Live News »

माता का एक ऐसा मंदिर जहां लगता है शराब का भोग, भक्त की शराब मंजूर हो तो खाली हो जाता है प्याला

माता का एक ऐसा मंदिर जहां लगता है शराब का भोग, भक्त की शराब मंजूर हो तो खाली हो जाता है प्याला

नागौर। जिले के ऐतिहासिक भंवाल माता मंदिर में इन दिनों हर वक़्त भक्तों का भारी जमावड़ा लगा है। लोग दूर दूर से माता के दरबार मे मन्नत मांगने आते है। नवरात्र  के दिनो में मन्दिर में मेले सा माहौल नजर आता है। इस मंदिर की विशेषता यह है कि यहां माता को भक्तों द्वारा शराब का भोग लगाया जाना है। माता एक भक्त से ढाई प्याला शराब का भोग लगाती है खास बात ये है कि माता उसी भक्त की शराब का भोग लगाती है जिसकी की मनोकामना या मन्नत पूरी होनी होती है। नवरात्रा में लोग विशेष तौर पर इस मंदिर में आते हैं।

इस मंदिर में शराब प्रसाद की तरह चढाया जाता है जी हां हम बात कर रहे हैं ऱाजस्थान के नागौर जिले की मेड़ता तहसील के भंवाल गांव की। इस गांव में काली माता का मंदिर है जिसकी तामीर को 800 से ज्यादा साल हो चुके हैं। सब जगहों से हटकर भंवाल के कालीमाता मंदिर की खास बात ये है कि यहां पर काली माता को भक्त शराब का भोग लगाते हैं। माता भी सभी की शराब स्वीकार नहीं करती, केवल उसी भक्त की शराब कबूल की जाती है जिसकी मन्नत पूरी की जानी होती है। नवरात्र के मौके पर भक्त विशेष तौर पर अपनी फरियाद लेकर माता के दरबार मे आते है और भारी तादाद में इन दिनों माता के भक्त मंदिर मे देखे जा रहे है।

मंदिर में दो माता की मुर्तियां हैं पहली बह्माणी माता जिन्हे मीठा प्रसाद चढ़ाते हैं दूसरी काली माता की जिनको शराब चढाई जाती हैं। हजारों भक्त भंवाल मे अपनी मुरादें लेकर आते हैं। ऐसा नही है कि भक्त सिर्फ मन्नत मांगने के लिए ही माता के दरबार में आते हैं बल्कि जिन भक्तों की मुराद पूरी हो जाती है वे भी फिर से माता का शुकराना अदाकरने भवाल आते है।

मंदिर मे भक्तों को इस बात का भी खास ध्यान रखना होता है कि वो चमड़े से बनी कोई चीज इस वक्त ना पहना हो जब इसकी शराब को भोग लगाया जा रहा हो। अगर भक्त चमड़े से बनी कोई चीज पहने होता है तो माता उसकी भेट स्वीकार नही करती। पूजारी जब शराब का प्याला माता को चढ़ाता है तो अगर माता को भक्त की शराब मंजूर हो तो शराब का प्याला खाली हो जाता है इस तरह करके माता ढाई प्याला शराब ग्रहण करती है। विदेश से आऐ सैलानी भी माता को शराब के भोग लगते देख हैरान हो जाते है। 
भारत आस्था प्रधान देश है यहां आस्था पहले होती है और विज्ञान बाद में, भवाल माता के प्रति भक्तों की आस्था भी कुछ ऐसी ही है । जिस शराब को आमतौर पर अच्छा नहीं माना जाता वही शराब यहां पवित्र मानी जाती है और हर उम्र के भक्तों के हाथ मे देखी जा सकती है ।

....नरपत ज़ोया संवाददाता 1st इंडिया न्यूज नागौर

और पढ़ें

Most Related Stories

पीसीसी दफ्तर में वापस लगाए गए पायलट के पोस्टर, खुद प्रियंका गांधी कर रहीं मध्यस्थता !

पीसीसी दफ्तर में वापस लगाए गए पायलट के पोस्टर, खुद प्रियंका गांधी कर रहीं मध्यस्थता !

