जयपुर VIDEO: सांसद किरोड़ी लाल मीणा के सिविल लाइंस पहुंचने पर पुलिस ने की घेराबंदी, मंत्री विश्वेंद्र सिंह बोले- किरोड़ी कोई आतंकवादी नहीं

VIDEO: सांसद किरोड़ी लाल मीणा के सिविल लाइंस पहुंचने पर पुलिस ने की घेराबंदी, मंत्री विश्वेंद्र सिंह बोले- किरोड़ी कोई आतंकवादी नहीं

जयपुर: सुबह 9  बजे अचानक सिविल लाइंस में पुलिस में अफरा तफरी मच जाती है. पुलिस और इंटेलीजेंसकर्मी दौड़कर सीधे सीएमआर की तरफ जाते हैं. राहगीरों के लिए यातायात बंद कर दिया जाता है. एक बार तो ऐसा लगने लगता है मानो सिविल लाइंस में कोई आतंकी घुस आया हो ठहरिए हम आपको बताते हैं इस अफरा तफरी का कारण कौन है जी हां राज्यसभा सांसद डॉ. किरोड़ी लाल मीणा के लिए पुलिस ने ये घेराबंदी की थी, डॉ. किरोड़ी आज सुबह पर्यटन मंत्री व दौसा जिले के प्रभारी मंत्री विश्वेंद्र सिंह से मिलने गए थे. पुलिस को भनक लगते ही सीएमआर के सामने स्थित मंत्री निवास को पुलिस ने घेर लिया. 

राज्य सभा सांसद डॉ किरोड़ी लाल मीणा की छवि एक जन नेता ही रही है. जनता से जुड़े मुद्दों पर डॉ किरोड़ी लाल आंदोलन करते रहे हैं. यही कारण है कि पुलिस ने डॉ किरोड़ी लाल मीणा के सिविल लाइंस में घुसने पर अघोषित रोक लगा रखी है. पिछले दिनों 27 अप्रेल को जब किरोड़ी बाबा मंत्री विश्वेंद्र सिंह के निवास पर पहुंचे थे तो पुलिस और इंटेलिजेंस को भनक तक नहीं लगी. इसे इंटेलिजेंस का फेलीयर माना गया था और कुछ पुलिसकर्मियों को लताड़ लगाई गई थी. इसके बाद से पुलिस और इंटेलिजेंस किराड़ी बाबा को लेकर सतर्कता बरत रही थी. आज सुबह जब किरोड़ी मीणा पर्यटन मंत्री व दौसा जिले के प्रभारी मंत्री विश्वेंद्र सिंह के मुख्यमंत्री निवास के सामने स्थित निवास पर पहुंचे तो सिविल लाइंस में अफरा तफरी मच गई. पुलिस ने मंत्री निवास को घेर लिया और बैरिकेडिंग लगाकर यातायात बंद कर दिया.  मीडियाकर्मियों को भी रोक दिया. खुद मंत्री विश्वेंद्र सिंह बाहर आकर विडियो जर्नलिस्ट को अंदर लेकर गए. दरअसल डॉ किरोड़ी मीणा ने फर्स्ट इंडिया न्यूज़ से खास बातचीत में कहा कि वे दौसा शहर की पानी की समस्या को लेकर प्रभारी मंत्री से मिलने आए थे. इसकी सूचना उन्होंने पुलिस को भी दी. लेकिन पुलिस का रवैया पूरी तरह अलोकतांत्रिक दिखा. मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने भी कहा कि डॉ किरोड़ी राज्यसभा सांसद हैं कोई आतंकवादी या लुटेरे नहीं. पुलिस का व्यवहार बिलकुल गलत रहा है. एक सांसद को एक मंत्र से अपने क्षेत्र की समस्या को लेकर मिलने का पूरा हक है. विश्वेंद्र सिंह ने कहा कि पुलिस ने डॉ किरोड़ी को इतना डरा दिया कि वे उनके बंगले से निकलने को तैयार नहीं हुए आखिर खुद विश्वेंद्र सिंह को अपनी गाड़ी में बैठाकर किरोडी लाल को उनके घर छोड़कर आए. पूरे मामले में मंत्री विश्वेंद्र सिंह पुलिस के रवैये से खासे नाराज नज़र आए. 

डॉ किरोड़ी की छवि एक आंदोलनकारी नेता की रही है. जिस तरह वे पुलिस को गच्चा देकर सिविल लाइंस सहित विभिन्न संवेदनशील जगहों पर पहुंचने में कामयाब रहे हैं उसके बाद से उन पर खास नज़र रखी जाती है. लेकिन पुलिस को सूचना के बाद एक मंत्री से मिलने पहुंचे किरोड़ी मीणा को लेकर आज जो अफरातफरी मची वो डॉ किरोड़ी की सियासी पकड़ ओर प्रशासन में भय को दर्शाता है.

और पढ़ें