Live News »

टाइम पास के लिए युवाओं ने शुरू की पहल बनी मिसाल, कोई भूखा न सोये की मुहिम पर अब तक बांटे 78 हजार से ज्यादा टिफिन

टाइम पास के लिए युवाओं ने शुरू की पहल बनी मिसाल, कोई भूखा न सोये की मुहिम पर अब तक बांटे 78 हजार से ज्यादा टिफिन

फतेहपुर(सीकर): लॉक डाउन के कारण घरों में बैठे बैठे परेशान नहीं हो इसको लेकर चार दोस्तों ने असहाय लोगों के एक दिन का खाना बनाकर छह सौ टिफिन बांटे. सेवा कार्य में ऐसा मजा आया कि युवाओं की एक टीम बन गई और पिछले 40 दिनों से रोजाना हजारों लोगों को खाना बनाकर मुहैया करवा रही है. हम बात कर रहे है फतेहपुर के उन युवाओं की टीम की जो सबके लिए प्ररेणा से कम नहीं है. सिर्फ एक दिन छह सौ टिफिन बांटे थे उसके बाद ऐसी मुहीम बनी की अब तक 78 हजार से यादा टिफिन बांट कर कोई भूखा ना सोएं की पहल सार्थक होने लग गई. कस्बे के चार दोस्त पंकज पारीक, मगन प्रजापत, भवानी चोटिया व योगेश ने 24 मार्च को गरीबो के लिए एक दिन का भोजन तैयार किया. पंकज ने बताया कि जनता कर्फ्यू के दौरान पूरे दिन घर रहे तो बहुत परेशान हुए. अक्सर दिनभर बाहर घूमते रहते थे ऐसे में अब घर कैसे रहा जाएगा. अगले ही दिन राजस्थान सरकार ने लॉकडाउन कर दिया तो घर बैठे बैठे परेशान होने लगे. ऐसे में सोचा कि क्यों ना समाज के लिए इस कोरोना महामारी के बीच कुछ किया जाएं. ऐसे में 24 मार्च को रेलवे स्टेशन के पास एक घर में छह सौ लोगों के लिए खाने के पैकेट तैयार किए. इसके बाद प्रशासन की देखरेख में जरूरतमंद लोगों तक पहुचाएं. पूरा दिन कैसे बीता मानो पता ही नहीं चला. असहाय लोगों की सेवा में जो सुकून मिला उसके आगे सबकुछ फीका था. इसके बाद सोशल मीडिया पर फोटो डाली तो लोगों का अपार स्नेह मिला तो मुहीम को आगे बढ़ाने की सोची. ऐसे में सोचा की पहले दिन का खर्चा तो दोस्तों ने मिलकर दे दिया लेकिन आगे कैसे चलेगा. लेकिन कस्बे के लोगों का ऐसा सहयोग मिला कि मुहीम अपने आप आगे बढ़ गई. छह सौ टिफिन से यह संख्या ढाई हजार तक पहुंच गई. 

Rajasthan Corona Updates: कोरोना पॉजिटिव के 54 नए मामले आए सामने, 2720 पहुंचा मरीजों का आंकड़ा 

घर किए चिन्हित, अब रोज पहुंचा रहे हैं खाना:
एक ओर पूरा विश्व कोरोना जैसी महामारी की चपेट में है. लॉक डाउन के चलते असहाय व जरूरतमंद लोगों पर जबरदस्त संकट आ गया. कामकाजी लोग भटक रहे हैं. कोई पहले कचरा बीनता था ,कोई कुली हमाल था कोई रिक्शा चलाता था. उन स्थानों तक भोजन पैकेट जरुरतमंदों को पहुंचाए जा रहे हैं जहाँ मेहनतकशों का बसेरा है. अस्पतालों के बाहर ,कोई कच्ची बस्ती ,फुटपाथ ,बंजारों की बस्ती ऐसे स्थान है जहां ये लोग रोज पहुंच रहे हैं. रसोई टीम के संदीप हुड्डा व अभिषेक जोशी ने बताया कि पहले दिन खाना देने के बाद से सोशल मीडिया पर संदेश डाला कि कस्बे में कोई भूखा न सोये कोई भी जरूरतमंद व्यक्ति या परिवार है तो उसकी जानकारी हमे दे. जब लोगों ने जानकारी मुहैया करवाई तो टीम के सदस्य जाके देख कर आये की इस परिवार को वास्तव में जरूरत है या फिर नही. वास्तविक जरूरत वाले परिवार एक दो दिन भर चिन्हित हो गए. 