जयपुर: राजस्थान में चल रहे सियासी घटनाक्रम को लेकर एक बार फिर कांग्रेस आलाकमान प्रयास कर रहा है. जयपुर में कांग्रेस दफ्तर से सोमवार सुबह उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के पोस्टर हटा दिए गए थे, जो अब फिर से लगा दिए गए हैं. अशोक गहलोत ने बहुमत की संख्या दिखा दी है. जानकार सूत्रों के हवाले से मिली खबर के अनुसार राजस्थान सियासी संकट को सुलझाने के प्रयास हो रहे हैं. 

रणदीप सुरजेवाला का बयान, कहा- अगले 30 दिन में होगा मंत्रिमंडल फेरबदल और विस्तार 

गहलोत और पायलट दोनों से बात कर रहीं प्रियंका: 
खुद प्रियंका गांधी इसकी मध्यस्थता कर रही है. सूत्रों के अनुसार प्रियंका गहलोत और पायलट दोनों से बात कर रही है. ऐसे में जानकारी के अनुसार पायलट ने आलाकमान के सामने कुछ मांगे रखी है. सूत्रों के अनुसार पायलट गृह और वित्त विभाग खुद के पास रखना चाहते हैं. इसके साथ ही अपने करीबी 4 विधायकों को मंत्री बनाने की मांग की है. वहीं प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद भी पायलट अपने पास रखना चाहते हैं. 

हटता नजर आ रहा गहलोत सरकार पर मंडरा रहा खतरा, दो और निर्दलीय विधायक वापस लौट सकते कुनबे में ! 

सुरजेवाला ने सचिन पायलट को बैठक में आने का न्योता दिया था:
जयपुर में सीएम आवास में शक्ति प्रदर्शन से पहले दिल्ली से गए कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने सचिन पायलट को बैठक में आने का न्योता दिया था. सुरजेवाला ने कहा था कि राजस्थान की भलाई व्यक्तिगत प्रतिस्पर्धा से अलग होता है. सुरजेवाला ने सभी विधायकों, मंत्रियों और उपमुख्यमंत्री से बैठक में आने की बात कही थी. 


 

रणदीप सुरजेवाला का बयान, कहा- अगले 30 दिन में होगा मंत्रिमंडल फेरबदल और विस्तार

रणदीप सुरजेवाला का बयान, कहा- अगले 30 दिन में होगा मंत्रिमंडल फेरबदल और विस्तार

जयपुर: राजस्थान में सौ से अधिक विधायकों के साथ विक्ट्री साइन दिखाने के बाद रणदीप सुरजेवाला का एक बड़ा बयान सामने आया है. मुख्यमंत्री आवास पर विधायकों की बैठक में उन्होंने कहा कि जो लोग मीटिंग में नहीं आए उनको आपके बीच आकर बैठना होगा. दिल्ली में बैठे लोग गुमराह कर रहे हैं. राजस्थान की 8 करोड़ जनता एक-दूसरे से बंधी हुई है. निर्दलीय और बाकी विधायकों को सत्ता में भागीदारी की आवश्यकता है. ऐसे में उनको सरकार में भागीदारी मिलेगी. साथ ही पार्टी में मंत्रिमंडल विस्तार की आवश्यकता है. अगले 30 दिन में मंत्रिमंडल फेरबदल और विस्तार होगा. इसके साथ ही राजनीतिक नियुक्तियां भी अगले 30 दिनों में की जाएगी. 

हटता नजर आ रहा गहलोत सरकार पर मंडरा रहा खतरा, दो और निर्दलीय विधायक वापस लौट सकते कुनबे में ! 

दो निर्दलीय विधायक वापस लौट सकते कुनबे में: 
वहीं कांग्रेस समर्थकों ने दावा किया है कि दो और निर्दलीय विधायक वापस कुनबे में लौट सकते हैं. ओपी हुड़ला और सुरेश टांक वापस लौट सकते हैं. कल देर रात प्रताप सिंह खाचरियावास के फोन से सीएम गहलोत ने इन विधायकों से बात की है. मुख्यमंत्री ने कहा कि छोटे मोटे गिले-शिकवे दूर हो जाएंगे, आप आईए. मुख्यमंत्री के आग्रह के बाद दोनों गंभीरता से विचार कर रहे हैं. ऐसे में ये दोनों विधायक कभी भी जयपुर लौट सकते हैं. उधर, सचिन पायलट समर्थकों ने भी दावा किया कि पायलट ने भी दोनों विधायकों से बात की है. 

