Live News »

अयोध्या फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दायर करेगा AIMPLB, मस्जिद के लिए दूसरी जगह जमीन भी मंजूर नहीं

अयोध्या फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दायर करेगा AIMPLB, मस्जिद के लिए दूसरी जगह जमीन भी मंजूर नहीं

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ अयोध्या मामले में अपील दाखिल करने के मसले पर चर्चा के लिए आज ऑल इण्डिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) की बैठक हुई. बैठक के बाद ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल ला बोर्ड (AIMPLB) ने कहा है कि अयोध्या पर आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ वो पुनर्विचार याचिका करेगा. इसके अलावा AIMPLB ने कहा कि उसे मस्जिद के बदले दूसरी जगह पर दी जाने वाली 5 एकड़ जमीन भी मंजूर नहीं है. बैठक का आयोजन लखनऊ स्थित मुमताज कॉलेज में किया गया.

प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि बोर्ड फैसले को चुनौती देगा: 
बोर्ड के बैठक के बाद जफरयाब जिलानी, मौलाना महफूज़, शकील अहमद, इरशाद अहमद और एमार शमशाद ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि बोर्ड फैसले को चुनौती देगा. AIMPLB का कहना है कि वे दूसरी जमीन पाने के लिए अदालत नहीं गए थे, उन्हें वही जमीन चाहिए जहां पर बाबरी मस्जिद बनी थी. हाई वोल्टेज ड्रामे के बीच AIMPLB की रविवार को लंबी बैठक हुई. 

हम मस्जिद के एवज में ज़मीन या पैसे नहीं ले सकते: 
प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा गया कि बाबरी मस्जिद के फैसले में एक दूसरे से टकराने वाली बातें लिखी गई हैं. 5 एकड़ जमीन देने की बात कही गई है. मस्जिद जहां बना दी जाती है वहां मस्जिद ही रहती है. हम मस्जिद के एवज में ज़मीन या पैसे नहीं ले सकते. हमें दूसरी ज़मीन कुबूल नहीं है. AIMPLB ने कहा कि मुसलमान किसी दूसरे स्थान पर अपना अधिकार लेने के लिए उच्चतम न्यायालय नहीं गए थे, बल्कि मस्जिद की जमीन पाने के लिए सुप्रीम कोर्ट गए थे.


 

और पढ़ें

Most Related Stories

Corona Vaccine: भारत में सबसे ज्यादा उम्मीदें जगा रहीं ये तीन वैक्सीन

Corona Vaccine: भारत में सबसे ज्यादा उम्मीदें जगा रहीं ये तीन वैक्सीन

नई दिल्ली: केंद्र सरकार ने कोविड-19 वैक्‍सीन को लेकर ताजा जानकारी दी है. स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्री डॉ हर्षवर्धन के मुताबिक, देश में जो वैक्सीन कैंडिडेट्स हैं, उनमें से तीन ऐसी हैं जो फेज 1, 2 और 3 में पहुंच गई हैं. गुरुवार को उन्होंने राज्यसभा में बताया कि पीएम मोदी की गाइडेंस में एक्सपर्ट्स का एक ग्रुप भी बना है जो जो वैक्सीन से जुड़ी जानकारियों पर नजर रख रहा है. 

डॉ हर्षवर्धन ने उम्मीद जताते हुए बताया कि अगले साल की शुरुआत में भारत के भीतर कोविड-19 वैक्‍सीन उपब्लध हो जाना चाहिए. हालांकि इस दौरान उन्होंने यह भी कहा कि जब वैक्सीन आ जाएगी तो जादू की तरह एक मिनट में 135 करोड़ लोगों को लगाकर इम्‍युनिटी नहीं दे पाएगी, वैक्‍सीन तैयार होने में वक्‍त लगेगा. हषवर्धन ने यह तो नहीं बताया कि कौन सी तीन वैक्‍सीन कैंडिडेट्स हैं जो डेवलपमेंट में हैं, लेकिन भारत में फिलहाल कोविड-19 की कई वैक्‍सीन डेवलप हो रही हैं. ऐसे में हम आपको टॉप-3 वैक्सीन के बारे में बता रहे हैं...

