Live News »

भारत पाक सीमा पर तैनात होंगे कैमरे लगे खोजी श्वान, तस्करों, घुसपैठियों और आतंकियों पर रखेंगे नजर

भारत पाक सीमा पर तैनात होंगे कैमरे लगे खोजी श्वान, तस्करों, घुसपैठियों और आतंकियों पर रखेंगे नजर

जैसलमेर: भारत पाकिस्तान से लगती अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर तारबंदी और सीसीटीवी कैमरे के बाद कैमरे लगे खोजी श्वान तैनात करने की योजना है. सीमा सुरक्षा बल हाई-टेक निगरानी करने के लिए खोजी श्वानो के कुत्ते के कॉलर पर कैमरे फिट कर उन्हें प्रक्षिशण दे रहे है. इस कदम का उद्देश्य सीमा के साथ कठिन इलाके में गश्त के दौरान दुश्मन के लक्ष्य का सटीक विवरण प्राप्त करना है. कैमरो वाले श्वानों  में आतंकवाद विरोधी अभियानों और कठिन इलाकों में गश्त करने में फायदेमंद साबित होगी.  

कैमरे से लैस डॉग स्क्वायड को दिया जा रहा प्रशिक्षण 
बीएसएफ के ग्वालियर स्थित राष्ट्रीय श्वान प्रशिक्षण संस्थान में वर्तमान में कैमरे से लैस डॉग स्क्वायड को प्रशिक्षण दिया जा रहा है. बीएसएफ जर्मन शेफर्ड, लेब्राडोर रीट्रिवर, डाबरमैन पिंसचर, क्रोकर स्पेनियल और बेल्जिन मेलेनोइस को प्रशिक्षित करती है. पाकिस्तान बॉर्डर पर जर्मन शेफर्ड और लेब्राडोर अधिक संख्या में तैनात हैं. ये विस्फोटक सामग्री के साथ कुशलतापूर्वक ट्रेकिंग भी कर सकते हैं. प्रशिक्षण के दौरान जर्मन शेफर्ड और लेब्राडोर की कॉलर में कैमरे लगाए गए हैं. इनमें लाइव रीकार्डिंग होती है, जिसका वायरलैस सम्पर्क बीएसएफ के आइटी सेंटर में है. कैमरे इस तरह लगाया है ताकि वह सभी कोण से फुटेज ले सकें. श्वान को सिखाया जा रहा है कि गश्त के समय कैमरे का एंगल बॉर्डर के दोनों तरफ और जमीन-आसमान पर करना है.

बीएसएफ ने 2004 से बॉर्डर पर खोजी कुत्ते तैनात करने शुरू किए
बीएसएफ ने 2004 से बॉर्डर पर खोजी कुत्ते तैनात करने शुरू किए. राजस्थान में श्रीगंगानगर, बीकानेर, बाड़मेर और जैसलमेर जिलों की कई सीमा चौकियों पर तैनात खोजी श्वान अधिकतर ट्रेकिंग करते हैं. कैमरे लगे श्वान इन चारों जिलों में तैनात किए जाएंगे. कैमरा उपकरणों के चयन के बाद, बीएसएफ सीमावर्ती क्षेत्रों में 'गोपनीय परीक्षण' शुरू करेगी. 

और पढ़ें

Most Related Stories

टिड्डी टेरर को लेकर चिंतित राजस्थान सरकार, लेकिन केंद्र सरकार को गंभीर होने की जरुरत- मंत्री सालेह मोहम्मद

टिड्डी टेरर को लेकर चिंतित राजस्थान सरकार, लेकिन केंद्र सरकार को गंभीर होने की जरुरत- मंत्री सालेह मोहम्मद

जैसलमेर: राजस्थान के सरहदी जिलों तक ही सीमित रहा टिड्डी दल अटैक जयपुर सहित अन्य जिलों तक पहुंच गया है. प्रदेशभर में टिड्डीयों के हो रहे अटैक ने किसानों के माथे पर चिंता की लकीर खींच दी है तो कृषि विभाग के अधिकारियों की रातों की नींद उड़ा दी है. टिड्डी को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत गंभीर है जो सभी मंत्री और जिला कलक्टर को वीसी के जरिये बैठक कर टिड्डियों को लेकर चर्चा कर रहे हैं. वहीं मंत्री सालेह मोहम्मद ने भी मुख्यमंत्री से मिलकर इस आने वाले बड़े खतरे के बारे में अवगत करवया है.  