गहलोत ने मीडिया के सामने किया शक्ति प्रदर्शन, 100 से ज्यादा MLA जुटाकर दिखाया विक्ट्री साइन 

सचिन पायलट ने दावा किया है कि 25 विधायक उनके साथ: 
इससे पहले राजस्थान कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने दावा किया है कि 25 विधायक उनके साथ हैं. सचिन पायलट ने साफ कहा कि वो जयपुर में बैठक में हिस्सा नहीं लेंगे. दूसरी ओर गहलोत गुट का दावा है कि उनके पास 105 विधायक हैं.


 

हटता नजर आ रहा गहलोत सरकार पर मंडरा रहा खतरा, दो और निर्दलीय विधायक वापस लौट सकते कुनबे में !

हटता नजर आ रहा गहलोत सरकार पर मंडरा रहा खतरा, दो और निर्दलीय विधायक वापस लौट सकते कुनबे में !

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की सरकार पर अब मंडरा रहा खतरा हटता नजर आ रहा है. सीएम गहलोत ने सौ से अधिक विधायकों के साथ विक्ट्री साइन दिखाया. इसके साथ ही संदेश दिया कि उनके पास बहुमत है और सचिन पायलट के सभी दावे गलत साबित होते दिखाई दे रहे हैं. ऐसे में अब सचिन पायलट के अगले कदम पर सबकी नजरे टीक गई है. 

गहलोत ने मीडिया के सामने किया शक्ति प्रदर्शन, 100 से ज्यादा MLA जुटाकर दिखाया विक्ट्री साइन 

दो निर्दलीय विधायक वापस लौट सकते कुनबे में: 
वहीं कांग्रेस समर्थकों ने दावा किया है कि दो और निर्दलीय विधायक वापस कुनबे में लौट सकते हैं. ओपी हुड़ला और सुरेश टांक वापस लौट सकते हैं. कल देर रात प्रताप सिंह खाचरियावास के फोन से सीएम गहलोत ने इन विधायकों से बात की है. मुख्यमंत्री ने कहा कि छोटे मोटे गिले-शिकवे दूर हो जाएंगे, आप आईए. मुख्यमंत्री के आग्रह के बाद दोनों गंभीरता से विचार कर रहे हैं. ऐसे में ये दोनों विधायक कभी भी जयपुर लौट सकते हैं. उधर, सचिन पायलट समर्थकों ने भी दावा किया कि पायलट ने भी दोनों विधायकों से बात की है. 

Rajasthan Political Crisis: सचिन पायलट के लिए कांग्रेस के दरवाजे हमेशा खुले, जेपी को खरीद-फरोख्त का मौका देना अनुचित- सुरजेवाला  

सचिन पायलट ने दावा किया है कि 25 विधायक उनके साथ: 
इससे पहले राजस्थान कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने दावा किया है कि 25 विधायक उनके साथ हैं. सचिन पायलट ने साफ कहा कि वो जयपुर में बैठक में हिस्सा नहीं लेंगे. दूसरी ओर गहलोत गुट का दावा है कि उनके पास 105 विधायक हैं.
 

Rajasthan Political Crisis: गहलोत ने मीडिया के सामने किया शक्ति प्रदर्शन, 100 से ज्यादा MLA जुटाकर दिखाया विक्ट्री साइन

Rajasthan Political Crisis:  गहलोत ने मीडिया के सामने किया शक्ति प्रदर्शन, 100 से ज्यादा MLA जुटाकर दिखाया विक्ट्री साइन

जयपुर: सचिन पायलट प्रकरण में एक लेटेस्ट अपडेट सामने आई है. मुख्यमंत्री आवास पर बड़ी हलचलत देखने को मिल रही है. मीडिया को भी अंदर प्रवेश दिया जा रहा है. सीएम आवास पर विधायकों की संख्या का शक्ति प्रदर्शन किया जा रहा है. अशोक गहलोत की ओर से लगातार 100 से अधिक विधायकों के समर्थन की बात कही जा रही थी. वहीं सीएम गहलोत सहित कांग्रेस के दिग्गज नेताओं ने मीडिया को विक्ट्री निशान भी दिखाया. 

