लोकसभा चुनाव से पहले राजस्थान में फिर खुला भर्तियों का पिटारा

Bharat Dixit Published Date 2019/03/06 06:09

जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने लोकसभा चुनाव से पहले राजस्थान को एक बार फिर से बड़ी सौगात दी है। सीएम अशोक गहलोत ने गृह विभाग की बैठक में एक हजार उप निरीक्षकों की सीधी भर्ती और 11 हजार पुलिस कांस्टेबलों की भर्ती प्रकिया को मंजूरी दे दी है। इसी के साथ गहलोत ने पुलिस विभाग के स्पोर्टस फंड को भी बढाकर दोगना कर दिया है, जिसके तहत पुलिस विभाग का स्पोर्टस फंड अब दो करोड़ रुपए होगा।

इसके साथ ही सहायक उप निरीक्षक से निरीक्षक स्तर के पुलिसकर्मियों के अनुसंधान भार को कम किया गया है। अब छोटे अपराधों का अनुसंघान कांस्टेबल और हेड कांस्टेबल को दिया जा सकेगा। थानों में आमजन की शिकायतों पर अब एफआईआर दर्ज करने के साथ ही संबधित थानाधिकारी को उसका जवाब भी निश्चित समय में देना होगा। इसके साथ संबधित परिवाद पर आला पुलिस अधिकारी समीझा भी करेंगे।

मुख्यमंत्री ने राज्य में युवा संबल योजना में पंजीकृत युवाओं को ग्राम स्तर पर युवा समन्वयक, जनता और सरकारी योजनाओं के क्रियान्वन सेतु के रूप में कार्य करने वाले स्वंयसेवकों का भत्ता बढ़ाकर अब 4 हजार रुपए कर दिया है। पहले ये भत्ता 3 हजार रुपए था। राजस्थान में लगभग 40 हजार युवाओं को ये कार्य दिया जाएगा, जो दो साल तक के लिए होगा। ये स्वंयसेवक सरकार की विभिन्न योजनाओं को ग्रामीण स्तर पर पहुंचा सकेंगे और ग्रामीणों की समस्या और पर्यवेक्षक का कार्य करेंगे।

बहरहाल, सीएम अशोक गहलोत ने लोकसभा चुनाव से पहले पुलिस महकमे की कार्यशैली को सुदढ़ करने के उदेश्य से भर्तियों को पिटारा खोल दिया है। बेरोजगारों को भी सरकारी योजनाओं के प्रचार प्रसार करने पर मिलने वाले मानदेय में बढ़ोतरी की है, ताकि बेरोजगारों को ज्यादा से ज्यादा लाभ मिल सके।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in