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में 1 मौत, 44 नये पॉजिटिव केस आए सामने 

अब फिर से कोरोना के काल में टिड्डी का कहर लौट रहा: 
मंत्री सालेह मोहम्मद ने फर्स्ट इंडिया से खास बातचीत में कहा कि गत वर्ष टिड्डियों ने सीमावर्ती जिले जैसलमेर में किसानों का बहुत बड़ा नुकसान किया था जितना बड़ा नुकसान पूरे राजस्थान में नहीं हुआ उससे कहीं ज्यादा नुकसान जैसलमेर और बाड़मेर में हुआ. अब फिर से कोरोना के काल में टिड्डी का कहर लौट रहा है. मंत्री सालेह मोहम्मद ने कहा कि इस वार टिड्डी बाड़मेर, जैसलमेर को छोड़कर राजस्थान से अन्य राज्यों की ओर जा पहुंची है. केंद्र सरकार को इस मामले में अब गंभीर होने की सख्त जरूरत है. अब बहुत बड़े दल भारत में प्रवेश करने वाले हैं और शुरुआत पश्चिमी राजस्थान की ओर से है. इसलिए केंद्र सरकार को चाहिए कि जब इस मामले को लेकर विश्व स्तर पर टिड्डियों को लेकर चर्चा हो तो राज्य सरकार से भी इस बारे में फीडबैक दिया जाना चाहिए ताकि टिड्डी को लेकर राज्य सरकार अलर्ट हो सके.

Coronavirus in India:पिछले 24 घंटे में 9887 नए मामले सामने आए, दुनिया में छठे नंबर पर पहुंचा भारत 

टिड्डी को लेकर किसी भी तरह से प्रभावी प्रयास नहीं हो पा रहे:
मंत्री सालेह मोहम्मद ने कहा कि केंद्र द्वारा टिड्डियों को लेकर डिपार्टमेंट तो बना दिया है लेकिन वहां पर अधिकारियों की कमी अधिक है ना उनके पास कोई उचित संसाधन है. इसलिए टिड्डी को लेकर किसी भी तरह से प्रभावी प्रयास नहीं हो पा रहे हैं यही कारण है कि टिड्डी दल राजस्थान के बाहर भी पहुंच गई है इसे साफ पता चलता है कि केंद्र सरकार के पास पूरे संसाधन नहीं है और केंद्र सरकार इस मामले को लेकर बिल्कुल गंभीर नहीं है. मंत्री सालेह मोहम्मद ने कहा कि केंद्र सरकार किसानों को मजबूत होता नहीं देखना चाहती है इसलिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत खुद किसानों के लिए गंभीर है और चिंतित भी है और लगातार जिला कलेक्ट्रेट और सभी मंत्रियों से टिड्डी के बारे में भी फीडबैक ले रहे हैं. मंत्री सालेह मोहम्मद ने यह भी कहा कि केंद्र की सरकार ने राजस्थान सरकार को लेकर कोई बजट पारित नहीं किया है और ना ही राजस्थान सरकार को किसी भी तरह के संसाधन मुहैया करवा रही है. समय रहते यदि केंद्र सरकार गंभीर नहीं हुई तो यह टिड्डी दल पूरे भारत वर्ष में अपना आक्रमण कर देगी और अपना कहर बरपाएगी.  

