Live News »

राजीव गांधी सेवा केंद्रों का नाम बदलने पर बोले सीएम गहलोत

राजीव गांधी सेवा केंद्रों का नाम बदलने पर बोले सीएम गहलोत

जयपुर। राजस्थान में 15वीं विधानसभा के पहले सत्र में आज प्रश्नकाल के दौरान सदन में कई मुद्दों की गूंज सुनाई दी। इससे इतर सूबे के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पूववर्ती भाजपा सरकार द्वारा राजीव गांधी सेवा केन्द्रों का नाम बदलकर अटल सेवा केन्द्र किए जाने को लेकर अपनी राय रखी और इसमें कोई तुक होने से इन्कार किया है। गहलोत ने कहा कि नाम बदलने से देश में कटुता और माहौल खराब होता है।

राजीव गांधी सेवा केन्द्रों का नाम बदलने को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि भाजपा सरकार ने नामों को बदलने में कसर नहीं छोड़ी। ये लोग नाम बदलकर आगे बढ़ना चाहते हैं, लेकिन नाम बदलने से देश में कटुता और माहौल खराब होता है। भाजपा यहां तो भुगत चुकी, अब केंद्र में भी भुगतना पड़ेगा। वहीं उन्होंने आबकारी मामले को लेकर कहा कि भाजपा सरकार ने लूट मचाई और भ्रष्टाचार के सभी रिकॉर्ड तोड़ दिए।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि भाजपा के राज में इन्होंने पूरी मशीनरी को भ्रष्ट कर दिया। इसके साथ ही शराब के मामले को लेकर उन्होंने कहा कि इन्होंने शराब की कीमत से दोगुने दाम वसूले और जनता की जेब का पैसा इन्होंने निकलवाया। इन्होंने जो कारनामे किए, उनको अब हम ठीक करेंगे।

वहीं दूसरी ओर, अटल सेवा केंद्र का नाम बदलने के मामले में विधायक कालीचरण सराफ ने कहा कि दुर्भाग्य की बात है कि कांग्रेस को एक ही परिवार दिखता है, देश में सिर्फ एक ही परिवार नहीं है। इससे सरकार का जनता में अच्छा मैसेज नहीं जाएगा। सराफ ने कहा कि संघ-शाखाओं को इंदिरा गांधी ही नहीं बंद कर पाई, तो उनकी क्या बिसात है, RSS सबसे बड़ा संगठन है।

और पढ़ें

Most Related Stories

10 वीं और 12 वीं बोर्ड परीक्षाएं स्थागित करने से हाईकोर्ट ने किया इनकार, केन्द्र और राज्य सरकार की गाइडलाइंस के अनुसार परीक्षा कराने के निर्देश

10 वीं और 12 वीं बोर्ड परीक्षाएं स्थागित करने से हाईकोर्ट ने किया इनकार, केन्द्र और राज्य सरकार की गाइडलाइंस के अनुसार परीक्षा कराने के निर्देश

जयपुर: कोरोना महामारी के बची मार्च माह में स्थगित की गयी 10 वीं और 12 वीं की बोर्ड परीक्षाओं को ओर अधिक समय के लिए स्थगित करने से राजस्थान हाईकोर्ट ने इनकार कर दिया है. पब्लिक अगेस्ट करप्शन संस्था की ओर से दायर जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए मुख्य न्यायाधीश् इन्द्रजीत महांति और जस्टिस सतीश शर्मा की खण्डपीठ ने राज्य सरकार को आदेश दिये है कि वो केन्द्र सरकार और राज्य सरकार द्वारा जारी कि गयी गाईडलाईन की सख्ती से पालना कराते हुए परीक्षाओं का आयोजन कराये. गौरतलब है एडवोकेट पूनमचंद भण्डारी ने पब्लिक अगेस्ट करप्शन संस्था की ओर से जनहित याचिका दायर करते हुए राज्य में कोरोना वायरस के बढते संक्रमण के चलते आरबीएसई और सीबीएसई की 10 और 12 वी की बोर्ड परीक्षाएं स्थगित करने की गुहार लगायी थी. याचिका में कहा गया कि प्रदेशभर में अगर 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं कराई जाती है तो इससे कोरोना संक्रमण फैलने का खतरा कई गुना बढ़ जाएगा. संस्था की ओर से अधिवक्तता पूनमचंद भंडारी, टीएन शर्मा और अन्य अधिवक्ताओं ने पैरवी की.