चार लोगों से संख्या 20 से अधिक हुई, सब अपने आप जुड़े किसी को नहीं बुलाया:
राम रसोई चार दोस्तों ने मिलकर शुरू की. उसके बाद कार्यकर्त्ताओं की फ़ौज अपने आप जुड़ गई. एक भी कार्यकर्ता को फोन करके नहीं बुलाया. सब अपने आप जुड़े. इसके बाद सबने अपनी रुचि से कार्य निर्धारित कर लिया. तब से लेकर आज तक वैसे ही सभी लोग लगे हुए है. कोई पैकिंग में लगा है तो खाना सप्लाई में लग गया. उसके बाद आने वाले लोगों को वापस भेजा गया. 

शहरवासियों का मिला अतुलनीय सहयोग:
राम रसोई शुरू होने के साथ ही शहर वासियों का अतुलनीय सहयोग रहा. मनोज पीपलवा व गोविंद पारीक ने बताया कि कास्बे के लोगो ने दिल खोल कर सहयोग किया. किसी ने राशन सामग्री भेजी तो किसी ने नकद राशि दी. इसके बाद किसी ने अपनी गाड़ी दी तो किसी ने सब्जी मुहैया करवाई. कस्बे के लोगों व लायंस क्लब के सदस्यों से मिले सहयोग के काऱण 78 हजार से ज्यादा टिफ़िन वितरण किये गए. राम रसोई के कार्य से लोग अभिभूत हुए. बंधेज का काम करने वाली एक महिला ने भी नाम नहीं बताने की शर्त पर अपने घर से सहयोग दिया. जबकि वो खुद गरीब परिवार से थी. 

यह है राम रसोई की टीम:
कार्यकर्ताओं की टीम में योगेश पारीक, मनोज पीपलवा, अजमद खां, सद्दाम हुसैन, किशोर ढाढ़णियां, गोविन्द पारीक, पंकज पारीक, मगन प्रजापत, संदीप हुड्डा, भवानी शंकर चोटिया, अभिषेक जोशी, मोहित सिलावट, रितिक पिपलवा, रमेश दर्जी, राहुल वर्मा, राहुल रॉय, अतुल ढण्ड, मीनू शर्मा, राकेश प्रजापत, ललित सैनी, बबलू सांखला कार्य कर रहे हैं. 

बिना संगठन बड़ा काम, संभवत शेखावाटी की सबसे बड़ी रसोई:
फतेहपुर की युवाओं की टीम का ना ही तो कोई संगठन है ना ही कोई संस्था. सिर्फ अपने बलबूते पर शुरू हुआ यह काम अब बड़े स्तर तक पहुंच गया. रोजाना 25 सौ लोगों को पिछले 38 दिनों से खाना पहुंचाने में यह शेखावाटी की सबसे बड़ी रसोई है. यह संदेश है कि अच्छे काम के लिए संस्थान व एनजीओ के बिना भी कार्य किया जा सकता है. 

- रोज 150 किलो आटे की बन रही है रोटियां, 70 किलो चावल व 200 किलो से अधिक सब्जी की हो रही है रोजाना खपत

