Live News »

महंगाई और रोजगार पर काम करे सरकार- रामदेव

महंगाई और रोजगार पर काम करे सरकार- रामदेव

नई दिल्ली: योग गुरु रामदेव ने शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर साल 2020 के लिए अपने एजेंडे को सामने रखा. इस दौरान अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर बोलते हुए बाबा रामदेव ने कहा कि महंगाई और बेरोजगारी के मुद्दे पर सरकार को काम करना चाहिए. बाबा रामदेव ने यह बयान ऐसे समय दिया है जब दुनिया की कई बड़ी एजेंसियों ने भारत की GDP के अनुमान को घटाया है. भारत की जीडीपी एक वक्त लगातार 7% से तेज चल रही थी, वो अनुमान अब 5% के नीचे चला गया है.

आंदोलन करना अच्छी बात लेकिन इसमें हिंसा नहीं होनी चाहिए: 
वहीं रामदेव ने इस दौरान CAA के विरोध में देशभर में हो रहे हैं प्रदर्शनों पर सवाल उठाते हुए कहा कि आंदोलन करना अच्छी बात है लेकिन इसमें हिंसा नहीं होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि नेहरू और भगत सिंह वाली आजादी की बात की जाती है तो समझ आता है लेकिन जब यह जिन्ना वाली आजादी के नारे लगते हैं तो यह देश के साथ गद्दारी है.  

छात्रों को हिंसक प्रदर्शनों से दूर रहना चाहिए:
उन्होंने कहा कि छात्रों को हिंसक प्रदर्शनों से दूर रहना चाहिए और प्रदर्शन और आंदोलनों का काम राजनेताओं पर छोड़ देना चाहिए. रामदेव ने कहा कि हर समय आंदोलन करना छात्रों का काम नहीं है. उन्हें इस प्रकार के आंदोलनों से खुद को दूर रखना चाहिए और अपने भविष्य को संवारने के लिए काम करना चाहिए. योग गुरु ने कहा कि देश के सामने सबसे बड़ी समस्या महंगाई, बेरोजगारी है जिसको कम करने के लिए हमें मिलकर काम करना चाहिए. 
 

और पढ़ें

Most Related Stories

पुलिस स्मृति दिवस के मौक पर PM मोदी ने किया पुलिस बल का आभार व्यक्त

पुलिस स्मृति दिवस के मौक पर PM मोदी ने किया पुलिस बल का आभार व्यक्त

नई दिल्ली: पुलिस स्मृति दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने एक भावुक भाषण देकर पुलिस के जवानों की हौसला आफजाई की. पीएन नरेन्द्र मोदी ने कर्तव्यों का निर्वहन करते हुए शहीद हुए पुलिसकर्मियों को श्रद्धांजलि अर्पित की और कहा कि पुलिसकर्मी हमेशा बिना किसी हिचक के अपना सर्वश्रेष्ठ देते हैं.

मोदी ने कहा कि भयावह अपराधों को सुलझाने से लेकर कानून व्यवस्था बनाए रखने तथा आपदा प्रबंधन में मदद करने से लेकर कोविड-19 से निपटने तक, पुलिसकर्मियों ने बिना किसी हिचक के अपना सर्वश्रेष्ठ दिया है. जिसके लिए सारा देश नतमस्तक  है. 

भाषण में उन्होंने कहा कि हमें नागरिकों की सहायता के लिए उनके परिश्रम और उनकी तत्परता पर गर्व है. प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि पुलिस स्मृति दिवस’ भारत में हमारे पुलिस कर्मियों और उनके परिवारों को आभार व्यक्त करने का दिन है. कर्तव्यपालन के दौरान शहीद हुए सभी पुलिस कर्मियों को हम श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं. उनके बलिदान और सेवाओं को हमेशा याद किया जाएगा.  (सोर्स-भाषा)

{related}

फर्जी मुठभेड़ के मामला: CRPF सहायक कमांडेंट के खिलाफ उत्पीड़क कार्रवाई पर रोक

फर्जी मुठभेड़ के मामला: CRPF सहायक कमांडेंट के खिलाफ उत्पीड़क कार्रवाई पर रोक

रांची: झारखंड उच्च न्यायालय ने मंगलवार को वर्ष 2011 में हुई कथित फर्जी मुठभेड़ मामले में आरोपी सीआरपीएफ के सहायक कमांडेंट के खिलाफ फिलहाल किसी भी उत्पीड़क कार्रवाई पर रोक लगा दी है. ऐसा उनके बेदाग करियर और प्रधानमंत्री की सेवा में जीवन के 10 साल देने के कारण बताया जा रहा है. मगर इसकी कोई पुष्टि नहीं की गई है. 

