Live News »

महिला दिवस विशेष :राजस्थान हाईकोर्ट को 71 वर्ष में मिली 10 महिला जज

महिला दिवस विशेष :राजस्थान हाईकोर्ट को 71 वर्ष में मिली 10 महिला जज

जयपुर: आज़ादी के बाद से देश को महिला राष्ट्रपति, महिला प्रधानमंत्री और कई महिला मुख्यमंत्री व गवर्नर मिल चुके हैं, पर अभी तक कोई महिला देश की मुख्य न्यायाधीश नहीं बन पाई है. यही हाल राजस्थान हाईकोर्ट के भी रहे हैं. राजस्थान हाईकोर्ट में मुख्य न्यायाधीश बनना तो दूर की बात है यहां पर महिला कोटे से अब तक एक जज की नियुक्ति नहीं हो पायी है. लंबे समय बाद ही सही जस्टिस प्रभा शर्मा की नियुक्ति से प्रदेश की आधी आबादी में थोडी खुशी जरूर हुई. 

 VIDEO: राजस्थान से राज्यसभा कांग्रेस टिकटों पर लेटेस्ट अपडेट! ये नाम फाइनल होने के संकेत 

- देश की पहली महिला जज बनी थी जस्टिस अन्ना चैण्डी
- केरल हाईकोर्ट में 9 फरवरी 1959 को बनी थी जज
- सुप्रीम कोर्ट में पहली महिला जज बनी थी फातिमा बीवी
- 6 अक्टूबर 1989 से 29 अप्रैल 1992 तक रही सुप्रीम कोर्ट में जज
- 29 अगस्त 1949 को हुई थी राजस्थान हाईकोर्ट की स्थापना
- 1978 में राजस्थान हाईकोर्ट में हुई पहली महिला जज की नियुक्ति
- जस्टिस कांता भटनागर न्यायिक कोटे से बनी थी पहली महिला जज
- प्रदेश में अब तक केवल 4 महिला जजो कि हुई है नियुक्ति
- जस्टिस कांता भटनागर जस्टिस मोहिनी कपूर, जस्टिस निशा गुप्ता
- और जस्टिस मीना वी गोम्बर रही है राजस्थान हाईकोर्ट में जज
- जस्टिस प्रभा शर्मा बनी राजस्थान हाईकोर्ट की 5 वी महिला जज
- जस्टिस बेला एम त्रिवेदी, जस्टिस निर्मलजीत कौर, जस्टिस जयश्री ठाकुर, जस्टिस ज्ञानसुधा मिश्रा
- और जस्टिस सबीना तबादले के बाद बनी है राजस्थान हाईकोर्ट में जज

1950 में सुप्रीम कोर्ट के नए रूप में गठन के बाद पहली महिला न्यायाधीश मिलने में चार दशक का वक्त लगा. 6 अक्टूबर 1989 वो ऐतिहासिक दिन रहा जब जस्टिस फातिमा बीवी को सुप्रीम कोर्ट में जज नियुक्त किया गया था. लेकिन सुप्रीम कोर्ट में वकील कोटे से किसी महिला के न्यायाधीश बनने में 68 साल का वक्त लगा. वर्ष 2018 में वकील कोटे से जस्टिस इंदु मल्होत्रा को जज नियुक्त किया गया. राजस्थान हाईकोर्ट को भी पहली महिला जज मिलने में करीब 39 साल का वक्त लगा. जब न्यायिक अधिकारी कोटे से 1978 में जस्टिस कांता भटनागर की जज के रूप में नियुक्ति हुई. लेकिन वकील कोटे से फिलहाल राजस्थान हाईकोर्ट को नियुक्ति का इंतजार है. 

न्यायिक अधिकारी कोटे से जस्टिस प्रभा शर्मा प्रदेश की 5 वीं महिला जज: 
राजस्थान हाईकोर्ट में नवनियुक्त 5 जजों के शपथग्रहण के साथ ही अब कार्यरत जजों की संख्या 27 हो गयी है. न्यायिक अधिकारी कोटे से राजस्थान हाईकोर्ट की जज नियुक्त होने वाली जस्टिस प्रभा शर्मा प्रदेश की 5 वीं महिला जज है. 29 अगस्त 1949 में राजस्थान हाईकोर्ट की स्थापना से लेकर अब तक वर्तमान में कार्यरत 27 जजों सहित कुल 204 जजों की नियुक्ति हुई है. इन 204 जजो में महिला जजो की संख्या मात्र 10 रही है. जिनमें से भी 5 महिला जज पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट और 1-1 गुजरात हाईकोर्ट,झारखंड हाईकार्ट से तबादले के बाद राजस्थान हाईकोर्ट में जज बनी थी. जस्टिस प्रभा शर्मा की नियुक्ति के साथ ही राजस्थान हाईकोर्ट में कार्यरत अब दो महिला जज हो गयी है. जस्टिस सबीना पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट से तबादले के बाद 11 अप्रैल 2016 से राजस्थान हाईकोर्ट में नियुक्त हुई है. 