Coronavirus Vaccine बनाने में अब एक और कंपनी ने जगाई दुनिया की उम्मीदें, अक्टूबर के अंत तक हो सकती है तैयार  

25 लाख स्टूडेंट्स और 2 लाख स्टाफ होगा शामिल:
याचिका में कहा गया है कि देशभर में होने वाली इन बोर्ड परीक्षाओं में करीब लाखों लाख स्टूडेंट्स और 3 लाख टीचर्स स्टाफ शामिल होंगे. वहीं राज्य में भी दोनो बोर्ड की परीक्षाओं में बड़ी तादाद में स्टूडेंट और टीचर्स शामिल होगे. इतने लोगों के परीक्षा केंद्रों पर उपस्थित होने पर सोशल डिस्टेंसिंग की पालना संभव नहीं है. इसके अलावा परीक्षा से पूर्व इतने स्टूडेंट्स की जांच भी संभव नहीं है. उनके लिए करीब 80 हजार से ज्यादा वाहनों की जरूरत होगी. परीक्षा के लिए बड़ी मात्रा में पेपर और उत्तर पुस्तिकाओं को सेनेटाइज करना भी संभव नहीं है. ऐसे में परीक्षाओं को रद्द करके स्टूडेंट्स को अगली कक्षा में प्रमोट किया जाना चाहिए.

जयपुर एयरपोर्ट से आज 20 में से 12 फ्लाइट रद्द, 6 दिन बाद एयरलाइन्स पहुंची पहले दिन के संचालन पर 

जून माह में होगी बोर्ड परीक्षाएं:
राज्य में माध्यमिक शिक्षा की ओर से 10 वीं और 12वीं की बची हुई बोर्ड परीक्षाएं जून में ही होंगी. शिक्षा विभाग और माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने बोर्ड परीक्षाओं की तैयारीया शुरू कर दी है. शुक्रवार केा मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की शिक्षा विभाग के अधिकारियों के साथ हुई बैठक के कोविड-19 महामारी के कारण स्थगित की गई 10वीं और 12वीं परीक्षाओं को कराने का फैसला किया है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इसके लिए शिक्षा विभाग के अधिकारियों को समुचित व्यवस्थाएं करने के निर्देश दिए हैं. सभी परीक्षा केन्द्रों पर परीक्षार्थियों और अध्यापकों द्वारा मास्क तथा सेनिटाइजर के उपयोग की अनिवार्यता सुनिश्चित की जायेगी.  
 

नहरी किसानों के लिए राहत की खबर, आज से 30 जुलाई तक मिलेगा खरीफ का पानी

नहरी किसानों के लिए राहत की खबर, आज से 30 जुलाई तक मिलेगा खरीफ का पानी

जैसलमेर: भारत पाक सीमा से सटे सरहदी जिले जैसलमेर के नहरी किसानों के लिए अच्छी खबर है कि अब उन्हें आगामी एक महीने तक खरीफ की फसलों के लिए पानी दिया जाएगा. हालांकि पहले सरकार द्वारा रेगुलेशन के तहत 26 अप्रैल से 30 मई तक पानी दिया जाना था, लेकिन रेगुलेशन में संशोधन करते हुए सरकार ने 30 मई से आगामी 30 जुलाई तक किसानों को खरीफ की फसल व पेयजल के लिए पानी उपलब्ध करवाया जाएगा. 