{related}

सीरम इंस्टिट्यूट कर रहा 'कोविशील्‍ड' का ट्रायल: 
ICMR के महानिदेशक बलराम भार्गव के मुताबिक, सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया (SII) वैक्‍सीन का फेज 3 ट्रायल कर रहा है. इस वैक्सीन को यूनवर्सिटी और फार्मा कंपनी अस्‍त्राजेनेका मिलकर तैयार कर रही है. यह दुनिया की सबसे ऐडवांस्‍ड वैक्‍सीन कैंडिडेट्स में से एक है. सीरम इंस्टिट्यूट देशभर में 14 जगहों पर डेढ़ हजार लोगों पर इस वैक्‍सीन का ट्रायल करेगा. 

Covaxin वैक्सीन का फेज 2 ट्रायल जारी:
Covaxin वैक्‍सीन को इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) और भारत बायोटेक ने मिलकर तैयार किया है. पुणे के नैशनल इंस्टिट्यूट ऑफ वायरलॉजी (NIV) में कोरोना के एक स्‍ट्रेन को आइसोलेट कर Covaxin बनी है. यह एक 'इनऐक्टिवेटेड' वैक्‍सीन है. पिछले दिनों भारत बायोटेक ने बताया कि जानवरों पर यह वैक्‍सीन पूरी तरह से असरदार रही है. देश में फिलहाल इस वैक्सीन का फेज 2 ट्रायल चल रहा है. 

वैक्‍सीन ZyCov-D का इंसानों पर फेज 1 क्लिनिकल ट्रायल किया जा रहा:
जायडस कैडिला हेल्‍थकेयर की वैक्‍सीन ZyCov-D का इंसानों पर फेज 1 क्लिनिकल ट्रायल किया जा रहा है. देश में बनी इस वैक्‍सीन के ह्यूमन ट्रायल की परमिशन ड्रग्‍स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DGCI) ने जुलाई में दी थी. ये वैक्‍सीन पहले चूहों और खरगोश पर टेस्‍ट की गई है और उसका डेटा DGCI को सबमिट किया गया था.  
 

CoronaVirus in India: पिछले 24 घंटे में 96424 नए मामले सामने आए, संक्रमितों का आंकड़ा 52 लाख के पार

CoronaVirus in India: पिछले 24 घंटे में 96424 नए मामले सामने आए, संक्रमितों का आंकड़ा 52 लाख के पार

नई दिल्ली: भारत में लगातार तेजी से कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में इजाफा हो रहा है. स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के अनुसार, पिछले 24 घंटों में 96,424 नए कोरोना मामले दर्ज किए गए हैं. गुरुवार को 1174 मरीजों की जान गई ऐसे में मृतकों की संख्या बढ़कर 84,372 गई है. देश में संक्रमण के मामले बढ़कर 52,14,678 हो गए हैं, जिनमें से 10,17,754 लोगों का उपचार चल रहा है और 41,12,552 लोग उपचार के बाद इस बीमारी से उबर चुके हैं. 

कुल 6,15,72,343 नमूनों की जांच की गई:
आईसीएमआर की ओर से जारी आंकड़े के मुताबिक, देशभर में 17 सितंबर तक कुल 6,15,72,343 नमूनों की जांच की गई, जिनमें से गुरुवार को एक दिन में 10,06,615 नमूनों की जांच की गई.

{related}

मृत्यु दर में गिरावट:
राहत की बात है कि मृत्यु दर और एक्टिव केस रेट में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है. मृत्यु दर गिरकर 1.62% हो गई. इसके अलावा एक्टिव केस जिनका इलाज चल है उनकी दर भी घटकर 20% हो गई है. इसके साथ ही रिकवरी रेट यानी ठीक होने की दर 79% हो गई है. भारत में रिकवरी रेट लगातार बढ़ रहा है. 

