MP में तस्कर का घर तोड़ने पहुंची पुलिस को पत्नी ने कहा- मैं पति से ले चुकी हूं तलाक, आप मकान नहीं तोड़ सकते

MP में तस्कर का घर तोड़ने पहुंची पुलिस को पत्नी ने कहा- मैं पति से ले चुकी हूं तलाक, आप मकान नहीं तोड़ सकते

MP में तस्कर का घर तोड़ने पहुंची पुलिस को पत्नी ने कहा- मैं पति से ले चुकी हूं तलाक, आप मकान नहीं तोड़ सकते

नीमच: मध्यप्रदेश में मंगलवार को एक अजीबोगरीब वाकया देखने को मिला. दरअसल प्रदेश के एक अफीम तस्कर महावीर के नीच स्थित घर पुलिस कोर्ट के आदेश से उसका मकान तोड़ने मय जाप्ते पहुंची. वहां पर मौजूद तस्कर की पत्नी ने ये कहकर मकान तोड़ने का विरोध किया कि मैं पति से तलाक ले चुकी हुं इसलिए आप मकान नही तोड़ सकते. हालांकि पुलिस अधिकारियों ने उसकी एक नही मानी. विरोध में मकान का ध्वस्त किया गया.

मैने तस्कर महावीर से ले लिया है तलाक: 
एक साल से फरार अफीम तस्कर महावीर उर्फ फतेहलाल नागदा के खिलाफ मंगलवार को पुलिस ने कार्रवाई की है. इस दौरान उनके मकान को तोड़ दिया गया और जब्ती की कार्रवाई की गई है. हालांकि कार्रवाई के दौरान महावीर की पत्नी पुष्पा बाई ने इसका विरोध किया. उन्होंने कहा कि मकान उनके नाम पर है और उन्होंने महावीर से तलाक ले लिया है. आप मकान को नहीं तोड़ सकते.

नगरपालिका टीम बोली हमने भी अवैध निर्माण की कार्रवाई की है:
मकान तोड़ने के लिए जेसीबी की मदद ली गई थी. वहीं मौके पर नगरपालिका की टीम भी मौजूद रही. नगरपालिका की टीम ने कहा कि उनकी टीम ने भी अवैध निर्माण को लेकर कार्रवाई की है. आपकों बता दे कि नीमच केन्ट थाना प्रभारी अजय सारवान ने महावीर के खिलाफ पिछले कुछ साल में अर्जित अवैध संपति के संबंध में 26 फरवरी को मुंबई की सफेमा कोर्ट में रिपोर्ट दी थी.

कोर्ट के आदेशों की पालना में की गई कार्रवाई:
मुंबई की सफेमा कोर्ट ने अफीम तस्करी में शामिल महावीर उर्फ फतेहलाल की 1 करोड़ 30 लाख रुपए की चल-अलच संपति को जब्त करने का आदेश दिया है. जिसके बाद ये कार्रवाई की गई है. प्रदेश में गुंडा और माफिया के खिलाफ जारी विशेष अभियान के तहत नीमच के SP सूरज कुमार वर्मा ने विभाग को ऐसे लोगों को चिन्हित करने का आदेश दिया था। 

कोर्ट ने महावीर को आरोपी मानते हुए दिए थे आदेश:
इसके बाद नीमच केन्ट थाना प्रभारी अजय सारवान ने महावीर के खिलाफ पिछले कुछ साल में अर्जित अवैध संपति के संबंध में 26 फरवरी को मुंबई की सफेमा कोर्ट में रिपोर्ट दी थी. इसके बाद कोर्ट ने सुनवाई करते हुए महावीर की संपति को अवैध मानते हुए कार्रवाई का आदेश दिया था. ऐसे में कोर्ट ने ये भी कहा था कि कार्रवाई में किसी भी प्रकार की लापरवाही अथवा ढ़ीलाई नही बरती जाए.

और पढ़ें