राजस्थान हाईकोर्ट में ये 10 महिला जज हुई है नियुक्त:
जस्टिस कांता भटनागर— 26 सितंबर 1978 से 14 जून 1992
जस्टिस मोहिनी कपूर — 13 जुलाई 1985 से 17 नवंबर 1995
जस्टिस मीना वी गोंबर—  19 सितंबर 2009 से 30 जुलाई 2013
जस्टिस ज्ञानसुधा मिश्रा—  16 मार्च 1994 से 12 जुलाई 2008
जस्टिस निशा गुप्ता— 28 अप्रैल 2011 से 12 सितंबर 2015
जस्टिस बेला एम त्रिवेदी— 17 फरवरी 2011 से 8 फरवरी 2016
जस्टिस जयश्री ठाकुर— 5 जनवरी 2015 से 5 अक्टूबर 2016
जस्टिस कुमारी निर्मलजीत— 9 जुलाई 2012 से 20 नवंबर 2018
जस्टिस सबीना — 11 अप्रैल 2016 से निरंतर
जस्टिस प्रभा शर्मा — 6 मार्च 2020

राजस्थान हाईकोर्ट की स्थापना के तीन दशक बाद 1978 में पहली महिला जज के रूप में जस्टिस कांता भटनागर की नियुक्ति कि गयी थी. वहीं हाईकोर्ट कि स्थापना के 7 दशक तक मात्र 4 महिला जजों को न्यायिक कोटे से जज नियुक्त किय गया. जस्टिस प्रभा शर्मा राजस्थान हाईकोर्ट की 5 वी महिला जज है. जस्टिस प्रभा शर्मा भी न्यायिक कोटे से जज नियुक्त हुई है. हाईकोर्ट की स्थापना से लेकर अब  तक इस हाईकोर्ट में अधिवक्ता कोटे से किसी महिला जज की नियुक्ति नही हुई है. राजस्थान हाईकोर्ट में पिछले एक दशक से महिला जज कि नियुक्ति की मांग लगातार तेज हुई है. 

मंत्री 15 जिलों में ओलावृष्टि से खराबे की स्थिति का करेंगे आकलन, सीएम गहलोत ने दिए निर्देश 

राष्टपिता महात्मा गांधी ने कहा था जिस बात को हम खुद पर लागू नहीं करते उस पर दूसरो को उपदेश नही दे सकते. न्यायपालिका को हम इस नजरिये से नही तौल सकते लेकिन ये भी एक कड़वा सच है कि न्याय की सर्वोच्च संस्थाओं में अब भी महिलाओं को सम्मान की दरकार है. हमें उम्मीद है कि आने वाले समय में इन संस्थाओं में भी महिलाओं की भागीदारी बढेगी.

और पढ़ें

Most Related Stories

Rajasthan Corona Updates: पिछले 24 घंटे में 13 मौत, रिकॉर्ड 1278 नए केस, जोधपुर में मिले सर्वाधिक 202 पॉजिटिव मरीज 

Rajasthan Corona Updates: पिछले 24 घंटे में 13 मौत, रिकॉर्ड 1278 नए केस, जोधपुर में मिले सर्वाधिक 202 पॉजिटिव मरीज 

जयपुर: राजस्थान में कोरोना वायरस के मरीजों का ग्राफ लगातार बढ़ता जा रहा है. पिछले 24 घंटे में 13 मरीजों की मौत हो गई. जबकि रिकॉर्ड 1278 नए पॉजिटिव केस सामने आये है. अजमेर में एक, भरतपुर में तीन, बीकानेर में 2, पाली में 1, जयपुर में 3,जैसलमेर में 2 और राजसमंद में 1 मरीज की मौत हो गई. जोधपुर में सर्वाधिक 202 कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले. अजमेर 119, अलवर 150, बांसवाड़ा 29, बारां 6, बाड़मेर 15, भरतपुर 22, बीकानेर 126, बूंदी 22, चित्तौड़गढ़ 28, दौसा 27, डूंगरपुर 29, श्रीगंगानगर 13, जयपुर 166, झुंझुनूं 14, जोधपुर 202, करौली 7, कोटा 61, नागौर 64, पाली 30, प्रतापगढ़ 10, सवाईमाधोपुर 4, सीकर 89, टोंक 19, उदयपुर में 43 पॉजिटिव मिले. 
प्रदेश में मौत का आंकड़ा 846 पहुंच गया. कुल पॉजिटिव मरीजों की संख्या 58 हजार 692 पहुंच गई.