जैसलमेर बैंकों के बाहर सोशल डिस्टेंस की उड़ रही धज्जियां, बैंकों के बाहर उमड़ रही है भारी भीड़

जैसलमेर बैंकों के बाहर सोशल डिस्टेंस की उड़ रही धज्जियां, बैंकों के बाहर उमड़ रही है भारी भीड़

जैसलमेर: पूरा विश्व कोरोना वैश्विक महामारी से जूझ रहा है. देश में इसके संक्रमित मरीजों की संख्या कम होने के स्थान पर तेजी से लगातार बढ़ रही है. इसके बावजूद अनलॉक-1 के बाद लोगों ने सामाजिक दूरी को तार-तार कर दिया. इस ओर किसी ने कोई ध्यान नहीं दिया. बैंकों के सामने सोशल डिस्टेंस का भी पालन नहीं हो रहा है. अधिकांश बैंकों में लोगों का जमावड़ा लगा है. 

UP: 69 हजार सहायक शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया पर हाईकोर्ट ने लगाई अंतरिम रोक 

बैंक प्रबंधक भी इस तरफ कोई ध्यान नहीं दे रहा: 
कोरोना वायरस के इस दौर में लोग लॉकडाउन चार में छूट मिलने के बाद सोशल डिस्टेंस का पालन नहीं कर रहे हैं और बैंक प्रबंधक भी इस तरफ कोई ध्यान नहीं दे रहा है. यहां पर तो बैंक अधिकारियों की तरफ से सोशल डिस्टेंस का पालन करने के लिए कहा जा रहा है और ना ही लोग इस तरफ ध्यान दे रहे हैं. हाल यह है कि काफी लोग तो मास्क तक नहीं लगाते हैं जबकि लॉक डाउन के दौरान प्रशासन की तरफ से स्पष्ट आदेश दिए गए हैं कि कोई भी व्यक्ति किसी जरूरी काम से घर से बाहर निकलता है तो उसे मास्क लगाना अनिवार्य है. 

Unlock-1.0: आज से सड़कों पर दिखेंगी राजस्थान रोडवेज की बसें, 200 मार्गों पर संचालन शुरू 

पुलिस प्रशासन भी कोई कार्रवाई नहीं कर रहा:
इतना ही नहीं शहर में बैंकों के सामने भीड़ एकत्रित होने के बाद पुलिस प्रशासन भी कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है. जैसलमेर शहर की सभी मुख्य बैंकों के सामने ऐसी भीड़ लगाई जैसे मेले में तमाशा हो रहा हो. खाताधारक सोशल डिस्टेंस के साथ लाइन में खड़े होना मंजूर नहीं कर रहे हैं. जिससे कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ रहा है. 

जैसलमेर में टिड्डी का टेरर, जून-जुलाई और अगस्त में पाक से बड़े टिड्डी हमले की चेतावनी

जैसलमेर में टिड्डी का टेरर, जून-जुलाई और अगस्त में पाक से बड़े टिड्डी हमले की चेतावनी

जैसलमेर: भारत पाक सीमा से सटे सरहदी जिले में जैसलमेर में एक बार फिर टिड्डी के हमले होने शुरू हो गए जिससे एक बार फिर से टिड्डी को लेकर चिंता सताने लगी है की पिछले साल की भाति इस बार भी कहर ना बरपा दें. एक तरफ इस बार देश में कोरोना के कहर बरपाया हुआ है वहीं दूसरी तरफ टिड्डी दल फिर से अटैक कर रहे हैं. 

Rajasthan Corona Updates: राजस्थान में कोरोना मौतों का दोहरा शतक ! पिछले 12 घंटे में 2 मौतें, 171 नए पॉजिटिव आए सामने

