Live News »

फोरलेन पर चलता ट्रक बना आग का गोला, मची अफरातफरी

फोरलेन पर चलता ट्रक बना आग का गोला, मची अफरातफरी

आबू रोड(सिरोही): आबू रोड पालनपुर फोरलेन नेशनल हाईवे पर आज उस वक्त अफरा-तफरी मच गई, जब सड़क मार्ग पर चलते एक ट्रक में अचानक आग लग गई. देखते ही देखते आग ने विकराल रूप धारण कर लिया. जिसे देख ट्रक ड्राइवर व खलासी ने ट्रक को बीच सड़क पर खड़ा करके ट्रक से नीचे कूदकर अपनी जान बचाई. फोरलेन पर ट्रक में आग की उठती लपटें देख एक बारगी तो दोनों तरफा यातायात थम सा गया. 

दमकल पहुंची तब तक पूरा ट्रक आग का गोला बन गया: 
सूचना मिलते ही गुजरात के अमिरगढ़ पुलिस का जाब्ता मौके पर पहुंचा. फोरलेन टोल कम्पनी एलएंडटी की रुट पेट्रोलिंग टीम भी मौके पर पहुंची और दमकल को मौके पर बुलाया. दमकल पहुंची तब तक पूरा ट्रक आग का गोला बन गया था, जिसे काबू करना नामुमकिन था. पर दमकलकर्मियों ने आग पर काबू पाने के खूब प्रयास किए, लेकिन तब तक ट्रक जलकर खाक हो चुका था. आपको बता दे ये ट्रक सिमेंट निर्माण सामग्री भरकर गुजरात के अहमदाबाद से हिमाचलप्रदेश के लिए जा रहा था, तभी ये हादसा हो गया. गनीमत रही इस हादसे में कोई जनहानि नही हुई. 
 

और पढ़ें

Most Related Stories

Rajasthan Lockdown: राहत के मसीहा बने भामाशाह और समाजसेवी, प्रवासी यात्रियों को मिली राहत

Rajasthan Lockdown: राहत के मसीहा बने भामाशाह और समाजसेवी, प्रवासी यात्रियों को मिली राहत

आबूरोड: कोरोना वायरस के संक्रमण के बचाव के तहत केंद्र सरकार की ओर से तीन सप्ताह का लॉक डाउन किया गया. जिसके चलते मावल और छापरी बॉर्डर पर गुजरात की तरफ से लोगों के आने का सिलसिला जारी है. लेकिन, बॉर्डर सील होने के चलते आने वाले प्रवासी लोगों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. वहीं परेशान लोगों के लिए भामाशाह व समाजसेवी पूरे मनोयोग से जुटे हैं. मावल बॉर्डर पर लोगों को भोजन, अल्पाहार, पेयजल उपलब्ध करवाया जा रहा है. साथ ही शहरी क्षेत्र में भी समाजसेवी और भामाशाह राहत के मसीहा बने हुए है. वहीं आईजी व कमिश्नर ने मावल बॉर्डर पर व्यवस्थाओं का जायजा लिया.

India Corona Updates: देश में कोरोना का कहर बरकरार , पॉजिटिव मरीजों की संख्या हुई 1005 तो 26 लोगों की मौत

बेहाल यात्रियों के लिए आगे आये भामाशाह: 
लॉकडाउन के चलते गुजरात से सटी मावल और छापरी बॉर्डर सील की जा चुकी है. लेकिन, गुजरात की तरफ से प्रवासी यात्रियों का आना लगातार जारी है. बड़ी तादाद में  यात्री दिन-रात पैदल चलकर और वाहनों से पहुंच रहे हैं. बॉर्डर सील होने के चलते उन्हें वहीं रोक दिया गया है. ऐसे में भूखे प्यासे और बेहाल यात्रियों के लिए भामाशाह और  समाजसेवी राहत के मसीहा बने हुए हैं. यात्रियों के लिए अल्पाहार भोजन और पेयजल की व्यवस्था की गई है. लगातार समाजसेवी और भामाशाह बॉर्डर पर भोजन, अल्पाहार और पेयजल की आपूर्ति में चौबीस घंटे जुटे हुए हैं. वहीं जीआरपी की ओर से भी भोजन व्यवस्था की गई. कलक्टर, एसडीएम, यूआईटी  सचिव ने बॉर्डर से दूरी बनाए रखी. आईजी नवज्योति गोगोई, संभागीय आयुकत बीएल कोठारी और एसपी कल्याणमल मीणा, डीएसपी प्रवीण कुमार ने जरुर एक बॉर्डर का जायजा लिया.

