VIDEO: ब्रेन स्ट्रोक के मरीजों को गोल्डन ऑवर में मिलेगा बेस्ट ट्रीटमेंट, देखिए ये खास रिपोर्ट

VIDEO: ब्रेन स्ट्रोक के मरीजों को गोल्डन ऑवर में मिलेगा बेस्ट ट्रीटमेंट, देखिए ये खास रिपोर्ट

जयपुर: राजस्थान के सबसे बड़े एसएमएस अस्पताल में ब्रेन स्ट्रोक के गंभीर मरीजों को गोल्डन ऑवर में बेस्ट ट्रीटमेंट मिलेगा.अस्पताल में बहुप्रतिक्षित कॉम्परिहेंसिव स्ट्रोक केयर सेंटर यानी स्ट्रोक आईसीयू का चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने शुभारम्भ किया.इस मौके पर चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने कहा कि भले ही कोरोना में सरकार का राजस्व कम हुआ हो, लेकिन फिर भी सीएम गहलोत के निर्देश में चिकित्सा विभाग अस्पतालों में अत्याधुनिक सुविधाओं के विस्तार की दिशा में युद्ध स्तर पर काम कर रहा है.

चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने एसएमएस अस्पताल पहुंचकर सबसे पहले खुद की स्वास्थ्य जांचे करवाई.इसके बाद उन्होंने कॉम्परिहेंसिव स्ट्रोक केयर सेंटर यानी स्ट्रोक आईसीयू का शुभारम्भ किया.इस मौके पर चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने बताया कि करीब 2.5 करोड़ की लागत से बने इस आईसीयू में एक्यूट स्ट्रोक आने के 24 घंटे के भीतर आने वाले मरीजो को भर्ती कर ट्रीटमेंट किया जाएगा. 4 घंटे के भीतर आने वाले मरीजों को दिमाग में खून के थक्के को गलाने के लिए थ्रोमबोलोसिस ट्रीटमेंट मिल सकेगा.इसके साथ ही लकवे के मरीजों के लिए भी यहां ट्रांसक्रेनिएल डोपलर व कार्टोएड डोपलर मशीन के जरिए जांच की सुविधा मिलेगी.

ऑक्सीजन के क्षेत्र में प्रदेश बनेगा आत्मनिर्भर:
-चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा का एसएमएस दौरा
-इस दौरान चिकित्सा मंत्री ने कोविड तैयारियों को लेकर कहा
-थर्ड वेव की आंशकाओं के बीच राजस्थान पूरी तरह तैयार
-प्रदेश के 332 चयनित सीएचसी में विकसित की गई आधुनिक सुविधाएं
-सीएचसी लेवल पर बनाए जा रहे है 3 से 5 बैड के आईसीयू
-उन्होंने कहा कि प्रदेश में ऑक्सीजन की कमी को दूर करने के लिए भी प्रयास
-अलग-अलग क्षमताओं के करीब 400 ऑक्सीजन प्लांट लगाए जा रहे हैं
-लगभग 50 हजार ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर की भी व्यवस्था की जा रही है
-इनसे लगभग 1 हजार मीट्रिक टन ऑक्सीजन की उपलब्धता रहेगी

स्वास्थ्य मित्र करेंगे चिकित्सा सेवाओं के प्रति जागरुक:
-चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने एसएमएस अस्पताल के दौरे में दी जानकारी
-उन्होंने कहा कि तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए राजस्थान तैयार
-प्रदेश के सभी शिशु चिकित्सालयों पर भी विशेष ध्यान दिया जा रहा है
-यहां संचालित नीकू, पीकू, एसएनसीयू यूनिटों में बैड्स की संख्या बढ़ाने के साथ
केन्द्रीकृत ऑक्सीजन पाइपलाइन की भी व्यवस्था की जा रही है
-उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य सेवाओं को मजबूत करने के लिए लगाए गए 80 हजार स्वास्थ्य मित्र
-42 हजार राजस्व ग्रामों से लगे 80 हजार से अधिक स्वास्थ्य मित्रों को किया गया प्रशिक्षण
-ये स्वास्थ्य मित्र आमजन को चिकित्सा सेवाओं के प्रति जागरुक करेंगे

कार्यक्रम में डॉ शर्मा ने कहा कि राजस्थान को निरोगी बनाने के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने निरोगी राजस्थान अभियान की शुरुआत की थी.इसे पूरा करने के लिए हम निरंतर प्रयासरत है.प्रत्येक व्यक्ति के लिए स्वास्थ्य बीमा, निःशुल्क दवा व जांच योजना जैसी सुविधाओं से सभी को लाभान्वित करने का प्रयास किया जा रहा है.उन्होंने कहा कि निरोगी रहने के लिए आवश्यक है कि प्रत्येक व्यक्ति अपने स्वास्थ्य के प्रति जागरुक रहे और नियमित हैल्थ चैकअप कराएं.खुद की जांच कराने को लेकर चिकित्सा मंत्री ने कहा कि रूटिन में जांचे करवाना जरूरी है.हर व्यक्ति को समय-समय पर जांचे करवाते रहना चाहिए.  कार्यक्रम में इस मौके पर एसएमएस मेडिकल कॉलेज प्राचार्य डॉ सुधीर भण्डारी, एसएमएस अधीक्षक विनय मल्होत्रा, डॉ.त्रिलोचन श्रीवास्तव, डॉ. अरविंद व्यास, डॉ भावना शर्मा, डॉ आरएस जैन एवं अन्य विभागों के विभागाध्यक्ष मौजूद रहे.

और पढ़ें