दुनियाभर में कोरोना से 9.50 लाख लोगों की मौत:
दुनियाभर में कोरोना संक्रमण के मामलों की रफ्तार एक बार फिर तेजी से बढ़ने लगी है. लगातार दूसरे दिन दुनिया में तीन लाख से ज्यादा नए मामले आए हैं. वहीं कोरोना से मरने वालो का आंकड़ा साढ़े नौ लाख के पार पहुंच गया है. पिछले 24 घंटों में दुनिया में 3 लाख 6 हजार नए मामले सामने आए हैं और 5 हजार 432 लोगों की जान चली गई. राहत की बात ये है कि इनमें से दो करोड़ 20 लाख से ज्यादा लोग ठीक भी हुए हैं.
 

केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर का इस्तीफा मंजूर, तोमर को मिला अतिरिक्त प्रभार

केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर का इस्तीफा मंजूर, तोमर को मिला अतिरिक्त प्रभार

नई दिल्ली: पीएम मोदी से सलाह के बाद राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल का इस्तीफा स्वीकार कर लिया है. लोकसभा में तीन कृषि बिलों को पारित कराए जाने से नाराज हरसिमरत ने गुरुवार को मंत्रिपद से इस्तीफा दे दिया था. राष्ट्रपति ने केंद्रीय मंत्री परिषद से हरसिमरत का इस्तीफा संविधान के अनुच्छेद 75 के खंड (2) के तहत स्वीकार किया है. प्रधानमंत्री द्वारा सलाह-मशविरा के बाद राष्ट्रपति ने कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को खाद्य प्रसंस्करण मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार सौंपा है. 

विधेयकों पर सत्तारूढ़ राजग में फूट पड़ गई: 
कृषि संबंधी तीन अध्यादेशों को कानूनी जामा पहनाने संबंधी विधेयकों पर सत्तारूढ़ राजग में फूट पड़ गई है. विधेयक से जुड़े प्रावधानों पर नाराजगी जताते हुए केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने कल मोदी मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया था. इससे पहले लोकसभा में विधेयकों पर चर्चा के दौरान पार्टी अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल ने उनके इस्तीफे की घोषणा की थी. हालांकि उन्होंने कहा कि पार्टी एनडीए सरकार को समर्थन जारी रखेगी. 

{related}

इस्तीफे की जानकारी हरसिमरत कौर बादल ने ट्वीट कर दी: 
बता दें कि मोदी कैबिनेट से अपने इस्तीफे की जानकारी हरसिमरत कौर बादल ने ट्वीट कर दी थी. अपने ट्वीट में उन्होंने कहा कि मैंने किसान विरोधी अध्यादेशों और कानून के विरोध में केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया है. किसानों के साथ उनकी बेटी और बहन के रूप में खड़े होने का गर्व है. हरसिमरत कौर बादल केंद्रीय खाद्य एवं प्रसंस्करण उद्योग मंत्री थीं. यह फैसला इसलिए लिया गया क्योंकि बीजेपी की सहयोगी शिरोमणि अकाली दल अध्यादेश का विरोध कर रही है.


 

कृषि से जुड़े बिल को लेकर नाराज अकाली दल, केन्द्रीय मंत्री हरसिमरत कौर ने दिया इस्तीफा

कृषि से जुड़े बिल को लेकर नाराज अकाली दल, केन्द्रीय मंत्री हरसिमरत कौर ने दिया इस्तीफा

नई दिल्ली: कृषि से जुड़े बिल को लेकर केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर ने इस्तीफा दे दिया है. किसानों को लेकर लाए जा रहे बिल के विरोध में हरसिमरत कौर ने मंत्रिमंडल छोड़ दिया है. हरसिमरत कौर ने प्रधानमंत्री कार्यालय इस्तीफा भेजा है. 3 कृषि विधेयकों को लेकर आज ही लोकसभा में वोटिंग होनी है. पंजाब के अकाली दल से ताल्लुक रखने वाली हरसिमरत कौर खाद्य प्रसंस्करण मंत्री हैं. 