फंसे यात्रियों के आगे का मार्ग प्रशस्त:
देर रात को बॉर्डर सील होने से गुजरात और मावल बॉर्डर के बीच यात्री फुटबॉल बन गए. राजस्थान में उन्हें घुसने नहीं दिया गया. गुजरात बॉर्डर वाले उन्हें आगे जाने नहीं दे रहे थे. ऐसे में दोनों बॉर्डर के बीच में फंसे यात्रियो को समझ में नहीं आ रहा था कि आखिर हो जाए तो जाए कहां. वहीं मौके पर तैनात अधिकारियों और कार्मिकों का व्यवहार उनके प्रति कड़वाहट भरा रहा. बनासकांठा के एडीएम भी मावल बॉर्डर पहुंचे. मौके पर मौजूद अधिकारियों से चर्चा की. इसके बाद ही फंसे यात्रियों के आगे का मार्ग प्रशस्त हो सका. रोडवेज की बसों सेे उन्हें गंतव्य के लिए भेजा गया. वहीं भामाशाह व समाजसेवी राहत की कमान संभाले हुए हैं.

कोरोना पर मन की बात, पीएम मोदी बोले, लॉकडाउन की वजह से जो असुविधा हुई इसके लिए मैं क्षमा मांगता हूं

यात्रियों के स्वास्थ्य की जांच की:
मावल बॉर्डर पर गुजरात तरफ से आने वाले प्रवासी यात्रियों के स्वास्थ्य जांच के लिए स्वास्थ विभाग की ओर से माकूल इंतजाम किए गए. एम्स के आठ चिकित्सक और अलवर से चार चिकित्सक पहुंचे. किसको नर्सिंग स्टाफ ने यात्रियों के स्वास्थ्य की जांच की. दूसरी तरफ राजकीय चिकित्सालय की टीम ने आकराभटटा में महाराष्ट्र से आए छह दर्जन से अधिक यात्रियों के स्वास्थ्य की जांच की. 

माउंट आबू: नहीं रही राजयोगिनी दादी जानकी, 104 साल की उम्र में ली अंतिम सांस

माउंट आबू: नहीं रही राजयोगिनी दादी जानकी, 104 साल की उम्र में ली अंतिम सांस

आबूरोड: दुनिया के सबसे बड़े आध्यात्मिक संगठन ब्रह्माकुमारीज संस्थान की मुख्य प्रशासिका नारी शक्ति की प्रेरणा स्रोत और स्वच्छ भारत मिशन की ब्रांड अम्बेसडर राजयोगिनी दादी जानकी का देहावसान हो गया. वे 104 साल की थी, माउण्ट आबू के ग्लोबल हास्पिटल में 27 मार्च को प्रातः 2 बजे अंतिम सांस ली. राजयोगिनी दादी जानकी दुनिया की एकमात्र महिला थी जिससे मोस्ट स्टेबल माइंड इन वल्र्ड का खिताब था. स्वच्छ भारत मिशन की ब्रांड अम्बेसडर डाॅ. दादी जानकी का अंतिम संस्कार सायं 3.30 बजे ब्रह्माकुमारीज संस्थान के शांतिवन में होगा. 