टिड्डी दल के हमले ने किसानों की चिंता को बढ़ा दिया: 
सीमावर्ती इलाकों में पाकिस्तान की सीमा से सटे इलाकों में टिड्डियों की आफत ने एक बार पुनः दस्तक दी है. जैसलमेर सीमा क्षेत्र धनाना की ओर से गत रविवार को आए टिड्डी दल का जैसलमेर एयरपोर्ट मार्ग पर पड़ा उड़ा ले जाने के बाद सफाया किया इसी दल से अलग हुए एक छोटे दल लाणेला गांव के पास पड़ाव किया था वहां भी उन नियंत्रण की कार्रवाई करने का दावा सरकारी तंत्र की ओर से किया है. टिड्डी चेतावनी संगठन के राजेश कुमार ने बताया जैसलमेर एयरपोर्ट मार्ग पर 3 गुना 4 किलोमीटर की लंबाई वाले दल पर नियंत्रण के लिए लगातार प्रयास किए गए , वहीं रामदेवरा ग्राम पंचायत टिड्डी दल के हमले ने किसानों की चिंता को बढ़ा दिया क्षेत्र में पेड़ पौधे वनस्पति किसानों के खेतों में खड़ी फसलों को नुकसान पहुंचा रहे हैं फिर की ढाणी के आसपास क्षेत्र में करीब 3 किलोमीटर की परिधि में बताया कि आसमान में उड़ता नजर आया.

पुलिसवाले ने ही की पुलिसवाले से ठगी, खुद का वीडियो बनाकर किया सोशल मीडिया पर वायरल 

टिड्डी अटैक से सरकार और जिला प्रसाशन चिंतित:
जैसलमेर में लगातार टिड्डी अटैक से सरकार और जिला प्रसाशन चिंतित है. राजस्थान में प्रवेश करने से पहले टिड्डियों के ये दल पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान में भी भारी तबाही मचा चुके हैं. संयुक्त राष्ट्र के फूड एंड एग्रीकल्चर ऑर्गेनाइजेशन के मुताबिक, चार करोड़ की संख्या वाला टिड्डियों का एक दल 35 हजार लोगों के लिए पर्याप्त खाद्य को समाप्त कर सकता है. विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि जून में यह स्थिति और गंभीर हो सकती है. इस बार टिड्डी के कहर को खत्म करने के लिए विभाग दवरा पुख्ता इंतजाम किये है.

निर्जला एकादशी पर आज दिन भर चलेगा दान-पुण्य का कार्यक्रम, महिलाओं में भारी उत्साह

निर्जला एकादशी पर आज  दिन भर चलेगा दान-पुण्य का कार्यक्रम, महिलाओं में भारी उत्साह

जैसलमेर: निर्जला एकादशी के लिए सीमावर्ती जिले जैसलमेर में धूम-धाम से मनाया जा रहा है.  विभिन्न धार्मिक संगठनों द्वारा बाजारों में मीठे पानी की छबीलें लगे हुए हैं. साल की सभी चौबीस एकादशियों में से निर्जला एकादशी सबसे अधिक महत्वपूर्ण एकादशी है. कोरोना के कारण आज एकादशी के अवसर पर सोनार दुर्ग पर स्तिथ लक्ष्मीनाथ जी मंदिर और रामदेव जी मंदिर, गणेश जी का मंदिर  सत्यनारायण भगवान, सहित सभी मंदिरों में सुबह से ही श्रद्धालुओं का आज तांता नहीं लगा.

RCA अध्यक्ष वैभव गहलोत का जन्मदिवस आज, अन्य जिलों की तरह जोधपुर में भी आयोजित किए जा रहे कार्यक्रम

निर्जला एकादशी पर आज श्रद्धालु उपवास कर रहे:  
निर्जला एकादशी पर आज श्रद्धालु उपवास कर रहे हैं. कोरोना के कारण पहली बार मंदिरों के पट बंद रहने से भक्त ग्यारस माता के दर्शन कर कथाएं नहीं सुन पाए.  इस दिन माताजी को ठंडे जल से भरी मटकी, फल आदि अर्पित किए जाते गए, लेकिन इस बार मन्दिर खोलने की अनुमति नहीं होने से श्रद्धालुओं को घर मे ही रहना पड़ा. इस अवसर पर लोगों ने परंपरागत रूप से सिंगाड़े की सेव, आम, मावे के पेठे, खजूर की पंखियां, ठण्डाई व मटकियों का वितरण कर दान पुण्य किया जा रहा है.