- 2100 से लेकर 2500 तक टिफिन रोजाना भेज रहे है असहाय व जरूरतमंद लोगों तक

जरूरतमंद लोगों तक खाना पहुंचाने के लिए कार्यकर्ताओं की टीम सुबह चार बजे से ही खाना बनाने के काम में जुट जाती है. हलवाई सुबह चार बजे आते है इसके बाद खाना बनाने का काम शुरू होता है. सुबह नौ बजे पैकिंग शुरू की जाती है. इसके बाद दूर के इलाको में गाड़ी भेजना शुरू किया जाता है. रोजाना दोपहर को 1300 से लेकर 1450 तक टिफिन तैयार किए जाते है. ऐसे में रोजाना डेढ़ क्विंटल आटे की रोटियां व दो क्विंटल से ज्यादा की सब्जी तैयार की जाती है. शाम को हल्का खाना व हेल्दी फूड देने के उद्देश्य को लेकर कभी वेज पुलाव तो कभी नमकीन खीचड़ी व कभी राजमा चावल दिए जा रहे हैं. शाम को खाने के एक हजार टिफिन तैयार किये जाते हैं. अब तक 78 हजार से ज्यादा टिफिन वितरित कर दिये गए है. इसके लिए भामाशाहों का भी पूरा सहयोग मिल रहा है. कोई सामान देता है तो कोई नकद पैसे दे रहा है. लायंस क्लब के द्वारा भी भामाशाहों को प्रेरित किया गया तो कई भामाशाह भी जुड़ गए. नगर पालिका की टीम भी कार्य की पूरी मॉनीटरिंग कर रही है. 

सुरक्षा का रहा जा रहा है पूरा ख्याल: 
कार्यकर्ताओं की टीम के द्वारा रेलवे स्टेशन के पास एक मकान में खाना बनाने का कार्य किया जा रहा है. यहां पर खाना बनाने से लेकर पैकिंग व खाना वितरण में पूरी सावधानियां बरती जा रही है. सुरक्षा का पूरा ख्याल रखा जा रहा है. खाना पैकिंग करते समय मुहं पर मास्क व हाथों में दस्ताने पहने जा रहे हैं. यह लोग कोरोना की जंग में अपनी भागीदारी निभा रहे हैं.

रेल कर्मियों को मिली बड़ी राहत ! पुरानी पेंशन स्कीम में पंजीकृत हो सकेंगे रेल कर्मचारी

कोई हलवाई है कोई दुकानदार, कोई फोटोग्राफर तो कोई मजदूर:
रेलवे स्टेशन के पास चल रही राम रसोई में काम कर रहे युवाओं की कहानी भी अलग है. कोई पेशे से हलवाई है तो कोई मजदूरी करता है. कोई विदेश रहता है तो किसी के कैटरिंग का काम है तो कोई व्यापारी है. लेकिन लॉक डाउन के बाद सबका एक ही मकसद है फतेहपुर क्षेत्र में कोई भूखा ना सोएं. किसी भी कार्यकर्ता को फोन करके नहीं बुलाया गया. चार दोस्तों के द्वारा शुरू करने के बाद कारवां अपने आप बनता गया. अब कार्यकर्ताओं की भी कमी नहीं है. खाना पैक करने से लेकर वितरण करने वाली टीमें भी अलग अलग है. 

और पढ़ें

Most Related Stories

मंत्री रघु शर्मा का पलटवार, कहा-भाजपा में दोयम दर्जे के नेताओं के हाथ में राजस्थान का नेतृत्व

मंत्री रघु शर्मा का पलटवार, कहा-भाजपा में दोयम दर्जे के नेताओं के हाथ में राजस्थान का नेतृत्व

जयपुर: कोरोना रोकथाम के लिए जारी खरीद फरोख्त में भ्रष्टाचार को लेकर भाजपा के आरोपों पर चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने बड़ा पलटवार किया.एसएमएस में आयोजित एक कार्यक्रम में पूछे गए सवाल के जवाब में चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा ने कहा कि भाजपा में सीधे तौर पर वर्टिकल डिवीजन है.मौजूदा समय में प्रदेश में बीजेपी का दोयम दर्जे का नेतृत्व है.प्रदेश भाजपा के नेता घर बैठे बयानवीर बन रहे है.चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा शुक्रवार को विश्व पर्यावरण दिवस के मौके पर एसएमएस अस्पताल के ट्रोमा वार्ड में सामाजिक एवं आर्थिक विकास संस्थान द्वारा आयोजित वृक्षारोपण कार्यक्रम में शिरकत कर रहे थे.

