जयपुर में JJS ने फिर बिखेरी रंगीन रत्नों व ज्वैलरी की चमक

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/12/21 06:09

जयपुर। जयपुर के रंगीन रत्न व्यवसाय व ज्वैलरी कारोबार को गति व नई पहचान देने के उद्देश्य से शुक्रवार को बहुप्रतीक्षित जयपुर ज्वैलरी शो की शुरुआत हो गई है। चार दिवसीय JJS का उद्घाटन दुबई मल्टी कमोडिटीज सेंटर के कार्यकारी अध्यक्ष अहमद बिन सुलेयम ने फीता काटकर किया। जयपुर ज्वैलरी शो में प्रदर्शित ज्वैलरी व जवाहरात के अलावा बड़ी संख्या में चांदी, मोती और मशीनरी का भव्य प्रदर्शन किया गया है।

इस मौके पर जैम्स एण्ड ज्वैलरी एक्सपोर्ट काउंसिल के राष्ट्रीय अध्यक्ष प्रमोद अग्रवाल, GJC के राष्ट्रीय अध्यक्ष नितिन खण्डेलवाल, जयपुर ज्वैलर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष संजय काला, GIA इण्डिया की प्रबंध निदेशक निरुपमा, JJS आयोजन समिति के पदाधिकारी व बड़ी संख्या में ज्वैलर्स भी मौजूद रहे।

सीतापुरा औद्योगिक क्षेत्र स्थित जयपुर एग्जिब्यूशन एण्ड कन्वेंशन सेंटर पर दो हिस्सों में बांटे गए JJS में इस बार 825 बूथ लगी है, जो अब तक इस शो में लगी बूथों में सर्वाधिक है। उद्घाटन समारोह को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि DMCC के कार्यकारी अध्यक्ष अहमद बिन सुलेयम ने कहा कि इस शो में आने से दुबई व भारत के बीच ज्वैलरी व जवाहरात कारोबार में नए रिश्तों की शुरुआत होगी।

इस अवसर पर GJEPC के राष्ट्रीय अध्यक्ष प्रमोद अग्रवाल ने जयपुर में 5.50 करोड़ रुपए की लागत से नई लैबारेट्री शुरू किए जाने की घोषणा की। यह लैबोरेट्री अगले तीन माह में गतिविधियां शुरू करेगी। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए JJS आयोजन समिति के अध्यक्ष विमल चन्द सुराणा ने कहा कि इस बार अधिक संख्या में बूथें लगी हैं, जो इस बात का प्रमाण है कि JJS में क्वालिटी ग्राहक आते हैं।

JJS आयोजन समिति के सचिव राजीव जैन ने कहा कि हर साल JJS में बूथ की संख्या में बढ़ोतरी होती है। इस साल अब तक की सर्वाधिक बूथ लगी हैं। JJS की वेटिंग लिस्ट को देखते हुए उम्मीद है कि अगले साल इस संख्या में और बूथ लगेंगी। कार्यक्रम में शो की डायरेक्ट्री का विमोचन भी हुआ। समारोह का संचालन JJS संयुक्त सचिव व प्रवक्ता अजय काला ने किया।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in