ट के मुताबिक संशोधन के इस प्रस्ताव में कानून का उल्लंघन करने वाली वेबासाइट्स और ऐप्स को बंद करने तक का प्रावधान होगा। पिछले महीने ही मंत्रालय ने गूगल, फेसबुक, वॉट्सऐप, ट्विटर और दूसरी इंटरनेट कंपनियों के आला अधिकारी से इस बारे में बातचीत की है। 

बता दें कि संशोधन से मुख्य रूप से वॉट्सऐप, गूगल, फेसबुक, ट्विटर और दूसरे चैटिंग ऐप्स प्रभावित होंगे, क्योंकि सरकार वॉट्सऐप से फेक न्यूज का ऑरिजिन बताने को लगातार कंपनी पर दबाव डाल रही है। वॉट्सऐप पर न सिर्फ फेक न्यूज तेजी से वायरल हो रहे हैं, बल्कि चाइड पॉर्न भी धड़ल्ले से शेयर किए जाते हैं। इसके अलावा डेटा प्रोटकेशन बिल में सरकार ने इसका उल्लंघन करने वाली कंपनियों से अधिकतम 15 करोड़ रुपये या दुनिया भर की कमाई का 4% हिस्सा, इनमें से जो भी ज्यादा हो बतौर पेनल्टी वसूली जाएगी। 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in