भाजपा में सीधे तौर पर है वर्टिकल डिवीजन:
इस दौरान भाजपा नेताओं के आरोपों पर चिकित्सा मंत्री ने कटाक्ष किया और कहा कि एक तरफ केंद्र में मौजूद बीजेपी के नेता कोरोना को लेकर राजस्थान में हो रहे कार्य की तारीफ करते हैं वहीं दूसरी ओर प्रदेश के भाजपा नेता सरकार पर सवाल उठा रहे हैं. प्रदेश में इस समय भाजपा का नेतृत्व दोयम दर्जे के नेताओं के हाथ में है और भाजपा में सीधे तौर पर वर्टिकल डिवीजन दिख रहा है.चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा ने तो यहां तक कह दिया कि राजस्थान के इन बीजेपी नेताओं को कौन पूछ रहा है.मंत्री ने यह भी कहा कि भले ही बीजेपी के नेता आरोप लगा रहे हो लेकिन बीजेपी का एक भी नेता संक्रमित क्षेत्र में नहीं गया और महज आरोप लगाए जा रहे हैं. यहां बता दें कि आरएमएससीएल में कथित भ्रष्टाचार को लेकर भाजना नेता कांग्रेस पर लगातार आरोप लगा रहे है.

राज्यसभा चुनाव की गणित में कांग्रेस आगे, 13 निर्दलीय विधायकों का गहलोत को समर्थन

निरोगी राजस्थान के 10 बिंदुओं में पर्यावरण को अहमियत:
इससे पहले कार्यक्रम में चिकित्सा मंत्री ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा नरेगा के कामों में भी ज्यादा से ज्यादा पौधारोपण या वृक्षारोपण के काम को अनुमत किया है.इसके अलावा निरोगी राजस्थान के 10 बिंदुओं में पर्यावरण को अहमियत दी गई है.उन्होंने आमजन का आव्हान करते हुए कहा कि पर्यावरण का संरक्षण करके आने वाले कल को संवारा जा सकता है.चिकित्सा मंत्री ने कहा कि सामाजिक एवं आर्थिक विकास संस्थान पिछले 13 वर्षों से पौधारोपण का कार्य कर रहा है.ऐसे पुनीत कार्यों में सभी संगठनों और संस्थाओं को आगे आना चाहिए. उन्होंने कहा कि प्रदेश का पर्यावरण जितना अधिक संतुलित रहेगा प्रदेश में उतनी ही अच्छी बारिश होगी. उन्होंने कोरोना काल में युद्ध स्तर पर कार्य कर रहे चिकित्सकों और स्टाफ की प्रशंसा की और बतौर कोरोना वारियर्स उनका सम्मान भी किया. उन्होंने इस अवसर पर ट्रॉमा प्रांगण में वृक्षारोपण भी किया. कार्यक्रम में सवाई मानसिंह मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ सुधीर भंडारी, अस्पताल के अधीक्षक राजेश शर्मा, अति अधीक्षक अजीत सिंह, डॉ जगदीश मोदी, डॉ एनएस चौहान, गिरीश चौहान,राजस्थान राज्य नर्सेज एसोसिएशन के प्रदेशाध्यक्ष राजेंद्र सिंह राना और अन्य गणमान्य उपस्थित रहे.

वंदे भारत मिशन का तीसरा चरण 10 जून से, विदेशों में पढ़ रहे करीब 900 विद्यार्थी लौटेंगे जयपुर

पर्यावरण दिवस पर हुआ निकाह, बारातियों ने पौधे लगाकर कायम की मिसाल

पर्यावरण दिवस पर हुआ निकाह, बारातियों ने पौधे लगाकर कायम की मिसाल

चूरू: पर्यावरण दिवस के मौके पर खलीफा समाज ने निकाह के दौरान एक नई मिसाल कायम की है. निकाह में आये सभी 11 बारातियों ने एक-एक पौधा लगाकर जल, जंगल और जमीन को बचाने का संदेश दिया. स्वयं दूल्हे ने पौधा लगाकर एक नई शुरुआत की. 

संदिग्ध परिस्थितियों में हुई महिला की मौत, ससुर पर रेप का आरोप लगाते हुए कराया था मामला दर्ज 

विवाह समारोह में केवल 11 बाराती आये:
कोरोना वैश्विक महामारी को देखते हुये विवाह समारोह में दूल्हा पक्ष की ओर से केवल 11 बाराती आये. पूरे समारोह के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग की पालना की गई तथा विवाह समारोह में प्रवेश पर ही सभी लोगों के हाथ सेनेटाइज किये गए.  

