जब हिंदू-मुसलमान का इनका एजेंडा खत्म हो जाएगा तो दलित-जनरल-ओबीसी में लड़ाई करवाएंगे ये लोग - CM गहलोत

जब हिंदू-मुसलमान का इनका एजेंडा खत्म हो जाएगा तो दलित-जनरल-ओबीसी में लड़ाई करवाएंगे ये लोग - CM गहलोत

जब हिंदू-मुसलमान का इनका एजेंडा खत्म हो जाएगा तो दलित-जनरल-ओबीसी में लड़ाई करवाएंगे ये लोग - CM गहलोत

जयपुर: आज नमक सत्याग्रह की 91वीं सालगिरह है. इस मौके पर जयपुर नागरिक मंच की ओर से जयपुर में प्रतीकात्मक दांडी मार्च आयोजन किया गया. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इस दांडी मार्च को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया. इस दौरान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने केन्द्र सरकार पर जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा कि अभी तो हिंदू-मुसलमान की बात हो रही है, जब हिंदू-मुसलमान का इनका एजेंडा खत्म हो जाएगा....हिंदू में फिर होगा- ये दलित हैं, ये जनरल कास्ट के हैं, ये ओबीसी हैं, उनमें लड़ाई करवाएंगे ये लोग. 

Image

अब आप वास्तव में 56 इंच का सीना दिखाओ:
सीएम गहलोत ने कहा कि सरकार तो सरकार है, यदि एक बार जनता ने आपको चुन लिया है अब आप वास्तव में 56 इंच का सीना दिखाओ, अभी तक तो सिर्फ कहा है, अब करके दिखाओ कि 6-7 साल तो हमने जल्दी-जल्दी में फैसले कर लिए, अब हम चाहेंगे कि सभी जाति, सभी धर्म, सभी वर्गों के लोगों को साथ लेकर के चलें. मैं कहना चाहूंगा, कम से कम मोदी जी को चाहिए कि आरएसएस के मोहन भागवत जी से बात कर लें, घर में सलाह-मशविरा कर लें, अगर देश को एक रखना है, अखंड रखना है, सही रास्ते पर आ जाएं, वरना जनता सही रास्ते पर लेकर आएगी.

Image

किसानों के लिए कोई फैसला करें तो मुझे बहुत खुशी होगी:
उन्होंने कहा कि दांडी मार्च की वर्षगांठ के उपलक्ष्य में नरेंद्र मोदी जी खुद भी साबरमती आश्रम से पदयात्रा रवाना कर रहे हैं, मुझे उम्मीद है आज शाम तक उनके अंतर्मन के अंदर गांधीजी का संदेश उनको झकझोरेगा, हो सकता है शाम तक वो किसानों के लिए कोई फैसला करें तो मुझे बहुत खुशी होगी, देशवासियों को खुशी होगी. 

Image

सरकारें कभी जिद नहीं करती हैं, सरकारों को जिद करनी भी नहीं चाहिए:
मुख्यमंत्री ने कहा कि मैं उम्मीद करता हूं प्रधानमंत्री जी से कि जब आज का दिन आपने चुना है साबरमती से दांडी मार्च का, नाम भले ही दूसरा दे दिया गया होगा, कृपा करके अब, अभी तक आपके 6 साल के शासन में क्या हुआ, क्या नहीं हुआ, उसको भूल जाओ. लेकिन आज किसान बैठा हुआ है 4 महीने से, भरी ठंड में बैठा रहा, 200 से अधिक लोगों की जान चली गयी है, तो ये जो सोच है सरकार की है, उसको बदलना चाहिए. सरकारें कभी जिद नहीं करती हैं, सरकारों को जिद करनी भी नहीं चाहिए. उनको बात सुननी चाहिए, हल निकालना चाहिए.

Image

प्रतीकात्मक दांडी मार्च को रवाना करने के बाद सभा को संबोधित किया:
बता दें कि गहलोत शुक्रवार को दांडी मार्च की 91वीं वर्षगांठ पर बजाज नगर स्थित खादी संस्थान संघ परिसर से प्रतीकात्मक दांडी मार्च को रवाना करने के बाद गांधी सर्किल पर आयोजित सभा को संबोधित किया. मुख्यमंत्री राज्य मंत्रिपरिषद के सदस्यों, विधायकों, गांधीवादी विचारकों, अन्य जनप्रतिनिधियों, अधिकारियों एवं आमजन के साथ बजाज नगर से पैदल चलकर गांधी सर्किल पहुंचे. इस दौरान गांधीजी के प्रिय भजनों के साथ ही उनके जयकारे गूंजते रहे. 

 

और पढ़ें