कोरोना संकट और लॉकडाउन के मद्देनजर RBI की प्रेस कॉन्फ्रेंस, रेपो रेट में 75 बेसिस प्वाइंट की कटौती का एलान

आध्यात्मिक पथ को अपनाया:
दुनिया की दादी के नाम से मशहूर राजयोगिनी दादी जानकी का जन्म 1 जनवरी, 1916 को हैदराबाद सिंध (जो अभी पाकिस्तान में है) में हुआ था. दादी जानकी ने 21 वर्ष की उम्र में ही इस आध्यात्मिक पथ को अपना लिया था. सन् 1970 में भारतीय संस्कृति, मानवीय मूल्यों और राजयोग का संदेश देने के लिए पश्चिमी देशों का रुख किया था.

Rajasthan Corona Update: राजस्थान में 25 दिन में पॉजिटिव मरीज पहुंचे 45, भीलवाड़ा में दो लोगों की मौत, 2 नये पॉजिटिव केस मिले

दादी जी नारी शक्ति की अनुपम मिसाल थी:
विश्व के 140 देशों में उन्होंने ब्रह्माकुमारीज केन्द्रों की स्थापना कर लाखों लोगों के अन्दर एक सच्चे मानव के संस्कार का बीज बोया था. ब्रह्माकुमारीज संस्थान की पूर्व मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी दादी प्रकाशमणि के देहावसान के पश्चात सन 27 अगस्त, 2007 को वे संस्थान की मुख्य प्रशासिका बनी. दादी जी नारी शक्ति की अनुपम मिसाल थी. उनके सान्निध्य में तकरीबन 46 हजार युवा बहनों ने अपना जीवन ईश्वरीय सेवा में समर्पित किया. वे इन 46 हजार युवा बहनों की अभिभावक थी.

कोरोना के लॉकडाउन में ऑनलाइन शादी, वीडियो कॉल से किया निकाह

कोरोना के लॉकडाउन में ऑनलाइन शादी, वीडियो कॉल से किया निकाह

आबूरोड(सिरोही):कोरोना वायरस जहां लोगों को घरों में बंद रहने के लिए मजबूर कर रहा हैं, तो वहीं शादी समारोह के आयोजन भी प्रभावित हो रहे हैं. ऐसे में कई जोड़े शादी की रस्मे अब डिजिटल अंदाज में निभा रहे हैं. ऐसा ही एक मामला आबूरोड में भी सामने आया है. आबूरोड डूबनगर बस्ती निवासी मोहम्मद इरफान खान ने पालनपुर निवासी मिनाज बानो के साथ वीडियो कॉलिंग के जरिए निकाह किया. वैसे तो परिवार ने तीनों भाई-बहन की एक साथ विवाह करने व आयोजन में सभी मेहमानों को न्यौता दिया था. लेकिन, कोरोना वायरस के कारण आयोजनों को स्थगित करना पड़ा.

India Lock Down: केन्द्र सरकार का फैसला, अब देश के 80 करोड़ लोगों को 2 रुपए प्रति किलो के हिसाब से मिलेगा गेहूं

लॉकडाउन से आयोजन की अनुमति नहीं मिल रही थी:
शहर के लुनियापुरा डूबनगर निवासी अहमद खान पठान के पुत्र इरफान खान पठान, पुत्री रूबिना बानो व तब्बसुम बानों की शादी पालनपुर में तय की गई थी. शादी समारोह का आयोजन मंगलवार व बुधवार को होना था. लेकिन कोरोना वायरस के कारण किए गए लॉकडाउन से आयोजन की अनुमति नहीं मिल रही थी. ऐसे में दोनों परिवार ने अहमद खान पठान व मिनाज बानो का निकाह ऑनलाइन वीडियो कॉल के जरिए किया. मौलाना ने रस्मों रिवाज के साथ निकाह करवाया. अहमद खान पठान ने बताया कि प्रशासन की ओर से धारा 144 लगाए जाने से आयोजनों की अनुमति नहीं मिल रही थी. आयोजन में भीड़भाड़ होने की आशंका के चलते वीडियो कॉलिंग के माध्यम से निकाह की रस्म अदा की गई. दो बेटियों का निकाह कोरोना वायरस को लेकर किए गए लॉकडाउन के बाद करवाएंगे.