पर्यावरण संरक्षण की दिशा में महत्वपूर्ण संदेश दिया: 
विवाह समारोह में शामिल रहे वरिष्ठ कांग्रेस नेता जमील चौहान ने बताया कि शुक्रवार को हुए समीरा बानो (दुल्हन) और मो.आसिफ (दुल्हा) के निकाह के दौरान पर्यावरण संरक्षण की दिशा में यह महत्वपूर्ण संदेश दिया गया. चौहान ने कहा कि विवाह समारोह में सादगी, सोशल डिस्टेंसिंग के साथ-साथ पर्यावरण संरक्षण की दिशा में यह बड़ी पहल की गई है. आने वाले अन्य कार्यक्रमों में भी लोग इससे प्रेरणा लेंगे. उन्होंने कहा कि प्रकृति और पर्यावरण की उपेक्षा के कारण आज मानव सभ्यता घोर संकट में है. हमें यह देखना ही होगा कि कैसे हम प्रकृति के साथ खिलवाड़ को रोकें और पर्यावरण को बचाएं. उन्होंने कहा कि सामाजिक सरोकार से जुड़ने के कारण यह निकाह सभी के लिए यादगार हो गया है. 

दो युवकों की लाठियों से पीट-पीटकर हत्या, नामजद मामला दर्ज

शहर काजी ने देश व प्रदेश में खुशहाली के लिये दुवा की:
जिला स्टेडियम के पीछे बादशाह कॉलोनी में लॉकडाउन के नियमों का पालना करते हुए इस शादी समारोह में दूल्हा मो. आसिफ, जमील चौहान के साथ-साथ खादिम भीखू, सब्बीर रामगढिया, अब्दुल गनी, लियाकत अली, इशाक अली भींवसर, जाकिर मुल्ला, नासीर अली, गफ्फार भाटी, पितराम, आरीफ माजूंका, मोहम्मद ताहीर आदि ने भी पौधारोपण किया. इस दौरान शहर काजी ने देश व प्रदेश में खुशहाली के लिये दुवा की.  


 

दो युवकों की लाठियों से पीट-पीटकर हत्या, नामजद मामला दर्ज

दो युवकों की लाठियों से पीट-पीटकर हत्या, नामजद मामला दर्ज

नागौर: जिले के मकराना उपखंड के गच्छीपुरा थाना अंतर्गत ग्राम कल्याणपुरा व रानीगांव के मध्य बीती रात दो युवकों की लाठियों से पीट-पीटकर हत्या कर दी गई. जिसको लेकर गच्छीपुरा थाने में नामजद हत्या का मामला दर्ज हुआ है. अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक डीडवाना नितेश कुमार आर्य ने बताया कि बीती रात कल्याणपुरा व रानीगांव के मध्य दो युवकों की हत्या हो जाने का मामला सामने आया था, जिस पर जिला पुलिस अधीक्षक डॉ विकास पाठक सहित पुलिस के अधिकारी मौके पर पहुंचे. जिन्होंने शव को बरामद कर राजकीय चिकित्सालय गच्छीपुरा की मोर्चरी में रखवाया था.

संदिग्ध परिस्थितियों में हुई महिला की मौत, ससुर पर रेप का आरोप लगाते हुए कराया था मामला दर्ज 

मृतकों व नामजद आरोपियों द्वारा की जा रही थी शराब पार्टी: 
पुलिस के अनुसार मृतकों व नामजद आरोपियों द्वारा बीती रात एक ढाबे पर शराब पार्टी की जा रही थी. जहां से मृतक के राजूराम मेघवाल व मुकेश नायक ढाबे से पैदल ही रवाना हो गए थे. शराब पार्टी के दौरान आरोपियों व मृतकों के मध्य आपसी विवाद हुआ था. जिसके बाद पैदल जा रहे दोनों मृतकों पर आरोपियों ने लाठियों व धारदार हथियारों से हमला कर दिया. इस दौरान दोनों युवकों की मौके पर ही मौत हो गई. फिलहाल पुलिस ने नामजद आधा दर्जन आरोपियों को हिरासत में ले लिया है और आरोपियों से पूछताछ की जा रही है. पुलिस शीघ्र ही मामले का खुलासा कर पाएगी. हालांकि दोनों शवों का पोस्टमार्टम हो चुका है, परिजनों द्वारा आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग की जा रही है. 