न्यायमूर्ति आनंद सेन की पीठ ने वर्ष 2011 के पश्चिमी सिंहभूम जिले के छोटा नगरा थाना क्षेत्र में कथित तौर पर नक्सलियों के साथ हुई एक मुठभेड़ की घटना से जुड़े इस मामले में सीआरपीएफ के सहायक कमांडेंट शंभू कुमार विश्वास के खिलाफ किसी भी उत्पीड़क कार्रवाई पर फिलहाल रोक लगा दी गई है. 

अदालत में इस कथित फर्जी मुठभेड़ मामले में आरोपी बनाये गये सीआरपीएफ के सहायक कमांडेंट की याचिका पर सुनवाई हुई. शंभू कुमार विश्वास की ओर से पेश हुए अधिवक्ता बिनोद कुमार सिंह अदालत से कहा कि सहायक कमांडेंट शंभू का पूरा करियर बेदाग रहा है और उन्होंने प्रधानमंत्री की सुरक्षा में तैनात एसपीजी में भी दस वर्ष की सेवा दी है. फिलहाल मामला कहां जाकर क्या रुख लेगा इस पर कुछ कहा नहीं जा सकता है. (सोर्स-भाषा)

{related}

 

रोहिणी जेल में चलाते थे रंगदारी का धंधा, पुलिस ने 10 को दबोचा

रोहिणी जेल में चलाते थे रंगदारी का धंधा, पुलिस ने 10 को दबोचा

नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस ने रंगदारी मांगने वाले एक गिरोह का भंडाफोड़ करने का दावा किया जो रोहिणी जेल से अपनी गतिविधियों का संचालन कर रहा था. इस मामले में एक नाबालिग समेत दस लोगों को पकड़ा है. पुलिस के अनुसार आरोपियों की पहचान दीपक उर्फ दीपू बुंदा (31), उसकी पत्नी नेहा कक्कर (32), सुरेंद्र (40), उसकी पत्नी सोनिया, सद्दाम गौरी (30), कुलदीप, राजकुमार उर्फ राजू (42), शिवा (30)और सतीश (37) के रूप में की गयी है एवं एक अन्य नाबालिग है.

पुलिस के अनुसार इस गिरोह का सरगना गौरी मकोका एवं कई अन्य जघन्य मामलों में रोहिणी जेल है और वह जेल से ही अपना गोरखधंधा चला रहा था. एक पुलिस अधिकारी के अनुसार दो सितंबर को शाम छह बजकर 25 मिनट पर एक व्यापारी को उसके एक रिश्तेदार का कॉल आया कि उसके कार्यालय में गोली चली और जब व्यापारी वहां पहुंचा तब उसे दरवाजे के शीशे टूटे मिले और गोली के निशान थे. सुरेंद्र समेत दो लोग बाइक से वहां पहुंचे थे और सुरेंद्र ने गोली चलायी थी. उसके बाद दोनों कार्यालय के सीसीटीवी कैमरे के डीवीआर लेकर फरार हो गये.

पुलिस उपायुक्त (पश्चिम) दीपक पुरोहित ने कहा कि चार सितंबर को शिकायतकर्ता ने पुलिस में शिकायत की कि उसे सुरेंद्र और दीपक से जबरन वसूली के कॉल आ रहे हैं और इन दोनों को गौरी निर्देश दे रहा है. पुरोहित के अनुसार जांच के दौरान सामने आया कि गौरी अपने साथियों सुरेंद्र और दीपक के मार्फत अपना जबरन वसूली गोरखधंधा चला रहा है और वह खुद भी ऐसी वसूली के लिए वाट्सऐप कॉल करता है. जिसके बाद पुलिस ने मामले को अपने हाथ में लेकर अपराधियों को रंगे हाथों दबौच लिया. फिलहाल मामले की सख्ती से कार्यवाही जारी है. (सोर्स-भाषा)

{related}

नाबालिग के साथ दुष्कर्म के बाद हत्या, एक गिरफ्तार

नाबालिग के साथ दुष्कर्म के बाद हत्या, एक गिरफ्तार

दुमका: झारखण्ड के दुमका जिले से बच्ची से रेप के बाद हत्या का मामला सामने आया है. बताया जा रहा है कि रामगढ़ थाना क्षेत्र में 12 वर्षीय आदिवासी बच्ची के कथित सामूहिक बलात्कार एवं हत्या के मामले में पुलिस ने एक युवक को मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया है. आरोपी की उम्र 21 वर्ष है और उसकी शिनाख्त पौलुस मरांडी के रुप में की गई है. 