राज्यपाल कलराज मिश्र ने आमजन को दी वरीयता, राजभवन के चिकित्सा दल को किया रिलीव
 

स्वर्ण प्राशन आयुर्वेद टीकाकरण कार्यक्रम, 16 वर्ष तक के बच्चों को लगाया टीका

स्वर्ण प्राशन आयुर्वेद टीकाकरण कार्यक्रम, 16 वर्ष तक के बच्चों को लगाया टीका

माउंटआबू: पुष्य नक्षत्र के मौके पर राजस्थान आयुर्वेद विभाग द्वारा नन्हे बच्चों के अंदर रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए इन दिनों कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है, जिसमें स्वर्ण प्राशन एक आयुर्वेदिक रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने का उपाय है. जिसमें शुद्ध स्वर्ण भस्म वह दूध शहद ब्राह्मी शंखपुष्पी आदि औषधि का मिश्रण होता है. बच्चों को पिलाने पर यह विशेष उपयोगी होता है वही प्रतिमाह पुष्प नक्षत्र के दिन इसे पिलाने से विशेष लाभ होता है. 

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से जुड़े सवाल पर विधानसभा में हुआ जोरदार हंगामा

टीकाकरण अभियान का आगाज:
इसी कड़ी में आज माउंट आबू के अंबेडकर कॉलोनी स्थित राजकीय विद्यालय में टीकाकरण अभियान का आगाज किया गया, जिसमें प्रधान चिकित्सा प्रभारी अंजू वाधवा के अनुसार चिकित्सा बैंक में पद स्थापित चिकित्सा अधिकारी कांतिलाल माली एवं अन्य कर्मचारियों ने मिलकर माउंट आबू के इस विद्यालय में शिविर का आयोजन किया गया. 

जैसलमेर के जवाहर अस्पताल में एक संदिग्ध मौत, सर्दी जुकाम से पीड़ित था मरीज

बच्चों को पिलाई औषधि:
कार्यक्रम में बच्चों को औषधि पिलाई गई, वहीं राजकीय चिकित्सालय में भामाशाह मणि भाई एवं भामाशाह के सहयोग से आज सुवर्णप्राशन टीकाकरण औषधि पिलाई जिससे बच्चों का बौद्धिक विकास हो सके इसी उद्देश्य के साथ इस कार्यक्रम का आयोजन किया गया. 

माउंट आबू में न्यूनतम तापमान फिर पहुंचा माइनस 3 डिग्री पर

माउंट आबू में न्यूनतम तापमान फिर पहुंचा माइनस 3 डिग्री पर

माउंट आबू(सिरोही): प्रदेश के सबसे ऊंचे शहर माउंट आबू में मौसम पल-पल बदलता हुआ नजर आ रहा है. जहां कल माउंट आबू में हल्की बूंदाबांदी हुई इसके बाद आज यहां पर मौसम बदलता हुआ नजर आ रहा है और यहां के न्यूनतम तापमान में एकदम 11 डिग्री की गिरावट देखी गई और तापमापी का पारा -3 डिग्री पर पहुंच गया जिसकी वजह से मैदानी इलाकों कारों के छतों एवं घर के बाहर रखे बर्तनों में पानी जम गया.

सर्दी से हाल हुए बेहाल: 
माउंट आबू पड़ रही कड़ाके की सर्दी के चलते सामान्य जनजीवन प्रभावित हो रहा है लेकिन पर्यटकों के लिए यह अच्छा मौसम है जिन्हें राजस्थान में सुबह के समय बर्फ देखने को मिल रही है. वहीं सर्दी से बचने के लिए लोग गर्म कपड़ों में लिपटे हुए नजर आ रहे हैं तो वहीं अलाव का सहारा लिया जा रहा है. 