Rajasthan Political Crisis: सचिन पायलट के लिए कांग्रेस के दरवाजे हमेशा खुले, जेपी को खरीद-फरोख्त का मौका देना अनुचित- सुरजेवाला 

विधायक दल की बैठक में 17 विधायक नहीं पहुंचे: 
वहीं दूसरी कांग्रेस विधायक दल की बैठक में 17 विधायक नहीं पहुंचे हैं. इनमें मुरारी लाल मीना, जीआर खटाना, इंद्राज गुर्जर, हरीश मीणा, दीपेंद्र शेखावत, भंवरलाल शर्मा, विजेंद्र ओला, पीआर मीणा, राकेश पारीक, रमेश मीणा, विश्वेंद्र सिंह, रामनिवास गावड़िया, मुकेश भाकर, हेमाराम चौधरी, गजेंद्र शक्तावत, अमर सिंह जाटव और सुरेश चौधरी शामिल है. वहीं विधायक वेद प्रकाश सोलंकी भी CMR नहीं आये. वहीं तीन निर्दलीय विधायक भी बैठक में नहीं पहुंचे. 

Rajasthan Political Crisis: PCC से हटाए गए सचिन पायलट के पोस्टर, सीएम आवास पहुंचे 100 से अधिक विधायक  

25 से अधिक विधायक उनके साथ बैठे: 
ग्रेस ने आखिरी बार सचिन पायलट से अपील की है कि वो बैठक में शामिल हों और यहां आकर मतभेदों का समाधान करें. लेकिन सचिन पायलट ने दो टूक कहा है कि वो जयपुर नहीं आएंगे, 25 से अधिक विधायक उनके साथ बैठे हैं. ऐसे में राजस्थान में जारी ये सियासी घमासान कहां जाकर रुकता है, इसपर नजर बनी हुई है.

CBSE Results: 12वीं का रिजल्ट हुआ जारी, cbseresults.nic.in पर करें चेक

CBSE Results: 12वीं का रिजल्ट हुआ जारी, cbseresults.nic.in पर करें चेक

नई दिल्ली: CBSE 12वीं के स्टूडेंट्स का इंतजार खत्म हो गया है. सीबीएसई ने 12वीं क्लास के रिजल्ट घोषित कर दिए हैं. मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि सीबीएसई ने 12वीं के रिजल्ट घोषित कर दिए हैं. आप इसे http://cbseresults.nic.in/ पर देख सकते हैं.

Rajasthan Political Crisis: सचिन पायलट का बड़ा बयान, कहा- 25 विधायक मेरे साथ बैठे  

बतादें कि सीबीएसई ने सुप्रीम कोर्ट को इस बात की जानकारी दी थी कि वह 10वीं और 12वीं की पेंडिंग परीक्षाओं को रद्द कर दिया है और रिजल्ट 15 जुलाई तक जारी कर देंगें. 

Rajasthan Political Crisis: सचिन पायलट के लिए कांग्रेस के दरवाजे हमेशा खुले, जेपी को खरीद-फरोख्त का मौका देना अनुचित- सुरजेवाला  

इस साल 88.78 फीसदी छात्रों ने 12वीं सीबीएसई परीक्षा उत्तीर्ण की:
बोर्ड की ओर से मिली जानकारी के मुताबिक इस साल 88.78 फीसदी छात्रों ने 12वीं सीबीएसई परीक्षा उत्तीर्ण की. इस साल परीक्षा में त्रिवेंद्रम, बेंगलुरु और चेन्नई प्रदर्शन के मामले में टॉप थ्री रहे हैं. इस साल जहां दिल्ली जोन में 94.39% परिणाम आया है, वहीं लड़कियों का प्रतिशत 92.15 प्रतिशत रहा. बता दें कि इस साल लड़कियों ने लड़कों से 5.96% बेहतर प्रदर्शन किया है.