अमित शाह की कोरोना रिपोर्ट आई नेगेटिव, ट्वीट करके कहा-कुछ दिन घर पर होम क्वारंटीन रहूंगा

पॉजिटिव से नेगेटिव हुए कुल 43 हजार 897 मरीज:
प्रदेश में कोरोना के इलाज के बाद कुल 43 हजार 897 मरीज पॉजिटिव से नेगेटिव हुए है. वहीं इलाज के बाद अस्पताल से कुल 41 हजार 963 मरीज डिस्चार्ज किए गए. अस्पताल में कुल 13 हजार 949 एक्टिव मरीज उपचाररत है. कुल कोरोना पॉजिटिव प्रवासियों की संख्या 8 हजार 888 पहुंच गई है.

जयपुर में बढ़ता कोरोना का खौफ: 
जयपुर में कोरोना वायरस का खौफ बढ़ता जा रहा है. पिछले 24 घंटे में 3 मरीजों की मौत हो गई. जबकि रिकॉर्ड 166 नए पॉजिटिव केस सामने आये है. आदर्श नगर- 4, अजमेर रोड- 2, अंबाबाड़ी- 2, आमेर- 1, बगरू- 1 पॉजिटिव, बनीपार्क- 2, ब्रह्मपुरी- 5, सेंट्रल जेल घाटगेट- 5, चांदपोल- 2 पॉजिटिव, सी-स्कीम- 1, स्वास्थ्य निदेशालय- 1, दूदू- 1, दुर्गापुरा- 2, ईदगाह- 6 पॉजिटिव, गलता गेट- 1, गांधी नगर- 4, गंगापोल- 1, गोपालपुरा- 2, गोविंदगढ़- 4 पॉजिटिव, हरमाड़ा- 4, हसनपुरा- 1, हाईकोर्ट -5, जगतपुरा- 8, जमवारामगढ़- 2 पॉजिटिव, जवाहर नगर- 5, झोटवाड़ा- 8, जौहरी बाजार- 2, ज्योति नगर- 2 पॉजिटिव, कोटपूतली- 4, लूणियावास- 1, मालवीय नगर- 8, मानसरोवर- 9 पॉजिटिव, प्रवासी- 1, मुरलीपुरा- 4, फागी- 2, रामगंज- 3, रेनवाल- 2, सांगानेर- 7 पॉजिटिव, सेठी कॉलोनी- 1, सीकर रोड- 2, सिरसी- 2, सीतापुरा- 1, SMS- 2 पॉजिटिव, सोडाला- 6, सुभाष चौक- 3, तिलक नगर- 3, टोंक फाटक- 1 पॉजिटिव, टोंक रोड- 5, ट्रांसपोर्ट नगर- 2, वैशाली नगर- 2, विद्याधर नगर- 8 पॉजिटिव मरीज मिले है. जयपुर में अब तक 226 मरीजों की मौत हो गई. जबकि 7 हजार 144 पॉजिटिव मिले है.

देश के नाम राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का संबो​धन,कहा-गलवान घाटी के वीरों पर देश को गर्व

राजस्थान: गहलोत सरकार ने हासिल किया विधानसभा में विश्वास मत, 21 अगस्त तक सदन की कार्यवाही स्थगित

राजस्थान: गहलोत सरकार ने हासिल किया विधानसभा में विश्वास मत, 21 अगस्त तक सदन की कार्यवाही स्थगित

जयपुर: पिछले एक माह से राजस्थान में सियासी संकट जारी था. इस बीच शुक्रवार को 15वीं राजस्थान विधानसभा का पांचवां सत्र शुरू हुआ. जिसमें गहलोत सरकार ने विधानसभा में विश्वास मत हासिल किया. ध्वनि मत से सदन में विश्वास मत पारित हुआ. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सदन में विश्वास मत जीता. अब 21 अगस्त तक सदन की कार्यवाही स्थगित की गई. विश्वास मत हासिल करने पर सचिन पायलट ने मुख्यमंत्री गहलोत को बधाई दी. 

सीएम गहलोत बीजेपी पर जमकर बरसे:
इससे पहले मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सरकार के विश्वास मत पर सदन में संबो​धन दिया. इस दौरान सीएम गहलोत बीजेपी पर जमकर बरसे. सीएम गहलोत ने कहा कि आप में से कई लोग नहीं चाहते कि सरकार गिराई जाए. BJP के नेता छिपकर रात को दिल्ली गए. छिपकर तभी काम करते हैं जब षड्यंत्र होता है. बीजेपी के कुछ नेता मुख्यमंत्री बनने के ख्वाब देखने लगे. सीएम गहलोत ने कहा कि राजस्थान सरकार किसी कीमत पर नहीं गिरने दूंगा. आप कौन होते हो हमारी पार्टी के बारे में बोलने वाले?

