World Tourism Day: आज राजस्थान में स्मारकों और संग्रहालयों में पर्यटकों का प्रवेश रहेगा नि:शुल्क, वि​भिन्न कार्यक्रम होंगे आयोजित

World Tourism Day: आज राजस्थान में स्मारकों और संग्रहालयों में पर्यटकों का प्रवेश रहेगा नि:शुल्क, वि​भिन्न कार्यक्रम होंगे आयोजित

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत आज विश्व पर्यटन दिवस के मौके पर पर्यटन विभाग की विभिन्न नीतियों और योजनाओं का लोकार्पण करेंगे. आज विश्व विरासत में शुमार आमेर, जंतर मंतर, हवा महल, अल्बर्ट हॉल और नाहरगढ़ पर भी विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा. पर्यटन विभाग, आमेर के गाइड, हाथी महावत और पुरातत्व विभाग की ओर से आमेर में हेरिटेज वॉक का भी आयोजन किया जाएगा.इसके अलावा लोक नृत्य व संगीत के कार्यक्रम होंगे.स्वच्छता अभियान चलाया जाएगा और पर्यटन विभाग की ओर से स्मारकों पर रंगीन मास्क भी वितरित किए जाएंगे. 

आज सुबह 8 बजे से ही विभिन्न आयोजन होंगे.इसके बाद शाम 4 बजे मुख्यमंत्री निवास पर विश्व पर्यटन दिवस के मौके पर वर्चुअल राज्य स्तरीय कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा.विश्व पर्यटन दिवस के मौके पर मुख्यमंत्री पर्यटन संबल योजना और संशोधित पेइंग गेस्ट योजना सहित आधा दर्जन से अधिक योजना कार्यक्रम और एप्स का विमोचन करेंगे.इसके अलावा विभाग द्वारा जारी की गई नीतियों योजनाओं एवं दिशा निर्देशों के संग्रह का विमोचन भी होगा . इसके तहत मुख्यमंत्री पर्यटन उद्योग संबल योजना 2021 और संशोधित पेइंग गेस्ट हाउस योजना 2021 का विमोचन किया जाएगा.अनुभवात्मक पर्यटन सेवा प्रदाता के लिए गाइडलाइंस का भी विमोचन होगा.

पर्यटन विभाग के नवीन मुद्रित पोस्टर, नवीन प्रचार पुस्तिकाओं का विमोचन रखा गया है.यूनेस्को के साथ चल रही अमूर्त धरोहर संरक्षण परियोजना के तहत पश्चिमी राजस्थान के पारंपरिक संगीत की सीडी का भी विमोचन होगा.भारतीय डाक विभाग द्वारा राजस्थान पर्यटन की थीम पर बनाए गए 9 विशेष आवरण का भी विमोचन मुख्यमंत्री करेंगे.पर्यटन विभाग के सोशल मीडिया हैंडल्स पर आयोजित फोटोग्राफी प्रतियोगिता के विजेताओं के नाम भी घोषित किए जाएंगे.पर्यटन विभाग एवं पर्यटन निगम के कार्मिकों को उत्कृष्ट कार्य के लिए प्रशस्ति पत्र की घोषणा भी की जाएगी.

आपको बता दें कि विश्व पर्यटन दिवस के मौके पर प्रदेश के स्मारक और संग्रहालय में पर्यटकों का प्रवेश भी निशुल्क रखा गया है.इस दौरान नाहरगढ़ के पड़ाव रेस्टोरेंट भी लोक नृत्य व संगीत का कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा.सभी स्मारकों पर विशेष रोशनी की जाएगी.कुल मिलाकर इस बार कोरोना संकट को पीछे छोड़ते हुए एक सकारात्मक आयोजन किया जा रहा है.उम्मीद है कि इससे पर्यटन को बढ़ावा तो मिलेगा ही साथ ही पर्यटकों की संख्या में भी इजाफा होगा.

और पढ़ें