औरंगाबाद औरंगाबाद में तीसरे दिव्यांग शिक्षक पति की गिरफ्तारी के लिए महिला ने SP ऑफिस में खाया जहर

औरंगाबाद में तीसरे दिव्यांग शिक्षक पति की गिरफ्तारी के लिए महिला ने SP ऑफिस में खाया जहर

औरंगाबाद में तीसरे दिव्यांग शिक्षक पति की गिरफ्तारी के लिए महिला ने SP ऑफिस में खाया जहर

औरंगाबाद: तीन शादियां करने के बाद  तीसरे पति को जेल की हवा खिलानें के लिए एक महिला ने  SP ऑफिस में जहर खा लिया. हालत बिगड़ने पर उसे तत्काल सदर अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया. मामला महाराष्ट्र के औरंगाबाद का है. जिले से एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसे जानने के बाद यह निर्णय करना मुश्किल हो जाएगा कि यहां गलत कौन है. मामला एक महिला की शादी और ससुरालवालों पर दहेज के लिए प्रताड़ित करने से जुड़ा है. जिसमें ससुरालवालों पर कार्रवाई नहीं होने के कारण बीते शनिवार को महिला ने एसपी कार्यालय परिसर में जहर खाकर जान देने की कोशिश की है.  

तीन शादियां की सभी पर प्रताड़ना का केस दायर:
जानकारी के अनुसार एक महिला ने तीन शादियां की थी. महिला ने तीनों पतियों पर प्रताड़ना का केस दर्ज करवा रखा है. आरोप है कि पतियों से रुपए की वसूली की जा सके. तीसरा पति दिव्यांग शिक्षक है. जिस पर इसी साल फरवरी माह में महिला ने केस दर्ज कराया. महीने भर में कार्रवाई नहीं हुई तो महिला ने शनिवार को SP ऑफिस में जहर खा लिया तत्काल उसे सदर अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया. डॉक्टरों ने उसे बेहतर इलाज के लिए गया रेफर कर दिया. लेकिन वह खतरे से बाहर है.

दिव्यांग शिक्षक को पुलिस ने किया गिरफ्तार:
पुलिस ने तत्काल उसके आरोपी पति शिक्षक को गिरफ्तार कर लिया. गिरफ्तार शिक्षक संतोष कुमार सिंह रफीगंज थाने के कड़सारा गांव का रहने वाला है. वह दिव्यांग है. कद से चार फीट एक इंच है. वह बारूण प्रखंड के गोपालपुर प्राथमिक विद्यालय में शिक्षक है. पुलिस ने गिरफ्तार कर उसे कोर्ट में रिमांड कर दिया. जहां से न्यायिक हिरासत में भेजा गया. महिला पहले पति के साथ 1 सप्ताह, दूसरे के साथ 6 साल और तीसरे के साथ 3 साल रही थी.

महिला का पुलिस पर पक्ष लेने का आरोप:
महिला का आरोप है कि वह एक माह पहले केस किया है. शिक्षक पति, देवर व ससुर को आरोपी बनाया है. लेकिन पुलिस इस मामले में आरोपियों का पक्ष ले रही है. बार-बार SP -DYSP के दफ्तर में चक्कर लगाकर थक गई. लगा अब जीने का कोई मतलब नहीं. इसीलिए यह कदम उठाया. भुखमरी की स्थिति में हूं. न खाने का ठीक न रहने को छत. रिश्तेदार के घर रहकर गुजारा करती हूं. इसके बाद महिला अचेत हो गई. उसके मुंह से अस्पताल में झाग निकल रहा है. सदर अस्पताल के उपाधीक्षक से लेकर हर डॉक्टर उसके इलाज में जुट गए. उसे सदर अस्पताल में दोपहर में भर्ती कराया गया. देर शाम उसे गया रेफर कर दिया.

लाखों के जेवर लेकर फरार हो गई बहू: ससुराल पक्ष 
गिरफ्तार आरोपी शिक्षक के परिजनों ने बताया कि 6 मार्च, 2018 में शादी हुई. शादी के 10 दिन के अंदर ही वह नाटक करने लगी. दबाव में अपने पति को औरंगाबाद लेकर चली गई. फिर मारपीट और धौंस देने लगी. 6 लाख का गहना और पौने दो लाख का कपड़ा लेकर भाग गई. हमलोग भी इज्जत की वजह से चुप हो गए. पुलिस ने इस मामले में जांच की. हम लोगों ने सबूत दिखाए. दबाव बनाने के लिए नाटक कर रही है.

तीनों दूल्हे दिव्यांग ढूंढ़े, सभी पर प्रताड़ना का केस किया
परिजनों ने बताया कि उक्त महिला ने तीन शादी की है. हर दूल्हा वह दिव्यांग ढूंढ़ती थी. ताकि उसके फिजिकल प्रॉब्लम को कारण बनाकर उससे दूरी बनाने का नाटक रच सके. उसने पहली शादी नवीनगर प्रखंड के झलगड़ा निवासी विनोद कुमार से की. उससे महिला ने गजना धाम मंदिर में शादी की थी. उसके साथ एक सप्ताह रही, 50 हजार नकद और उसके घर से पूरा गहना लेकर भाग गई. दूल्हा पर पागल और प्रताड़ना का आरोप लगाया. हालांकि बाद में मामला सुलह हो गया.

बिना तलाक की तीसरी शादी
दूसरी शादी मुफस्सिल थाने के सुजा कर्मा आजाद बिगहा निवासी चंदन कुमार से की. उसके साथ छह साल बिताए. इसी दौरान प्रताड़ना का केस किया. पति चंदन, ससुर, भैसुर व जेठानी काे आरोपी बनाया. अब भी यह मामला कोर्ट में चल रहा है. केस सुलह करने के एवज में उन लोगों से लाखों रुपए ठगी की. परिजनों ने बताया कि बिना तलाक लिए ही हमारे संतोष से शादी कर ली. उसके भाई, भतीजा शादी के रिश्ता लेकर आए. हमलोगों ने दिव्यांग भाई का घर बसाने के लिए शादी कर दी. फिर उसके नाटक में फंस गए. और आजकल महिलाओं के लिए ही सारे कानून बने हुए है. ऐसे में अब भारत देश में ईज्ज्तदार लोगों का जीना दूबर हो गया है.

और पढ़ें