झारखंड पुलिस ने 21 वर्षीय आरोपी पौलुस मरांडी को रामगढ़ थाना क्षेत्र के भालसुमर गांव से गिरफ्तार किया. दुमका के अनुमंडल पुलिस अधिकारी अनिमेष नैथानी ने मंगलवार को  बताया कि इस युवक के अलावा इस नृशंस घटना के संबंध में संदेह के आधार पर पूछताछ के लिये कैलाश मांझी नामक एक अन्य युवक को भी हिरासत में लिया गया था, लेकिन उसे फिलहाल पूछताछ कर छोड़ दिया गया. 

उल्लेखनीय है कि रामगढ़ थाना क्षेत्र में ठाढ़ी गांव के पास पांचवीं कक्षा की छात्रा के कथित सामूहिक बलात्कार एवं हत्या की घटना तब हुई थी, जब वह ट्यूशन पढ़कर साइकिल से घर लौट रही थी. जिसके बाद आरोपी ने पहले तो बच्ची के साथ ज्यादती की और फिर उसकी हत्या कर दी. फिलहाल फरार की खोज की जा रही है.  (सोर्स-भाषा)

{related}

पीएम मोदी का राष्ट्र के नाम संदेश, कहा-भले लॉकडाउन चला गया, लेकिन अभी कोरोना नहीं, सावधानी बरते

पीएम मोदी का राष्ट्र के नाम संदेश, कहा-भले लॉकडाउन चला गया, लेकिन अभी कोरोना नहीं, सावधानी बरते

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज राष्ट्र के नाम संदेश देते हुए कहा कि कोरोना के खिलाफ जनता कर्फ्यू से लेकर आज तक हम सभी भारतीयों ने एक बहुत लंबा सफर तय किया है. समय के साथ आर्थिक गतिविधियों में भी धीरे-धीरे तेजी नजर आ रही है. हम में से अधिकांश लोग, अपनी जिम्मेदारियों को निभाने के लिए, फिर से जीवन को गति देने के लिए, रोज घरों से बाहर निकल रहे हैं. त्योहारों के इस मौसम में बाजारों में भी रौनक धीरे-धीरे लौट रही है.

लॉकडाउन भले चला गया हो, लेकिन वायरस नहीं:
पीएम मोदी ने कहा कि हमें ये भूलना नहीं है कि लॉकडाउन भले चला गया हो, वायरस नहीं गया है. बीते 7-8 महीनों में, प्रत्येक भारतीय के प्रयास से, भारत आज जिस संभली हुई स्थिति में हैं, हमें उसे बिगड़ने नहीं देना है और अधिक सुधार करना है. पीएम मोदी ने कहा कि आज देश में रिकवरी रेट अच्छी है, Fatality Rate कम है. दुनिया के साधन-संपन्न देशों की तुलना में भारत अपने ज्यादा से ज्यादा नागरिकों का जीवन बचाने में सफल हो रहा है. कोविड महामारी के खिलाफ लड़ाई में टेस्ट की बढ़ती संख्या हमारी एक बड़ी ताकत रही है.

{related}

ये वक्त लापरवाह होने का नहीं:
उन्होंने कहा कि सेवा परमो धर्म: के मंत्र पर चलते हुए हमारे डॉक्टर्स, नर्सेज और हेल्थ वर्कर्स इतनी बड़ी आबादी की निस्वार्थ सेवा कर रहे हैं. इन सभी प्रयासों के बीच, ये समय लापरवाह होने का नहीं है. ये समय ये मान लेने का नहीं है कि कोरोना चला गया,  या फिर अब कोरोना से कोई खतरा नहीं है. कई लोगों ने अब सावधानी बरतना बंद कर दिया है. ये ठीक नहीं है. अगर आप लापरवाही बरत रहे हैं,  बिना मास्क के बाहर निकल रहे हैं,  तो आप अपने आप को, अपने परिवार को, अपने परिवार के बच्चों को, बुजुर्गों को उतने ही बड़े संकट में डाल रहे हैं.

थोड़ी सी लापरवाही रोक सकती है हमारी गति:
एक कठिन समय से निकलकर हम आगे बढ़ रहे हैं, थोड़ी सी लापरवाही हमारी गति को रोक सकती है, हमारी खुशियों को धूमिल कर सकती है. जीवन की जिम्मेदारियों को निभाना और सतर्कता ये दोनो साथ-साथ चलेंगे तभी जीवन में खुशियां बनी रहेंगी. पीएम मोदी ने कहा कि मैं आज मीडिया और सोशल मीडिया के साथियों से कहना चाहता हूं कि आप जागरूकता लाने के लिए इन नियमों का पालन करने के लिए जितना जन-जागरण अभियान करेंगे ये आपकी तरफ से देश की बहुत बड़ी सेवा होगी.