Rajasthan Political Crisis: सचिन पायलट का बड़ा बयान, कहा- 25 विधायक मेरे साथ बैठे

Rajasthan Political Crisis: सचिन पायलट का बड़ा बयान, कहा- 25 विधायक मेरे साथ बैठे

जयपुर: राजस्थान में चल रहे सियासी घमासान में एक के बाद एक अपडेट सामने आ रहा है. अब एक न्यूज चैनल पर सचिन पायलट का बड़ा बयान सामने आया है. उन्होंने कहा कि हम जयपुर नहीं जा रहे. साथ ही कहा कि गहलोत का 102 विधायकों के समर्थन का दावा भी गलत बताया. पायलट का कहना है कि गहलोत सरकार अल्पमत में है.

Rajasthan Political Crisis: PCC से हटाए गए सचिन पायलट के पोस्टर, सीएम आवास पहुंचे 100 से अधिक विधायक   

पिछले 48 घंटे में सचिन पायलट से अनेकों बार वार्तालाव और चर्चा की: 
इससे पहले कांग्रेस के तीन दिग्गज नेता रणदीप सुरजेवाला, अविनाश पांडे और अजय माकन ने संयुक्त प्रेस वार्ता की. इस दौरान रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि कांग्रेस नेतृत्व ने पिछले 48 घंटे में सचिन पायलट से अनेकों बार वार्तालाव और चर्चा की है. व्यक्तिगत प्रतिस्पर्धा वाजिब हो सकती है लेकिन राजस्थान व्यक्तिगत प्रतिस्पर्धा से बड़ा है.

बीजेपी को खरीद-फरोख्त का मौका देना अनुचित: 
सुरजेवाला ने कहा कि कभी-कभी वैचारिक मतभेद उत्पन्न हो जाता है जो प्रजा​तांत्रित प्रणाली में स्वा​भाविक है. परन्तु वैचारिक मतभेद पैदा होने से चुनी हुई अपनी ही पार्टी की सरकार को कमजोर करना या बीजेपी को खरीद-फरोख्त का मौका देना अनुचित है. राजस्थान सरकार जनता की सेवा के लिए काम करेगी. हम सभी विधायकों और नेताओं से अपील करते हैं कि वो विधायक दल की बैठक में शामिल हों, कांग्रेस की सरकार को मजबूत करने का काम करें.

VIDEO: प्रगतिशील कांग्रेस नाम से तीसरा मोर्चा हुआ खड़ा..! पूरे घटनाक्रम को लेकर अमित शाह सक्रिय 

सचिन पायलट समेत सभी विधायकों के लिए कांग्रेस पार्टी के दरवाजे सदैव खुले:
सुरजेवाला ने कहा कि अगर कोई मतभेद है तो सचिन पायलट समेत सभी विधायकों के लिए कांग्रेस पार्टी के दरवाजे सदैव खुले थे, हैं और रहेंगे. सरकार को कमजोर करना ठीक नहीं हैं. अगर कोई मतभेद है तो सोनिया गांधी और राहुल गांधी की अगुवाई में हम इसका समाधान निकालेंगे. व्यक्तिगत प्रतिस्पर्धा के जरिए सरकार को कमजोर करना ठीक नहीं. कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया कि बीजेपी की ओर से हर बार जांच एजेंसियों को आगे किया जाता है, आज सुबह से ही कांग्रेस के साथियों पर इस तरह से छापेमारी करवाकर डराने की कोशिश की जा रही है.

Rajasthan Political Crisis: सचिन पायलट के लिए कांग्रेस के दरवाजे हमेशा खुले, जेपी को खरीद-फरोख्त का मौका देना अनुचित- सुरजेवाला

Rajasthan Political Crisis: सचिन पायलट के लिए कांग्रेस के दरवाजे हमेशा खुले, जेपी को खरीद-फरोख्त का मौका देना अनुचित- सुरजेवाला

जयपुर: राजस्थान में चल रहे सियासी घटनाक्रम के बीच कांग्रेस के तीन दिग्गज नेता रणदीप सुरजेवाला, अविनाश पांडे और अजय माकन ने संयुक्त प्रेस वार्ता की. इस दौरान रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि कांग्रेस नेतृत्व ने पिछले 48 घंटे में सचिन पायलट से अनेकों बार वार्तालाव और चर्चा की है. व्यक्तिगत प्रतिस्पर्धा वाजिब हो सकती है लेकिन राजस्थान व्यक्तिगत प्रतिस्पर्धा से बड़ा है.