डकैत जगन गुर्जर के परिजनों ने जिला कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन, जेल में भूख हड़ताल करने का लगाया आरोप 

संदिग्ध परिस्थितियों में हुई महिला की मौत, ससुर पर रेप का आरोप लगाते हुए कराया था मामला दर्ज

संदिग्ध परिस्थितियों में हुई महिला की मौत, ससुर पर रेप का आरोप लगाते हुए कराया था मामला दर्ज

मेड़ता सिटी(नागौर): जिले के मेडता रोड़ थाने के जावली गांव में संदिग्ध परिस्थितियों में विवाहिता की मौत का मामला सामने आया है. डीवाईएसपी विक्रम सिंह भाटी ने जानकारी देते हुए बताया कि मृतका ने डाबरानी निवासी अपने ससुर पर रेप सहित मारपीट के संगीन आरोप लगाते हुए मेडता रोड़ थाने में मामला दर्ज कराया था. इसके बाद मृतका अपने पीहर में ही थी. अचानक तबीयत खराब होने के बाद गंभीर हालात में अस्पताल ले जाया गया था. जहां पर उसकी मौत हो गई. 

डकैत जगन गुर्जर के परिजनों ने जिला कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन, जेल में भूख हड़ताल करने का लगाया आरोप 

मारपीट के चलते मृतका की मौत होने का आरोप लगाया: 
इसके बाद मृतका मेड़ता सिटी के मोचरी में मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम कराया गया है. इसके साथ ही मेड़ता रोड थाना पुलिस की ओर से इस पूरे मामले की गहन जांच शुरू कर दी गई है. वहीं इस पूरे मामले में मृतका के पिता ने ससुराल पक्ष की ओर से की गई मारपीट के चलते मृतका की मौत होने का आरोप लगाया है. फिलहाल इस पूरे मामले में पुलिस ने आरोपी की गिरफ्तारी को लेकर अलग-अलग टीमों का गठन कर दिया है. 

गुजरात में कांग्रेस के एक और विधायक ने छोड़ा हाथ का साथ, राज्यसभा चुनाव से पहले अब तक 8 विधायकों ने दिया इस्तीफा 

डकैत जगन गुर्जर के परिजनों ने जिला कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन, जेल में भूख हड़ताल करने का लगाया आरोप

डकैत जगन गुर्जर के परिजनों ने जिला कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन, जेल में भूख हड़ताल करने का लगाया आरोप

धौलपुर: जिले के बसई डांग थाना इलाके के एक गांव में महिलाओं पर ज्यादती करने के आरोप में अजमेर जेल में बंद जगन गुर्जर के परिजन आज जिला कलेक्ट्रेट पहुंचे जहां जिला कलेक्टर से जगन को अजमेर जेल से धौलपुर जेल या किसी अन्य जेल में शिफ्ट करने की मांग को लेकर ज्ञापन सौंपा है. जिला कलेक्टर राकेश जायसवाल को सौंपे गए ज्ञापन में जगन गुर्जर के पुत्र आसाराम ने आरोप लगाया है कि उसके पिता को धौलपुर जेल प्रशासन ने मिलीभगत कर अजमेर जेल में शिफ्ट करा दिया था. जहां कुछ दिनों तक आरोपी से जेल प्रबंधन का व्यवहार सही रहा लेकिन बीते कुछ दिनों से जगन गुर्जर को जेल प्रशासन की ओर से लगातार परेशान किया जा रहा है.

गुजरात में कांग्रेस के एक और विधायक ने छोड़ा हाथ का साथ, राज्यसभा चुनाव से पहले अब तक 8 विधायकों ने दिया इस्तीफा 

परिजनों ने जेल में भूख हड़ताल करने का लगाया आरोप: 
इस मामले को लेकर पूर्व में भी जगन गुर्जर की पत्नी कोमेश भी जिला कलेक्टर को प्रार्थना पत्र सौंप चुकी है जिस पर कोई सुनवाई नहीं हुई और लगातार अजमेर जेल में जगन को परेशान करने का सिलसिला जारी है. परिजनों का आरोप है कि आज उन्हें जानकारी मिली है कि जगन गुर्जर अजमेर जेल में भूख हड़ताल पर है और खाशा परेशान भी है. कलेक्ट्रेट पहुंचे जगन गुर्जर के परिवार ने जिला प्रशासन से जल्द से जल्द जगन को अजमेर जेल से धौलपुर जेल में शिफ्ट करने की मांग को लेकर ज्ञापन सौंपा है. 