किसान बिल को लेकर पंजाब में जबरदस्त प्रदर्शन:
कौर के इस्तीफे के बाद अकाली दल ने कहा कि केंद्र सरकार को समर्थन जारी रहेगा. इसमें कोई परिवर्तन आने नहीं जा रहा है. आपको बता दें कि किसान बिल को लेकर पंजाब में जबरदस्त प्रदर्शन हो रहे हैं. किसान सड़कों पर हैं और केंद्र सरकार के इस बिल का विरोध कर रहे हैं. 

{related}

पंजाब की कांग्रेस सरकार ने किया किसानों का समर्थन:
पंजाब की कांग्रेस सरकार ने किसानों का समर्थन किया है.वहीं, पहले तो अकाली दल इस बिल के पक्ष में था, लेकिन लगातार हो रहे प्रदर्शनों के बीच अकाली दल ने यूटर्न लिया और बिल का विरोध करना शुरू किया. इसके बाद हरसिमरत कौर को इस्तीफा देना पड़ा है. 

रणदीप सुरजेवाला ने की पीएम मोदी पर अपमान जनक​ टिप्पणी, कहा-मोदी जी ऐसे अहंकारी शासक हैं... 

रणदीप सुरजेवाला ने की पीएम मोदी पर अपमान जनक​ टिप्पणी, कहा-मोदी जी ऐसे अहंकारी शासक हैं... 

नई दिल्लीः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 70वें जन्म दिन के अवसर पर देशभर से बधाई और शुभकामनाएं संदेश मिल रहे हैं. वहीं कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने पीएम मोदी के लिए अपमान जनक टिप्पणी की है. सुरजेवाला ने पीएम मोदी की तुलना बंदर से की. सुरजेवाला ने ट्वीट करते हुए कहा कि अबकी बार-बंदर के हाथ में उस्तरा सरकार. कितने प्रवासी मजदूर मरे - पता नहीं. ये हैं मोदी सरकार के संसद में जवाब. इसीलिए तो देश कैसे चलाते हैं- इन्हें पता नहीं. अबकी बार- बंदर के हाथ में उस्तरा सरकार.

देश भाजपा की सात पुश्तों को नही करेगा माफ: 
सुरजेवाला ने कहा कि बड़े से बड़ा निरंकुश शासक भी जन्मदिन पर रहमदिल व्यवहार करता है. मोदी जी ऐसे अहंकारी शासक हैं जिन्होंने अपने 70वें जन्मदिन पर काला क़ानून बना किसान-मज़दूर की आजीविका छीन ली. खेत खलिहान पर किए इस क्रूर आक्रमण के लिए देश भाजपा की सात पुश्तों को माफ़ नही करेगा.

{related}

सुरजेवाला ने ट्वीट के साथ लगाई खबरों की कटिंग:
सुरजेवाला ने अपने ट्वीट के साथ खबरों की कटिंग लगाई है, जिनमें सरकार से पूछे गए सवाल थे. इसी ट्वीट के करते हुए रणदीप सुरजेवाला ने यह अपमानजनक टिप्पणी कर दी. पीएम मोदी के जन्मदिन के दिन कांग्रेस केंद्र सरकार को कई मुद्दों पर घेर रही है.

एक यूजर ने सोनू सूद से की मांग, कहा-बिहार चुनाव के लिए BJP से टिकट दिलवा दो, अभिनेता ने दिया ये जवाब

एक यूजर ने सोनू सूद से की मांग, कहा-बिहार चुनाव के लिए BJP से टिकट दिलवा दो, अभिनेता ने दिया ये जवाब

नई दिल्ली: बॉलीवुड के अभिनेता सोनू सूद ने कोरोना संकट के दौरान लगातार जरूरतमंद लोगों की मदद कर रहे हैं. अब देशभर में अनलॉक शुरू हो गया, जब भी सोनू सूद आमजन की मदद कर रहे है. सोशल मीडिया पर मदद की गुहार लगाने वाले लोगों की सोनू सूद लगातार मदद कर रहे है. अभिनेता सोनू सूद की खास बात यह है कि अकसर फैंस ट्वीट करके उनसे मदद की गुहार लगाते है, तो वे लोगों का रिप्लाई भी बखूबी करते हैं. आपको बता दें कि जब सोनू सूद से एक व्यक्ति ने बिहार चुनाव के लिए टिकट की मांग कर दी, जिसका उन्होंने ने बखूबी जवाब दिया.

