चीन की IMF को नसीहत, वित्तीय पैकेज का दोनों देशों के संबंधों पर न पड़े असर

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/10/16 03:07

नई दिल्ली । चीन ने आईएमएफ पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि सीपीईसी या सीपेक को बिना किसी भेदभाव के चीन पाकिस्तान आर्थिक कोरिडोर की परियोजनाओ में उसके निवेश का पेशेवर ढंग से मूल्यांकन करना चाहिए । इसके अलावा सीपेक को यह भी सुनिश्चित करना चाहिए कि वित्तीय पैकेज का दोनों देशों के संबंधों के बीच असर न पड़े। 

आपको बतादें ऐसे समय में चीन का बयान आना जबकि नकदी संकट यानि विदेशी पूंजी भंडार से जूझ रहे पाकिस्तान ने सहायता पैकेज के लिये आईएमएफ से संपर्क किया है। संभवत: चीन इस बात से चिंतित है कि पाकिस्तान इस परियोजना में चीन से लिए जा रहे कर्ज का ब्योरा देने पर भी राजी है।

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा, ‘‘हम मौजूदा स्थिति से निपटने को लेकर पाकिस्तान की मदद के लिये आईएमएफ का समर्थन करते हैं। उनके उपायों से चीन और पाकिस्तान के बीच सामान्य द्विपक्षीय संबंधों पर असर नहीं पड़ेगा।’’ उमर के अनुसार कार्यक्रम पर चर्चा के लिये आईएमएफ का दल सात नवंबर को पाकिस्तान आएगा। 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in