15वीं राजस्थान विधानसभा का पंचम सत्र, शांति धारीवाल बोले, प्रदेश नहीं देश की जनता के लिए ऐतिहासिक क्षण

आज नेता प्रतिपक्ष का नया रूप देखने को मिला:
सीएम गहलोत ने सदन में नेता प्रतिप​क्ष गुलाबचंद कटारिया के वक्तव्य पर पलटवार करते हुए कहा कि आज नेता प्रतिपक्ष का नया रूप देखने को मिला है. मैं उनके सभी आरोपों को अस्वीकार करता हूं. कोरोना प्रबंधन में तो पीएम और दुनिया ने तारीफ की. लेकिन आप ने उसकी भी तारीफ नहीं की. हमारी पार्टी में खूबसूरती के साथ एपिसोड का समापन हुआ. इसका धक्का अमित शाह को लगा है. इस षड्यंत्र में केंद्र के नेता शामिल थे.विधायकों की कोई फोन टेपिंग नहीं हुई. षड्यंत्र BJP और BJP आलाकमान का था.बीजेपी ने पूरे देश मे नंगा नाच किया. देश में डेमोक्रेसी खतरे में है.

वसुंधरा जी को उनके सलाहकारों ने किया गुमराह:
मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि वसुंधरा जी को उनके सलाहकारों ने गुमराह किया. कोरोना को लेकर मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि हम जीवन व आजीविका बचाने का काम कर रहे हैं. और लोग सरकार गिराने में लगे हुए है. 14 विधायक तोड़ने के बावजूद अहमद पटेल को नहीं हरा सके. विधायकों के पास जनता का फोन आता है कि सरकार गिरनी नहीं चाहिए. राज्यपाल के पद की गरिमा होती है. सीएम गहलोत ने कहा कि राज्यपाल के पत्र का मैंने जवाब दे दिया था, लेकिन मैं उसका उल्लेख सदन में नहीं करना चाहता.

चुनी हुई सरकारों को गिराने का करते है काम: 
मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि देश में 2 लोग राज कर रहे हैं. लेकिन राजस्थान में कुछ नहीं कर पाए. चुनी हुई सरकारों को गिराने का काम करते है. 100 चूहे खाकर बिल्ली  हज को निकली. 50 साल से मैं राजनीति कर रहा हूं,तीसरी बार मैं मुख्यमंत्री बना हूं.कैलाश मेघवाल के बयान की सब जगह तारीफ हुई. भैरोसिंह की सरकार गिराने का प्रयास हुआ,तब मैं उसके खिलाफ था.

15वीं राजस्थान विधानसभा का पांचवां सत्र, सरकार के विश्वास प्रस्ताव पर बहस, गुलाबचंद कटारिया के वक्तव्य पर हुआ हंगामा

सदन में विपक्ष पर जमकर बरसे सीएम गहलोत, कहा-राजस्थान में किसी कीमत पर नहीं गिरने दूंगा सरकार 

सदन में विपक्ष पर जमकर बरसे सीएम गहलोत, कहा-राजस्थान में किसी कीमत पर नहीं गिरने दूंगा सरकार 

जयपुर: 15वीं राजस्थान विधानसभा के पांचावे सत्र में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सरकार के विश्वास मत पर सदन में संबो​धन दिया. इस दौरान सीएम गहलोत बीजेपी पर जमकर बरसे. सीएम गहलोत ने कहा कि आप में से कई लोग नहीं चाहते कि सरकार गिराई जाए. BJP के नेता छिपकर रात को दिल्ली गए. छिपकर तभी काम करते हैं जब षड्यंत्र होता है. बीजेपी के कुछ नेता मुख्यमंत्री बनने के ख्वाब देखने लगे. सीएम गहलोत ने कहा कि  राजस्थान सरकार किसी कीमत पर नहीं गिरने दूंगा. आप कौन होते हो हमारी पार्टी के बारे में बोलने वाले?

आज नेता प्रतिपक्ष का नया रूप देखने को मिला:
सीएम गहलोत ने सदन में नेता प्रतिप​क्ष गुलाबचंद कटारिया के वक्तव्य पर पलटवार करते हुए कहा कि आज नेता प्रतिपक्ष का नया रूप देखने को मिला है. मैं उनके सभी आरोपों को अस्वीकार करता हूं. कोरोना प्रबंधन में तो पीएम और दुनिया ने तारीफ की. लेकिन आप ने उसकी भी तारीफ नहीं की. हमारी पार्टी में खूबसूरती के साथ एपिसोड का समापन हुआ. इसका धक्का अमित शाह को लगा है. इस षड्यंत्र में केंद्र के नेता शामिल थे.विधायकों की कोई फोन टेपिंग नहीं हुई. षड्यंत्र BJP और BJP आलाकमान का था.बीजेपी ने पूरे देश मे नंगा नाच किया. देश में डेमोक्रेसी खतरे में है.