सोनू सर आप सिर्फ मुझे भाजपा से टिकट दिला दो:
सोनू सूद से मदद मांगते हुए व्यक्ति ने ट्वीट करते हुए कहा कि सर इस बार हमें बिहार के ( भागलपुर ) से विधानसभा चुनाव लड़ना हैं. और जीत कर सेवा करना है, बस सोनू सर आप सिर्फ मुझे भाजपा से टिकट दिला दो. वहीं सोनू सूद ने इसका रिप्लाई जवाब देते हुए लिखा, बस, ट्रेन और प्लेन की टिकट के अलावा  मुझे कोई टिकट दिलवाना नहीं आता मेरे भाई. सोनू सूद ने इस तरह शख्स को जवाब दिया कि वो इस तरह का टिकट नहीं दिलवाते हैं. उनके इस ट्वीट पर लोगों के खूब रिएक्शन आ रहे हैं.

{related}

लॉकडाउन के दौरान सोनू सूद ने की मदद:
गौरतलब है कि देश में कोरोना की वजह से लगाए गए लॉकडाउन के दौरान सोनू सूद ने आमजन की खूब मदद की. इस दौरान उन्होंने शहरों में फंसे मजदूरों को सही सलामत उनके घर पहुंचाने के लिए बस और ट्रेन की व्यवस्था की. इसके साथ ही उन्होंने विदेशों में फंसे छात्रों को भी भारत वापस लौटने के लिए प्लेन बुक किया. वहीं सोनू सूद ने कोरोना वॉरियर्स के लिए जूहू में स्थित अपना होटल भी दान कर दिया था. कोरोना संकट के दौरान सोनू सूद ने लोगों को खाना भी बांटा. सोनू सूद महामारी के दौरान मजदूरों के लिए मसीहा बनकर सामने आये है. 

VIDEO: एक्ट्रेस कंगना रनौत ने पीएम मोदी को दी जन्मदिन की बधाई, कहा- मुझे आपसे कभी बात करने का मौका नहीं मिला

VIDEO:  एक्ट्रेस कंगना रनौत ने पीएम मोदी को दी जन्मदिन की बधाई, कहा- मुझे आपसे कभी बात करने का मौका नहीं मिला

नई दिल्ली: आज देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपना 70वां जन्मदिन मना रहे हैं.  आज सुबह से ही सोशल मीडिया पर आम से लेकर खास तक पीएम मोदी को जन्मदिन की बधाई और शुभकामनाएं दे रहे है. वहीं, इस मौके पर बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत ने ट्विटर पर एक वीडियो के जरिए पीएम मोदी को जन्मदिन की शुभकामनाएं दी हैं. 

प्रधानमंत्री जी आपको जन्म दिवस की बहुत बहुत बधाई:
कंगना ने एक वीडियो पोस्ट करते हुए कहा, 'माननीय प्रधानमंत्री जी आपको जन्म दिवस की बहुत बहुत बधाई. मुझे आपसे कभी बात करने का मौका नहीं मिला. हम जब भी मिले हैं फोटोज के लिए मिले, लेकिन मैं आपसे कहना चाहती हूं कि ये देश आपको बहुत सराहता है. मुझे पता है कि बहुत सी ऐसी आवाजें हैं, बहुत सारा शोर हैं, जितना अनफेयरली आपको ट्रीट किया जाता है, शायद ही किसी को इतनी गंदी बातें कही जाती हों, इतना अपमान किया जाता हो, खासकर कि किसी प्रधानमंत्री को तो शायद ही कोई इतने अभद्र शब्द और गलत बातें बोलते होंगे, लेकिन आप जानते हैं कि वो बहुत कम लोग हैं. वो बस एक प्रोपगेंडा है.