पल-पल बदल रहा माउंट आबू में मौसम का मिजाज, आसमान में बादलों का जमावड़ा

पल-पल बदल रहा माउंट आबू में मौसम का मिजाज, आसमान में बादलों का जमावड़ा

माउंट आबू(सिरोही): टूरिस्ट डेस्टिनेशन माउंट आबू यूं तो अपनी हरी-भरी वादियों के लिए मशहूर है लेकिन इस अलग हटकर यह पर्वतीय पर्यटन नगरी माउंट आबू सर्दी के मौसम में पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करती हुई नजर आ रही है. क्योंकि माउंट आबू की यह वादियां सर्दी के सीजन में कश्मीर से कम नहीं नजर आती. सर्दी के इस मौसम में जहां जैसे ही शहर का न्यूनतम तापमान जमाव बिंदु के नजदीक पहुंचता है तो यहां के तमाम इलाकों में सफेद बर्फ की चादर बिछी हुई नजर आती है.

बादलों की वजह से पल-पल बदल रहा है मौसम: 
वहीं आज के मौसम की बात की जाए तो यहां पर आसमान में आज घने बादल छाए हुए हैं जिसकी वजह से तापमान में उछाल देखा जा रहा है तो वहीं इस कड़ाके की सर्दी के बीच पर्यटक माउंट आबू आ रहे हैं और सर्दी का आनंद लेते हुए नजर आ रहे हैं. 

माउंट आबू में लगातार छह दिनों से सर्दी का टॉर्चर जारी, न्यूनतम तापमान माइनस 3 डिग्री रिकॉर्ड

माउंट आबू में लगातार छह दिनों से सर्दी का टॉर्चर जारी, न्यूनतम तापमान माइनस 3 डिग्री रिकॉर्ड

माउंट आबू(सिरोही): जिले की पर्वतीय पर्यटन नगरी माउंट आबू में लगातार छह दिनों से सर्दी का टॉर्चर जारी है और तापमापी का पारा जमाव बिंदु से नीचे रिकॉर्ड हो रहा है. आज के तापमान की बात करें तो आज शहर का न्यूनतम तापमान माइनस 3 डिग्री रिकॉर्ड किया.

मैदानी इलाकों में बर्फ की परत देखने को मिल रही: 
वहीं शहर के मैदानी इलाकों में बर्फ की परत देखने को मिल रही है तो वहीं कारों की छतों पर यही आलम देखने को मिल रहा है. सर्दी के चलते जहां पर्यटक इन दिनों माउंट आबू आ रहे हैं और छोटे-छोटे जलाशयों में जमी बर्फ को हटाने का यहां पर आनंद भी लिया जा रहा है. 

आबूरोड में अनियंत्रित होकर चंद्रावती पुल से गिरा ट्रक, हादसे में तीन की मौत

आबूरोड में अनियंत्रित होकर चंद्रावती पुल से गिरा ट्रक, हादसे में तीन की मौत

सिरोही: सिरोही जिले के आबूरोड कस्बे से गुजरने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग पर चंद्रावती के नजदीक एक सड़क हादसा देर रात को पेश आया. जिसमें नागौर से चलकर गुजरात जाने वाला ट्रक अनियंत्रित होकर चंद्रावती पुलिया से गिर गया. जिसमें तीन लोगों की मौके पर ही मौत हो गई, वहीं इस पूरे हादसे में एक व्यक्ति घायल हो गया.

इस हादसे में मरने वालों में दो सगे भाई बताए जा रहे हैं. वहीं मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस उप अधीक्षक प्रवीण सेन भी मौके पर पहुंचे और हालात का जायजा लिया. हादसे के मृतकों के शव को आबूरोड की मोर्चरी में रखवा दिया गया हैं और घायल को उपचार के लिए राजकीय चिकित्सालय पहुंचाया. मिली जानकारी के अनुसार मूंग के बोरों से भरा ट्रक खिवताना से गुजरात के पालनपुर की तरफ जा रहा था.  
 

Open Covid-19