Coronavirus Vaccine बनाने में अब एक और कंपनी ने जगाई दुनिया की उम्मीदें, अक्टूबर के अंत तक हो सकती है तैयार

सिंचाई के लिए 30 मई से 30 जुलाई तक पानी दिया जाएगा:
इंदिरा गांधी नहर परियोजना की नहरों को खरीफ फसलों के दौरान सिंचाई के लिए 30 मई से 30 जुलाई तक पानी दिया जाएगा. नहरों के 4 समूह में से इन अवधि में दो समूह चलाएं जाएंगे. जिसमें जैसलमेर व पोकरण भी शामिल है. इसके साथ ही बाड़मेर लिफ्ट परियोजना के लिए भी पानी छोड़ा जाएगा. विभाग ने काश्तकारों से अपील की है कि सिंचाई पानी की मात्रा को ध्यान में रखते हुए कम पानी के उपयोग वाली फसलों की सिंचाई करे. इंदिरा गांधी नहर परियोजना जैसलमेर संभाग में बुर्जी 1254 मुख्य नहर के नीचे बारी प्रणाली, द्वितीय चरण के रेगुलेशन के लिए जल नहरों में सिंचाई के लिए दिया जाएगा. नहरबंदी के बाद अब किसानों को सिंचाई के लिए पानी रविवार से नियमित रूप से मिलेगा.

जयपुर एयरपोर्ट से आज 20 में से 12 फ्लाइट रद्द, 6 दिन बाद एयरलाइन्स पहुंची पहले दिन के संचालन पर 

किसानों ने भी खरीफ की बुआई की तैयारियां शुरू कर दी:
अब सिंचाई के लिए इंदिरा गांधी मुख्य नहर से जुड़ी नहरों के चार में दो समूह में पानी चलाया जाएगा ताकि खरीफ फसल की बुआई की जा सके. नहरों में दो समूह में चलने वाला पानी एक समूह में साढ़े आठ दिन तक चलता है. इसके बाद दूसरा समूह शुरू होता है. इसी क्रम से नहरी पानी का शिड्यूल 34 दिनों तक निर्धारित होता है. उधर सिंचाई पानी का बेसब्री से इंतजार कर रहे किसानों ने भी खरीफ की बुआई की तैयारियां शुरू कर दी है. पंजाब के साथ अब राजस्थान सीमा में भी नहर की मरम्मत नहीं होगी क्योंकि 4 समूह में पानी देने के लिए नहर में हरिके से 11 हजार 500 क्यूसेक पानी छोड़ा जाना है. इतने पानी में नहर का जलस्तर ज्यादा रहेगा, जिससे किसी भी प्रकार की मरम्मत संभव नहीं है.  

Coronavirus Vaccine बनाने में अब एक और कंपनी ने जगाई दुनिया की उम्मीदें, अक्टूबर के अंत तक हो सकती है तैयार

Coronavirus Vaccine बनाने में अब एक और कंपनी ने जगाई दुनिया की उम्मीदें, अक्टूबर के अंत तक हो सकती है तैयार

नई दिल्ली: कोरोना वैक्सीन तैयार करने को लेकर कई देशों में शोध चल रहा है. इसी बीच अब एक और कंपनी ने वैक्सीन बनाने में उम्मीदें जगा दी है. वियाग्रा जैसी दवाओं का आविष्कार करने वाली अमेरिकन फार्मास्यूटिकल कंपनी Pfizer ने दावा किया है कि इस साल अक्टूबर के अंत तक इसकी वैक्सीन बनकर तैयार हो जाएगी. 

जयपुर एयरपोर्ट से आज 20 में से 12 फ्लाइट रद्द, 6 दिन बाद एयरलाइन्स पहुंची पहले दिन के संचालन पर 

अक्टूबर के अंत तक वैक्सीन तैयार हो जाएगी: 
कंपनी के सीईओ के मुताबिक, अगर सबकुछ ठीक रहा तो अक्टूबर के अंत तक वैक्सीन तैयार हो जाएगी. इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि एक गुणकारी और सुरक्षित वैक्सीन के लिए हम भरपुर प्रयास कर रहे हैं. Pfizer जर्मनी की फर्म बायोन्टेक के साथ यूरोप और संयुक्त राज्य अमेरिका में कई संभावित वैक्सीन को लेकर काम कर रहा है.

कंपनी चार अलग-अलग वैक्सीन पर काम कर रही: 
Pfizer कंपनी फिलहाल चार अलग-अलग वैक्सीन पर काम कर रही है. ऐसे में जून जुलाई तक यह साफ हो जाएगा कि कौन सी वैक्सीन सबसे ज्यादा कारगर और सुरक्षित है. इसके लिए डाटा इकट्टा कर उसका विश्लेषण किया जा रहा है. 

