जयपुर Budget Session: राजस्थान विधानसभा का बजट सत्र फरवरी में, तैयारी में जुटे सत्तापक्ष-विपक्ष के हरावल दस्ते; सत्र के हंगामेदार रहने की संभावना

Budget Session: राजस्थान विधानसभा का बजट सत्र फरवरी में, तैयारी में जुटे सत्तापक्ष-विपक्ष के हरावल दस्ते; सत्र के हंगामेदार रहने की संभावना

Budget Session: राजस्थान विधानसभा का बजट सत्र फरवरी में, तैयारी में जुटे सत्तापक्ष-विपक्ष के हरावल दस्ते; सत्र के हंगामेदार रहने की संभावना

जयपुर: देश भर में पांच राज्यों के चुनावों की तपिश है. उधर राजस्थान में अगले माह में विधानसभा का सबसे अहम कहे जाने वाला बजट सत्र शुरू हो रहा है. अलवर और धरियावद मामले समेत कानून व्यवस्था समेत कई मुद्दों को लेकर विपक्ष घेरने की तैयारी में है. मंत्रिपरिषद फेरबदल विस्तार के बाद सदन का फ्लोर मैनेजमेंट बदला सा नजर आएगा. उपचुनावों में जीते विधायक पहली बार विधानसभा के बजट सत्र में शामिल होंगे. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बजट प्रस्तुत करेंगे, पहली बार कृषि बजट पृथक तौर पर पेश होगा. 

बजट सत्र मतलब सरकार की भावी योजना का सामने लाने का समय और ये बताने का वक्त भी बीते साल राज्य की जनता की भलाई के लिए क्या काम किए. राजनीतिक तौर पर कहे तो सत्ताधारी दल ने कोरोना से कुशलता से निपटने के साथ ही पार्टी के आंतरिक मन मुटावो को भी दूर करने का काम किया है, साथ ही उत्साह है दो उपचुनाव धरियावद और वल्लभनगर में भारी भरकम जीत का भी. उधर विपक्षी दल बीजेपी के पास भी गहलोत सरकार को  घेरने के लिए मुद्दे कम नहीं है. मंत्री परिषद फेरबदल और विस्तार के बाद सदन का नजारा बदला बदला सा होगा. 

पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा, डॉ रघु शर्मा और हरीश चौधरी अब मंत्री की भूमिका में नहीं होंगे, गुजरात और पंजाब के कांग्रेस प्रभारी होने के नाते उनकी व्यस्तताएं रहेगी. मुख्य सचेतक डॉ महेश जोशी अब पीएचईडी मंत्री की भूमिका में दिखेंगे. अब तक विधायक रहे महेन्दजीत मालवीय,हेमाराम चौधरी, रमेश मीणा, विश्वेंद्र सिंह, रामलाल जाट,गोविंद मेघवाल,शकुंतला रावत, बृजेंद्र ओला, मुरारी लाल मीणा, राजेंद्र सिंह गुढ़ा और जाहिदा नए मंत्री के तौर पर दिखेंगे. उधर ममता भूपेश, टीकाराम जूली और भजन लाल जाटव दिखेंगे कैबिनेट मंत्री के तौर पर. डॉ जितेंद्र सिंह, संयम लोढ़ा, राजकुमार शर्मा, बाबू लाल नागर, रामकेश मीना और दानिश अबरार नजर आएंगे मुख्यमंत्री के सलाहकार की नई भूमिका में. ये सभी अब सीएम के सदन में हरावल कहलाएंगे.

विधानसभा के सत्र में भाग लेने के लिये सत्ताधारी दल कांग्रेस और विपक्षी दल बीजेपी की सेनाएं तैयारी में जुट गई है. सदन के अंदर सियासी घमासान के लिये अपने तरकश में तीर रखकर हरावल दस्तों के दिग्गज कमर कस रहे है. सीएम गहलोत के हरावल दस्ते में कुशल सियासी सेनापति और ट्रबल शूटर है. दक्ष सियासी क्षत्रपों में शुमार है यूडीएच और संसदीय कार्य मंत्री शांति धारीवाल, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा समेत प्रमुख दिग्गज.