15वीं राजस्थान विधानसभा का पंचम सत्र, शांति धारीवाल बोले, प्रदेश नहीं देश की जनता के लिए ऐतिहासिक क्षण

वसुंधरा जी को उनके सलाहकारों ने किया गुमराह:
मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि वसुंधरा जी को उनके सलाहकारों ने गुमराह किया. कोरोना को लेकर मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि हम जीवन व आजीविका बचाने का काम कर रहे हैं. और लोग सरकार गिराने में लगे हुए है. 14 विधायक तोड़ने के बावजूद अहमद पटेल को नहीं हरा सके. विधायकों के पास जनता का फोन आता है कि सरकार गिरनी नहीं चाहिए. राज्यपाल के पद की गरिमा होती है. सीएम गहलोत ने कहा कि राज्यपाल के पत्र का मैंने जवाब दे दिया था, लेकिन मैं उसका उल्लेख सदन में नहीं करना चाहता.

चुनी हुई सरकारों को गिराने का करते है काम: 
मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि देश में 2 लोग राज कर रहे हैं. लेकिन राजस्थान में कुछ नहीं कर पाए. चुनी हुई सरकारों को गिराने का काम करते है. 100 चूहे खाकर बिल्ली  हज को निकली. 50 साल से मैं राजनीति कर रहा हूं,तीसरी बार मैं मुख्यमंत्री बना हूं.कैलाश मेघवाल के बयान की सब जगह तारीफ हुई. भैरोसिंह की सरकार गिराने का प्रयास हुआ,तब मैं उसके खिलाफ था.

15वीं राजस्थान विधानसभा का पांचवां सत्र, सरकार के विश्वास प्रस्ताव पर बहस, गुलाबचंद कटारिया के वक्तव्य पर हुआ हंगामा

Rajasthan Assembly Session: सरकार विश्वास प्रस्ताव लाएगी तो भाजपा की अविश्वास प्रस्ताव की तैयारी

Rajasthan Assembly Session: सरकार विश्वास प्रस्ताव लाएगी तो भाजपा की अविश्वास प्रस्ताव की तैयारी

जयपुर: राजस्थान में सियासी घमासान थमने के बाद 15वीं विधानसभा का 5वां सत्र आज 11 बजे से शुरू होने जा रहा है. इसमें गहलोत सरकार विश्वास प्रस्ताव तो वहीं भाजपा अविश्वास प्रस्ताव लाने की तैयारी में है. इस बीच बसपा ने बसपा ने भी अपने 6 विधायकों को व्हिप जारी कर अविश्वास प्रस्ताव की स्थिति में कांग्रेस के खिलाफ वोट करने को कहा है. 

विधायकों की बैठक में अविश्वास प्रस्ताव लाने का फैसला किया:
इससे पहले गुरुवार को भाजपा के शीर्ष नेताओं के साथ हुई विधायकों की बैठक में अविश्वास प्रस्ताव लाने का फैसला किया गया था. बैठक में पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ नेता वसुंधरा राजे भी शामिल हुई थीं. पार्टी सूत्रों की माने तो अविश्वास प्रस्ताव लाने के फैसले का संख्याबल से कोई लेना देना नहीं है. बीजेपी जानती है कि सीएम गहलोत के पास बहुमत है और उनकी योजना विश्वास मत कायम करने की है जिससे उन्हें छह महीने के लिए राहत मिल जाएगी. ऐसे में बीजेपी ने अविश्वास प्रस्ताव की बात कहकर गहलोत की योजना को विफल करने का प्रयास किया है. 

सदन में बैठक व्यवस्था भी बदलेगी:
वहीं सदन में बैठक व्यवस्था भी बदलेगी. डिप्टी सीएम के पद से हटाए जाने के बाद सचिन पायलट अब अशोक गहलोत के बगल वाली सीट पर नहीं बैठेंगे. बताया जा रहा है कि पायलट को निर्दलीय विधायक संयम लोढ़ा के बगल वाली सीट अलॉट की गई है. सचिन पायलट के साथ ही दो मंत्रियों विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा को बर्खास्त किया गया था. इस वजह से विश्वेंद्र सिंह सबसे आखिरी पंक्ति में 14वें नंबर सीट पर बैठेंगे, जबकि रमेश मीणा को दूसरे रूम में पांचवी पंक्ति के 54 नंबर सीट दी गई है.