राज्य के प्रधान मुख्य वन संरक्षक हाईकोर्ट में तलब, 8 माह पूर्व पकड़े गये एक ट्रक से जुड़ा पूरा मामला 

पूरे विश्व में 120 वैक्सीन पर काम चल रहा:
बता दें कि दुनियाभर में कई दवा कंपनियां और वैज्ञानिक दिन रात एक कर वैक्सीन बनाने में जुटे हुए हैं. WHO के अनुसार इस समय पूरे विश्व में 120 वैक्सीन पर काम चल रहा है. वहीं दूसरी ओर अमेरिकी स्वास्थ्य अधिकारियों की माने तो नई वैक्सीन तैयार होने में अभी एक से डेढ़ साल का समय लग सकता है. लेकिन Covid-19 जैसी महामारी वाली विशेष परिस्थितियों में एक्सपेरिमेंटल वैक्सीन कामयाब हो सकती हैं. 
 

जयपुर एयरपोर्ट से आज 20 में से 12 फ्लाइट रद्द, 6 दिन बाद एयरलाइन्स पहुंची पहले दिन के संचालन पर

जयपुर एयरपोर्ट से आज 20 में से 12 फ्लाइट रद्द, 6 दिन बाद एयरलाइन्स पहुंची पहले दिन के संचालन पर

जयपुर: कोरोना महामारी के चलते प्रभावित हुआ फ्लाइट्स का संचालन गति नहीं पकड़ पा रहा है. 25 मई को जयपुर एयरपोर्ट से 8 फ्लाइट्स के संचालन के साथ हवाई सेवा की शुरुआत हुई थी. उम्मीद की जा रही थी कि आगामी दिनों में यात्री भार बढ़ेगा और फ्लाइट के संचालन की संख्या में भी बढ़ोतरी होगी. लेकिन आज छठे दिन भी पहले दिन जैसे हालात नजर आ रहे हैं. आज भी जयपुर एयरपोर्ट से मात्र 8 फ्लाइट संचालित हो रही हैं और कुल 20 फ्लाइट के शेड्यूल में से 12 फ्लाइट रद्द कर दी गई हैं. सबसे ज्यादा 6 फ्लाइट स्पाइसजेट एयरलाइन की रद्द हुई हैं. इसके अलावा तीन फ्लाइट इंडिगो एयरलाइन ने रद्द की हैं.

सचिवालय में आज हर भवन का किया सेनेटाइजेशन, वार रूम के 1 अधिकारी आया था कोरोना पॉजिटिव 

स्पाइसजेट ने अमृतसर के लिए और इंडिगो ने मुंबई के लिए वे फ्लाइट रद्द कर दी:  
स्पाइसजेट ने अमृतसर के लिए और इंडिगो ने मुंबई के लिए वे फ्लाइट रद्द कर दी हैं, जिनके लिए टिकट बुकिंग भी की जा चुकी थी. एयर इंडिया ने शेड्यूल में दी हुई आगरा की फ्लाइट एक भी दिन संचालित नहीं की है. वहीं आज एयर एशिया ने पुणे और बेंगलुरु की दो फ्लाइट रद्द कर दी. आपको बता दें कि अब तक की सर्वाधिक फ्लाइट 26 मई को संचालित हुई थी. 26 मई को कुल 11 फ्लाइट का संचालन किया गया था. 