---विधानसभा में कांग्रेस का हरावल दस्ता--- 

--शांति धारीवाल... यूडीएच और संसदीय कार्य मंत्री 
-फ्लोर मैनेजमेंट की कमान रहेगी शांति धारीवाल के हाथों में
-वे सदन में सेनापति की भूमिका में होंगे
-संसदीय कार्य मंत्री के तौर पर धारीवाल के पास कमान

---गोविन्द सिंह डोटासरा.. पीसीसी चीफ
-सत्तापक्ष के हरावल दस्ते में शुमार
-विपक्ष के प्रहारों को ध्वस्त करने की जिम्मेदारी

---डॉ महेश जोशी.. पीएचईडी मंत्री, मुख्य सचेतक
-कांग्रेस कैम्प के प्रमुख रणनीतिकार
- धारीवाल ने कूटनीतिक सहयोगी की भूमिका में होंगे 
-फ्लोर मैनेजमेंट में दक्ष

---लाल चंद कटारिया कृषि मंत्री
- पहली बार कृषि बजट पेश करके इतिहास रचेंगे
- किसानों के मुद्दों पर सरकार की बात रखेंगे

--महेन्द्र चौधरी.. उप मुख्य सचेतक 
-सत्तापक्ष के युवा क्षत्रप
-फ्लोर मैनेजमेंट में अहम भूमिका
-कांग्रेस विधायकों को सब्जेक्ट बताने का जिम्मा 

---प्रताप सिंह खाचरियावास... खाद्य मंत्री 
-सत्तापक्ष के प्रमुख रणनीतिकार
-इनका जिम्मा विपक्षी धार को कुंद करना

---ममता भूपेश ..महिला बाल विकास मंत्री
- प्रखर वक्ता के तौर पर पहचान
- कांग्रेस के दलित महिला चेहरे के तौर पर पहचान
- विपक्ष के तीखे तेवरों का सामना करने की क्षमता

---गोविंद मेघवाल आपदा राहत मंत्री
- विपक्षी हमलों को निस्तेज करने का जिम्मा देखेंगे
- सामाजिक मुद्दों पर बात रखने में माहिर

---सुभाष गर्ग राज्य मंत्री
- वित्तीय मसलों पर सरकार की पैरवी करते नजर आएंगे
- नीतिगत मुद्दों पर बोलने में एक्सपर्ट
- आरएलडी कोटे से सरकार में मंत्री लेकिन गहलोत के ट्रबल शूटर

---राजेंद्र यादव गृह और उच्च शिक्षा राज्य मंत्री
- सत्ता पक्ष के हरावल दस्ते के नए चेहरे
- कानून व्यवस्था के मुद्दों पर विपक्ष के हमलों का जवाब देंगे
- नई भूमिका में सदन में क्षमता साबित करनी होगी


---अशोक चांदना खेल और युवा मामलात मंत्री
- सरकार के मजबूत युवा चेहरों में अग्रणी
- मंत्री के तौर पर अब तक सदन में अच्छे परफॉर्मर
- सरकार की नीतियों को फ्रंट पर लाने का काम करेंगे

----संयम लोढ़ा निर्दलीय विधायक
- अब मुख्यमंत्री के सलाहकार
- प्रखर वक्ता और विपक्ष के हमलों का जवाब देने में माहिर
- कांग्रेस की आइडोलॉजी पर बात रखने के लिए चर्चित

--- डॉ राज कुमार शर्मा विधायक
- अब मुख्यमंत्री के सलाहकार
- चिकित्सा,शिक्षा जैसे विषयों पर बोलने में पारंगत
- युवा चेहरे के तौर पर पहचान

---रामकेश मीना विधायक
- अब मुखमंत्री के सलाहकार
-  सामाजिक विषयों पर बोलने में एक्सपर्ट

---रोहित बोहरा विधायक
- कांग्रेस के नए और युवा चेहरों में गिनती
- वित्तीय मसलों पर विपक्षी हमलों का जवाब देने में दक्ष

---दानिश अबरार विधायक
- अब सीएम गहलोत के सलाहकार
- युवा चेहरे और कुशल वक्ता

 

----विधानसभा में भाजपा का हरावल दस्ता----
--- गुलाब चंद कटारिया..नेता प्रतिपक्ष
- बजट पर सरकार को घेरने में प्रमुख भूमिका निभाएंगे
- सदन में विपक्षी एकता का जिम्मा इनके पास
- हर विषय पर बोलने में प्रखर वक्ता
- आंकड़ों के साथ सरकार को घेरने में एक्सपर्ट

