अलवर अलवर: मूकबधिर नाबालिग बालिका से रेप कर रोड पर फेंका, प्राइवेट पार्ट से खून बहता रहा; हालत गंभीर

अलवर: मूकबधिर नाबालिग बालिका से रेप कर रोड पर फेंका, प्राइवेट पार्ट से खून बहता रहा; हालत गंभीर

अलवर: जिले में एक बड़ी घटना सामने आई है जिसमें एक मानसिक रूप से विक्षिप्त बालिका को पहले तो उठाया गया और उसे सेक्सुअल एसॉल्ट के बाद पुलिया पर फेंक दिया गया. प्राथमिक तौर पर यह नजर आता है कि आरोपियों ने गाड़ी से धक्का मार कर पीड़िता को फेंक दिया. तिजारा पुलिया पर एक राहगीर ने बेहोश अवस्था में पड़ी पीड़िता को देखा तो शिवाजी पार्क थाना पुलिस को सूचना दी. जिसके बाद पुलिस मौके पर पहुंची और पीड़िता को अस्पताल में भर्ती कराया गया. 

इस दौरान पीड़िता के प्राइवेट पार्ट से खून बह रहा था अस्पताल में चिकित्सकों की ओर से उपचार किया गया. अलवर एसपी तेजस्विनी गौतम और एएसपी सरिता सिंह, श्रीमन मीणा समेत कई थानाधिकारी और सीओ भी मौके पर पहुंचे अस्पताल पहुंचकर पीड़िता के हाल जाने. जिला कलेक्टर नन्नू मल पहाड़िया और एडीएम सुनीता पंकज, वन्दना खोरवाल ने पीड़िता के हाल जाने. चिकित्सकों से बातचीत के बाद पीड़िता को जयपुर रेफर किया गया डॉक्टर केके मीणा की ओर से पीड़िता का उपचार किया गया. बालिका को सर्जरी की जरूरत है जिसके लिए जयपुर के एसएमएस अस्पताल में संभागीय आयुक्त दिनेश यादव ने बातचीत की और उसके बाद रेफर किया गया. 

कहा जा रहा है कि बच्ची के प्राइवेट पार्ट में कोई नुकीली चीज का उपयोग किया गया जिससे उसे घाव हो गया और खूब खून बहा. अलवर अस्पताल में दो यूनिट ब्लड चढ़ाया गया और एक यूनिट ब्लड साथ देकर उसे रेफर किया गया. बालिका अलवर जिले की निवासी है और मानसिक रूप से विक्षिप्त है. बस मां पापा जैसे शब्द ही बोल पाती है. पीड़िता के माता-पिता और चाचा भी उसके साथ जयपुर रवाना हुए अलवर में जिसने भी घटना को सुना घटना की भर्त्सना की. 

घटना ने दिल्ली के निर्भया कांड की याद दिला दी: 
पुलिस ने आरोपियों को तलाशने के लिए टीमें रवाना कर दी हैं. अलवर पुलिस अधीक्षक तेजस्विनी गौतम ने कहा कि 5 टीमें लगाई गई हैं और थाने में पीड़िता के चाचा की ओर से मुकदमा दर्ज कराया गया है. जिसमें पहले बालिका के लापता होने और उसके बाद सामान्य अस्पताल में होने की सूचना पर जब अस्पताल पहुंचे तो पाया कि बालिका के साथ ऐसा वाकया हुआ है. बालिका के परिजनों द्वारा कहा गया है कि वह शाम 5:00 बजे बाद लापता हो गई थी. घटना ने दिल्ली के निर्भया कांड की याद दिला दी हैं जिसके बाद भारत में नाबालिग बालिकाओं से होने वाले यौन अपराधों पर कठोर कानून भी बनाया गया. लेकिन अलवर में एक और नाबालिग जो मानसिक रूप से विक्षिप्त भी है ऐसे ही यौन अपराध का शिकार हुई है.

और पढ़ें