दिल्ली का दम घुटा, WHO ने जारी की रिपोर्ट

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/10/31 06:13

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली में बढ़ते वायु प्रदूषण का असर बहुत ही खतरनाक साबित हो रहा है। इन दिनों दिल्ली में विजिब्लिटी का प्रतिशत काफी कम पड़ गया है। इसका कारण आस-पास के राज्यों में जलाई जा रही पराली को माना जा रहा है। इसके लिए प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड ने किसानों के लिए निर्देश जारी किए हैं। इसी बीच विश्व स्वास्थ संगठन ने एक रिपोर्ट जारी की है।

इस रिपोर्ट के मुताबिक 2016 में भारत में पांच साल से कम उम्र के करीब एक लाख बच्चों की जहरीली हवा के प्रभाव में आने से मौत हो गई। साथ ही, इसमें बताया गया कि निम्न एवं मध्यम आय-वर्ग के देशों में पांच साल से कम उम्र के 98 फीसद बच्चे 2016 में हवा में मौजूद महीन कण से होने वाले वायु प्रदूषण के शिकार हुए। समाचार चैनल एनडीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक WHO की रिपोर्ट मे ये भी बताया गया है कि दुनिया के 20 सबसे प्रदूषित शहरों में 14 भारत के हैं।

वहीं सोमवार को सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में प्रदूषण की स्थिति को ‘बहुत ही चिंताजनक’ बताते हुए निर्देश दिया कि पेट्रोल से चलने वाले 15 साल पुराने और डीजल से चलने वाले 10 साल वाहनों की सूची सेंट्रल पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड और परिवहन विभाग की वेबसाइट पर प्रकाशित की जाए।

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड यानि CPCB के अधिकारियों ने बताया कि आज दिल्ली में AQI 262 और 10 बजे का  आंकड़ा 283 दर्ज किया गया, जो 'गंभीर' श्रेणी में आता है। स बीच, अधिकारियों ने निर्माण गतिविधियों पर प्रतिबंध लगाने के साथ - साथ एक से 10 नवंबर के बीच ईंधन के रूप में कोयला और बायोमास के इस्तेमाल पर रोक लगा दी है।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in