कांग्रेस विधायक दल की बैठक में मुख्यमंत्री गहलोत का बड़ा बयान, कहा-हम खुद विश्वास प्रस्ताव लाएंगे

 कांग्रेस विधायक दल की बैठक में मुख्यमंत्री गहलोत का बड़ा बयान, कहा-हम खुद विश्वास प्रस्ताव लाएंगे

जयपुर: कांग्रेस विधायक दल की बैठक में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बड़ा बयान दिया है. सीएम गहलोत ने कहा कि सदन में हम खुद विश्वास प्रस्ताव लाएंगे. हम 19 विधायकों के बिना भी बहुमत साबित कर देते, लेकिन अभी जो खुशी है वो नहीं होती. क्योंकि अपने तो अपने होते हैं, जो हुआ उसे भूल जाएं. किसी भी विधायक की शिकायत को दूर करेंगे. अभी चाहो तो अभी बाद में चाहो तो बाद में मिल लें. बैठक में सभी ने एक साथ हाथ खड़े कर एकजुटता दिखाई. कांग्रेस विधायक दल की बैठक में तमाम विधायक मौजूद रहे. यह बैठक सीएमआर में हुई. जहां पर सभी कांग्रेस के विधायक एक जुट दिखाई दिए. इससे पहले पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने सीएमआर में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मुलाकात की. विवाद खत्म होने के बाद सीएम गहलोत और पायलट ने एक दूसरे से हाथ मिलाया. 

एंटीजन टेस्ट पर पुनर्विचार करें केन्द्र सरकार, चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा के निर्देश पर केन्द्र को लिखा गया पत्र

आखिर सामने आ गयी एक सुखद तस्वीर:
राजस्थान सियासी संकट के बाद आखिर एक सुखद तस्वीर सामने आ गई. कांग्रेस विधायक दल की बैठक में गहलोत और पायलट दोनों बैठक में मौजूद रहे. बैठक में केसी वेणुगोपाल, अविनाश पांडे, सुरजेवाला, अजय माकन भी मौजूद रहे. बैठक में गहलोत-पायलट समेत सभी ने विक्ट्री का साइन दिखाया. बैठक में गोविंद सिंह डोटासरा ने अपने संबो​धन में कहा कि अंग्रेजों की फूट डालो राज करो की तर्ज पर भाजपा ने षड़यंत्र किया, लेकिन भाजपा अपने षड़यंत्र में कामयाब नहीं हुई. बैठक में विवेक बंसल, काजी निजामुद्दीन ,देवेन्द्र यादव और तरुण कुमार समेत तमाम मं​त्री और विधायक गण मौजूद रहे.

भंवरलाल शर्मा और विश्वेंद्र सिंह का निलंबन खत्म:
आपको बता दें कि राजस्थान में शुक्रवार से विधानसभा का सत्र शुरू हो रहा है. इससे पहले आज कांग्रेस के भंवरलाल शर्मा और विश्वेंद्र सिंह का निलंबन खत्म किया गया है. कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी अनिवाश पांडे ने इसकी घोषणा की है. इसके बाद अब इन दोनों विधायकों को भी CMR की बैठक में बुलाया है. 

गहलोत सरकार को गिराने का लगा था आरोप:
बता दें कि इससे पहले कांग्रेस ने बड़ी कार्रवाई करते हुए विधायक भंवरलाल शर्मा और विश्वेंद्र सिंह को पार्टी से निलंबित कर दिया था. इन दोनों विधायकों पर बीजेपी से सांठगांठ करके गहलोत सरकार गिराने का आरोप लगा था. इसके कुछ ऑडियो भी सामने आए थे. इस बारे में कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कांग्रेस नेता भंवरलाल शर्मा और बीजेपी नेता संजय जैन की बातचीत के बारे में बताया था. 

कोरोना को देखते हुए गहलोत सरकार का बड़ा फैसला, अब मोबाइल ओपीडी वैन के जरिए मिलेंगी निशुल्क दवा

कोरोना को देखते हुए गहलोत सरकार का बड़ा फैसला, अब मोबाइल ओपीडी वैन के जरिए मिलेंगी निशुल्क दवा

कोरोना को देखते हुए गहलोत सरकार का बड़ा फैसला, अब मोबाइल ओपीडी वैन के जरिए मिलेंगी निशुल्क दवा

जयपुर: प्रदेश में कोरोना महामारी में आमजन की दिक्कतों को देखते हुए गहलोत सरकार ने एकओर बड़ा फैसला किया है.इसके तहत प्रदेश में चल रही मोबाइल ओपीडी वैनों के जरिए आमजन को न मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना के तहत दी जाने वाली दवाओं का वितरण किया जाएगा बल्कि जरूरी जांचों की सुविधा भी इन वैनों में उपलब्ध कराई जाएगी. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत न सिर्फ कोरोना की रोकथाम को लेकर गंभीर है, बल्कि इस दरमियान आमजन को हो रही दिक्कतों का भी हर संभव समाधान कर रहे है.चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने बताया कि वर्तमान में ज्यादातर अस्पतालों को कोविड फ्री कर दिया गया है.फिर भी सरकार ने प्रदेश भर में चलाई जा रही मोबाइल ओपीडी वैन के जरिए आमजन को और अधिक राहत देने के लिए निशुल्क दवा और जांच योजना की सुविधा उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं.