ये 12 फ्लाइट आज रद्द: 
- स्पाइसजेट की सुबह 5:45 बजे सूरत जाने वाली फ्लाइट SG-2763 हुई रद्द
- स्पाइसजेट की सुबह 7:20 बजे जालंधर जाने वाली फ्लाइट SG-2750 हुई रद्द
- इंडिगो की सुबह 6:40 बजे मुंबई जाने वाली फ्लाइट 6E-218 हुई रद्द
- एयर इंडिया की सुबह 7:35 बजे आगरा जाने वाली फ्लाइट 9I-687 हुई रद्द
- इंडिगो की दोपहर 12:45 बजे बेंगलुरु जाने वाली फ्लाइट 6E-498 हुई रद्द
- इंडिगो की शाम 4:45 बजे कोलकाता जाने वाली फ्लाइट 6E-6156 हुई रद्द
- स्पाइसजेट की सुबह 8 बजे मुंबई जाने वाली फ्लाइट SG-279 हुई रद्द
- स्पाइसजेट की सुबह 9:45 बजे उदयपुर जाने वाली फ्लाइट SG-6632 हुई रद्द
- स्पाइसजेट की सुबह 11:15 बजे अमृतसर जाने वाली फ्लाइट SG-3522 हुई रद्द
- स्पाइसजेट की दोपहर 2:15 बजे गुवाहाटी जाने वाली फ्लाइट SG-448 हुई रद्द
- एयर एशिया की सुबह 9:15 बजे बेंगलूरु जाने वाली फ्लाइट I5-1721 हुई रद्द
- एयर एशिया की शाम 5:15 बजे पुणे जाने वाली फ्लाइट I5-1427 हुई रद्द

मुख्यमंत्री गहलोत का बड़ा फैसला, पेयजल के लिए प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र को 25  लाख रुपए स्वीकृत 

...फर्स्ट इंडिया के लिए काशीराम चौधरी की रिपोर्ट

जैसलमेर: नौतपा का असर कम होने से बदला मौसम का मिजाज, तापमान में आई भारी गिरावट

जैसलमेर: नौतपा का असर कम होने से बदला मौसम का मिजाज, तापमान में आई भारी गिरावट

जैसलमेर: सीमावर्ती जिले जैसलमेर में आज नौ तपा का असर कम होता दिखाई दिया. आज पारे में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है लेकिन गर्मी से मामूली निजात ही मिली है. हालांकि सुबह सुबह ठंडी हवा होने से लोगों को गर्मी से निजात मिलती है, लेकिन धूप चढ़ने के साथ ही गर्मी का असर बढ़ना शुरू हो जाता है. दोपहर में चलने वाले लू के थपेड़ों ने आमजन को परेशान कर दिया है. अधिकतम तापमान पांच डिग्री की गिरावट होते हुए 38 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. इससे रात में भी लू व गर्म हवाओं से निजात नहीं मिल रही है.

जैसलमेर जिले में टल रहा कोरोना का खतरा, एक ही दिन में 9 कोरोना मरीज हुए ठीक 

आगामी एक दो दिन में बरसात के आसार:
वहीं जानकारों का मानना है कि आगामी एक दो दिन में बरसात हो सकती है. उनका तर्क है कि अगर नौ तपा में तापमान अपने पूरे उफान पर रहता है तो जमकर बारिश भी होती है. आज तेज उमस से भी लोग बचते हुए दिखाई दिए. बाजार और सड़कों पर तेज गर्मी का असर साफ़ तौर पर देखने को मिला. लोग गर्मी से बचाव करते हुए दिखाई दिए. वहीं आसमान में बादलो की आवाजाही है लेकिन गर्मी से आमजन के हाल बेहाल है. 

सचिवालय में आज हर भवन का किया सेनेटाइजेशन, वार रूम के 1 अधिकारी आया था कोरोना पॉजिटिव 

सेहत के लिए रामबाण है प्याज का सेवन, बढ़ाता है इम्यून पावर

 सेहत के लिए रामबाण है प्याज का सेवन, बढ़ाता है इम्यून पावर

जयपुर: खाने में जब तक प्याज का इस्तेमाल हो तब तक मजा नहीं आता. अधिकतर घरों में प्याज का इस्तेमाल किया जाता है. अक्सर प्याज के मंहगे दाम खबरों में भी छाए रहते हैं. प्याज ने सरकारें गिराई और बनाई भी हैं. ऐसे में आज सोच सकते हैं कि प्याज कितना महत्वपूर्ण है. प्याज में पाए जाने वाले औषधीय गुण की वजह से इसका सेवन कई सालों से किया जा रहा है. कई डॉक्टर्स गर्मियों के मौसम में लू से बचने के लिए  प्याज खाने की भी सलाह देते हैं. तो आइए जानते हैं कि वाकई प्याद कितनी फायदेमंद है...

