टेरेसा Women's Hockey WC: प्रबल दावेदार के रूप में शुरुआत करेगा नीदरलैंड, भारत की नजरें पहले खिताब पर

Women's Hockey WC: प्रबल दावेदार के रूप में शुरुआत करेगा नीदरलैंड, भारत की नजरें पहले खिताब पर

Women's Hockey WC: प्रबल दावेदार के रूप में शुरुआत करेगा नीदरलैंड, भारत की नजरें पहले खिताब पर

टेरेसा: विश्व हॉकी की शीर्ष 16 महिला टीम प्रतिष्ठित एफआईएच विश्व कप खिताब के लिए शुक्रवार से चुनौती पेश करेंगी जिसमें आठ बार के विजेता नीदरलैंड की नजरें खिताबी हैट्रिक पर टिकी होंगी जबकि भारत पहली बार खिताब जीतने के इरादे से उतरेगा.

स्पेन के साथ एक से 17 जुलाई तक होने वाले टूर्नामेंट की सह मेजबानी करने वाला गत चैंपियन नीदरलैंड महिला हॉकी में सबसे अधिक दबदबा बनाने वाली टीम है और उसने आठ बार खिताब जीता है जबकि चार बार उप विजेता रहा. नीदरलैंड की महिला टीम ने चार बार ओलंपिक स्वर्ण, दो बार रजत और तीन बार कांस्य पदक भी जीता और इस बार भी अपने विश्व खिताब की रक्षा करने की प्रबल दावेदार है.

कनाडा के बीच पूल सी मुकाबले के साथ होगी:
अर्जेन्टीना, आस्ट्रेलिया और जर्मनी की टीम ने दो-दो बार विश्व कप जीता है. टूर्नामेंट की शुरुआत मेजबान स्पेन और कनाडा के बीच पूल सी मुकाबले के साथ होगी. स्पेन का टूर्नामेंट में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कुआलालंपुर में 1983 में रजत पदक जीतना है. टूर्नामेंट में 16 टीम को चार-चार टीम के चार पूल में बांटा गया है. प्रत्येक पूल की शीर्ष टीम सीधे क्वार्टर फाइनल में जगह बनाएंगी जबकि दूसरे और तीसरे स्थान पर रहने वाली टीम के बीच क्रॉस ओवर होगा.

दूसरे स्थान पर रहने वाली टीम से खेलेगी:
क्रॉसओवर में पूल ए में दूसरे स्थान पर रहने वाली टीम पूल डी में तीसरे स्थान पर रहने वाली टीम से भिड़ेगी जबकि पूल ए में तीसरे स्थान पर रहने वाली टीम की भिड़ंत पूल डी में दूसरे स्थान पर रहने वाली टीम से होगी. इसी तरह पूल बी में दूसरे स्थान पर रहने वाली टीम का सामना पूल सी में तीसरे स्थान पर रहने वाली टीम से होगा जबकि पूल बी में तीसरे स्थान पर रहने वाली टीम पूल सी में दूसरे स्थान पर रहने वाली टीम से खेलेगी.

टीम पदार्पण करते हुए तीसरे स्थान पर रही:
पूल ए में जर्मनी, चिली, पिछले टूर्नामेंट के उप विजेता आयरलैंड और नीदरलैंड को जगह मिली है जबकि पूल बी में भारत, चीन, इंग्लैंड और न्यूजीलैंड शामिल हैं. पूल सी में अर्जेन्टीना, कनाडा, कोरिया और स्पेन को शामिल किया गया है जबकि पूल डी में आस्ट्रेलिया, बेल्जियम, जापान और दक्षिण अफ्रीका चुनौती पेश करेंगे.
एफआईएच प्रो लीग का खिताब जीतने के बाद नीदरलैंड की टीम टूर्नामेंट में बढ़े हुए आत्मविश्वास के साथ उतरेगी. इस टूर्नामेंट में बेल्जियम की टीम दूसरे जबकि भारत की टीम पदार्पण करते हुए तीसरे स्थान पर रही.

भारतीय टीम की दावेदारी भी मजबूत होगी:
टूर्नामेंट में भारत का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 1974 में पहले टूर्नामेंट में चौथे स्थान पर रहना रहा. पिछले साल तोक्यो ओलंपिक में एतिहासिक चौथा स्थान हासिल करने के बाद भारतीय टीम की दावेदारी भी मजबूत होगी. भारतीय महिला टीम ने इस साल मई में विश्व रैंकिंग में करियर का सर्वश्रेष्ठ छठा स्थान हासिल किया और एफआईएच प्रो लीग में शीर्ष टीमों को अच्छी चुनौती देते हुए अर्जेन्टीना, आस्ट्रेलिया और इंग्लैंड जैसी टीमों को पछाड़कर पोडियम पर जगह बनाई.

रिकॉर्ड बुक में दर्ज कराने का सपना देख रही: 
यानेक शॉपमैन के मार्गदर्शन में खेलने वाली भारतीय टीम इस टूर्नामेंट में शीर्ष चार में जगह बनाकर अपना नाम रिकॉर्ड बुक में दर्ज कराने का सपना देख रही है जो निश्चित तौर पर असंभव नहीं है. भारत अपने अभियान की शुरुआत रविवार को इंग्लैंड के खिलाफ करेगा. टूर्नामेंट का नीदरलैंड चरण एम्सटेलवीन में खेला जाएगा जबकि सेमीफाइनल और फाइनल यहां होंगे. सोर्स-भाषा 

और पढ़ें