वर्तमान में कोरोना से होने वाली मृत्युदर 1.4:
उन्होंने बताया कि कोरोना के अलावा बीमारियों के उपचार के लिए प्रदेश में चल रही मोबाइल ओपीडी वैन के जरिए हजारों लोग प्रतिदिन चिकित्सा सुविधाओं का लाभ ले रहे हैं.कोरोना रोकथाम को लेकर डॉ. शर्मा ने बताया कि प्रदेश में जीवनरक्षक इंजेक्शन की खरीद आरएमएससीएल के द्वारा कर ली गई है.सभी जिला अस्पतालों में ये इंजेक्शन उपलब्ध करवाए जा रहे हैं.उन्होंने बताया कि प्रदेश में वर्तमान में कोरोना से होने वाली मृत्युदर 1.4 रह गई है.इस दर को शून्य पर लाने के प्रयास किए जा रहे हैं. चिकित्सा मंत्री ने बताया कि कोरोना में प्लाज्मा थेरेपी अहम पद्धति साबित हुई है.जिन लोगों को थेरेपी दी गई थी, वे अब पूरी तरह स्वस्थ होकर घर जा चुके हैं.

विवाद खत्म होने के बाद सचिन पायलट ने की मुख्यमंत्री गहलोत से मुलाकात, आज होगी कांग्रेस विधायक दल की बैठक

लोगों में प्लाज्मा दान के प्रति अब जागरूकता:
उन्होंने बताया कि लोगों में प्लाज्मा दान के प्रति अब जागरूकता आने लगी है.जो लोग कोरोना पॉजिटिव से नेगेटिव हुए हैं, वे आगे आकर अपना प्लाज्मा दान कर रहे हैं.पिछले दिनों झुंझनूं में 48 लोगों ने प्लाज्मा दान किया है.जोधपुर के कलेक्टर ने पॉजिटिव से नेगेटिव होने के बाद प्लाज्मा दान कर लोगों की प्रेरणा बने हैं.जोधपुर में प्लाज्मा कैंप लग रहा है, पाली व अन्य जिलों में व्यापक स्तर पर कैंप आयोजित कर लोगों को प्लाज्मा दान के लिए प्रेरित किया जा रहा है.उन्होंने कोरोना डिफिटर्स से अपील करते हुए कहा कि प्लाज्मा दान देने से कोई परेशानी, कोई कमजोरी नहीं आती लेकिन इस कोशिश से किसी की जिंदगी जरूर बच सकती है.

पॉजिटिव केसेज के मामलों में बढ़ोतरी:
डॉ. शर्मा ने बताया कि पिछले कुछ दिनों से प्रदेश में पॉजिटिव केसेज के मामलों में बढ़ोतरी हुई लेकिन बढ़ती संख्या के पीछे ज्यादा जांचें होना भी है.प्रदेश में 32 हजार से ज्यादा जांचें प्रतिदिन की जा रही हैं.उन्होंने कहा कि ज्यादा लोग असिंप्टोमेटिक हैं, ऐसे में जितनी ज्यादा जांचें होंगी उतनी ही जल्द हम कोरोना के प्रसार को थाम सकेंगे.उन्होंने कहा कि सरकार का लक्ष्य बेहतर रिकवरी और कोरोना से होने वाली मृत्युदर को कम करना है.इसके लिए विभाग और सरकार द्वारा कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी जा रही है.राज्य में 73-74 फीसद मरीज बेहतर उपचार के बाद ठीक हो रहे हैं, वहीं कोरोना से होने वाली मृत्युदर 1.4 फीसद हो गई है. चिकित्सा मंत्री ने बताया कि क्वारंटीन सुविधाओं के क्रियान्वयन को बेहतर करने के लिए कमेटियों का गठन किया गया था. अब इन कमेटियों को फिर से प्रभावी बनाकर गांव-गांव तक क्वारंटीन व्यवस्था को मजबूती दी जाएगी.उन्होंने बताया कि सभी चिकित्सा अधिकारी, सरपंच, जन प्रतिनिधि व अन्य अधिकारियों को होम क्वारंटीन सुविधाओं को मजबूत बनाने के लिए निर्देश दिए जाएंगे.