 Rajasthan Corona Updates: दस हजार के करीब पहुंची संक्रमितों की संख्या, 7162 मरीज हुए रिकवर 

...फर्स्ट इंडिया के लिए धौलपुर से विनोद तिवारी की रिपोर्ट


 

एसीबी ने कसा शिकंजा, डिस्कॉम कर्मचारी को 2 हजार की रिश्वत लेते किया गिरफ्तार

एसीबी ने कसा शिकंजा, डिस्कॉम कर्मचारी को 2 हजार की रिश्वत लेते किया गिरफ्तार

पाली: पाली एसीबी ने बर डिस्कॉम के एईएन ऑफिस में कार्यवाही करते हुए तकनीकी सहायक दिलीप धाकड़ को 2000 की रिश्वत लेते गिरफ्तार किया है. मामले की जानकारी देते हुये एडिनशल एसपी कैलाश जुगावत ने बताया कि बर के परिवादी एक किसान ने अपने खेत पर बिजली कनेक्शन के लिए डिस्कॉम में आवेदन कर रखा था. कोसां ने कनेक्शन को सारी औपचारिकता पूरी कर ली बस ट्रांस्फोर्मर लगाना बाकी रहा. इसके लिए एईएन ऑफिस में तकनीकी सहायक स्टोर कीपर दिलीप धाकड़ से मिला तब उसने ट्रांसफोर्मर लगाने को एवज में 4500 हजार रुपये मांगे. 

गुजरात में कांग्रेस के एक और विधायक ने छोड़ा हाथ का साथ, राज्यसभा चुनाव से पहले अब तक 8 विधायकों ने दिया इस्तीफा 

परिवार ने 2000 रुपये पहल दिये और बाकी आज देने को बात की: 
इसको लेकर परिवार ने 2000 रुपये पहल दिये और बाकी आज देने को बात की. जिसकी शिकायत परिवादी ने एसीबी मेंकी ओर सत्यापन के समय परिवादी ने शेष ढाई हजार की जगह दो हजार देने की बात की जिस पर तकनीकी सहायक राजी हो गया. आज जब परिवादी एईएन ऑफिस पुहंचा और शेष दो हजार देने गया तब एसीबी टिम ने उसे रंगे हाथों पकड़ लिया और ओर ऑफिस को अपने कब्जे में कर कार्यवाही कर जांच शुरू कर दी. 
Rajasthan Corona Updates: दस हजार के करीब पहुंची संक्रमितों की संख्या, 7162 मरीज हुए रिकवर 

गुजरात में कांग्रेस के एक और विधायक ने छोड़ा हाथ का साथ, राज्यसभा चुनाव से पहले अब तक 8 विधायकों ने दिया इस्तीफा

गुजरात में कांग्रेस के एक और विधायक ने छोड़ा हाथ का साथ, राज्यसभा चुनाव से पहले अब तक 8 विधायकों ने दिया इस्तीफा

अहमदाबाद: राज्यसभा चुनाव से पहले गुजरात में कांग्रेस पार्टी के सामने बड़ा संकट खड़ा हो गया है. पिछले तीन दिनों में पार्टी के 3 विधायक इस्तीफा दे चुके हैं. ऐसे में अब तक 8 कांग्रेस विधायक हाथ का साथ छोड़ चुके हैं. फिलहाल इस्तीफा देने वाले विधायक मोरबी से ब्रिजेश मेरजा हैं. इससे पहले अक्षय पटेल और जीतू चौधरी भी पार्टी का साथ छोड़ा है. 

Rajasthan Corona Updates: दस हजार के करीब पहुंची संक्रमितों की संख्या, 7162 मरीज हुए रिकवर 

भाजपा कोरोना से ज्यादा राज्यसभा चुनावों पर ध्यान दे रही:
विधायकों के इस्तीफे पर कांग्रेस पार्टी भाजपा को जिम्मेदार ठहरा रह है. पार्टी के अनुसार भाजपा इस समय कोरोना से ज्यादा राज्यसभा चुनावों पर ध्यान दे रही हैं और विधायकों की खरीद फरोख्त में लगी हुई है. 