Rajasthan Corona Updates: राजस्थान में कोरोना मौतों का दोहरा शतक ! पिछले 12 घंटे में 2 मौतें, 171 नए पॉजिटिव आए सामने 

महिलाओं में भारी उत्साह देखने को मिल रहा:
इस पर्व को लेकर महिलाओं में भारी उत्साह देखने को मिल रहा है. निर्जला एकादशी के अवसर पर दान-पुण्य की परम्परा में बहन-बेटियों के ससुराल में ‘फळियार भेजने की परम्परा रही है. ‘फळियार में पांच किलोग्राम से लेकर इक्कीस किलोग्राम तक मिठाईयां शर्बत की बोतले, आम, ओळा, सेंवईया, चीनी, मटकी, स्टील बर्तन इत्यादि भेजने की परम्परा के क्रम में ‘फळियार  पहुंचने शुरू हो गए है. शहर में महिलाएं व युवतियां सामूहिक रूप से हर गली-मौहल्ले शहर में ‘फळियार के साथ निकल रही हैं. बच्चे सरबत पीकर खूब मजे कर रहे है और तेज गर्मी से लोगों को शरबत पीकर गर्मी से निजात नही मिल रहा है. 

अनलॉक-1 के पहले दिन बाजार में उमड़ी भीड़, ग्रामीण क्षेत्र से आज लोग पहुंचे जैसलमेर

अनलॉक-1 के पहले दिन बाजार में उमड़ी भीड़, ग्रामीण क्षेत्र से आज लोग पहुंचे जैसलमेर

जैसलमेर: राजस्थान सरकार की ओर से रविवार को जारी किए गए लॉकडाउन 5.0 यानी अनलॉक-1 के लिये दिशा निर्देशों के तहत एक जून से सभी सरकारी और निजी कार्यालयों को पूरी क्षमता के साथ काम करने की अनुमति दी गई है. सभी धार्मिक स्थानों, होटलों और मॉलों पर प्रतिबंध जारी रखने के निर्देश दिये है. इसके साथ ही करीब दो महीने से बंद पड़े देश को दोबारा खोलने की कवायद शुरू हो गई है. अनलॉक-1 के पहले चरण में केंद्रीय गृह मंत्रालय के दिशा-निर्देशों के अनुसार, 8 जून से सभी धार्मिक स्थल, होटल, रेस्टोरेंट और शॉपिंग मॉल खुल सकेंगे.

जैसलमेर: 2 ग्राम टिड्डी का टेरर जारी, विभाग ने रात-भर चलाया अभियान  

लम्बे समय बाद सड़कों पर ग्रामीण क्षेत्र से आये वाहन दिखाई दिए: 
देश के कुछ राज्यों ने अनलॉक-1 के तहत अपने-अपने हिसाब से रियायतें दी हैं.  अनलॉक-1 के आज पहले दिन जैसलमेर शहर में आज ज्यादा भीड़ देखने को मिली. लम्बे समय बाद सड़कों पर ग्रामीण क्षेत्र से आये वाहन दिखाई दिए. जैसलमेर के शिव रोड पर एकबारगी जाम लग गया. बाजारों में रोज के मुकाबले ज्यादा भीड़ दिखाई दी.  अब काफी बंदिशों में छूट के बाद दुकानदारों के चेहरों में चिंता की लकीरे खुलती दिखाई दी.

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में 4 मौतें, 149 नये पॉजिटिव आए सामने 

जैसलमेर: 2 ग्राम टिड्डी का टेरर जारी, विभाग ने रात-भर चलाया अभियान

 जैसलमेर: 2 ग्राम टिड्डी का टेरर जारी, विभाग ने रात-भर चलाया अभियान

जैसलमेर: भारत पाक सीमा से सटे सरहदी जिले में जैसलमेर में एक बार फिर टिड्डी के छोटे छोटे हमले होने शुरू हो गए जिससे एक बार फिर से टिड्डी को लेकर चिंता सताने लगी है की पिछले साल की भाति इस बार भी कहर ना बरपा दें. एक तरफ इस बार देश में कोरोना के कहर बरपाया हुआ है. वहीं दूसरी तरफ टिड्डी दल फिर से अटैक कर रहे हैं. सीमावर्ती इलाकों में पाकिस्तान की सीमा से सटे इलाकों में टिड्डियों की आफत ने एक बार पुनः दस्तक दी है. सोमवार शाम जैसलमेर में टिड्डी के बड़े दल ने धावा बोल दिया जिस पर जिला कलक्टर की गंभीरता से रात भर टिड्डियों को नियतंत्राण की कार्रवाई को अंजाम दिया गया. 

