नई दिल्ली: कोशिश करेंगे कि संसद के नये भवन का निर्माण अगले साल 15 अगस्त से पहले हो जाए: बिरला

कोशिश करेंगे कि संसद के नये भवन का निर्माण अगले साल 15 अगस्त से पहले हो जाए: बिरला

कोशिश करेंगे कि संसद के नये भवन का निर्माण अगले साल 15 अगस्त से पहले हो जाए: बिरला

नई दिल्ली: देश की 75वां सालगिरह यानी अगले साल 15 अगस्त (Independence Day) के मौके पर सदन की कार्यवाही नई संसद में हो सकती है. इस आशय की जानकारी लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला (Om Birla) ने बुधवार को दी. मानसून सत्र के दौरान लोकसभा (Loksabha) की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित करने के बाद एक प्रेस वार्ता में बिरला ने अलग-अलग मुद्दों पर सवालों के जवाब दिए. इसी दौरान नई संसद से जुड़े एक सवाल के जवाब में लोकसभा स्पीकर ने कहा कि निश्चित रूप से हमारा लक्ष्य और जल्दी का है. हम कोशिश करेंगे कि 15 अगस्त (2022) के पहले नए भवन का निर्माण हो जाए. जब आजादी के 75 वर्ष हों तो हम यह पर्व नए भवन में मनाएं.

इससे पहले लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि मैं हमेशा सांसदों से सदन की गरिमा बनाए रखने की अपेक्षा करता हूं. सदन में वाद-विवाद, समझौते और असहमति होती रही, लेकिन इसकी गरिमा कभी कम नहीं हुई. मैं सभी सांसदों से आग्रह करता हूं कि सदन को संसदीय परंपराओं के अनुसार चलाया जाए और इसकी गरिमा को बनाए रखा जाए. नारेबाजी और बैनर उठाना हमारी संसदीय परंपरा का हिस्सा नहीं है. उन्हें  अपनी सीटों से बात रखनी चाहिए.

सभी दलों के नेताओं को धन्यवाद- बिरला
लोकसभा अध्यक्ष ने कहा सदन केवल 74 घंटे 46 मिनट तक चला. ओबीसी विधेयक सहित कुल 20 विधेयकों को पारित किया गया, जिसे सभी दलों की सर्वसम्मति से पारित किया गया था. मैं पीएम और सदन में योगदान देने वाले सभी दलों के नेताओं को धन्यवाद देता हूं.

बिरला ने कहा कि इस बार लगातार रुकावट आ रही थी. इसका समाधान नहीं हो सका. जहां तक सदन में काम की बात है, पिछले दो वर्षों से अधिक काम हुआ. कार्यवाही देर रात तक जारी रहती थी और सांसदों ने कोविड के दौरान भी सक्रिय योगदान दिया था.  उन्होंने कहा कि मैं इस बात से आहत हूं कि इस सत्र में सदन की कार्यवाही अपेक्षा के अनुरूप नहीं हुई मैं हमेशा कोशिश करता हूं कि सदन में ज्यादा से ज्यादा कामकाज हो और जनता से जुड़े मुद्दों पर चर्चा हो.

और पढ़ें