राज्य के प्रधान मुख्य वन संरक्षक हाईकोर्ट में तलब, 8 माह पूर्व पकड़े गये एक ट्रक से जुड़ा पूरा मामला 

- प्याज का सेवन करने से इम्यून सिस्टम मजबूत होती है. इससे शरीर को जल्दी बीमार होने नहीं देते हैं और सर्दी-जुकाम की समस्या से भी निजात दिलाने में मददगार होता है.

- प्याज गर्मियों में चिलचिलाती धूप और लू के थपेड़ों से बचाती है. कच्चा प्याज खाने से लू नहीं लगती. अगर लू लग जाए तो प्याज का रस पैर के तलवे में लगाने और प्याज का जूस पीने से आराम मिलता है.

-  प्याज में एंटी-कैंसर गुण पाए जाते हैं, इसलिए इसके इस्तेमाल से विभिन्न प्रकार के कैंसर से बचा जा सकता है.

- गर्मियों में अक्सर नाक से खून आने की समस्या होती है. अगर नाक से खून आए तो प्याज के रस की कुछ बूंदें डालने से खून आना बंद हो जाता है.

- अगर चेहरे पर मुहासे हैं तो जैतून के तेल में प्याज का रस मिलाकर लगाने से मुहासे कम हो जाते हैं.

- सर्दी, खांसी और बुखार में प्याज का रस और शहद मिलाकर पीना चाहिए.

-  पीरियड शुरु होने से पहले खाने में रोज कच्चा प्याज खाने से पीरियड के वक्त होनी वाली परेशानियों से राहत मिल सकती है.

सचिवालय में आज हर भवन का किया सेनेटाइजेशन, वार रूम के 1 अधिकारी आया था कोरोना पॉजिटिव 

राज्य के प्रधान मुख्य वन संरक्षक हाईकोर्ट में तलब, 8 माह पूर्व पकड़े गये एक ट्रक से जुड़ा पूरा मामला

राज्य के प्रधान मुख्य वन संरक्षक हाईकोर्ट में तलब, 8 माह पूर्व पकड़े गये एक ट्रक से जुड़ा पूरा मामला

जयपुर: सभी वैध दस्तावेजों के साथ लकड़ियों का परिवहन कर रहे एक दस पहिया ट्रक को सीज करने के मामले में हाईकोर्ट के आदेश के बावजूद चिड़ावा रैंजर कोर्ट में पेश नहीं हुए. यही नहीं 27 जून 2019 को सीज किये गये ट्रक को 11 माह बाद भी रिहा नही करने पर कोर्ट ने राज्य के प्रधान मुख्य वन सरंक्षक को तलब किया है. राजकीय अधिवकता एन एस गुर्जर को अदालत ने आदेश दिये है कि वो प्रधान मुख्य वन सरंक्षक को 8 जून को कोर्ट में पेश करे.

सचिवालय में आज हर भवन का किया सेनेटाइजेशन, वार रूम के 1 अधिकारी आया था कोरोना पॉजिटिव 

यह आदेश जस्टिस प्रकाश गुप्ता की एकलपीठ ने ट्रक मालिक रनवीर की ओर से दायर याचिका पर दिये है. एडवोकेट पुष्पेन्द्र पाण्डे ने अदालत को बताया कि जिस वक्त ट्रक को सीज किया गया उस समय ट्रक ड्राइ्रवर के पास ट्रक में लोडेड 15 टन लकडियों के खरीद बिल, बिल्टी, ईवे बिल, कार्गो मूवर्स का बिल के साथ वाहन के सभी वैध दस्तावेज मौजुद थे. इसके बावजूद ट्रक को सीज किया गया जिसे 11 माह बाद भी रिलीज नही किया गया है.

मुख्यमंत्री गहलोत का बड़ा फैसला, पेयजल के लिए प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र को 25  लाख रुपए स्वीकृत

अदालत ने पूर्व सुनवाई के दौरान चिड़ावा रैंजर मोहरसिंह को कोर्ट में पेश होने के आदेश दिये थे. जिस पर राजकीय अधिवक्ता ने अदालत केा बताया कि उन्हे सूचित किया गया था लेकिन वे समय पर नही पहुंच पाये हैं. बहस सुनने के बाद अदालत ने मामले को गंभीरता से लेते हुए राज्य के प्रधान मुख्य वन सरंक्षक को कोर्ट में पेश होकर जवाब देने के आदेश दिये है. 

