भीडतंत्र ने ली पुलिस इंस्पेक्टर की जान, आरोपी बजरंग दल का नेता गिरफ्तार

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/12/04 11:24

उत्तरप्रदेश।  उत्तरप्रदेश के बुलंदशहर में गोकशी के शक में भारी विरोध प्रदर्शन में एक पुलिस इस्पेक्टर की मौत हो गई। पोस्टमार्टम में पता चला की पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध के सिर में 32 mm की गोली मिली है। इसके अलावा उनके सिर, कमर, घुटना समेत शरीर के कई जगहों पर डंडों से चोट के निशान भी मिले हैं। गोकशी के शक में भड़की हिंसा के दौरान मारे गए इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की हत्या के आरोप में पुलिस ने मंगलवार को मुख्य आरोपी की पहचान हो गई है। लेकिन आरोपी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है।

बतादें आरोपी योगेश राज बजरंग दल का नेता है। इसी ने सोमवार को गोकशी होने की शिकायत दर्ज कराई थी। पुलिस इस मामले में अब तक चार आरोपियों को गिरफ्तार कर चुकी है। सरकार ने इस मामले की जांच एडीजी इंस्पेक्टर को सौंपी है जो 48 घंटे में रिपॉर्ट दाखिल करेंगे।

दरअसल, बुलंदशहर में गोकशी के शक में गुस्साई भीड़ ने जमकर उत्पात मचाया। इस दौरान लोगों को समझाने पहुंची पुलिस पर भी लोगों ने हमला कर दिया। माहौल को शांत करने के लिए पुलिस ने हवा में फायरिंग कर दी। जिससे भीड़ बेकाबू हो गई और भीड़ में से ही किसी ने पुलिस पर गोली चला दी। इसमें एक इंस्पेक्टर की मौत हो गई है। वहीं दो प्रदर्शनकारियों के घायल होने की सूचना है।

हमले में मारे गए एसएचओ सुबोध  28 सितंबर 2015 से 9 नवंबर 2015 तक इंवेस्टिगेशन ऑफिसर थे। मार्च 2016 में दूसरे इंवेस्टिगेशन ऑफिसर ने चार्जशीट फाइल की थी। सुबोध अलवर में मॉब लिंचिंग में मारे गए व्यक्ति अखलाक के केस की दो महीने से जांच कर रहे थे।

यूपी सरकार ने बुलंदशहर घटना की जांच एडीजी इंटेलिजेंस को सौंपी है जो 48 घंटे के अंदर रिपोर्ट सौंपेगी। इसके साथ ही मेरठ रेंज के महानिरीक्षक की अध्यक्षता में एक एसआईटी का भी गठन किया गया है। बुलंदशहर में हुई घटना में पांच पुलिसकर्मी और करीब आधा दर्जन आम लोगों को भी मामूली चोटें आई हैं। इस हिंसा में करीब 400 लोग शामिल थे जिन्होंने 15 गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया।

इस मामले में कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल टिप्पणी करते हुए कहा कि यह आश्चर्यजनक है कि कैसे भीड़ अखलाक केस की जांच करने वाले पुलिस अधिकारी की हत्या कर सकती है? कौन इन्हें कानून अपने हाथ में लेने की इजाजत देता है? इन मामलों पर ध्यान देने के बजाए, योगी तेलंगाना जाकर जहर उगल रहे हैं। 

वहीं केन्द्रीय अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री, मुख्तार अब्बास नक्वी ने कहा कि बुलंदशहर की घटना इंसानियत को शर्मसार करने वाली है। राज्य सरकार ने कहा है कि दोषियों पर कड़ी कार्रवाही की जाएगी और बिना किसी पक्षपात के न्याय किया जाएगा। मैं लोगों से अपील करता हूं कि उन लोगों से सावधान रहें जो अपने फायदे के लिए अशांति फैलाने का काम करते हैं

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in