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में 4 मौतें, 149 नये पॉजिटिव आए सामने 

लाखों की संख्या में टिड्डियों को नष्ट किया गया: 
जैसलमेर के एयरपोर्ट रोड के आस पास क्षेत्र इलाके में टिड्डी ने पड़ाव डाला जिस पर टिड्डी नियंत्रण विभाग और कृषि विभाग ने रात-भर रेस्क्यू अभियान चलाया गया, जिस पर लाखों की संख्या में टिड्डियों को नष्ट किया गया. जैसलमेर जिले में टिड्डियों पर नियंत्रण के लिए युद्धस्तर पर प्रयास जारी हैं. टिड्डियों पर नियंत्रण की दृष्टि से जिला प्रशासन के निर्देशों पर टिड्डी नियंत्रण सहित संबंधित विभागों की ओर से टिड्डी प्रभावित क्षेत्रों में कीटनाशकों के व्यापक स्प्रे की वजह से टिड्डियों पर प्रभावी नियंत्रण संभव हुआ है. फिर भी जैसलमेर के आस-पास के ग्रामीण क्षेत्र में टिड्डी के दल देखें गए. 

भारतीय सेना को मिली बड़ी कामयाबी, LoC पर घुसपैठ कर रहे तीन आतंकियों को किया ढेर 

अब पोकरण में लगाई कांस्टेबल ने फांसी, कारणों का नहीं हुआ खुलासा

अब पोकरण में लगाई कांस्टेबल ने फांसी, कारणों का नहीं हुआ खुलासा

पोकरण(जैसलमेर): प्रदेश के पुलिस विभाग में 9 दिन में रविवार को चौथे पुलिसकर्मी ने जान दे दी. पोकरण थाना क्षेत्र अंतर्गत जैसलमेर पोकरण सड़क मार्ग पर स्थित एक निजी होटल में रविवार की देर रात एक पुलिस कांस्टेबल ने होटल की तीसरी मंजिल पर स्थित एक कमरे में फांसी का फंदा लगाकर ईह लीला समाप्त कर दी. कांस्टेबल द्वारा आत्म हत्या की खबर मिलते ही शहर में सनसनी फैल गई. 

मशहूर संगीतकार वाजिद खान का निधन, लंबे समय से किडनी की बीमारी से थे ग्रसित 

शव को कब्जे में ले मामले की जांच प्रारंभ:  
वहीं जानकारी मिलते ही पोकरण सींओ मोटाराम चौधरी, थाना अधिकारी सुरेंद्र प्रजापति मौके पर पहुंचे व मौका मुआयना कर जिला पुलिस अधीक्षक डॉ किरण कंग को मामले की जानकारी दी. वह जानकारी मिलते ही डॉ किरण कंग पोकरण पहुंची व मौका मुआयना कर घटना की जानकारी परिजनों को दी. पुलिस ने कांस्टेबल मायाराम के शव को कब्जे में ले मामले की जांच प्रारंभ कर दी है. साथ ही शव का आज पोस्मार्टम किया जाएगा.

 Lockdown 5.0: Unlock 1 होने का आगाज, राजस्थान में मिलेंगी कई तरह की छूट, ये अब भी बंद रहेंगे 

जैसलमेर रोड पर स्थित एक निजी होटल में रहता था कांस्टेबल: 
गौरतलब है कि पुलिस लाइन में कार्यरत 2015 बैच के कांस्टेबल मायाराम गत कुछ दिनों से पॉवर ग्रिड कंपनी में गार्ड के रूप में कार्यरत था. बताया जा रहा है कि मायाराम कंपनी के अधिकारियों के साथ पोकरण में जैसलमेर रोड पर स्थित एक निजी होटल में रहता था. रविवार को उसने अपने कमरे में फंदा लगाकर ईहलीला समाप्त कर ली. रविवार रात सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची और शव को अपने कब्जे में लिया. पुलिस उपाधीक्षक मोटाराम गोदारा व थानाधिकारी सुरेंद्रकुमार प्रजापति भी मौके पर आए. पुलिस ने शव को कब्जे में लेने के साथ मामले की जांच शुरू कर दी है. जानकारी के मुताबिक मृतक के पास कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है. पुलिस की कार्यवाही जारी है. 