सचिवालय में आज हर भवन का किया सेनेटाइजेशन, वार रूम के 1 अधिकारी आया था कोरोना पॉजिटिव

सचिवालय में आज हर भवन का किया सेनेटाइजेशन, वार रूम के 1 अधिकारी आया था कोरोना पॉजिटिव

जयपुर: सचिवालय में आज हर भवन का सेनेटाइजेशन किया गया. इसके लिए आज सुबह से ही नगर निगम की दमकल गाड़ियां बुलाकर सोडियम हाइपोक्लोराइट का छिड़काव कराया गया. साथ ही कक्षों को भी सैनिटाइज्ड किया गया. कल चतुर्थ श्रेणी कर्मी की कोरोना पॉजिटिव मां की मौत व वार रूम के 1 अधिकारी के कोरोना पॉजिटिव होने का पता चलने के बाद कर्मचारियों का डर दूर करने के लिए यह सुरक्षात्मक एहतियाती कदम उठाया गया है. 

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में 49 पॉजिटिव मामले आए सामने, सर्वाधिक 8-8 केस कोटा-उदयपुर और चूरू में आए सामने  

भवनों में सोडियम हाइपोक्लोराइट का छिड़काव कराया गया: 
सुरक्षा अधिकारी प्रदीप गोयल पंजीयक प्रेम नारायण सेन और नोडल अधिकारी शंकर शर्मा की पहल पर आज नगर निगम से गाड़ियां मंगा कर सचिवालय के भवनों में सोडियम हाइपोक्लोराइट का छिड़काव कराया गया. साथ ही कक्षों को सैनिटाइज्ड किया गया. दरअसल कल एस एस ओ भवन में काम कर रहे चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी की मां की मौत हो गई थी. बाद में जांच रिपोर्ट में मृतका के कोरोना पॉजिटिव होने का पता चला.  इसके बाद एस एस भवन की दूसरी मंजिल को पूरा सील कर दिया गया और सिंचित  क्षेत्र विकास के 17 कर्मचारियों को होम क्वॉरेंटाइन कर दिया गया था. वहीं वार रूम में भी एक अधिकारी के कोरोना पॉजिटिव होने का पता चला है. 

सचिवालय कर्मचारियों में भय का माहौल: 
इससे पूर्व सचिवालय के कोरोना पॉजिटिव एक कर्मचारी की मौत हो गई थी. इस सबके बीच सचिवालय कर्मचारियों में भय का माहौल है. यही डर समाप्त करने और विश्वास कायम करने के लिए पूरे सचिवालय में आज सेनेटाइजेशन कराया गया. इससे पहले भी तीन बार सचिवालय में सेनेटाइजेशन कराया गया था. यह घटनाएं सामने आने के बाद कई आईएएस अधिकारी भी सकते में हैं.

 मुख्यमंत्री गहलोत का बड़ा फैसला, पेयजल के लिए प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र को 25  लाख रुपए स्वीकृत 

अधिकारी और कर्मचारी लगातार सुरक्षा उपकरणों की मांग कर रहे:
उधर सचिवालय में काम करने वाले अधिकारी और कर्मचारी लगातार सुरक्षा उपकरणों की मांग कर रहे हैं. कल भी अधिकारी संघ अध्यक्ष मेघराज पवार ने स्वागत कक्ष में  थर्मल स्केनर और सेनेटाइजर की व्यवस्था करने की मांग की. इसके साथ ही सचिवालय कर्मचारियों को N95 मास्क और अन्य सामग्री उपलब्ध कराने की मांग की गई. उधर कल सील की गई एस एस ओ भवन की दूसरी मंजिल में स्थित  5 विभागों पर्यटन, स्टेट इंश्योरेंस, ARD, सिंचाई विभाग के दफ्तरों में कामकाज प्रभावित हुआ है. वहीं कल जिन चतुर्थ श्रेणी कर्मी की मां की मौत हुई उस कर्मी और परिवार के सारे सदस्यों की आज सैंपलिंग की गई है. 

...ऋतुराज शर्मा फर्स्ट इंडिया न्यूज़ जयपुर

Open Covid-19