राहुल गांधी बोले, प्रधनामंत्री बताएं कि चीनी सैनिकों को भारतीय सीमा से किस तारीख तक बाहर निकाला जाएगा

राहुल गांधी बोले, प्रधनामंत्री बताएं कि चीनी सैनिकों को भारतीय सीमा से किस तारीख तक बाहर निकाला जाएगा

नई दिल्ली: कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के राष्ट्र के नाम संबोधन से पहले मंगलवार को कहा कि प्रधानमंत्री को देश को बताना चाहिए कि किस तारीख तक चीनी सैनिकों को भारतीय सीमा से बाहर निकाला जाएगा.

उन्होंने ट्वीट किया, प्रधानमंत्री जी, आप अपने छह बजे के संबोधन में कृपया देश को बताइए कि किस तारीख तक आप चीनियों को भारतीय सीमा से बाहर निकाल फेंकेगे. आपका धन्यवाद. प्रधानमंत्री मोदी मंगलवार शाम छह बजे राष्ट्र को संबोधित करेंगे. उन्होंने ट्वीट कर कहा कि आज शाम छह बजे राष्ट्र के नाम संदेश दूंगा. आप जरूर जुड़ें. (भाषा)

{related}

चलती बस में ड्राईवर को हार्ट-अटैक, सिग्नल पोस्ट से टकराई बस, जान-माल की हानि नहीं

चलती बस में ड्राईवर को हार्ट-अटैक, सिग्नल पोस्ट से टकराई बस, जान-माल की हानि नहीं

मुंबई:  मुंबई में चेम्बूर के निकट मंगलवार सुबह एक बस चालक को अचानक दिल का दौरा पड़ गया जिसके बाद वाहन अनियंत्रित होकर सिग्नल पोस्ट से टकरा गया. हालांकि इस घटना में सभी नौ यात्री सुरक्षित बच गए है और किसी को कोई हानि नहीं हुई है. 

एक अधिकारी ने बताया कि बेस्ट की बस चेम्बूर से टाटा पावर हाउस जा रही थी और सुबह करीब 11 बजे बसंत सिनेमा के निकट चालक को दिल का दौरा पड़ा, जिसके बाद बस अनियंत्रित हो गई. बृहन्मुंबई बिजली आपूर्ति एवं परिवहन (बेस्ट) के अधिकारी ने बताया कि बस में उस समय एक पुलिसकर्मी समेत नौ यात्री सवार थे. मगर किसी को भी दुर्घटना में कोई हानि नहीं पहुंची है. 

उन्होंने बताया कि पुलिसकर्मी ने एक पुलिस वाहन को बुलाया और चालक को विद्याविहार के रजवाडी अस्पताल में भर्ती कराया गया है. सभी यात्री भी सुरक्षित हैं. बस चालक का इलाज रजवाडी अस्पताल में चल रहा है. बेस्ट संस्था महानगरपालिका की परिवहन इकाई है और इसके पास करीब 4,000 बसे हैं. (सोर्स-भाषा)

{related}

साथी पुलिसकर्मी को आत्महत्या से बचाने में एक अन्य पुलिसकर्मी घायल

साथी पुलिसकर्मी को आत्महत्या से बचाने में एक अन्य पुलिसकर्मी घायल

पुणे: महाराष्ट्र के पुणे शहर में मंगलवार को सर्विस राइफल से आत्महत्या करने की कोशिश कर रहे सहकर्मी को रोकने के प्रयास में 48 वर्षीय एक पुलिस कांस्टेबल गोली लगने से घायल हो गया है जिसकी पुष्टि एक अधिकारी ने की है. अधिकारी ने कहा कि यह घटना शिवाजीनगर पुलिस मुख्यालय में हुई, जहां दोनों मंगलवार तड़के ड्यूटी पर थे और ये घटना घटित हो गई. 

उन्होंने कहा कि घायल कांस्टेबल और उसके 33 वर्षीय सहयोगी में किसी व्यक्तिगत मुद्दे पर बहस हुई जिसके बाद सहकर्मी ने अपनी सर्विस राइफल से खुद को गोली मारने की धमकी दी और मामला बढ़ते देख दूसरे पुलिसकर्मी ने अन्य कर्मी को रोकना चाहा और हादसा हो गया. 

अधिकारी ने आगे बताया कि जब पुलिसकर्मी ने अपने सहयोगी को ट्रिगर दबाने से रोकने की कोशिश की, तो गलती से राइफल से गोली चल गई और उसके एक हाथ की उंगलियों में जाकर लग गई जिससे वह घायल हो गया जिसके बाद तुरंत घायल पुलिसकर्मी को अस्पताल ले जाया गया. फिलहाल उसकी हालत स्थिर है और पुलिस ने घटना की जांच शुरू कर दी गई है. (सोर्स-भाषा)

{related}