जयपुर में ACB का बड़ा धमाका, वाहन मालिकों से डरा-धमकाकर वसूली के सवा करोड़ किए जब्त

जयपुर में ACB का बड़ा धमाका, वाहन मालिकों से डरा-धमकाकर वसूली के सवा करोड़ किए जब्त

जयपुर: एंटी करप्शन ब्यूरो ने रविवार को बड़ी कार्रवाई करते हुए परिवहन विभाग के अफसरों द्वारा ट्रकों-बसों से अवैध वसूली के खेल का खुलासा किया है. एसीबी ने परिवहन विभाग में दलालों के जरिये वाहन मालिकों को डरा-धमकाकर मासिक बंधी वसूलने का खुलासा किया है. 

VIDEO- Rajasthan Congress Protest: प्रमोशन में आरक्षण खत्म करने के विरोध में राज्यपाल को सौंपा ज्ञापन

अब तक करीब एक करोड़ बीस लाख रुपए नगद बरामद: 
परिवहन विभाग में लम्बे समय से चल रहे ट्रकों-बसों से वसूली के खेल का खुलासा किया है. एसीबी के डीजी आलोक त्रिपाठी के निर्देशन में एडीजी दिनेश एमएन ने डेढ़ दर्जन टीमें बनाकर कार्रवाई को अंजाम दिया. एसीबी की टीम ने जयपुर आरटीओ के एक निरीक्षक उदयवीर सिंह को दलाल मनीश मिश्रा से 40 हजार रुपए लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया. इसके अलावा दलाल के पास अन्य अधिकारियों को देने के लिए रखी एक लाख बीस हजार रुपए की रकम को भी जब्त कर लिया. ब्यूरो की ओर से परिवहन विभाग के सात अधिकारियों और नौ दलालों को निरुद्ध कर चलाए गए तलाशी अभियान में अब तक करीब एक करोड़ बीस लाख रुपए नगद, प्रोपर्टी के दस्तावेज तथा मध्यस्थ दलालों के पास से रिश्वत लेनदेन की सूचियों सहित अन्य महत्वपूर्ण साक्ष्य बरामद किये गये है. ब्यूरो के दलों का सर्च अभियान जारी है.

रिश्वत राशि मासिक बंधी के रूप में नियमित रूप से प्राप्त की जा रही: 
एसीबी के महानिदेशक आलोक त्रिपाठी ने बताया कि भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो को परिवहन विभाग के अधिकारियों की ओर से दलालों के जरिये वाहन मालिकों को डरा-धमकाकर मासिक बन्धी के रूप में रिश्वत राशि प्राप्त करने की सूचना मिली थी. इस पर मुख्यालय स्तर पर गोपनीय सत्यापन किया गया. संदिग्ध आरोपियों के गोपनीय रूप से किये गये सत्यापन से प्रकट हुआ कि परिवहन विभाग के अधिकारियों की ओर से दलालों के जरिय वाणिज्यिक वाहनों तथा बसों को चलाये जाने के लिये वाहन संचालकों को धमकियां देकर प्रतिमाह रिश्वत राशि मासिक बंधी के रूप में नियमित रूप से प्राप्त की जा रही है. 

करौली: 4 वर्षीय मासूम के साथ गांव के ही नाबालिग ने किया दुष्कर्म, लहूलुहान अवस्था में छोड़ कर हुआ फरार

सत्यापन के पश्चात तकनीकी एवं मानवीय निगरानी भी की गई:
सत्यापन के पश्चात तकनीकी एवं मानवीय निगरानी भी की गई. इस पर तनुश्री लॉजिस्टिक तथा अन्य मध्यस्थ दलालों की ओर से 16 फरवरी को फरवरी माह की मासिक बन्धी के रूप में परिवहन अधिकारियों को रिश्वत राशि का भुगतान किया जाने की सम्भावना पर कार्रवाई की गई. कार्रवाई में परिवहन विभाग के अधिकारी डीटीओ शाहजहांपुर गजेन्द्र सिंह, डीटीओ चौमू विनय बंसल, डीटीओ मुख्यालय महेश शर्मा, परिवहन निरीक्षक शिवचरण मीणा, उदयवीर सिंह, आलोक बुढानिया, नवीन जैन और रतनलाल को निरूद्ध कर इनके निवास की तलाशी की जा रही है. इसके अतिरिक्त प्राईवेट व्यक्ति मध्यस्थ दलाल जसवन्त सिंह यादव, विष्णु कुमार-तनुश्री लॉजिस्टिक, ममता पत्नी योगेश कुमार उर्फ बन्टी-तनुश्री लॉजिस्टिक, मनीष मिश्रा-तनुश्री लॉजिस्टिक, रणवीर, पवन उर्फ पहलवान तथा विष्णु कौशिक को निरुद्ध कर पूछताछ की जा रही है. सभी के निवास तथा व्यावसायिक प्रतिष्ठानों की तलाशी का अभियान जारी है. 

और पढ़ें