Rajasthan Political Crisis: PCC से हटाए गए सचिन पायलट के पोस्टर, सीएम आवास पहुंचे 100 से अधिक विधायक  

बीजेपी को खरीद-फरोख्त का मौका देना अनुचित: 
सुरजेवाला ने कहा कि कभी-कभी वैचारिक मतभेद उत्पन्न हो जाता है जो प्रजा​तांत्रित प्रणाली में स्वा​भाविक है. परन्तु वैचारिक मतभेद पैदा होने से चुनी हुई अपनी ही पार्टी की सरकार को कमजोर करना या बीजेपी को खरीद-फरोख्त का मौका देना अनुचित है. राजस्थान सरकार जनता की सेवा के लिए काम करेगी. हम सभी विधायकों और नेताओं से अपील करते हैं कि वो विधायक दल की बैठक में शामिल हों, कांग्रेस की सरकार को मजबूत करने का काम करें.

VIDEO: प्रगतिशील कांग्रेस नाम से तीसरा मोर्चा हुआ खड़ा..! पूरे घटनाक्रम को लेकर अमित शाह सक्रिय 

सचिन पायलट समेत सभी विधायकों के लिए कांग्रेस पार्टी के दरवाजे सदैव खुले:
सुरजेवाला ने कहा कि अगर कोई मतभेद है तो सचिन पायलट समेत सभी विधायकों के लिए कांग्रेस पार्टी के दरवाजे सदैव खुले थे, हैं और रहेंगे. सरकार को कमजोर करना ठीक नहीं हैं. अगर कोई मतभेद है तो सोनिया गांधी और राहुल गांधी की अगुवाई में हम इसका समाधान निकालेंगे. व्यक्तिगत प्रतिस्पर्धा के जरिए सरकार को कमजोर करना ठीक नहीं. कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया कि बीजेपी की ओर से हर बार जांच एजेंसियों को आगे किया जाता है, आज सुबह से ही कांग्रेस के साथियों पर इस तरह से छापेमारी करवाकर डराने की कोशिश की जा रही है.

Rajasthan Political Crisis: PCC से हटाए गए सचिन पायलट के पोस्टर, सीएम आवास पहुंचे 100 से अधिक विधायक

Rajasthan Political Crisis: PCC से हटाए गए सचिन पायलट के पोस्टर, सीएम आवास पहुंचे 100 से अधिक विधायक

जयपुर: राजस्थान में जारी सियासी घटनाक्रम के बीच PCC से सचिन पायलट के पोस्टर हटाए गए हैं. थोड़ी देर में पीसीसी चीफ के नाम का ऐलान भी हो सकता है. इसके लिए रघुवीर मीणा का नाम तय माना जा रहा है. इसी के चलते पीसीसी से सचिन पायलट के पोस्टर हटाए जाने की चर्चा है. 

VIDEO: प्रगतिशील कांग्रेस नाम से तीसरा मोर्चा हुआ खड़ा..! पूरे घटनाक्रम को लेकर अमित शाह सक्रिय 

करीब 100 से अधिक विधायक अबतक पहुंच चुके:  
वहीं अब से कुछ देर में कांग्रेस विधायक दल की बैठक शुरू होगी. विधायकों का पहुंचना जारी है, करीब 100 से अधिक विधायक अबतक पहुंच चुके हैं. इनमें सचिन पायलट के समर्थक माने जाने वाले भी कुछ विधायक शामिल हैं. साथ की करीब दस निर्दलीय विधायक भी बैठक में पहुंच गए हैं.

Rajasthan Political Crisis: ओम माथुर का बड़ा बयान, मौका मिला तो बनाएंगे सरकार 

बैठक में शामिल होने के लिए व्हिप जारी किया:
इससे पहले पांडे ने बैठक में शामिल होने के लिए व्हिप जारी किया. बैठक में भाग नहीं लेने वाले विधायकों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. उल्लेखनीय है कि पायलट ने रविवार रात दावा किया कि अशोक गहलोत सरकार अल्पमत में है और 30 से अधिक विधायकों ने उन्हें समर्थन देने का वादा किया है. उन्होंने कहा कि उन्हें समर्थन देने वाले इन विधायकों में कांग्रेस के विधायक और निर्दलीय विधायक शामिल हैं. 


 

Open Covid-19