{related}

हम भाग्यशाली हैं कि हमें आप जैसे प्रधानमंत्री मिले:
कंगना रनौत ने आगे कहा कि, जब मैं साधारण भारतीयों को देखती हूं तो मुझे नहीं लगता कि इतना सम्मान, इतनी भक्ति, प्रेम शायद ही किसी प्रधानमंत्री को मिला है. मैं बस इतना ही कहना चाहती हूं कि वो जो करोड़ों भारतीय सोशल मीडिया पर नहीं है वो सब आपकी लंबी उम्र की प्रार्थना कर रहे हैं. हम बहुत ही भाग्यशाली हैं कि हमें आप जैसे प्रधानमंत्री मिले हैं.
 
गुजरात के मेहसाणा में हुआ था पीएम मोदी का जन्म:
आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का जन्म गुजरात के मेहसाणा जिले के वडनगर में हीराबेन और दामोदरदास मोदी के घर हुआ था. पीएम मोदी ने बचपन से ही संघर्ष किया. यह उनके संघर्षों का ही परिणाम ही है कि आज वे विश्वभर में एक प्रभावशाली नेता के तौर पर जाने जाते हैं.

संसद में बोले रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, दुनिया की कोई ताकत नहीं रोक सकती सेना को गश्त करने से

 संसद में बोले रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, दुनिया की कोई ताकत नहीं रोक सकती सेना को गश्त करने से

नई दिल्ली: संसद का मॉनसून सत्र का आज चौथा दिन है. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने गुरुवार को पूर्वी लद्दाख में बने सैन्य गतिरोध की स्थिति पर राज्यसभा में वक्तव्य देते हुए कहा कि सेना पूरी मजबूती और ­दढता के साथ मातृभूमि की रक्षा कर रही है. राजनाथ सिंह ने कहा कि भारत ने कभी भी किसी पर आक्रमण नहीं किया है और वह सभी मुद्दों का समाधान शांतिपूर्ण बातचीत से करने का पक्षधर रहा है. उन्होंने स्पष्ट किया कि इस रुख को भारत की कमजोरी नहीं समझा जाना चाहिए क्योंकि वह अपनी मातृभूमि की रक्षा करने में पूरी तरह समर्थ और सक्षम है.

सेना को गश्त करने से दुनिया की कोई ताकत नहीं रोक सकती:
राजनाथ सिंह ने पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ गत 4 माह से चल रही तनातनी के बीच देशवासियों को आश्वस्त किया कि देश की एकता, संप्रभुता और अखंडता के साथ कोई समझौता नहीं किया जाएगा और सेना को सीमा पर गश्त लगाने और उसकी रक्षा करने से दुनिया की कोई ताकत नहीं रोक सकती. 

{related}

राजनाथ सिंह ने दिया स्पष्टीकरण:
सदस्यों की ओर से मांगे गए स्पष्टीकरण का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि भारतीय सैनिक परंपरागत रूप से वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास जहां भी गश्त करते रहे हैं, वहां उन्हें गश्त लगाने से दुनिया की कोई ताकत नहीं रोक सकती. राजनाथ सिंह ने कहा कि वह सदस्यों को आश्वस्त करना चाहते हैं कि सेना के गश्त के पैटर्न में किसी तरह का बदलाव नहीं होगा.

सरकार रख रही है सैनिकों की सभी जरूरतों का ध्यान:
उन्होंने चीन के साथ गतिरोध से उत्पन्न स्थिति पर सदस्यों द्बारा एकजुटता जताये जाने पर उनका आभार व्यक्त किया और कहा कि सरकार सैनिकों की सभी जरूरतों का ध्यान रख रही है और इससे सेना को यह संदेश मिलेगा कि देश और संसद उसके साथ खड़ी है.

Open Covid-19