राजधानी के रामनिवास बाग में बेशकीमती चंदन के पेड़ को काटकर चोरी का प्रकरण आया सामने

राजधानी के रामनिवास बाग में बेशकीमती चंदन के पेड़ को काटकर चोरी का प्रकरण आया सामने

राजधानी के रामनिवास बाग में बेशकीमती चंदन के पेड़ को काटकर चोरी का प्रकरण आया सामने

जयपुर: राजधानी के रामनिवास बाग में बेशकीमती चंदन के पेड़ को काटकर चोरी करने का प्रकरण सामने आया है. प्रकरण में जेडीए की ओर से पेड़ व बाग की सुरक्षा के लिए लगाए गार्ड्स की भूमिका की संदिग्ध बताई जा रही है. जेडीए ने पुलिस में इस बारे में मामला दर्ज कराया है.

राजस्थान जैसे मरू प्रदेश में चंदन का पेड़ एक दुर्लभ प्रजाति: 
राजस्थान जैसे मरू प्रदेश में चंदन का पेड़ एक दुर्लभ प्रजाति है. जयपुर में रामनिवास बाग के अलावा मुख्यमंत्री निवास पर एक चंदन का पेड़ लगा हुआ है. रामनिवास बाग में चंदन की पेड़ की चोरी का मामला नया नहीं हैं. रामनिवास बाग में रियासयतकाल में वर्ष 1940 में सावन भादो पार्क में तीन चंदन के पेड़ लगाए गए थे. दो पेड़ों को काटकर चोरी का मामला पिछले वर्ष 25 जुलाई को सामने आया था. तब भी जेडीए की ओर से पुलिस थाने में लिखित रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी. इस मामले में आज तक पुलिस के स्तर पर जांच ही चल रही है.

 Delhi Election 2020: प्रियंका गांधी के बेटे रेहान ने पहली बार डाला वोट, बताया अच्छा अनुभव 

जेडीए की ओर से सुरक्षा के लिए दस गार्ड्स तैनात: 
इसी बीच चोरों के बढ़ते हौसलों के कारण बचे एक बेशकीमती चंदन के पेड़ को भी काटकर चोरी कर लिया गया. रामननिवास बाग में जेडीए की ओर से सुरक्षा के लिए दस गार्ड्स तैनात किए हुए हैं. पेड़ काटकर चोरी की सूचना तो जेडीए की उद्यान शाखा को पहले ही मिल गई थी. लेकिन वरिष्ठ उद्यानविज्ञ महेश तिवारी ने अपने स्तर पर अनुसंधान करते हुए पहले कटे हुए पेड़ के टुकड़े बरामद किए. जेडीए की ओर से पुलिस में दर्ज रिपोर्ट के अनुसार कई टुकड़े सावन भादो पार्क के सामने क्रिकेट ग्राउण्ट में घास के नीचे दबाए गए तो कुछ टुकड़े गार्ड जीतराम गुर्जर के कमरे से बरामद हुए. इसके बाद जेडीए की ओर से पुलिस में मामला दर्ज कराया गया.

Delhi Election 2020: कांग्रेस प्रत्याशी अलका लांबा ने AAP कार्यकर्ता को जड़ा थप्पड़, मतदान में दिख रही सुस्ती

चंदन पेड़ की कीमत करीब 15 लाख रुपए के आस-पास: 
आपको बता दें कि एक कटे हुए चंदन पेड़ की कीमत करीब 15 लाख रुपए के आस-पास है. चंदन की लकड़ियों का बाजार भाव करीब 15 हजार रुपए प्रति किलो है. जानकारों के अनुसार पेड़ काटने के बाद चोरों ने उसकी फोटो ली और उसे बेचने के लिए बाजार में फोटाे दिखाए गए. इन फोटोज से ही जेडीए को मामले की भनक लगी. 

और पढ़ें