एंटीजन टेस्ट पर पुनर्विचार करें केन्द्र सरकार, चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा के निर्देश पर केन्द्र को लिखा गया पत्र

भंवरलाल शर्मा और विश्वेंद्र सिंह का निलंबन खत्म, अनिवाश पांडे ने की घोषणा

भंवरलाल शर्मा और विश्वेंद्र सिंह का निलंबन खत्म, अनिवाश पांडे ने की घोषणा

जयपुर: राजस्थान में शुक्रवार से विधानसभा का सत्र शुरू हो रहा है. इससे पहले आज कांग्रेस के भंवरलाल शर्मा और विश्वेंद्र सिंह का निलंबन खत्म किया गया है. कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी अनिवाश पांडे ने इसकी घोषणा की है. इसके बाद अब इन दोनों विधायकों को भी CMR की बैठक में बुलाया है. 

बता दें कि इससे पहले कांग्रेस ने बड़ी कार्रवाई करते हुए विधायक भंवरलाल शर्मा और विश्वेंद्र सिंह को पार्टी से निलंबित कर दिया था. इन दोनों विधायकों पर बीजेपी से सांठगांठ करके गहलोत सरकार गिराने का आरोप लगा था. इसके कुछ ऑडियो भी सामने आए थे. इस बारे में कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कांग्रेस नेता भंवरलाल शर्मा और बीजेपी नेता संजय जैन की बातचीत के बारे में बताया था. ह

पुलिस ने किया महिला के ब्लाइंड मर्डर का खुलासा, तीन आरोपी गिरफ्तार

पुलिस ने किया महिला के ब्लाइंड मर्डर का खुलासा, तीन आरोपी गिरफ्तार

बीकानेर: जिले के जय नारायण व्यास कॉलोनी थाना क्षेत्र में हुए महिला के ब्लाइंड मर्डर का पुलिस ने आज खुलासा कर दिया. जय नारायण व्यास कॉलोनी थाना पुलिस ने ब्लाइंड मर्डर का खुलासा करते हुए तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है. एसपी प्रह्लाद सिंह कृष्णिया ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पूरे मामले का खुलासा किया. सीओ सदर पवन कुमार भदौरिया, JNVC थानाधिकारी गोविंद सिंह चारण भी दौरान मौजूद रहे. 

बसपा विधायकों को बड़ी राहत, सुप्रीम कोर्ट ने स्पीकर के आदेश पर रोक लगाने से किया इनकार 

नाजायज मांग करने के चलते आरोपियों द्वारा महिला की हत्या:  
ब्लाइंड मर्डर का खुलासा करते हुए एसपी प्रह्लाद सिंह कृष्णिया ने बताया कि महिला द्वारा तीन लाख रुपये और मकान की नाजायज मांग करने के चलते आरोपियों द्वारा महिला की हत्या कर दी गई और उसके बाद शव को जलाकर जोधपुर बाईपास पर गणेश विहार में एक जर्जर मकान में फेंक दिया गया. उन्होंने बताया कि मृतक महिला परमेश्वरी ने अपनी जाति छुपाकर बीकानेर के गंगाशहर निवासी लालचंद उपाध्याय के साथ प्रेम विवाह किया था. कुछ दिनों बाद महिला की जाति का पता चलने पर लालचंद व उसके मध्य विवाद होने लगे. उसके बाद महिला के प्रेमी लालचंद के दोस्त पूनमचंद के साथ भी नाजायज संबंध बन गए. मृतक महिला शराब पीने की भी आदि थी. 

भूलो और माफ करो और आगे बढ़ो की भावना के साथ डेमोक्रेसी को बचाने की लड़ाई में लगना है- सीएम गहलोत 

बलात्कार का मुकदमा दर्ज करवाने की धमकी भी दी: 
उन्होंने बताया कि महिला परमेश्वरी ने लालचंद और पूनमचंद से तीन लाख रुपये और मकान देने की मांग की ओर नही देने पर बलात्कार का मुकदमा दर्ज करवाने की धमकी भी दी. जिस पर लालचंद और पूनम चंद ने अपने दोस्त पंकज के साथ मिलकर परमेश्वरी को मारने की योजना बनाई और उसे शराब पिलाकर रस्सी से गला घोट दिया. उसके बाद उसका शव जला कर खंडहर नुमा मकान में फेंक दिया. एसपी ने बताया कि गिरफ्तार आरोपियों से हत्या के अन्य तथ्यों के बारे में भी पूछताछ कर रहे हैं. गैरतलब है कि दो दिन पूर्व महिला का अधजला शव मिला था. 

...संजय पारीक फ़र्स्ट इंडिया न्यूज बीकानेर

Open Covid-19