कोबरा को पकड़ना युवक को पड़ा भारी, ​हाथ पर डसने से बिगड़ी तबियत 

 कोबरा को पकड़ना युवक को पड़ा भारी, ​हाथ पर डसने से बिगड़ी तबियत 

पोकरण: जैसलमेर के पोकरण शहर की ह्रदय स्थली गांधी चौक में निकले कोबरा को पकड़ना एक युवक को उस समय भारी पड़ गया, जब उसने कोबरा को पकड़ने में थोड़ी सी लापरवाही की. जिससे कोबरा ने उस युवक को डस लिया. कोबरा के डसने से  युवक की हालत गंभीर हो गई और उसे पोकरण के राजकीय अस्पताल में उपचार के बाद जोधपुर कर दिया गया. 

कोबरा की लंबाई करीब 6​ फिट:
जानकारी के मुताबिक ह्रदय स्थली गांधी चौक में एक सब्ब्जी व्यवसायी की टोकरी में एक बड़ा 6 फिट का कोबरा दिखने के बाद बाजार में सनसनी फैल गई और कोबरा को देखने के लिए भीड़ इक्कठा हो गई. वहीं कोबरा के देखने के बाद लोगों में भय और दहशत का माहौल देखने को मिला. वहीं साँपों को पकड़ने में महारत हासिल पोकरण शहर के युवक धर्मेंद्र हरिजन को सूचना दी गई और उसे पकड़ने के लिए धर्मेंद्र हरिजन को गांधी चौक बुलवाया गया. धर्मेंद्र के आने के बाद कोबरा को उसने पकड़ने का प्रयास किया. 

ऋतिक रौशन की चचेरी बहन पश्मिना जल्द ही बॉलीवुड में करेगी डेब्यू, अभिनेता ने लिखी ये शानदार पोस्ट

कोबरा सांप ने हाथ पर डस लिया:
हालांकि बड़ी बहादुरी और सेल्फ कॉन्फिडेंस पूर्वक धर्मेंद्र हरिजन ने कोबरा को एक ही बार के प्रयास में पकड़ लिया, लेकिन उसने पकड़ने में थोड़ी सी लापरवाही कर ली और उसने द्वारा कोबरा के मुंह को थोड़ा नीचे से पकड़ लिया. जिससे कोबरा ने उसके हाथ पर डस लिया. हाथ पर डसने के बाद भी धर्मेंद्र घबराया नहीं और कोबरा को लेकर इधर उधर घूमता रहा. जिससे वह भीड़ में आकर्षण का केंद्र बना हुआ था.

लापरवाही से जा सकती है जान:
लेकिन उसको क्या पता था कि उसकी यह लापरवाही उसकी जान भी ले सकती है.  कोबरा को लेकर वह अपने साथी के साथ बाइक पर बैठकर कोबरा को शहर के बाहर छोड़कर जैसे ही वह अपने घर पहुंचा. तो उसकी तबियत बिगड़ने लगी और उसको तत्काल प्रभाव से पोकरण के राजकीय अस्पताल पोकरण में प्राथमिक उपचार के बाद जोधपुर रेफर कर दिया गया. फर्स्ट इंडिया न्यूज इस मामले को देखकर यह अपील करता है . सांप पकड़ने वाले हौसला रखने वाले युवक कभी भी लापरवाही न बरतें जिससे उसकी जान चली जाए. 

भरतपुर में नहीं थम रहे कोरोना वायरस के मामले, फिर से लगाया जा सकता है कर्फ्यू  

Open Covid-19