--राजेन्द्र राठौड़.. उप नेता प्रतिपक्ष 
-फ्लोर मैनेजमेंट का दायित्व इनके जिम्मे
-सत्तापक्ष को घेरने की रणनीति बनाने का काम
-नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया के प्रमुख सहयोगी
-सहयोगी दलों को साधने का भी जिम्मा

--सतीश पूनिया.. बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष 
-बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष के नाते प्रमुख जिम्मेदारी 
-विधायकों को ज्वलंत विषयों के प्रति सजग करना 
-ज्वलंत मसलों पर अपने धाराप्रवाह संबोधन से सत्तापक्ष को घेरना
- पहली बार विधायक बने लेकिन अपनी वाणी से सबका ध्यान खींचते है

-- जोगेश्वर गर्ग... सचेतक बीजेपी विधायक दल
-संसदीय गुणों में दक्ष
-ज्वलंत विषयों पर घेरने का जिम्मा 
- सामाजिक मसलों को उठाने में माहिर

---कालीचरण सराफ.. वरिष्ठ भाजपा विधायक 
-विपक्षी कैम्प के प्रमुख रणनीतिकार
- ज्वलंत मुद्दे उठाने में माहिर
- शिक्षा और स्वास्थ विषयों पर पकड़

---मदन दिलावर... वरिष्ठ भाजपा विधायक 
-विपक्षी खेमे के हरावल सिपाही
-धारदार संबोधन से खलबली पैदा करने में महारथी

---वासुदेव देवनानी.. वरिष्ठ भाजपा विधायक 
-सदन की फ्लोर कूटनीति में माहिर
- नीतिगत मसलों पर पकड़ के लिए चर्चित

---अनिता भदेल ..वरिष्ठ विधायक.
- बीजेपी का प्रखर दलित चेहरा
- सामाजिक और महिला बाल विकास के मुद्दों पर पकड़

---रामलाल शर्मा.. विधायक और बीजेपी प्रवक्ता
-कुशाग्र बुद्धि और बोलने में सक्षम
-विपक्षी फ्लोर मैनेजमेंट के हरावल दस्ते में शुमार

---पुष्पेंद्र सिंह बाली..वरिष्ठ विधायक
- विपक्षी रणनीति को धार देने का काम
- ऊर्जा विषय के एक्सपर्ट

---अशोक लाहोटी... विधायक
- युवा और तेज तर्रार चेहरा
- नए विधायकों में वित्तीय मसलों पर बोलने में एक्सपर्ट
- शहरी विकास की समस्या उठाने में माहिर

---राम प्रताप कासनिया विधायक
- तेज तर्रार विधायकों में गिनती
- गांव, किसान, सिंचाई के मुद्दों पर बोलने में एक्सपर्ट

धरियावद और वल्लभनगर का उप चुनाव जीतने के बाद कांग्रेस उत्साहित है. धरियावद से जीते नगराज मीणा तो पहले भी विधायक रह चुके लेकिन वल्लभनगर से जीती प्रीति शक्तावत पहली बार सदन में अपनी बात रखते नजर आएगी. उधर नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया की अगुवाई में विपक्ष तीखे हमले करने में महारथी है. बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया की मौजूदगी विपक्षी कैम्प को मज़बूती देने का काम करती है. सदन के अंदर बीजेपी के फ्लोर मैनेजमेंट का दायित्व संभालते है पुराने धुरंधर और उपनेता प्रतिशत राजेन्द्र राठौड़. मौजूदा विधानसभा सत्र लंबा चलने के आसार है. ऐसे में सियासत उफान पर होगी. कानून व्यवस्था विषयों पर बीजेपी घेरने का काम करेगी तो वहीं समझदार मंत्रियों के बलबूते सत्तापक्ष का काम होगा विपक्षी हमलों का माकूल जबाव देना. अनुभवी शांति धारीवाल और उनकी टीम जवाब देने में माहिर है. बस कोशिश यहीं रहेगी विधानसभा अध्यक्ष के आसन की गरिमा बनी रहे और पिछली बार की तरह इस बार स्पीकर डॉ सीपी जोशी किसी कारण से खफा ना हो जाए, ये बात भी पिछले सत्र में उन्हीं के कारण राज्य की विधानसभा ने सर्वाधिक चलने का रिकॉर्ड बनाया था खासतौर पर प्रश्न काल.

...फर्स्ट इंडिया के लिए योगेश शर्मा की रिपोर्ट 

और पढ़ें