27 साल पूर्व की थी गहलोत ने स्थापना, बना रहा युवाओं का भविष्य सुनहरा

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/12/15 11:49

जोधपुर। राजस्थान में तीसरी बार प्रदेश के मुख्यमंत्री का दायित्व संभालने को तैयार अशोक गहलोत के गृह जिले में खुशी का कोई ठिकाना नहीं है। हर कोई दिल से बधाई और दुआएं देता नजर आ रहा है, जिसमें आईएएस, आरएएस, आरपीएस और आरजेएस की तैयारी करने वाले वे प्रतियोगी छात्र छात्राएं भी शामिल हैं, जिनका राजनीति से कोई सरोकार नहीं है। लेकिन वे सभी गहलोत द्वारा 27 साल पूर्व स्थापित किए गए सामाजिक संगठन भारत सेवा संस्थान में नि:शुल्क रूप से अपना भविष्य बनाने के लिए अध्ययन कर रहे हैं।

बहुत कम लोग जानते होंगे कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सामाजिक क्षेत्र में हर जरूरतमंद की मदद करने के उद्देश्य से 27 साल पूर्व भारत सेवा संस्थान की स्थापना कर नि:शुल्क रूप से आईसीयू एम्बुलेंस सेवाओं से लेकर नि:शुल्क चिकित्सा एवं जांच शिविर के अलावा दिव्यांगों के लिए तो शिविर नियमित रूप से आयोजित किए ही जा रहे हैं। लेकिन उन सबसे बढ़कर उन युवाओं के लिए अध्ययन का एक ऐसा माहौल नि:शुल्क रूप से विकसित किया गया, जिससे अब तक एक दर्जन से अधिक आईएएस, 50 से अधिक आरएएस, 60 से अधिक लेक्चरर और अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं में सैकड़ों की संख्या में युवाओं ने सफलता हासिल कर अपना भविष्य सुनहरा बनाया है।

जोधपुर के पावटा में स्थित राजीव गांधी सेवा सदन शुरू से ही प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों की पहली पसंद बना हुआ है। भारत सेवा संस्थान की ओर से छात्रों की समस्याओं को ध्यान में रखते हुए यहां राजीव गांधी सेवा सदन प्रतियोगी परीक्षा अध्ययन केंद्र एवं लाइब्रेरी की स्थापना की गई। प्रतियोगिता के इस दौर में छात्रों के सामने कई समस्याएं हैं। सबसे बड़ी समस्या घर में पढ़ने का माहौल न मिल पाना और अच्छी किताबों का अभाव है। ऐसे में राजीव गांधी सेवा सदन प्रतियोगी परीक्षा अध्ययन केंद्र छात्रों की काफी मदद कर रही है।

भारत सेवा संस्थान के समन्वयक जसवंत सिंह कच्छवाहा और प्रभारी नरपत सिंह कच्छवाहा की देखरेख में नियमित रूप से चल रहे इस अध्ययन केन्द्र में आज भी सैकड़ों की संख्या में युवा प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं। गहलोत के तीसरी बार मुख्यमंत्री बनने के मौके इन युवाओं ने दिल खोलकर गहलोत को दुआएं तो दी ही, साथ ही उनके द्वारा जरूतमंदों के लिए किए जा रहे पुनीत कार्यों के लिए साधूवाद भी दिया।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in