चुनाव के ऐलान के बाद कांग्रेस के पांच विधायकों ने इस्तीफा दे दिया था:
इससे पहले राज्यसभा चुनाव के ऐलान के बाद कांग्रेस के पांच विधायकों ने इस्तीफा दे दिया था. गढ्डा से प्रवीण मारू, लिंबडी से सोमा पटेल, अबडासा से प्रद्युम्न सिंह जडेजा, धारी से जेवी काकड़िया और डांग से मंगल गावित ने अपना इस्तीफा दिया था. वहीं, कल यानी गुरुवार को जिन दो विधायकों ने इस्तीफा दिया, वे अक्षय पटेल और जीतू चौधरी थे.

UP: प्रतापगढ़ में दर्दनाक सड़क हादसे में नौ लोगों की मौत, बेटी की सगाई के लिए लौट रहे थे घर 

गुजरात में कांग्रेस विधायकों की संख्या अब 66:
बता दें कि गुजरात में कांग्रेस विधायकों की संख्या अब 66 रह गई है. कांग्रेस का आरोप है कि यह पूरा खेल राज्य में आने वाली 4 राज्यसभा सीटे को लेकर खेला जा रहा है. जिसमें अब कांग्रेस का पलटा काफी हल्का नजर आ रहा है. 
 

Rajasthan Corona Updates: दस हजार के करीब पहुंची संक्रमितों की संख्या, 7162 मरीज हुए रिकवर

Rajasthan Corona Updates: दस हजार के करीब पहुंची संक्रमितों की संख्या, 7162 मरीज हुए रिकवर

जयपुर: राजस्थान में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा होता ही जा रहा है. प्रदेश में संक्रमित मरीजों की संख्या दस हजार के करीब पहुंच गई है. पिछले 12 घंटे में प्रदेश में 68 नए पॉजिटिव मामले सामने आए हैं. इसमें झालावाड़ में सर्वाधिक 23 मरीज मिले हैं. इसके अलावा बारां में 4, भरतपुर में 20, जयपुर में 16, कोटा में 2, सवाईमाधोपुर में 1 केस और अन्य राज्य से 2 मरीज आये पॉजिटिव चिन्हित किए गए हैं. ऐसे में अब प्रदेश में पॉजिटिव मरीजों का ग्राफ बढ़कर 9930 पहुंच गया है. वहीं कोरोना से मरने वालों की संख्या 213 हो गई है. 

UP: प्रतापगढ़ में दर्दनाक सड़क हादसे में नौ लोगों की मौत, बेटी की सगाई के लिए लौट रहे थे घर 

राजस्थान में कुल रिकवर मरीज 7162:
वहीं दूसरी ओर राहत वाली खबर यह है कि प्रदेश में अब तक कुल 7162 मरीज रिकवर हुए हैं. ऐसे में अब एक्टिव केसों की संख्या 2555 पहुंच गई है. इसके साथ ही राजस्थान में कुल प्रवासी पॉजिटिव मरीजों की संख्या 2859 है. 

रेप पीड़िता के पिता ने बेटी द्वारा चार लोगों पर दर्ज करवाए मामले को बताया झूठा और षड्यंत्रकारी 

गुरुवार को 210 नए पॉजिटिव केस सामने आये:
इससे पहले गुरुवार को प्रदेश में 4 मरीजों की मौत हो गई. जबकि 210 नए पॉजिटिव केस सामने आये है. जयपुर, भरतपुर, सवाई माधोपुर और एक अन्य राज्य के मरीज की मौत हो गई. सर्वाधिक 49 केस अकेले भरतपुर में सामने आये है. अजमेर 6, बारां 8, बाड़मेर 3, भीलवाड़ा 5 पॉजिटिव, बीकानेर 1, बूंदी 2, चित्तौड़गढ़ 8, चूरू 25, जयपुर 12 पॉजिटिव, जालोर 6, झुंझुनूं 6, जोधपुर 29, करौली एक, कोटा 7 पॉजिटिव, नागौर 6, पाली 5, राजसमंद तीन, सवाई माधोपुर 1 पॉजिटिव, सीकर 12, सिरोही 2, उदयपुर में 8 और दूसरे राज्य के 5 पॉजिटिव सामने आये है. 


 

Open Covid-19